चंडीगढ़ केमिस्ट एसोसिएशन के चुनाव कल रविवार को

डेमोक्रेटिक फ्रंट संवाददाता, चंडीगढ़  –  01 अक्तूबर  :

            चंडीगढ़ केमिस्ट एसोसिएशन के चुनाव कल रविवार को सेक्टर 19 के कम्युनिटी सेन्टर मैं सम्पन्न होंगे। जिसमे प्रधान पद सहित वाईस प्रेसिडेंट, जनरल सेक्रेटरी, फाइनेंस सेक्रेटरी और जॉइंट सेक्रेटरी पद के लिए उम्मीदवार अपना अपना भाग्य आजमाएंगे। 

             इन चुनावों में प्रधान पद के लिए राजिंदर मेडिकल स्टोर सेक्टर 32 के राजिंदर कुमार का मुकाबला अनूप गुप्ता, सी एम सी केमिस्ट सेक्टर 46 के बीच है। वहीं जनरल सेक्रेटरी की पोस्ट के लिए नव भारत मेडिकल स्टोर सेक्टर 16 के सुभाष सिंगला और जितेन्द्रा मेडिकोज मनीमाजरा के महिपाल शर्मा के बीच टक्कर देखने को मिलेगी। इसी तरह वाईस प्रेसिडेंट पद के लिए मुकाबला वंदना मेडिकल हॉल, मनीमाजरा के वरिंदर गल्होत्रा और वरुण गोयल, नेशनल ट्रेडिंग सेक्टर 45 के बीच रहेगा। फाइनेंस सेक्रेटरी की पोस्ट के लिए रमेश कुमार सिंगला, रमेश मेडिकल हॉल सेक्टर  16  और मेडिसर्ज सेक्टर 45 के परवीन गर्ग के बीच मे है।जबकि जॉइंट सेक्रेटरी की पोस्ट के लिए जसबीर सिंह, फ्रेंड्स मेडिकोज, खुड्डा लाहोरा और जे के फार्मा सेक्टर 35 के जय किशन सेठी के बीच मे है।

             आज चुनाव प्रचार करते हुए प्रधान पद के उम्मीदवार राजिंदर कुमार ने बताया कि केमिस्ट एसोसिएशन के चुनाव तीन वर्ष बाद होते है, लेकिन कोरोनाकाल के चलते चुनाव प्रक्रिया अपने निर्धारित समय पर नही हो सकी। उन्होंने आगे बताया कि चंडीगढ़ में कुल 650 वोटिंग मेंबर्स है। इनमें से करीब 500 रिटेलर्स और होलसेलर वोटिंग मेंबर 150 हैं। उन्होबे आगे बताया कि रिटेलर्स की समस्याओं का निवारण नही हो रहा था था।  फार्म इंडस्ट्री के 20 फीसदी लोगों ने80 फीसदी व्यापार हथिया  रखा है। उसी गैप को खत्म करने के लिए  प्रयास किया जा रहा है। रिटेल केमिस्ट्स की विभिन्न समस्याओं का निदान किया जाएगा। हम लोग जहां जहां वोट मांगने जा रहे हैं केमिस्ट भाइयों का भरपूर समर्थन मिल रहा है मेरी टीम की जीत पक्की है।

नरेश जिंदल पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल के उप प्रधान बने 

रघुनंदन पराशर, डेमोक्रेटिक फ्रंट, जैतो  –  29 सितम्बर :

            फैडरेशन ऑफ आल इंडिया व्यापार मंडल के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल (रजि ) के प्रदेश प्रधान अमित कपूर ने प्रदेश व्यापार मंडल को और मजबूत करने के लिए इसका विस्तार राज्य स्तरीय, जिला व मंडी स्तरीय करने के मद्देनजर श्री बालाजी आयल मिलज जैतो के एम.डी. नरेश जिंदल को पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल का राज्य स्तरीय उप प्रधान नियुक्त किया है।

            यह जानकारी पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल के प्रांतीय महासचिव के.के. मालपानी माहेश्वरी व मुख्य मीडिया सलाहकार रघुनंदन पराशर ने आज यहां दी। इस बीच नवनियुक्त प्रदेश व्यापार मंडल उप प्रधान नरेश जिंदल ने कहा कि प्रदेश व्यापार मंडल ने उन्हें जो उनको ज़िम्मेवारी सौंपी गई हैं उस पर वह खरा उतरेंगे और व्यापारी वर्ग के हितों के लिए अधिक से अधिक काम करेंगे।

            पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल के प्रदेश प्रधान अमित कपूर ने कहा कि  प्रदेश व्यापार मंडल एक गैर राजनीतिक संगठन है जिसमें सभी राजनीतिक दलों व विभिन्न संगठनों के लोग शामिल हैं। उन्होंने कहा कि व्यापार मंडल के जिस इकाई व पदाधिकारी का काम कमजोर है उनकी जगह व्यापारियों की सलाह से न‌ई नियुक्ति कर दी जाएगी।

            व्यापार मंडल का मुख्य लक्ष्य छोटे – बड़े सभी व्यापारियों के कोरोबार  की रक्षा करना है और व्यर्थ में अधिकारियों की कारोबार में बेदखली को रोकना है।पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल (रजि ) के प्रदेश प्रधान अमित कपूर नरेश जिंदल को नियुक्ति पत्र सौंपा।

            इस अवसर पर व्यापार मंडल के महासचिव के.के.मालपानी, आर.एन.पराशर, कुलभूषण माहेश्वरी, नवीन जिंदल व आदि उपस्थित थे। इस दौरान उपमंडल जैतो के विभिन्न राजनीतिक पार्टियों के नेताओं, धार्मिक, सामाजिक, शिक्षाण व अलग- अलग  प्रतिष्ठित संस्थानों ने नरेश जिंदल की नियुक्ति पर पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल अध्यक्ष अमित कपूर व समूह मंडल का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि इस नियुक्ति से प्रदेश व्यापार मंडल और मजबूत होगा क्योंकि नरेश जिंदल के आम समूह लोगों से निजी सम्पर्क है। 

पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल में विस्तार जल्दी

रघुनंदन पराशर, डेमोक्रेटिक फ्रंट, जैतो – 27 सितम्बर :  

            पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल (रजि ) के प्रदेश प्रधान अमित कपूर ने प्रदेश व्यापार मंडल को और मजबूत करने के लिए इसका विस्तार राज्य स्तरीय, जिला व मंडी स्तरीय करने की बात कही है।

            पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल के प्रांतीय महासचिव के.के. मालपानी माहेश्वरी के अनुसार प्रदेश व्यापार मंडल एक गैर राजनीतिक संगठन है जिसमें सभी राजनीतिक दलों के लोग शामिल हैं। व्यापार मंडल के महासचिव मालपानी ने कहा कि सभी पदाधिकारियों की रिपोर्ट मांगी गई है जिसका काम कमजोर है उनकी जगह व्यापार वर्ग की सलाह से उनकी जगह न‌ई नियुक्ति कर दी जाएगी।

            व्यापार मंडल का मुख्य लक्ष्य छोटे – बड़े सभी व्यापारियों के कोरोबार  की रक्षा करना है और व्यर्थ में अधिकारियों की कारोबार में बेदखली को रोकना है।

गांधी जयंती से होगी शुरुआत, एक ही छत के नीचे शहर में मिलेंगे खादी उत्पाद

  • शिक्षा मंत्री पहुंचेंगे बतौर मुख्य अतिथि

सुशील पंडित, डेमोक्रेटिक फ्रंट, यमुनानगर  –  26 सितंबर :

            गांधी जयंती के शुभ अवसर पर गांधी जी के ही द्वारा शुरू की गई खादी के सभी उत्पाद जिले में एक ही छत के नीचे मिलेंगे।

            खादी बोर्ड से मान्यता प्राप्त सजी संवरी द्वारा कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक जो भी बुनकरों द्वारा खादी के उत्पाद तैयार किए जाते हैं वह सब बुनकरों से सीधे-सीधे जनता को मिलेंगे। इस संबंध में और अधिक जानकारी देते हुए खादी बोर्ड से मान्यता प्राप्त सजी संवरी की ड्रेस डिजाइनर मीतू सलूजा ने बताया कि खादी बोर्ड ने उन्हें इसके लिए एक प्रमाण पत्र दिया है और अब वह खादी के इन उत्पादों को बुनकरों से सीधे सीधे जनता तक पहुंचा सकते हैं।

