DAY LONG DHARNA AND LUNCH TIME DEMONSTRATION AGAINST INTRODUCTION OF BANKS LAWSe (AMENDMENT) BILL 2021

Chandigarh :

On the call of the United Forum of Bank Unions (UFBU), the apex body of 9 trade unions of Bank Employees and officers, a full day dharna as well as lunch time demonstration was held today in front of State Bank of India, Main Branch, Bank Square, Sector 17, Chandigarh against the Governments proposal to introduce the Banking Laws (Amendment) Bill, 2021 in the current session of Parliament. More than 100 members sat in the day long dharna and more than 500 members affiliated to UFBU participated in the lunch time massive demonstration held in front of State Bank of India. Two days continuous strike has also been planned by the UFBU for 16th & 17th of December 2021. The loud sloganeering by the participants including large number of lady members showed the anger of the members against the move of the Govt.

Sanjeev Bandlish, Deepak Sharma, Sushil Gautam , Naresh Gaur Jagdish Rai, T S Saggu, B S Gill, Vipin Kumar Handa and other leaders from various constituents of UFBU shared their views.

Sanjeev Bandlish, all India Convenor of UFBU said that Privatization of PSB’s will amount to rollback of Bank Nationalization, which is retrograde, ill-conceived and thoroughly inimical to the national interest. Comrade Naresh Gaur said that time and again Public Sector Banks have been used to bail out the ailing Private Sector Banks such as Global Trust Bank, United Western Bank, Bank of Karad etc. In the recent past, Yes Bank which was bailed out by Public Sector SBI and LIC. In the recent past Private Sector banks like RBL Bank, Bandhan Bank and four small finance banks have posted loses. RBI has also cancelled the license of Private Sector Local Area Bank namely Subhadra Local Area Bank. The common people have become scared of Private Sector Banks since they expose their hard earned savings. He said that the Government claims that it is implementing various social sector loans and schemes for the underprivileged sections of the societies through the PSB’s. During the pandemic period, it is the Public Sector Banks which have been giving uninterrupted customer services. He requested that the Government should withdraw the proposed Bill in the interest of the common people and nation.

While opposing the legislations to privatize the Banks, Sanjay Sharma, the convenor of UFBU (tricity) said that Pubic Sector Banks act as catalysts in the economic development of the society and backward regions of the country. Nationalized Banks have played a major role in the development of agriculture, small trade, small business, SSI, transport and in upliftment of weaker sections of the society. Way back in 2008 when the world economy was plunged into a deep crises and meltdown, it was PSB’s which helped Indian economy to sustain. Comrade sushil gautam said that all the Public Sector Banks are doing well and earning substantial profit. He requested that Privatization of public sector banks will jeopardize the interest of the common people and backward regions of the country and we all are opposed to any such retrograde move.

होम लोन में दो ईएमआई की छूट देता है बैंक ऑफ महाराष्ट्र : हेमन्त टम्टा

बैंक ऑफ महाराष्ट्र के कार्यपालक निदेशक ने रिटेल एवं एमएसएमई एक्स्पो में 152 करोड़  के लोन बांटे

चण्डीगढ़ :

सैक्टर 43 स्थित होटल में बैंक ऑफ महाराष्ट्र आंचलिक कार्यालय, चण्डीगढ़ ने रिटेल / एमएसएमई एक्सपो का आयोजन किया जिसके तहत ट्राईसिटी की सभी शाखाओं के साथ व अंचल की सभी शाखाओं में शाखा स्तर पर  रिटेल /एमएसएमई एक्सपो  का आयोजन हुआ।

एक्सपो का शुभारम्भ बैंक ऑफ महाराष्ट्र के कार्यपालक निदेशक हेमन्त टम्टा ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इस आयोजन में बैंक ऑफ महाराष्ट्र  के कई अप्रूवड बिल्डर्स, कार डीलर्स, बिजनस चैनल पार्टनर्स, डीएसए व एज्यूकेशन लॉन काउसलंर्स के साथ स्थानीय अंचल प्रबंधक सुशांत कुमार गुप्ता, उप अंचल प्रबंधक संजय कुमार गुप्ता, सीपीसी हेडस अभिषेक बिंदल, महीलाल मीना के साथ ट्राईसिटी के शाखा प्रबंधक व बैंक के भावी ग्राहकों ने हिस्सा लिया।

