त्रिपोली में फंसे हुए भारतीय यदि तुरन्त नहीं निकलते हैं तो बाद में उन्हें वहां से निकलना संभव नहीं हो पाएगा: सुषमा स्वराज

क्या है त्रिपोली संकट
इसराइल ने देर रात दक्षिणी लेबनान में हिज़बुल्ला के ठिकानों पर लगातार हवाई हमले किए हैं जबकि संयुक्त राष्ट्र ने लेबनान में मानवीय त्रासदी जैसी स्थिति पैदा होने की आशंका जताई है.
इसराइली सेना का कहना है कि बेरुत में चरमपंथियों के मुख्यालय को एक बार फिर निशाना बनाया गया है और साथ ही पूर्वी शहर बालबेक में हथियारों के गोदाम और रॉकेट से भरे ट्रकों पर भी हमले किए गए हैं.
इस बीच हिज़बुल्ला ने उत्तरी इसराइल के कुछ हिस्सों पर रॉकेट दागे हैं.
इसराइल ने अपने हमले जारी रखते हुए साफ कर दिया है कि जब तक उसके दोनों सैनिकों को हिज़बुल्ला छोड़ नहीं देता तब तक यह कार्रवाई नहीं रुकेगी.
पिछले छह दिनों में इसराइली हमलों में 200 से अधिक लेबनानी मारे जा चुके हैं. हिज़बुल्ला की जवाबी कार्रवाई में अभ तक 24 इसराइली मारे गए हैं.

नई दिल्ली: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने शुक्रवार को कहा कि 500 से अधिक भारतीय लीबिया की राजधानी त्रिपोली में फंसे हुए हैं और उन्होंने सुझाव दिया है कि वे तुरंत शहर छोड़ दें.

त्रिपोली में हिंसा जारी रहने के बीच मंत्री ने कहा कि लीबियाई राजधानी में फंसे हुए भारतीय यदि तुरन्त नहीं निकलते हैं तो बाद में उन्हें वहां से निकलना संभव नहीं हो पाएगा.

त्रिपोली में 200 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं
संयुक्त राष्ट्र समर्थित प्रधानमंत्री फायेज अल-सराज को सत्ता से बेदखल करने के लिए लीबियाई सेना के कमांडर खलीफा हफ्तार के सैनिकों ने एक हमला किया था और पिछले दो सप्ताह में हिंसा में त्रिपोली में 200 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं.

Even after massive evacuation from Libya and the travel ban, there are over 500 Indian nationals in Tripoli. The situation in Tripoli is deteriorating fast. Presently, flights are operational. /1 PL RT4,6686:37 PM – Apr 19, 2019Twitter Ads info and privacy2,592 people are talking about this

स्वराज ने ट्वीट किया, ‘लीबिया से बड़ी संख्या में लोगों के जाने और यात्रा प्रतिबंध के बाद भी, त्रिपोली में 500 से अधिक भारतीय नागरिक हैं. त्रिपोली में हालात तेजी से बिगड़ रहे हैं. वर्तमान में उड़ानों का संचालन हो रहा है.’

Pls ask your relatives and friends to leave Tripoli immediately. We will not be able to evacuate them later. /2 Pls RT9,3696:38 PM – Apr 19, 2019Twitter Ads info and privacy6,526 people are talking about this

उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर कहा, ‘‘कृपया अपने रिश्तेदारों और दोस्तों को तुरंत त्रिपोली छोड़ने के लिए कहें. हम बाद में उन्हें वहां से नहीं निकल पाएंगे.’’ 

LOC के जरिये POK के साथ व्यापार अगले आदेश तक बंद

एनआईए द्वारा कुछ मामलों की चल रही जांच के दौरान, यह सामने आया है कि एलओसी व्यापार में महत्वपूर्ण व्यापारिक चिंताएं आतंकवाद या अलगाववाद को बढ़ावा देने वाले प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों से जुड़े व्यक्तियों द्वारा संचालित की जा रही हैं। जांच में पता चला है कि कुछ व्यक्ति, जो पाकिस्तान के पार हो गए हैं, और आतंकवादी संगठनों में शामिल हो गए हैं, ने पाकिस्तान में व्यापारिक फर्में खोली हैं। ये ट्रेडिंग फर्म कथित रूप से आतंकवादी संगठनों के नियंत्रण में हैं और एलओसी व्यापार में लगे हुए हैं।