            उन्होंने बताया कि उनका मुख्य उद्देश्य स्वदेशी को बढ़ावा देना तथा देश को उन्नति की राह पर अग्रसर करना है। मीतू ने बताया कि 2 अक्टूबर गांधी जयंती के जन्म दिवस के मौके पर शिक्षा मंत्री द्वारा अग्रसेन चौक के नजदीक सजी संवरी की शुरुआत की जाएगी। प्रदेश में यह अपने किस्म का एकमात्र के अंदर होगा जहां प्रदेश के हर प्रांत के बुनकर द्वारा तैयार किए गए उत्पाद जनता को मिलेंगे।

            उनका कहना था कि इससे जहां बुनकरों को रोजगार मिलेगा वही जनता को भी अपनी पसंद घर बैठे ही मिलेगी और उन्हें इसके लिए किसी अन्य प्रांत में नहीं जाना होगा। सभी समरी केंद्र को भी एक ग्रामीण परिवेश की लुक दी गई है जो कि जिला वासियों को अपनी ओर आकर्षित कर रही है। गांधी जयंती के मौके पर जिला वासियों के लिए यह एक उपहार से कम नहीं है।

अरिहंत सब्जी मंडी आढ़ती एसोसिएशन के सदस्यों थामा भाजपा का दामन

  • भाजपा एनजीओ सेल ने सब्जी मंडी में  लगाया टीकाकरण कैम्प

डेमोक्रेटिक फ्रंट संवाददाता, चंडीगढ़ – 24 सितंबर :

भाजपा एनजीओ सेल ने अरिहंत सब्जी मंडी आढ़ती एसोसिएशन के सहयोग से स्थानीय सेक्टर 26 की  सब्जी मंडी में टीकाकरण अभियान चलाया  भाजपा प्रदेशाध्यक्ष अरुण सूद व प्रदेश प्रवक्ता कैलाश जैन ने बूस्टर डोज लगवाई । उनके अलावा 100 से अधिक व्यक्तियों ने टीकाकरण करवाया बूस्टर डोज लगवाया।

कार्यक्रम में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अरुण सूद मुख्य अतिथि के रुप में पधारे।  उन्होंने अरिहंत सब्जी मंडी आढ़ती एसोसिएशन के प्रधान रतन जैन ,महामंत्री कस्तूरी लाल सहित सभी पदाधिकारियों व सदस्यों तथा मजदूर संगठन के सदस्यों को भाजपा ज्वाइन  करवाई।

 इस अवसर पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अरुण सूद के साथ भाजपा उपाध्यक्ष देवेंद्र सिंह बबलाउपमहापौर अनूप गुप्ता , प्रदेश प्रवक्ता कैलाश चंद जैन, भाजपा प्रकोष्ठों के कोऑर्डिनेटर हरीश गर्ग, ग्रेन मार्केट एसोसिएशन के प्रधान राज बंसल,  महामंत्री मोहित सूद सहित अनेक कार्यकर्ता उपस्थित रहे ।

 एनजीओ सेल के  संयोजक अजय सिंगला, सह  संयोजक अजय कौशिक,  राजेश मित्तल कार्यकारिणी सदस्य विकास गोयल व  सब्जी मंडी एसोसिएशन  के सभी पदाधिकारी व कार्यकारिणी सदस्य भी उपस्थित थे।

              इस अवसर पर सब्जी मंडी आढ़ती एसोसिएशन के प्रधान रतन जैन सब्जी मंडी की समस्याओं से संबंधित एक ज्ञापन भी सौंपा,  अरुण सूद ने  इस ज्ञापन को  उचित कार्रवाई हेतु अधिकारियों को भेजने का आश्वासन दिया।

एन जी ओ सेल के संयोजक अजय सिंगला ने सभी का धन्यवाद किया।

मनोभ्रंश से प्रभावित लगभग 70-80 फीसदी लोग अल्जाइमर रोग से पीडि़त हैं: डॉ अमित शंकर सिंह