हेमन्त कुमार  टम्टा ने सभी उपस्थित  ग्राहकों को मुलाक़ात कर स्वीकृति पत्र प्रदान किये। एक्सपो में बैंक ऑफ महाराष्ट्र, चंडीगढ़ अंचल ने रिटेल में कुल 75 करोड़ ( 120 खाते )  व एमएसएमई में 77 करोड़ (92 खाते ) की राशि  का ऋण स्वीकृत  कर कुल 152 करोड़ का व्यवसाय दर्ज किया।

 इसी  दौरान हेमंत कुमार टम्टा ने मीडिया से रुबरु होते हुये बतलाया कि बैंक के  सीएमडी ए.एस. राजीव का लक्ष्य मार्च  2024 तक बैंक  का कुल व्यवसाय रु. 5,00,000/-करोड़ (पाँच लाख करोड़) तक हासिल करना हैं।टम्टा ने भिन्न–भिन्न जमा एवं अग्रिम योजनाओं  के बारे में विस्तृत  रूप से चर्चा की। उन्होंने बताया कि उनका बैंक समय पर किश्त चुकाने वालों को होम लोन में दो ईएमआई की छूट देता है जिस कारण बड़ी संख्या में आम जन बैंक ऑफ महाराष्ट्र की तरफ आकृष्ट हो रहें हैं।

उपस्थित ग्राहकों  ने बैंक द्वारा दी जा रही सेवाओं  की भूरि–भूरि  प्रंशसा की। कार्यक्रम के अंत में  धन्यवाद  संजय कुमार गुप्ता ने किया।

India has not only become self-sufficient in food grains but is also meeting the demand of other countries- Gian Chand Gupta

  • Various welfare schemes have been implemented by the Government for poor and needy 
  • Benefit of schemes is being given directly to the beneficiaries by using information technology.

Panchkula, November 25:

Haryana Vidhan Sabha Speaker, Sh. Gian Chand Gupta said that India has not only become  self-sufficient in food grains but is also meeting the demand of other countries. Under the dynamic leadership of Prime Minister, Sh Narendra Modi, several schemes have been implemented for the welfare of the poor and needy and the benefit of these schemes is being given directly to the beneficiaries by using information technology.

        Gupta was addressing the gathering at a programme organized by the Regional Office of Food Corporation of India (FCI) , Sector 4 as part of ‘Azadi Ka Amrit Mahotsav’ here today.

Gupta said that to commemorate the completion of 75 years of India’s independence, ‘Azadi Ka Amrit Mahotsav’ is being celebrated across the country under which various programmes are being organized. While thanking the Prime Minister, Sh Narendra Modi , he said that besides rights and duties of the citizens, the Prime Minister has laid special emphasis on making the people ‘Atamnirbhar’ .

        The Vidhan Sabha Speaker said that there was a time when India had to import food grains  to meet the demand, but today India has not only become self-sufficient in food grains but is also fulfilling the demand of other countries. The Food Corporation of India was established in the year 1965 and since then the Corporation has been providing food grains to the poor and needy at reasonable prices, which is a commendable work.
Sh Gupta said that various schemes have been implemented by the Government for the poor and needy people, including Pradhan Mantri Garib Kalyan Anna Yojana, Antyodaya Anna Yojana, Pradhan Mantri Ujjwala Yojana, distribution of essential commodities to BPL families at subsidized rates. The benefits of these schemes are being given directly to the beneficiaries, he added.

While referring to Covid-19, Sh Gupta congratulated Prime Minister, Sh Narendra Modi for his efforts to control the spread of Covid in the country. He said that in a country with a population of about 130 crore, it was difficult to control this  disease in such a short time. He said that though the cases of Corona have been reduced significantly yet it is not completely over. Therefore, the people should remain  cautious and follow the guidelines issued by the government from time to time.

Sh Gupta said that November 26 is celebrated as Constitution Day. The Day also apprises the people about their fundamental and constitutional rights. Sh Gupta said that on Constitution Day, people should take a pledge to also discharge their duties sincerely besides the fundamental rights and contribute towards the progress of the country.
Earlier, the Deputy General Manager, Food Corporation of India, Panchkula, Pradeep Singh said that since its inception in 1965, the FIC has been working for the welfare of the farmers and for the benefit of the consumers. 

Among those present on this occasion   included Deputy General Manager (Accounts) Food Corporation of India , Panchkula Ashish Kumar, BJP leader Yogendra Sharma, Councilor Harendra Malik and employees and officers of FCI.