नई दिल्ली: भारत ने पाकिस्तान के साथ नियंत्रण रेखा (एलओसी) के जरिए व्यापार को स्थगित कर दिया है. गुरुवार को एक सरकारी आदेश में कहा गया है कि जांच एजेंसियों को पता चला था कि पड़ोसी देश के तत्वों द्वारा अवैध हथियार, मादक पदार्थों और नकली मुद्रा की तस्करी के लिए इस मार्ग का दुरुपयोग किया जा रहा है. इसके बाद यह कदम उठाया गया.

बयान में कहा गया है कि एक सख्त विनियामक और प्रवर्तन तंत्र तैयार किया जा रहा है और उसके लागू होने के बाद व्यापार मार्गों को फिर से खोलने के मुद्दे पर विचार किया जाएगा.

क्या कहा गृह मंत्रालय ने?
केंद्रीय गृह मंत्रालय के आदेश में कहा गया है कि भारत सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर के चकन-दा-बाग और सलामाबाद में एलओसी व्यापार को स्थगित करने का निर्णय लिया गया है.

इसमें कहा गया है कि यह कार्रवाई उन रिपोर्टों के आधार पर की गई है कि पाकिस्तान स्थित तत्वों द्वारा अवैध हथियारों, नशीले पदार्थों और नकली नोटों को फैलाने के लिए व्यापार मार्गों का दुरुपयोग किया जा रहा है. 

सप्ताह में चार दिन होता है व्यापार 
एलओसी व्यापार अभी बारामूला जिले के उरी के सलामाबाद में और पुंछ जिले के चकन-दा-बाग में दो व्यापार केंद्रों से संचालित होता है. यह व्यापार सप्ताह में चार दिन होता है और यह वस्तु विनिमय प्रणाली और शुल्क मुक्त पर आधारित होता है.

सरकार ने बयान में कहा कि एक सख्त विनियामक और प्रवर्तन तंत्र पर काम किया जा रहा है और इसे विभिन्न एजेंसियों के परामर्श से लागू किया जाएगा. 

The Indian Rupee staged a strong comeback by regaining 25 paise to 69.35 against the US dollar

Equity benchmark Sensex retreated from its lifetime high to close 135 points lower on April 18

The Indian rupee on April 18 staged a strong comeback by regaining 25 paise to 69.35 against the US dollar after three sessions of losses amid sustained foreign fund inflows.

On a weekly basis, the domestic currency saw a 18 paise decline.

At the Interbank Foreign Exchange (Forex) market, the domestic unit opened at 69.48. The local unit moved in a range of 69.61 to 69.33 before finally ending at 69.35, a rise of 25 paise over its previous close.

The rupee had lost 18 paise to close at 69.60 to the US dollar on April 16. Currency market was shut on April 17 on account of “Mahavir Jayanti“.

The dollar index, which gauges the greenback’s strength against a basket of six currencies, rose 0.30% to 97.29.

Brent crude futures, the global oil benchmark, was trading higher by 0.36% at $71.88 per barrel.

Foreign institutional investors (FIIs) remained net buyers in the capital markets, putting in ₹1,038.46 crore on April 18, as per provisional data.

Equity benchmark Sensex retreated from its lifetime high to close 135 points lower on April 18. After rising to an intra-day record of 39,487.45 points, the 30-share index turned negative to settle 135.36 points, or 0.34%, lower at 39,140.28. The broader NSE Nifty slipped 34.35 points, or 0.29%, to 11,752.80.

Meanwhile, Financial Benchmark India Private Ltd (FBIL) set the reference rate for the rupee/dollar at 69.4189 and for rupee/euro at 78.4341. The reference rate for rupee/British pound was fixed at 90.5519 and for rupee/100 Japanese yen at 62.04.