विश्व अल्जाइमर दिवस

दवा के साथ-साथ परिवार का सहयोग, शारीरिक और संज्ञानात्मक पुनर्वास रोग प्रबंधन में महत्वपूर्ण


डेमोक्रेटिक फ्रंट संवाददाता, चंडीगढ़  –   20 सितंबर

            जैसे-जैसे वृद्धावस्था बढ़ती है, मनोभ्रंश (डिमेंशिया), जिसे भूलने की बीमारी भी कहा जाता है, बुजुर्गों का पर्याय बन जाती है। हालांकि, मनोभ्रंश की घटना केवल उम्र तक ही सीमित नहीं है। अल्जाइमर रोग मनोभ्रंश का सबसे सामान्य रूप है और मनोभ्रंश से प्रभावित लगभग 70-80 फीसदी लोगों में रोग का निदान किया जाता है। यह बात अल्जाइमर दिवस पर एक विशेष सत्र के दौरान फोर्टिस हॉस्पिटल मोहाली के न्यूरोलॉजी के एसोसिएट कंसल्टेंट डॉ अमित शंकर सिंह ने बताई। वे इसके कारणों, लक्षणों, रोकथाम और उपचार के विकल्पों के बारे में चर्चा कर रहे थे।

 
            अल्जाइमर रोग के बारे में जागरूकता बढ़ाने और इससे जुड़ी भ्रांतियों को दूर करने के लिए हर साल 21 सितंबर को विश्व अल्जाइमर दिवस मनाया जाता है। विश्व अल्जाइमर दिवस -2022 का विषय है – डिमेंशिया को जानें, अल्जाइमर को जानें – चिकित्सा स्थिति के चेतावनी संकेतों और निदान पर जोर देना।


            डॉ अमित शंकर सिंह ने बताया कि अल्जाइमर रोग मस्तिष्क का एक न्यूरो-डीजेनेरेटिव विकार है जिसके कारण मस्तिष्क सिकुड़ (एट्रोफी) जाता है और मस्तिष्क की कोशिकाएं मर जाती हैं। यह रोग व्यक्ति की संज्ञानात्मक क्षमताओं जैसे सीखने, स्मृति, भाषा, ध्यान, मोटर और सामाजिक कौशल में गिरावट है। उन्होंने बताया कि भले ही अल्जाइमर के कारण स्पष्ट नहीं हैं, आनुवंशिक वंशानुक्रम रोग के प्रमुख कारणों में से एक है। यह मस्तिष्क में प्रोटीन – अमाइलॉइड प्रोटीन और न्यूरिटिक प्लाक – के असामान्य जमाव के कारण भी होता है, जिससे मस्तिष्क की कोशिकाएं मर जाती हैं। 65 वर्ष से अधिक आयु के लोगों में अल्जाइमर से प्रभावित होने की संभावना अधिक होती है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में भी इस बीमारी के मामले ज्यादा होते हैं।


            उन्होंने बताया कि अल्जाइमर रोग के चेतावनी संकेत जिन्हें आसानी से पहचाना जा सकता है वे है स्मृति दुर्बलता, जिसमें सोचने, तर्क करने और समझने में कठिनाई होती है। व्यवहार में बदलाव, भाषा, बोलने में कठिनाई, दैनिक कार्यों को पूरा करने में असमर्थ।

 
            अल्जाइमर रोग पर प्रकाश डालते हुए, डॉ अमित शंकर सिंह ने कहा, भले ही बीमारी को रोकने के कोई सिद्ध तरीके नहीं हैं, नियमित शारीरिक गतिविधि, ध्यान, संतुलित आहार, स्वस्थ वजन बनाए रखना और रक्तचाप को नियंत्रण में रखना मस्तिष्क को स्वस्थ रखने में मदद करता है।


            डॉ अमित शंकर सिंह ने आगे कहा, यह ध्यान में रखा जाना चाहिए कि अल्जाइमर उम्र बढऩे का सामान्य हिस्सा नहीं है। कुछ दवाएं रोग के लक्षणों को नियंत्रित करने में मदद करती हैं। दवा के साथ-साथ परिवार का समर्थन, शारीरिक और संज्ञानात्मक पुनर्वास रोग के प्रबंधन में एक अभिन्न अंग हैं।