सिटी ब्यूटीफुल की 50 सोशलाइट महिलाओं ने किया एब्सोल्यूट बारबेक्यू ‘विश ग्रिल’ रेस्टोरेंट का उद्घाटन

चंडीगढ़ 24 नवंबर
सिटी ब्यूटीफुल में पहली बार 50 सोशलाइट महिलाओं द्वारा एब्सोल्यूट बारबेक्यू ‘विश ग्रिल’ रेस्टोरेंट का उद्घाटन किया गया। इस मौके पर महिलाओं ने  120 आइटम्स के  स्वाद का मजा लिया।

बारबेक्यू रेस्तरां नेटवर्क संचालित करने वाली कंपनी एब्सोल्यूट बारबेक्यू ने चंडीगढ़ में अपना विस्तार करते हुए 47वां रेस्तरां शुरू किया है।इस कंपनी का यह चंडीगढ़ व पंजाब का पहला  रेस्तरां  है। वर्ष 2013 से इस क्षेत्र में कार्यरत इस कंपनी का देश के 14 शहरों में रेस्तरां है। कंपनी के दुबई में भी तीन रेस्तरां हैं। कंपनी के रीजनल हेड नार्थ एंड  ईस्ट ऑपरेशनस मनीष पांडे ने इस मौके पर कहा कि कंपनी का प्रयास ग्राहकों तक पहुंचने का है। इसी क्रम में चंडीगढ़ में विस्तार किया गया है। गुरुग्राम, हैदराबाद, बेंगलुरू और पुणे में कंपनी के रेस्तरां में आने वाले नार्थ इंडिया के अतिथियों ने पंजाब या चंडीगढ़ में ऐ बी के विश ग्रिल को शुरू करने की योजना बनायी गयी और अब इसको शुरू किया गया है।

ए बी’स  पार्टी टाइम के सभी क्षणों के लिए आपको और आपके मित्र, परिवार और आपके आस-पास के पसंदीदा लोगों को समर्पित एक स्थान है।विश ग्रिल पर ब्राजीलियाई चुर्रास्को के साथ विदेशी मीट की एक विशाल विविधता के साथ, और एक अंतहीन किस्म के स्टार्टर्स के बाद कोल्ड स्टोन क्रीमरी के साथ, एबी उन सभी के लिए उनकी पसंदीदा रेस्तरां  है जो भोजन और पेय के साथ खुशी और मौज मस्ती चाहते हैं।

चंडीगढ़ में एब्सोल्यूट  बारबेक्यू में 150 मेहमानों के बैठने की क्षमता है, जिसे किसी भी अवसर और उत्सव के लिए बुक किया जा सकता है। एबी के पास जन्मदिन और वर्षगाँठ मनाने का एक अनूठा तरीका है ।

कार डीलर्स के कारोबार को इंडस्ट्री का दर्जा दिया जाए : जेएस नेयोल ऑल इंडिया कार डीलर्स एसोसिएशन की वार्षिक आम सभा आयोजित


चण्डीगढ़ :

ऑल इंडिया कार डीलर्स एसोसिएशन (एआईसीडीए) की आज यहां संपन्न हुई वार्षिक आम सभा में एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेएस नेयोल ने कहा कि कार बाजार एवं डीलर्स का कारोबार देश भर में अढ़ाई लाख करोड़ सालाना का है व इस कारोबार से लाखों लोगों के परिवार अपनी रोजी-रोटी कमा खा रहे हैं परन्तु फिर भी ये कारोबार पूरी तरह से उपेक्षा का शिकार है। जेएस नेयोल, मजदूरों कामगारों की संस्था इंटक के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी हैं, ने कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कहा कि सरकार को जल्द से जल्द कार बाजार एवं डीलर्स के कामकाज को इंडस्ट्री का दर्जा देना चाहिए ताकि इस क्षेत्र से जुड़े लोग बैंकों से कर्ज लेकर अन्य उद्योगों की तरह अपने कारोबार को आगे बढ़ा सकें व आम जनता को बेहतर सुविधाएँ प्रदान करने में सक्षम हो सकें।

एसोसिएशन के स्थानीय अध्यक्ष ज्ञानेश्वर जैन शैंकी ने मांग उठाई किं सरकार को गाड़ियों की खरीद फरोख्त में बार बार टैक्स थोपने की बजाये स्टेट टैक्स को ट्रांसफर करने का प्रावधान करना चाहिए ताकि आम जनता पर बोझ न पड़े। उन्होंने कहा कि इस कारोबार से जुड़े लोग सरकार का खजाना भरने में अग्रणी हैं परन्तु इन्हें सरकार की ओर से कोई सहूलियत नहीं है जिससे काम चलाना दिन-प्रतिदिन मुश्किल होता जा रहा है।    