Forex market will remain closed on April 19 on account of ‘Good Friday’

टीएमसी उम्मीदवार का समर्थन करने के लिए बंगलादेशी कलाकार को किया ब्लैक लिस्ट

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के लिए पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी सरकार के लिए चुनाव प्रचार करना बांग्लादेश के अभिनेता फिरदौस अहमद को भारी पड़ गया है. दरअसल, गृह मंत्रालय ने ब्यूरो ऑफ इमिग्रेशन की रिपोर्टमिलने के बाद कार्रवाई करते हुए बांग्लादेशी अभिनेता का बिजनेस वीजा रद्द कर दिया है. इसके साथ ही गृह मंत्रालय ने फिरदौस को भारत छोड़ने का नोटिस भी जारी कर दिया है. वहीं, गृह मंत्रालय ने उन्हें भविषअय के लिए ब्लैकलिस्ट भी कर दिया है. 

मालूम हो कि बांग्लादेशी अभिनेता फिरदौस अहमद ने तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) उम्मीदवार के समर्थन में सोमवार को चुनाव प्रचार किया था. इसके बाद मंगलवार को गृह मंत्रालय ने कोलकाता के विदेशी क्षेत्रीय पंजीकरण अधिकारी से इस मामले पर रिपोर्ट मांगी थी. बता दें कि बांग्लादेश के अभिनेता फिरदौस अहमद ने रायगंज से तृणमूल उम्मीदवार कन्हैयालाल अग्रवाल के समर्थन में चुनाव प्रचार में हिस्सा लिया था.

बताया जा रहा है कि गृह मंत्रालय ने रिपोर्ट में पाया है कि फिरदौस अहमद ने लोकसभा चुनाव प्रचार अभियान में हिस्सा लेकर वीजा शर्तों का उल्लंघन किया है. इससे पहले भी अहमद बिजनेस वीजा पर कई बार भारत आ चुके हैं. अहमद को भारत-बांग्लादेश सीमा के पास हेमताबाद और करांदिघी में चुनाव प्रचार रैलियों में अग्रवाल के समर्थन में वोट मांगते देखा गया था. 

रेफेरेंड्म 2020 के चरमपंथी संगठनों को नहीं मिली पाकिस्तान स्थित पंजा साहिब में जगह

पाक ने मोदी सरकार के कहने पर रेफरेंडम 2020 अभियान बैन किया खालिस्तान समर्थक गुट का दावा
पुलवामा हमले के बाद बालाकोट के बदले की कार्यवाही से सहमा हुआ पाकिस्तान अब प्रकट रूप से भारत विरोधी गतिविधियों को अपनी धरती पर से होते हुए नहीं दिखाना चाहता। भारत के मौजूदा नेतृत्व के रहते तो वह ऐसा जोखिम नहीं उठाना चाहेगा।

पाक अधिकारियों ने चरमपंथी संगठन ‘सिख फॉर जस्टिस’ गुट को गुरुद्वारा पंजा साहिब में पोस्टर लगाने से रोका एसएफजे ने पाकिस्तानी सेना और आईएसआई पर उनके अभियान कुचलने का आरोप लगाया

चंडीगढ़. खालिस्तान समर्थक गुट सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) ने दावा किया है कि पाकिस्तान ने मोदी सरकार के कहने पर उनके अभियान पर बैन लगा दिया। एसएफजे खालिस्तान में जनमत संग्रह की मांग को लेकर ‘रेफरेंडम टीम 2020’ अभियान चला रहा है। एसएफजे के कानूनी सलाहकार गुरपतवंत सिंह पन्नुन के मुताबिक, सोमवार को गुट के कार्यकर्ता हसन अब्दल स्थित गुरुद्वारा पंजा साहिब में पोस्टर लगा रहे थे। इसी दौरान अधिकारियों ने हस्तक्षेप करते हुए उन्हें रोक दिया।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, खालसा सजना दिवस (खालसा पंथ की स्थापना इसी दिन हुई थी)  के 320वें साल पर भारत से हजारों सिख श्रद्धालु पाकिस्तान पहुंच रहे हैं। खालिस्तान के पक्षकार कई कार्यकर्ता भी अपने अभियान को समर्थन देने के लिए अप्रैल के पहले हफ्ते में अमेरिका और यूरोप से पाकिस्तान पहुंचे हैं। हालांकि, जब कार्यकर्ता पंजा साहिब में पोस्टर लगाने लगे तो उन्हें रोक दिया गया। इसके साथ ही रेफरेंडम 2020 के लिए वॉलंटियर्स (स्वयंसेवकों) का रजिस्ट्रेशन भी रोक दिया गया।