खराब जीवनशैली से युवा आबादी में बढ़ रहे हैं हार्ट अटैक: डा.एच.के. बाली

दिल से जुड़ी बीमारियों के जल्द निदान के लिए लोग सीने में दर्द, अन्न्य लक्ष्णों को नजरअंदाज न करें: डा. बाली

डेमोक्रेटिक फ्रंट संवाददाता,  पंचकुला  –   18 सितंबर :
 

                        युवा पीढ़ी में हार्ट अटैक बढऩे के कारणों और इससे बचाव के तरीकों पर चर्चा करने के मकसद से पारस अस्पताल द्वारा एक हेल्थ टॉक का आयोजन किया गया, जिसमें जाने माने हृदय रोग माहिर डा. एच.के. बाली ने युवाओं को दिल की बीमारियों से दूर रहने के टिप्स दिए। इस अवसर पर युवाओं ने बढ़ चढक़र हिस्सा लिया।

                        पारस अस्पताल के कार्डियक साइंस के चेयरमैन डा. एच.के बाली ने कहा कि जीवनशैली में बदलाव, अस्वस्थ आहार, शारीरिक गतिविधियों में कमी व बढ़ते तनाव के कारण युवा आबादी में हार्ट अटैक के मामले बढ़ रहे हैं। उन्होंने बताया कि हाल इतने बद्दतर हो रहे हैं कि अब 20 वर्ष की उम्र के नौजवानों को भी दिल का दौरा पड़ रहा है।

                        उन्होंने नौजवानों को सुचेत रहते हुए सभी को फोन का कम उपयोग, स्वस्थ आहार, काम के दौरान छोटे-छोटे ब्रेक, सुबह-शाम 30 मिनट का व्यायाम तथा सबसे अपने आसपास व खास दोस्तों से अपने सुख-दुख की बात को सांझा करने का सुझाव दिया। उन्होंने हार्ट अटैक के लक्ष्णों के बारे में बताया कि यह कैसे सीने में दर्द के सामान्य कारणों से अलग हैं।

            उन्होंने कहा कि दिल से जुड़ी बीमारियों के जल्द निदान के लिए लोग सीने में दर्द, अन्य लक्ष्णों को नजरअंदाज न करें तथा तुरंत दिल के माहिर डाक्टर को दिखाएं। इस मौके उन्होंने युवाओं को नियमित स्वास्थ्य जांच करवाने का आग्रह भी किया।

ट्राईसिटी का सबसे बड़ा – नकआउट लग्जरी सैलून मोहाली में खुला

डेमोक्रेटिक फ्रंट संवाददाता, मोहाली  –  18 सितंबर :

            ट्राईसिटी का सबसे बड़ा सैलून – नकआउट लग्जरी सैलून, यूके की एक अंतरराष्ट्रीय चेन, आज यहां एससीओ 5-6, सेक्टर 79, मोहाली में आयोजित एक भव्य समारोह के दौरान लॉन्च किया गया। आउटलेट का उद्घाटन मुख्य अतिथि भगवान दास गुप्ता, मुख्य संरक्षक ने किया। इस मौके पर पार्टनर इंदु गर्ग और अनन्या भी मौजूद थीं।

            दीना गुप्ता, एमडी और जितेंद्र गुप्ता, एमडी ने कहा, “सैलून जितने फ्लोर एरिया पर स्थित है, वो ट्राइसिटी और यहां तक कि पंजाब में सबसे बड़ा है। पटियाला, जीरकपुर, लुधियाना, भटिंडा, पंचकूला और सिरसा में यह सैलून पहले से ही कार्यरत है, और अब यह मोहाली में खुल गया है। कई बड़े सेलेब्रिटी हमारे ग्राहकों में शामिल हैं और पूरे भारत में इसके फ्रैंचाइज़ी के अवसर भी मौजूद हैं। कनाडा में भी इसकी एक शाखा खुलने जा रही है।”

            यूके प्रमाणित कर्मचारियों और अंतरराष्ट्रीय गुणवत्ता वाले उत्पादों के उपयोग के साथ यह लक्जरी सैलून किफायती दाम वाला है। सैलून में हेयर केयर, ब्यूटी केयर, नेल आर्ट, मेकअप सहित सभी प्रकार की पर्सनल ग्रूमिंग सेवाएं उपलब्ध हैं। इसके अलावा मेकअप, नेल आर्ट, ब्यूटी और हेयर केयर स्किल्स के लिए अलग-अलग अवधि के इंटरनेशनल सतर के कोर्स भी कराए जाते हैं। छात्रों को 100% जॉब प्लेसमेंट सहायता प्रदान की जाती है।