बैठक में मौजूद सभी कारोबारियों ने सरकारी उपेक्षा पर नाराजगी व्यक्त करते हुए बताया गया कि उनकी कई बार केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से इन मुद्दों पर बात हो चुकी है परन्तु नितिन गडकरी की पूरी सदिच्छा के बावजूद अफसरशाही के अड़ंगों के कारण उनकी मांगे अधर में लटकी हुईं हैं।

सभी ने एक स्वर में इस कारोबार को पूरी तरह से ऑनलाइन करने की भी मांग उठाई जिससे पूरी पारदर्शिता से काम हो सके।
इस अवसर पर एआईसीडीए के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अश्विनी अग्रवाल, राष्ट्रीय कानूनी सलाहकार सुशील लालवानी, स्थानीय उपाध्यक्ष करणबीर सिंह ठाकुर व महासचिव सोनू बैदवान आदि भी मौजूद रहे। बैठक में हरिंदर सिंह को एआईसीडीए, चंडीगढ़ का नया उपाध्यक्ष भी नियुक्त किया गया।  

अनियमितताओं के चलते पेटीएम पर 1 करोड़ और वेस्टर्न यूनियन पर 27.78 लाख का जुर्माना

भारतीय रिजर्व बैंक ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक लिमिटेड (पीपीबीएल) पर 1 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है। … इसके अलावा आरबीआई ने वेस्टर्न यूनियन फाइनेंशियल सर्विसेज पर 27.78 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। मनी ट्रांसफर सर्विस स्कीम (एमटीएसएस) के निर्देशों का पालन न करने पर ये जुर्माना लगाया गया है।

दिल्ली/चंडीगढ़ :

देश के अग्रणी पेंमेंट्स बैंकों में से एक पेटीआयी एम पेमेंट्स बैंक को बड़ा झटका लगा है। दरअसल, भारतीय रिजर्व बैंक यानी आरबीआई ने नियमों के उल्लंघन के लिए पेटीएम पेमेंट्स बैंक लि. यानी पीपीबीएल पर एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है।  पेमेंट एंड सेटलमेंट की धारा 6(2) के उल्लंघन के चलते यह जुर्माना लगाया गया है.

इसके अलावा आरबीआई ने वेस्टर्न यूनियन फाइनेंशियल सर्विसेज पर 27.78 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। मनी ट्रांसफर सर्विस स्कीम (एमटीएसएस) के निर्देशों का पालन न करने पर ये जुर्माना लगाया गया है।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने एक बयान में कहा कि पेटीएम पेमेंट्स बैंक के ऑथराइजेशन के फाइनल सर्टिफिकेट जारी करने के आवेदन की जांच करने पर, आरबीआई ने पाया कि पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने ऐसी जानकारी दी थी, जो तथ्यात्मक स्थिति को नहीं दर्शाती थी। केंद्रीय बैंक ने कहा, “क्योंकि यह पेमेंट एंड सेटलमेंट सिस्टम एक्ट की धारा 26 (2) का उल्लंघन था, पेटीएम पेमेंट्स बैंक को एक नोटिस जारी किया गया था।”

व्यक्तिगत सुनवाई के दौरान मिले लिखित जवाबों और मौखिक जानकारियों की समीक्षा करने के बाद,समीक्षा के बाद आरबीआई ने आरोपों को सही पाया। इसी के बाद पीपीबीएल पर जुर्माना लगाने की कार्रवाई की गई।

महाराजा की घर वापीसी – 58 हज़ार करोड़ के कर्जे वाली एयर इंडिया हुई टाटा संस की

टाटा समूह को एयर इंडिया में शत प्रतिशत हिस्सेदारी मिली है। वहीं, विस्तारा एयरलाइन, टाटा संस प्राइवेट लिमिटेड और सिंगापुर एयरलाइंस लिमिटेड (एसआईए) का एक ज्वाइंट वेंचर है। इसमें टाटा संस की 51 फीसदी हिस्सेदारी है तो सिंगापुर एयरलाइन का स्टेक 49 फीसदी है। अगर एयर एशिया की बात करें तो इसमें टाटा संस की हिस्सेदारी 83.67 फीसदी है। एयर इंडिया पर करीब 58 हजार करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज है। घाटे से बेहाल महाराजा अब फटेहाल हो गए हैं। 1953 में सरकार द्वारा खरीदी गई इस विमानन कंपनी को 66 साल हो गए हैं। हालांकि अब स्थिति ऐसी हो गई है, कि कंपनी में काम करने वाले कर्मचारियों को भी समय पर वेतन नहीं मिल रहा है। ऐसे में पायलटों सहित केबिन क्रू और इंजीनियरिंग स्टाफ ने भी नौकरी से इस्तीफा देने की धमकी दी है। 