मोदी के आगे झुक गए इमरान और बाजवा
पन्नुन ने कहा, “पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा खुद को सिख समुदाय के मसीहा के तौर पर दर्शाते हैं। हालांकि, दोनों ने मोदी सरकार के दबाव में झुककर हमारा अभियान बैन कर दिया।“ पन्नुन ने कहा कि भारत की तरफ से युद्ध की धमकियों के बीच उन्होंने पाकिस्तान को समर्थन जारी रखा, लेकिन पाकिस्तानी सेना और खुफिया एजेंसी आईएसआई ने सिख समुदाय के आंदोलन को कुचल दिया। 

क्या है रेफरेंडम 2020?
अलगाववादी सिख संगठन अलग खालिस्तान की मांग को लेकर ‘रेफरेंडम 2020’ (जनमत संग्रह 2020) का प्रचार कर रहे हैं। यह रेफरेंडम लंदन में 12 अगस्त को होना है। अलगाववादी सिख संगठन, मतदान के रेफरेंडम के नतीजों को संयुक्त राष्ट्र के पास लेकर जाने की रणनीति बना रहे हैं। इसके जरिए वह एक अलग देश की मांग को मजबूत करना चाहते हैं।

टेरेसा मे ने जल्लेयांवाला नरसंहार पर अफसोस जताया

दिल के छालों को कोई शायरी कहे तो परवाह नहीं
तकलीफ तो तब होती है जब लोग वाह वाह करते हैं

ऐसा ही कुछ आज ब्रिटेन की संसद में हुआ जब ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरेसा मे ने अमृतसर के जलियांवाला नरसंहार कांड की 100वीं बरसी के मौके पर इस कांड को ब्रिटिश भारतीय इतिहास पर ‘शर्मसार करने वाला धब्बा’ करार दिया.  टेरेसा मे को खेद है मगर माफी लायक नहीं। भारत बहुत से ऐसे नरसनहारों को सिने में दफन क्यी आगे बढ़ रहा है। हम अपने अतीत के काले पन्नों को भूले नहीं हैं परंतु जब कोई इस पर हाय तौबा मचाता है तब तकलीफ दोगुनी हो जाती है।

लंदन: ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरेसा मे ने अमृतसर के जलियांवाला  नरसंहार कांड की 100वीं बरसी के मौके पर बुधवार को इस कांड को ब्रिटिश भारतीय इतिहास पर ‘शर्मसार करने वाला धब्बा’ करार दिया लेकिन उन्होंने इस मामले में औपचारिक माफी नहीं मांगी. ब्रिटेन की पीएम ने कहा कि जो कुछ भी हुआ उसका हमें बहुत दुख है. 

हाउस ऑफ कॉमन्स में प्रधानमंत्री के साप्ताहिक प्रश्नोत्तर की शुरूआत में उन्होंने औपचारिक माफी तो नहीं मांगी जिसकी पिछली कुछ बहसों में संसद का एक वर्ग मांग करता आ रहा है. उन्होंने इस घटना पर ‘खेद’ जताया जो ब्रिटिश सरकार पहले ही जता चुकी है.

क्या कहा ब्रिटेन की पीएम ने? 
उन्होंने एक बयान में कहा, ‘1919 के जलियांवाला बाग नरसंहार की घटना ब्रिटिश भारतीय इतिहास पर शर्मसार करने वाला धब्बा है. जैसा कि महारानी एलिजाबेथ द्वितीय ने 1997 में जलियांवाला बाग जाने से पहले कहा था कि यह भारत के साथ हमारे अतीत के इतिहास का दुखद उदाहरण है.’

ब्रिटेन की पीएम ने कहा कि जो कुछ भी हुआ उसका हमें बहुत दुख है. मुझे खुशी है कि आज ब्रिटेन-भारत के रिश्ते सहयोग, साझेदारी के हैं. भारतीय प्रवासियों ब्रिटिश समाज में महान योगदान दिया है. मुझे उम्मीद है कि यह सदन यही चाहता है कि भारत के साथ ब्रिटेन के रिश्ते मजबूत रहें. 