            नकआउट सभी अंतरराष्ट्रीय मानकों और सेवाओं को प्रदान करने के लिए यूके सरकार द्वारा प्रमाणित है। यह एशिया में अपनी तरह का सबसे बड़ा सैलून और स्पा है जिसके साथ अंतरराष्ट्रीय स्तर के प्रसिद्ध ब्रांड जुड़े हैं, जैसे लोरियल, एलएफएपीएआरएफ, पीएच +, केनपेकी, डर्मालोगिका। यह बाल, सौंदर्य और स्पा डोमेन में 120 उच्च प्रशिक्षित पेशेवरों के साथ सालाना 70,000 से अधिक ग्राहकों वाला सैलून है।

            चार से अधिक शहरों (पटियाला, पंचकुला, जीरकपुर, सिरसा और लुधियाना) में मौजूदगी  और पांच लग्जरी सैलून के साथ, कंपनी अब मोहाली, बठिंडा, चंडीगढ़, मुंबई, पुणे और लखनऊ में कदम रख रही है। यह भारत की सबसे तेजी से बढ़ने वाली कंपनी है। 

            नकआउट ‘फील एंड लुक गुड’ सेवाओं के लिए वन स्टॉप शॉप है, जिसमें बेहद स्वच्छता वाली सुविधाएं, डेस्टिनेशन सैलून व स्पा है। ट्राईसिटी में लिफ्ट की सुविधा प्रदान करने वाला यह एकमात्र सैलून है। इसकी एकेडमी में बाल, नाखून, सौंदर्य, बॉडी और सैलून सेवाओं के यूके प्रमाणित पाठ्यक्रम कराए जाते हैं।

KONE upbeat on expansion in North India; Opens office in Ludhiana  

Democaretic Front Corresspondent, Ludhiana – September :

KONE Elevators India, a fully owned subsidiary of KONE Corporation, a global leader in the elevator and escalator industry, has expanded its presence in North India with the opening of a sales and service office in Ludhiana today.

Located at SCF 41, Rajguru Nagar, Ludhiana, Punjab, this new facility covers all aspects such as sales, installation, service, Annual Maintenance Contract and modernization, to support increasing customer demand and expectations in Ludhiana. It will also serve as a complete and seamless experience for their customers. 

Speaking at the press conference, Mr. Amit Gossain, Managing Director, KONE Elevators India shared, ”With the Indian economy growing, increased urbanization and projects like affordable housing, we see good opportunities. Ludhiana is one of the fastest progressing districts of Punjab, and has shown a significant rise in the number of industries in the recent years. KONE India already enjoys a good reach in this market. And with this new facility, we will get even closer to our Customers in Ludhiana. North India and the surrounding areas are a very important market for us and this new office is in accordance with our strategy of ‘Sustainable success with customers’ to ensure a stronger connect with them in this area. We work closely with our customers and partners which helps create great experiences for visitors and residents alike.”

KONE India constantly aims to contribute to better tomorrows in the communities that they serve and has initiated many CSR initiatives in the areas of education and environment actions. Their Green Dream Project was initiated with the objective of sensitizing the general public on key environmental issues. The ongoing project uplifts otherwise neglected walls, delivers a powerful message in a very effective manner through beautiful wall paintings, and offers good job opportunities for talented artists from different parts of the country. They recently inaugurated the wall paintings in India’s Heritage City – Chandigarh, in line with the Swachh Bharat Mission.