  • टाटा सन्स की इकाई Talace Pvt Ltd की बोली रही 18000 करोड़ रुपये
  • SpiceJet) के संस्थापक अजय सिंह की ओर से बोली रही 15100 करोड़ रुपये
  • लिहाजा एयर इंडिया टाटा सन्स की झोली में चली गई

जेआरडी टाटा ने 1932 में टाटा एयरलाइंस की स्थापना की थी। दूसरे विश्वयुद्ध के वक्त विमान सेवाएं रोक दी गई थीं। जब फिर से विमान सेवाएं बहाल हुईं तो 29 जुलाई 1946 को टाटा एयरलाइंस का नाम बदलकर उसका नाम एयर इंडिया लिमिटेड कर दिया गया। आजादी के बाद 1947 में एयर इंडिया की 49 फीसदी भागीदारी नेहरू सरकार ने ले ली थी। 1953 में भारत के प्रथम प्रधान मंत्री ने इसे टाटा से एक तरह से हथिया लिया था। तब जेआरडी(जहाँगीर रतनजी दादाभाई) टाटा ने नेहरू से ऐसा न करने की प्रार्थना की थी। आज उनके ही वंशज रत्न टाटा ने इसे 58 हज़ार करोड़ के कर्जे के साथ पुन: ख़रीदा है।

विमानन कंपनी एयर इंडिया (Air India) की खरीद के लिए बोली टाटा सन्स की इकाई द्वारा जीते जाने के बाद टाटा समूह (Tata Group) को बधाइयों का तांता लग गया है। एयर इंडिया के लिए बिडिंग में प्रतिद्वंदी रहे स्पाइसजेट (SpiceJet) के संस्थापक अजय सिंह (Ajay Singh) ने भी टाटा ग्रुप को बधाई दी है। अजय सिंह ने एक बयान में कहा, “मैं एयर इंडिया के लिए बोली जीतने पर टाटा समूह को बधाई देता हूं और उनकी सफलता की कामना करता हूं। एयर इंडिया के लिए बोली लगाने के लिए शॉर्टलिस्ट किया जाना, मेरे लिए सम्मान और सौभाग्य की बात थी। मुझे विश्वास है कि टाटा समूह, एयर इंडिया का गौरव बहाल करेगा और पूरे भारत को गौरवान्वित करेगा।” उन्होंने यह भी कहा कि मैं अपने पूरे जीवन में एयर इंडिया का प्रशंसक रहा हूं और महाराजा के लिए दुनिया की अग्रणी एयरलाइन के रूप में अपनी स्थिति को पुनः प्राप्त करने का समय आ गया है।

सिंह ने एयर इंडिया के सफल विनिवेश पर सरकार को धन्यवाद दिया और कहा कि सरकार ने इसके लिए एक पारदर्शी और लचीली प्रक्रिया चलाई और भारत के विनिवेश कार्यक्रम को नई गति दी। सिंह की अगुवाई वाले कंसोर्शियम ने भी एयर इंडिया की खरीद के लिए बोली लगाई थी। टाटा सन्स की इकाई Talace Pvt Ltd की बोली 18000 करोड़ रुपये की रही, वहीं सिंह की ओर से बोली 15100 करोड़ रुपये की रही। लिहाजा एयर इंडिया टाटा सन्स की झोली में चली गई।

इंडिगो ने क्या कहा
विमानन कंपनी इंडिगो की ओर से ट्वीट करके कहा गया, ‘टाटा ग्रुप को एयर इंडिया के लिए बोली जीतने की बहुत बहुत बधाई। विमानन उद्योग के लिए यह वास्तव में रोमांचक समय है, और हम सभी इस महान राष्ट्र और इसके लोगों की सेवा करने के लिए तैयार हैं। नीले आसमान में असीम अवसर हैं।’ इंडिगो में कॉरपोरेट कम्युनिकेशंस और ब्रांड रेपुटेशन की निदेशक छवि लीखा ने भी टाटा ग्रुप को एयर इंडिया की बोली जीतने के लिए बधाई दी।

पेटीएम फाउंडर ने भी दी बधाई
पेटीएम फाउंडर विजय शेखर शर्मा ने भी रतन टाटा और टाटा ग्रुप को बधाई दी है।