1919 में बैसाखी के दिन हुआ था जलियांवाला बाग नरसंहार
जलियांवाला बाग नरसंहार अमृतसर में 1919 में अप्रैल माह में बैसाखी के दिन हुआ था.  ऐतिहासिक रिकॉर्ड बताते हैं कि 13 अप्रैल 1919 को जलियांवाला बाग में बैसाखी की सभा में जनरल डायर ने बिना किसी चेतावनी के गोलीबारी शुरू कर दी और 10 मिनट तक गोलीबारी चलती रही. लोग बचकर भागने की कोशिश कर रहे थे. उसने अपने सिपाहियों के साथ और बख्तरबंद गाड़ियों से बाहर निकलने के रास्ते को बंद कर दिया था. इस गोलीबारी में सैकड़ों लोग मारे गए थे. 

‘हमसाये माँ जाये’ दोनों मुल्कों के आम लोगों की दास्तान

भारत और पाकिस्तान के तल्ख होते रिश्तों को कम करने के लिए वक्त वक्त पर शायर कलाकार लेखक और आम जन भी कुछ न कुछ करते रहते हैं कभी उनकी नेक कोशिशें कुछ रंग लातीं हैं तो कभी उम्मीद ही जगतीं हैं। इसी कड़ी में नीलम अहमद बशीर ने एक नज़्म को लिखा जिसे उसकी बहिनों ने पर्दे पर उकेरा, दो आम घरेलू औरतें किस प्रकार अपने मुल्क और आपसी भाई चारे का उल्लास मानतीं हैं और अंत एन अपनी चुनरी बंटा लेतीं हैं का बहुत ही प्रभाव शाली दृश्य स्थापित किया है। इस वीडियो में आसमा अब्बास और बुशरा अंसारी ने परफॉर्म किया है

नई दिल्ली: पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के रिश्ते और ज्यादा कड़वे हो गए हैं. स्थिति युद्ध तक की आ गई थी. भारत ने बदला लेने के लिए एयर स्ट्राइक किया तो पाकिस्तान ने भी जवाबी कार्रवाई में F-16 को भेजा जिसे एयरफोर्स ने मार गिराया. माहौल चुनावी है तो यह मुद्दा गरमाया हुआ है. राजनेता पाकिस्तान के खिलाफ आग उगल रहे हैं. ऐसे माहौल में जब हर कोई पाकिस्तान को नेस्त नाबूत करने की बात कर रहा है, एक रैप   बहुत तेजी से वायरल हो रहा है. इस रैप के पाकिस्तानी कलाकारों ने तैयार किया है. रैप के जरिए पाकिस्तानी कलाकारों ने दोनों मुल्क के लोगों से शांति की अपील की है.

इस रैप को बुशरा अंसारी जो एक पाकिस्तानी एक्ट्रेस और सिंगर ने अपने आधिकारिक यूट्यूब अकाउंट पर पोस्ट किया है. इस वीडियो को 3 अप्रैल को पोस्ट किया गया है, जिसे अब तक करीब 13 लाख लोग देख चुके हैं. इस रैप का टाइटल है,  “Humsaye maa jaye”. पाकिस्तानी मीडिया ‘Dawn’ के मुताबिक इस वीडियो में आसमा अब्बास और बुशरा अंसारी ने परफॉर्म किया है. नीलम अहमद बशीर ने रैप लिखा है.

वीडियो में आप देख सकते हैं कि बुशरा अंसारी ने भारतीय और आसमा ने पाकिस्तानी का रोल प्ले किया है. रैप के जरिए वे बताते हैं कि भारत और पाकिस्तान में कुछ भी अलग नहीं है. सबकुछ तो एक जैसा ही है, इसके बावजूद टेंशन क्यों है.

बुशरा अंसारी ने भारतीय और आसमा ने पाकिस्तानी किरदार में

वीडियो के जरिए संदेश दिया गया है कि कोई भी आम हिंदुस्तानी और पाकिस्तानी जंग नहीं चाहता है. वे शांति चाहते हैं. जो कुछ हो रहा है वह राजनीति से प्रेरित है. पाकिस्तानी मीडिया के हवाले से बुशरा अंसारी ने कहा कि इस वीडियो को सरहद के इस पार और उस पार, दोनों तरफ पसंद किया जा रहा है. मेरा इनबॉक्स शुभकामनाओं और संदेश से भरा हुआ है. 