About KONE  

At KONE, our mission is to improve the flow of urban life. As a global leader in the elevator and escalator industry, KONE provides elevators, escalators and automatic building doors, as well as solutions for maintenance and modernization to add value to buildings throughout their life cycle. Through more effective People Flow®, we make people’s journeys safe, convenient and reliable, in taller, smarter buildings. In 2021, KONE had annual sales of EUR 10.5 billion, and at the end of the year over 60,000 employees. KONE class B shares are listed on the Nasdaq Helsinki Ltd. in Finland. www.kone.com  About KONE India  KONE’s presence in India dates back to 1984 and today it is the leading elevator company in India. Based in Chennai, KONE India serves customers all over the country through its 50+ branches and provides sustainable People Flow™ solutions for India’s rapidly growing cities. It employs 5000+ people in the country.  KONE’s production unit in Tamil Nadu near Chennai produces elevators for the Indian market as well as for Bangladesh, Bhutan, Nepal and Sri Lanka. It also has three training centers in Chennai, Gurgaon & Pune, where KONE’s installation engineers and field mechanics are trained to meet KONE India’s strong reputation for high quality and uncompromised safety, as well as the expectations of Indian customers, when installing and maintaining elevators and escalators. KONE’s global technology and engineering center in Chennai and Pune, is one of the seven global R&D center, is a testing and research hub, which supports the latest technology and development of future KONE solutions. For more information, please visit www.kone.in

हिमाचल भवन में नेशनल सिल्क एक्सपो शुरू, रेशम की खूबसूरत कारीगरी का प्रदर्शन्

डेमोक्रेटिक फ्रंट संवाददाता, चंडीगढ़, 15 सितंबर  :

            त्यौहार व शादियों के सीजन के लिए कॉटन व सिल्क हैंडलूम साड़ियों की नवीनतम वैरायटी व नए डिजायनों के साथ नेशनल सिल्क एक्सपो आज यहां सेक्टर-28बी स्थित हिमाचल भवन में शुरू हो गया, जो 20 सितंबर तक जारी रहेगा। 

            एक्सपो में तरह-तरह के डिजाइन, पैटर्न, कलर-कॉम्बिनेशन की साड़ियों का विशाल खजाना है। इसमें देश के अलग-अलग राज्यों से आए बुनकरों द्वारा तैयार सिल्क साड़ियों के लुभावने कलेक्शन प्रदर्शित हैं, जो आमतौर पर शहरी बाजारों में देखने को नहीं मिलते।

            ग्रामीण हस्तकला द्वारा आयोजित इस एक्सपो में, गुजरात की डबल इक्कत हैंडमेड पटोला साड़ी उपलब्ध है, जो आठ महीने मैं तैयार होती है और इसे दो बार बुना जाता है। इसके हर धागे को अलग से कलर किया जाता है। प्योर सिल्क की होने की वजह से यह थोड़ी महंगी होती है। वहीं महाराष्ट्र की पैठणी साड़ियों पर ग्रामीण परिवेश से लेकर, राजा-महाराजाओं के राजसी अंदाज और मुगलकालीन कला तक के चित्र देखने को मिलते हैं।

            एक्सपो के आयोजक, जयेश कुमार गुप्ता ने कहा कि बनारस के बुनकर अपनी साड़ियों को नए जमाने के हिसाब से लोकप्रिय बनाने के लिए कई तरह के प्रयोग करते रहते हैं। कभी वे साड़ियों पर बाग की छपाई करवाते है तो कभी महाराष्ट्र की पैठणी साड़ियों के मोटिफ बुनवाते हैं। वैसे पारंपरिक बनारसी जरी और कढ़वा बूटी साड़ियों से लेकर तनछोई सिल्क तक कई तरह की वैरायटी एक हजार रुपए से पांच हजार रुपए तक में मिल रही हैं। 

            रेशम की बुनाई के लिए मशहूर बिहार के भागलपुर से कई बुनकर वैडिंग सीजन जैसे खास मौकों पर पहने जाने वाली भागलपुर सिल्क साड़ी भी लेकर आए हैं। तमिलनाडु की प्योर जरी वर्क की कांजीवरम साड़ी भी महिलाओं को पसंद आ रही हैं। सोने और चांदी के तारों से बनी इस साड़ी को कारीगर 30 से 40 दिन मैं तैयार करते हैं। मैसूर सिल्क साड़ियों के साथ ही क्रेप और जॉर्जेट सिल्क, बिहार का टस्सर सिल्क, आन्ध्र प्रदेश का उपाड़ा, उड़ीसा का मूंगा सिल्क भी सिल्क एक्सपो में प्रदर्शित है।