सिंधिया बोले ‘एयर इंडिया लिए नया सवेरा’
नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी बधाई देते हुए कहा कि एयर इंडिया का टाटा ग्रुप के पास वापस जाना, विमानन कंपनी के लिए नया सवेरा है। नए मैनेजमेंट को मेरी ओर से शुभकामनाएं। दीपम के सचिव और नागर विमानन मंत्रालय को इस कठिन टास्क को सफलतापूर्वक पूरा करने के लिए बधाई। मुझे उम्मीद है कि एयर इंडिया अपने सफल संचालन के माध्यम से लोगों को करीब लाने के अपने मिशन को पूरा करना जारी रखेगी।’

इंडिया की खरीद में सफल होने पर टाटा ग्रुप को केवल खास लोगों से ही नहीं बल्कि आम लोगों से भी बधाइयां मिल रही हैं। रतन टाटा द्वारा ट्विटर और इंस्टाग्राम पर डाले गए पोस्ट पर कई यूजर्स ने बधाई दी है।

भक्ति – अध्यातम ही नहीं अपितु व्यापार वाणिज्य से भी परिपूर्ण करते हैं शारदीय नवरात्रे

माँ भगवती

धर्म संस्कृति डेस्क, चंडीगढ़:

पित्र पक्ष में अपने पित्रों को तृप्त कर खुशी खुशी विदा करते हैं वहीं से शारदीय नवरात्रों का उल्लास त्योहारों की एक निरंतर लड़ी के आगमन की सूचना भी लाता है। आषाढ़ मास की आखिरी मूलाधार के पश्चात दक्षिणायन होते रश्मीरथी आर्याव्रत की भूमि पर अपनी उग्र उष्णता कम कर सौम्य होते जाते हैं मानों वह भी नवरात्रों में माँ भगवती का स्वागत कर रहे हों।

शारदीय नवरात्रि केवल मात्र शक्ति पूजन ही नहीं है, यह धन – धन्य से परिपूर्ण करने वाला समय है। जहां एक ओर हम माता के नौं रूपों की भक्ति करते हैं वहीं हमरे खलिहानों को भरने का समय भी होता है। नयी फसलें ज्वार , बाजरा , धान , मक्का , मूंग , सोयाबीन , लोबिया , मूंगफली , कपास , जूट , गन्ना , तम्बाकू , आदि से हमारे व्यापार – वाणिज्य में नवप्राणों का उत्सर्ग होता है। नया धान आने से कुटाई छनाई (शेल्लर उद्योग) गतिमान होता है वहीं गुड शक्कर और खांडसेरी की भट्टियाँ भी जल उठतीं हैं। चहुं ओर उल्लास का साम्राज्य दिखाई पड़ता है।

आज अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि (07 अक्तूबर) से शारदीय नवरात्रि की शुरुआत होती है। शारदीय नवरात्र का व्रत सभी महिलाएं और पुरुष कर सकते हैं। अगर कोई व्यक्ति खुद व्रत ना कर सके तो वह अपनी पुत्र या ब्राम्हण को अपना प्रतिनिधि बनाकर व्रत को पूर्ण करवा सकता है।

Omaxe Cassia Residents Welfare Association (OCRWA), Mullanpur, New Chandigarh raised SOS alarm for help against builder

Chandigarh 15 Sep:

 Omaxe Cassia Residents Welfare Association (OCRWA), Mullanpur, New Chandigarh raised voice to bring focus on the plight of Cassia residents who have paid in full years back to Omaxe Pvt. Ltd. and its group companies. The facilities committed are still awaited. Indifferent & Irresponsive attitude of Omaxe has forced us to raise an SOS alarm for help else we will gherao Punjab CM  Capt Amrinder Singh next month  said grieved residents .
Charter of Problems faced by residents 
♣ Residents paid money for flats in 2011 onwards.

♣ Possession was assured in 2 years. However, given after 8 years and even more.

♣ Very poor construction quality be it civil, wooden or modular kitchen etc.♣ No Club House as shown in plans and at time of sale even after 10 years. Paid Rs.1 lakh – 2 Lakh extra

♣ No market. No dispensary. No chemist shop in the project Cassia.

 ♣ No Uninterrupted Power supply even after 10 years. Residents paid cost of Power Back up years back!! Paid Rs. 50000-80000 Extra.♣ Old and Rented DGs installed for electricity back up which hardly works.