Does Your Love Really Misses You

Sarika Tiwari

What is the actual reality? Is your crush/partner really thinking and missing you? Or Is it just a waste of your feelings and emotions thinking about them? Practically, How to know if someone misses you?

I know it has been many days since you both met and spent time together.

Although your heart says that he/she is missing you deeply, your mind comes up with a number of doubts and fears.

I know how it feels when you have intense feelings for someone. But, more than your feelings, it’s your partner’s feelings which are more important.

So is he/she missing you.. amidst hundred of daily thoughts like career.. life.. office.. college etc. In order to know the truth, first of all, you need to keep one important thing in mind..

Observing and Understanding Psychological Behaviour Patterns:

A is a boy who has a girlfriend who texts him daily that she misses him. While she sends these messages daily, she ignores A in many situations. On the other hand, there is another girl who has a deep crush on A. Although she never even talked to him, she gets mad even if she doesn’t see him for a day.

So, if one doesn’t observe behavioral patterns properly, they may simply conclude that the first woman misses A more than the second one. But in reality, it is completely the opposite. Thus, observation is always the key to understanding a person’s true feelings. Don’t believe the words, Don’t believe your friends, Just believe your observation.

This observation boils down to one crucial thing.. i.e one’s psychological behavioral patterns.

Psychological behavioral patterns are the subconscious acts that are done by a person without even knowing to their conscious mind.

So, if your partner misses you, he/she subconsciously give out some crucial signs without even knowing. So, if you consciously start to observe these subconscious signs, it almost feels like reading the mind of the other person completely. And this is what gives you a clear-cut reality of how much is your crush/partner missing you.

How to know if someone misses you?

 The 5 Psychological signs

See, you may have already seen many websites which bombard you with some absolute non sense, which are no way practical. But I at DemokraticFront only give you practical conclusions that are true to real life.

1. A lot of Drama for even small reasons:

Although many consider anger/drama a sign of disliking, it can also be triggered when the person feels that their feelings are being wasted. Whenever a loved one is constantly thinking about you and missing you, he/she is subconsciously giving you a top priority in their life.

So, when your girlfriend/boyfriend is giving such a priority, they unknowingly expect that they too must be your first priority in everything. So what happens if you ignore them or even slightly neglect them? It clearly strikes their self-esteem and makes them feel that they are unnecessarily wasting their feelings on you.

So, if your partner is getting angry and creating drama for many small issues, then it is a clear cut sign that he/she is deeply missing you.

2. Telling that something or someone reminded of you:

According to psychology, if you are excessively thinking about a person very much.. if you are excessively missing a person a very much, chances are high that many people around you resemble the one, whom you are missing. This is because of the subconscious mind’s act on your eyes. The more you are missing a person, it means the more you want to see the person and feel the past memories again. Thus your subconscious mind automatically creates an illusion that makes everything remind the person.

So, Did your sweetheart tell you that someone reminded of you? Did they tell you that someplace reminded of a past memory with you? Then it is a clear sign that he/she is missing you badly.

3. An emotional state when something happens unexpectedly:

When a person deeply misses his/her partner, the person automatically builds up a lot of emotions in them. Thus these built up emotions are likely to burst up one or the other day. So try to give a surprise visit/call to your partner and observe their behavior patterns.

If he/she is missing you, your surprise might trigger a heavy emotional state in them. You can clearly sense this heavy emotional state (mixed with a stir of emotions) in their face and even in their body language. Moreover, you need to make sure that these emotions don’t fade away within seconds and last longer for even hours.

4. When you are in their Dream for more than once:

Every dream you get has a specific meaning embedded in it. I’m not telling those fortune telling about dreams, but the deep psychological feelings, that manifest into every dream you get. For example, if a person was the last thought before you got into the deep sleep, then it is most likely that person appears in your dream, as your subconscious mind is still thinking about them.

So, Tell me why would you come in a dream of a person? That too again and again. Yes, it is when he/she misses you very badly. So, with the dream, their subconscious mind is communicating with them to do something as they miss the other person.

So, next time, when your partner tells that you are in their dream, it is a good thing to feel that he/she is missing you very badly.