 ♣ Senior citizens, kids suffer during peak summer, students missed online classes, people working from home missed work assignments as wifi doesn’t work without their power backup.

 ♣ Open wires (LT cables), Open and loose junction boxes, Hanging wires can be seen everywhere in the project which is risk to safety of the residents and children.

♣ No Hi-Tech Security as committed at the time of sale. Hitech security in terms of CCTV camera, Visitor management App, scrutiny and entry of people and vehicle, Multiple open entry points in project due to lack of fencing, Poor street lights and even no street lights in number of lanes etc. All this has lead to repeated thefts and also pose a security risk to the women and children after sunset.

♣ No LIFTS were provided to 4BHK flat owners even after years of handing over possession to them. Now few have been installed after years of follow up but they are also non-functional.

♣ IFMS (Interest free maintenance security) is being deducted towards CAM (common Area Maintenance Charges) which is an illegitimate act. This is a security deposit which can not be used by the builder. The builder has to transfer this to RWA at the time of handing over maintenance to the RWA.

 ♣ Project handed over to buyers in an incomplete condition. How the builder got Partial Completion Certificate is a mystery!!

 ♣ Continuously flouting norms of GAMADA, FIRE Deptt. And Environment Deptt.

♣ No Functional STP. A small STP units shown at the time of inspection which is under capacity yet still remains non functional. A 100KLD portable STP has been installed for the name sake which is still not connected and non functional against 540KLD STP plant as per the project reports submitted to GAMADA and Punjab Pollution Control Board. How did the builder get NOC from Pollution Control Board?

♣ There is no provision of Fires Safety. The 3 BHK and 4 BHK buildings fall in the category of Apartments under 15m as per NBC (National Building Code) Fire Extinguisher and Hose Reel with a water tank capacity of 5000Ltr along with booster pump is required. The same is missing and builder is not ready to hear on this. How did the builder get NOC from FIRE department? It is a serious threat to the residents. 

♣ The president of Omaxe namely Mr. Bhupinder Singh signed agreement with resident representatives in December 2018 wherein the time frame of providing above facilities was agreed and in turn 50% CAM (Common Area Maintenance Charges) was agreed. Residents have been paying 50% CAM till date but the facilities agreed are NOWHERE. Even after State Consumer Commission order in case of Sateekhsan Sood Vs. Omaxe New Chandiagrh Extn. Developers Pvt. Ltd has clearly directed that No CAM is payable unless facilities are completed.

 ♣ Omaxe and its Outsourced company Facility Plus has been threatening residents to pay CAM OR they shall stop services. The company issues notices to stop service and also stops service of residents. This arm twisting tactics are used only to extract money from innocent residents from time to time. Earlier they had started disconnecting electricity to the residents which was stopped after the orders from Appropriate courts. ♣ There is no provision of mutation of property being done in the name of buyer. Omaxe forces to get the registry done but that is of no use as Mutation can not be done and thus the property does not get transferred in the name of owner in Land revenue records. An explanation has been asked multiple times from Omaxe officials for clarification as to under what provisions of Law it is being done has not yielded anything so far.

अंतर्राष्ट्रीय स्पोर्ट्स फैशन ब्रांड ‘एक्सटेप’ ने ट्राइसिटी में खोला अपना पहला स्टोर

  • स्पोर्ट्स फैशन लेबल ‘एक्सटेप’ ने फैशन के प्रति जागरूक लोगों को हिप और ट्रेंडी स्पोर्ट्स-वियर से लुभाने के लिए ट्राइसिटी में खोला अपना आउटलेट
  • स्पोर्ट्स फैशन लेबल ‘एक्सटेप’ के फ्रैंचाइजी संचालक नितिन पुजारी ने कहा, ‘स्पोर्ट्स फ़ैशन अपने आप में एक उद्योग है, सच तो यह है कि कोविड ने इसे प्रोत्साहन दिया है।’

चंडीगढ़, 11 सितंबर, 2021:

हांगकांग में जन्मे एक प्रसिद्ध अंतर्राष्ट्रीय स्पोर्ट्स फैशन ब्रांड ‘ एक्सटेप ‘ ने ज़ीरकपुर के कॉस्मो मॉल में ट्राइसिटी के अपने पहले आउटलेट का अनावरण किया। ब्रांड के फ्रेंचाइजी मालिकों ने यहां सेक्टर 27 स्थित प्रेस क्लब में आयोजित एक प्रेस वार्ता में यह घोषणा की।

एक महिला और पुरुष मॉडल ने प्रेस मीट में ‘ एक्सटेप ‘ के कलेक्शन में उपलब्ध ट्रेंडी स्पोर्ट्स-वियर और जूतों को शोकेस किया। एक्सटैप ने ट्राइसिटी में जो रेंज पेश की है, उसका अनुभव कराने के लिए इस मौके पर कुछ अनूठे स्पोर्ट्स फैशन उत्पादों को प्रदर्शित भी किया गया।

एक्सटेप – नॉर्थ के फ्रेंचाइजी संचालक नितिन पुजारी ने कहा, ‘लुधियाना के बाद, हम ट्राइसिटी के सेंटर में अपने पहले स्टोर के अनावरण की औपचारिक घोषणा करते हुए बेहद खुश हैं। ट्राइसिटी के लोग स्पोर्ट्स-वियर फैशन के प्रति जागरूक हैं और हम अपने स्टाइलिश स्पोर्ट्स वस्त्रों और स्नीकर्स के साथ इस मांग को पूरा करेंगे, जिससे कि लोग खेल गतिविधियों में शामिल होते समय एक फैशनेबल अंदाज में जा सकें।’

पुजारी ने आगे कहा, ‘स्पोर्ट्स फैशन अपने आप में एक उद्योग है और कोविड ने वास्तव में इसे प्रोत्साहन दिया है, क्योंकि लोग महामारी के कारण स्वास्थ्य के प्रति पहले से अधिक जागरूक हो गये हैं। हम उत्साही लोगों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए नियमित रूप से उत्पादों में कुछ न कुछ नया करते रहे हैं।’

उत्तर भारत के लिए ब्रांड की विस्तार योजनाओं के बारे में बात करते हुए, एक्सटेप – नॉर्थ के एक अन्य फ्रेंचाइजी मालिक सुशील मिश्रा ने कहा, ‘नॉर्थ की बात करें, तो फिलहाल लुधियाना और ज़ीरकपुर में हमारा एक-एक स्टोर है। बहुत जल्द हम शिमला, जम्मू, देहरादून और पंजाब-हरियाणा के तीन अन्य शहरों में भी अपने स्टोर खोलने जा रहे हैं। इसके अलावा, हम मोहाली और पंचकूला में कुछ और नये आउटलेट खोलने की योजना बना रहे हैं।’

उल्लेखनीय है कि वैश्विक स्पोर्ट्स ब्रांड एक्सटेप मुख्य रूप से डिजाइन, विकास, निर्माण, बिक्री, मार्केटिंग और खेल उत्पादों के ब्रांड प्रबंधन में लगा हुआ है, जिसमें जूते, परिधान और सहायक उपकरण शामिल हैं।

एक्सटेप की यूएसपी के बारे में पूछे जाने पर, आदित्य त्रिपाठी, हेड (ब्रांड ऑपरेशंस), एक्सटेप इंडिया ने कहा, ‘जब खेल उद्योग की बात आती है तो ब्रांड बनाना और अपनी पोजीशन बनाये रखना बहुत मुश्किल होता है। मुख्य बातें जो हमें दूसरों से अलग करती हैं वे हैं गुणवत्ता और आराम, जो हम अपने ग्राहकों को बहुत कम कीमत पर दे रहे हैं। पिछले 20 वर्षों में, ब्रांड ने ग्राहकों के लिए दुनिया का सर्वश्रेष्ठ प्रस्तुत करने के लिए डिजाइन और टेक्नोलॉजी पर काफी ध्यान दिया है।’

‘ एक्सटेप ब्रांड एथलेटिक्स के नवीनतम ट्रेंड्स और जरूरतों को समझता है। हम टिकाऊपन, सहनशक्ति और प्रदर्शन मानकों जैसी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उत्पादों को वैज्ञानिक रूप से डिजाइन करते हैं,’ आदित्य ने कहा।

रमनप्रीत सिंह, हेड, कॉस्मो मॉल, ज़ीरकपुर ने कहा, ‘यह एक अच्छा संकेत है कि एक्सटेप जैसे अंतर्राष्ट्रीय स्पोर्ट्स ब्रांड ने ट्राइसिटी के बाजार में दिलचस्पी दिखायी है। इस रीजन में इस तरह के स्टोर खोलने से न केवल उन लोगों के लिए रोजगार पैदा होगा जिन्होंने महामारी के समय में नौकरी खो दी, बल्कि लंबे अंतराल के बाद मॉल में लोगों की आवाजाही भी बढ़ेगी, जिससे ट्राइसिटी में मॉल कल्चर में फिर से जान पड़ सकेगी।’