5. Storing all the Gifts and things you have given them

This is one of the strongest psychological signs, that clearly prove that your man/woman is missing you so much. We store things/memories when we beleive that they are very valuable and are vulnerable to go away from us. So, what does it mean if he/she is storing your gifts and every small thing you gave them?

It clearly proves the fact, that he/she is considering these memories very valuable as they represent your presence and memories. So, when your man/woman is missing you so much, he/she tends to store all the things you gave them, which makes their subconscious mind feel satisfied. So, the pain they are feeling in your absence is unknowingly relieved by these things which represent all your memories

अपने बेटे के चुनाव प्रचार के लिए अनिल शर्मा को पद और विधायकी छोडनी होगी

अभी कुछ दिन पहले ही 92 वर्षीय पंडित सुख राम ने राहुल गांधी से आशीर्वाद प्राप्त किया था और अपने पौत्र आश्रय शर्मा के साथ कांग्रेस का दामन थामा था।

नाहन (हिमाचल प्रदेश): हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने रविवार को अपने कैबिनेट सहयोगी अनिल शर्मा से यह स्पष्ट करने को कहा कि वह मंडी लोकसभा सीट से अपने पुत्र एवं कांग्रेस उम्मीदवार के लिए प्रचार करने के वास्ते सरकार से अलग होंगे या वहां भाजपा उम्मीदवार का समर्थन करेंगे. ठाकुर ने कड़ा रुख अपनाया और राज्य के ऊर्जा मंत्री शर्मा से स्पष्टीकरण मांगा. कुछ दिन पहले ही उनके पिता एवं पूर्व केंद्रीय दूरसंचार मंत्री सुखराम अपने पोते आश्रय शर्मा के साथ कांग्रेस में शामिल हो गए थे. आश्रय शर्मा को मंडी से कांग्रेस का टिकट दिया गया है.

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने शर्मा से स्पष्टीकरण उत्तराखंड में चुनाव प्रचार के लिए जाते समय पोंटा में संवाददाताओं से बातचीत करते हुए मांगा. ठाकुर ने कहा कि उनके कैबिनेट सहयोगी शर्मा को इसको लेकर स्पष्टीकरण देना चाहिए कि वह मंडी में किसके लिए प्रचार करेंगे…अपने पुत्र या भाजपा उम्मीदवार रामस्वरूप शर्मा के लिए. मुख्यमंत्री ने कहा कि शर्मा को जल्द निर्णय करना चाहिए कि वह चुनाव में मंडी में अपने पुत्र की मदद के लिए कांग्रेस के साथ जाएंगे या भाजपा उम्मीदवार के लिए प्रचार करेंगे.

उन्होंने स्पष्ट किया कि यदि अनिल शर्मा अपने पुत्र के लिए प्रचार करते हैं तो उन्हें अपना कैबिनेट पद और हिमाचल प्रदेश विधानसभा की सदस्यता गंवानी होगी. उन्होंने कहा कि इस पर किसी को भी कोई संदेह नहीं होना चाहिए. मुख्यमंत्री ने इसके साथ ही शर्मा के मुद्दे को लेकर भाजपा में मतभेद होने की अटकलों को भी खारिज किया

सीएम जयराम ठाकुर ने कहा, पार्टी में इस मुद्दे पर कोई दूसरा मत नहीं है और जो वह कह रहे हैं वह पार्टी का सर्वसम्मत विचार है. उन्‍होंने यह भी विश्वास जताया कि भाजपा हिमाचल प्रदेश की मंडी सहित सभी चार लोकसभा सीटें बरकरार रखेगी और उन पर भाजपा की जीत का अंतर बढ़ेगा.

युद्ध विराम का निरंतर उल्लंघन कहीं पाकिस्तान में तख़्ता पलट की आहट तो नहीं?

पाकिस्तान में सेना द्वारा निरंतर किए जा रहे युद्ध विराम उल्लंघन के पीछे कयास लगाए जा रहे हैं की पाकिस्तान की सेना और आईएसआई चीन के दम पर प्रत्यक्ष युद्ध की परिकल्पना कर रही है। वहाँ की चुनी हुई सरकार इसके फिलहाल तो खिलाफ नज़र आ रही है। सूत्रों की माने तो इमरान खान को मित्र राष्ट्रों पर यकीन है की चुनावों के बाद भारत में सत्ता पलटेगी और कॉंग्रेस वाम दलों के साथ फिर से अपनी सरकार बनाएगी, कश्मीर, देशद्रोह, अलगाव वाद और अफसपा जैसे मुद्दों पर अपने वादों को पूरा करेगी और भारत का रुख जो की अब आत्मसम्मान से भरा है काफी लचीला हो जाएगा। परंतु जान पड़ता है की सेना इस झांसे में आने को तैयार नहीं है। तख़्ता पलट के संभावित खतरे को नज़रअंदाज़ करते हुए इमरान खान सेना को युद्ध विराम उल्लंघन से रोक नैन पा रहे।

नई दिल्‍ली: भारत पाकिस्‍तान सीमा पर पाकिस्‍तान की ओर से सीजफायर का उल्‍लंघन तनाव को लगातार बढ़ा रहा है. पाकिस्‍तान की नापाक हरकतें बढ़ती जा रही हैं. इसका मुंहतोड़ जवाब अब भारतीय सेना ने भी दिया है. पुंछ, मेंढर में भारतीय सेना की जवाबी फ़ायरिंग से पाकिस्तानी सेना को बड़ा नुकसान उठाना पड़ा है. पाकिस्तान की सेना के प्रचार विभाग ISPR और रेडियो पाकिस्तान ने मंगलवार की सुबह एक सूबेदार और दो सैनिकों की भारतीय फ़ायरिंग में मौत को स्वीकार किया है.

सूत्रों का कहना है कि पाक अधिकृत कश्मीर के बालानोई, कोटली, रकचक्री और रावलाकोट में पाकिस्तानी सेना की कई पोस्ट तबाह हुई हैं और बड़ी तादाद में पाकिस्तानी सैनिक मारे गए हैं. ये LOC से सटे वे इलाक़े हैं जहां आतंकवादियों की पनाहगाहें और लॉंच पैड्स हैं. यहां से कश्मीर में घुसपैठ कराई जाती है और भारतीय सेना पर BAT हमले किए जाते हैं.

पाकिस्तान की सेना पुलवामा के बाद से ही LOC से सटे हुए नागरिक इलाक़ों पर भारी गोलाबारी कर रही है. पिछले एक हफ्ते में पीर पंजाल पहाड़ियों के दक्षिण के पुंछ, मेंढर, राजौरी, अखनूर, नौशेरा के गांवों में ये गोलाबारी बहुत तेज़ हो रही है. पाकिस्तानी सेना मोर्टार के साथ-साथ भारी तोपखाने के ज़रिए भारतीय गांवों पर लगातार गोलाबारी कर रही है. सोमवार को पाकिस्तानी फ़ायरिंग में बीएसएफ के एक इंसपेक्टर की जान चली गई. भारतीय सेना ने भी अपनी जवाबी कार्रवाई तेज़ कर दी है.

सूत्रों के मुताबिक भारतीय सेना ने भी पाकिस्तानी सेना के ठिकानों पर जवाबी गोलाबारी करने के लिए तोपखाने और गाइडेड मिसाइलों का इस्तेमाल किया है. खासतौर पर उन पाकिस्तानी पोस्ट को निशाना बनाया गया, जिनके बारे में पहले से पता था कि वो आतंकवादियों के लांच पैड की तरह काम करती हैं. दोनों ही तरफ से फ़ायरिंग का सिलसिला मंगलवार देर शाम तक जारी रहा.

सूत्रों के मुताबिक भारतीय सेना की कार्रवाई में पाकिस्तानी सेना की आतंकवादियों को मदद करने की ताक़त को तोड़ने की कोशिश की जा रही है. पाकिस्तानी सेना की इन पोस्ट्स से न केवल आतंकवादियों की घुसपैठ में मदद की जाती है, बल्कि यहीं पर आतंकवादियों के ठहराया जाता है. ये आतंकवादी पाकिस्तानी सेना के BORDER ACTION TEAM यानि BAT का हिस्सा बनते हैं. यहीं से आतंकवादी भारतीय सीमा में घुसकर सेना की चौकियों के आसपास विस्फोटक लगाते हैं और घात लगाकर हमले करते हैं.