पंचांग, 07 अक्टूबर 2022

पंचांग का पठन एवं श्रवण अति शुभ माना जाता है। माना जाता है कि भगवान श्रीराम भी पंचांग का श्रवण करते थे। शास्त्र कहते हैं कि तिथि के पठन और श्रवण से मां लक्ष्मी की कृपा मिलती है। तिथि का क्या महत्व है और किस तिथि में कौन से कार्य कराना चाहिए या नहीं यह जानने से लाभ मिलता ह। पंचांग मुख्यतः पाँच भागों से बना है। ये पांच भाग हैं: तिथि, नक्षत्र, वार, योग और करण। यहां दैनिक पंचांग में आपको शुभ समय, राहुकाल, सूर्योदय और सूर्यास्त का समय, तिथि, करण, नक्षत्र, सूर्य और चंद्र ग्रह की स्थिति, हिंदू माह और पहलू आदि के बारे में जानकारी मिलती है।

डेमोक्रेटिक फ्रंट, आध्यात्मिक डेस्क – 07 अक्टूबर 22 :

नोटः त्रयोदशी तिथि का क्षय है। आज प्रदोष व्रत एवं है।

प्रदोष व्रत इस व्रत को स्त्री और पुरुष दोनों कर सकते हैं और इस व्रत करने से जीवन में हर तरह के सुख की प्राप्ति होती है। साथ ही व्यक्ति को पाप कर्म से मुक्ति मिलती है। प्रदोष व्रत के करने से व्रती को सांसारिक सुख की प्राप्ति होती है और संतान प्राप्ति का वर भी देते हैं।

नवरात्रि में इस विशेष दिन पर किया जाता है सरस्वती माता का पूजन, मिलता है  ज्ञान और बुद्धि का आशीर्वाद | Saraswati Puja 2021: Date, Significance,  Shubh Muhurat and Puja Vidhi ...

सरस्वती बलिदान : सनातन धर्म शास्त्रों में कहीं भी किसी जीव का बलिदान का विधान नहीं लिखा गया है और न ही माँ हमें ऐसा करने की आज्ञा देती हैं। इसलिए किसी भी जीव का बलिदान न दें।  बलिदान देना है तो अपने अंदर के क्रोध, झूठ, कुकर्म का बलिदान दें और संकल्प लें की आगे आप एक बेहतर व्यक्ति बनेंगे।

क्षय तिथि – सूर्योदय के पश्चात प्रारंभ होकर अगले दिन सूर्योदय से पूर्व समाप्त होने वाली तिथि ‘क्षय तिथि’ कहलाती है | इसे ‘तिथि क्षय’ भी कहते हैं | यह तिथि सभी मुहूर्तों के लिए छोड़ दी जाती है |

विक्रमी संवत्ः 2079, 

शक संवत्ः 1944, 

मासः आश्विऩ, 

पक्षः शुक्ल पक्ष, 

तिथिः द्वादशी प्रातः 07.27 तक है,

वारः शुक्रवार।  

विशेषः आज पश्चिम दिशा की यात्रा न करें। शुक्रवार को अति आवश्यक होने पर सफेद चंदन, शंख, देशी घी का दान देकर यात्रा करें।

नक्षत्रः शतभिषा सांय 06.17 तक है, 

योगः अतिगण्ड, रात्रिः 11.30 तक, 

करणः बालव, 

सूर्य राशिः कन्या, चंद्र राशिः कुम्भ, 

राहु कालः प्रातः 10.30 बजे से दोपहर 12.00 बजे तक

सूर्योदयः 06.21, सूर्यास्तः 05.56 बजे। 

नम्बरदारों का अपेक्षित सम्मान बहाल करने के लिए पंजाब सरकार वचनबद्ध – चीमा

  • नम्बरदार यूनियन के साथ मीटिंग के दौरान जायज माँगों को पूरा करने का दिया भरोसा

राकेश शाह, डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़ :

            पंजाब के वित्त मंत्री एडवोकेट हरपाल सिंह चीमा ने नम्बरदारों को सरकार का अहम हिस्सा बताते हुये कहा है कि मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार नम्बरदारों का बनता सम्मान बहाल करने के लिए वचनबद्ध है।

            आज यहाँ वित्त और योजना भवन में नम्बरदारों की यूनियनों के साथ ख़ुशगवार माहौल में हुई मीटिंग के दौरान स. हरपाल सिंह चीमा ने उनकी माँगों को गंभीरता से सुना और जायज़ माँगों पर कार्यवाही करने के निर्देश दिए। स. चीमा ने यूनियनों के नुमायंदों को यकीन दिलाया कि सरकार उनकी माँगों के प्रति सहृदय है।

            नम्बरदारों की सुविधा के लिए वित्त मंत्री ने चंडीगढ़ में किसान भवन में उनके लिए कमरे आरक्षित करने, ज़िला और तहसील कम्पलैक्सों में बैठने के लिए कमरों की व्यवस्था करने, जिला स्तर पर बनने वाली शिकायत निवारण करने कमेटियों में उनको शामिल करने के लिए सम्बन्धित अधिकारियों और विभागों को निर्देश जारी किये। इसके इलावा राजस्व विभाग को ज़मीनों की रजिष्ट्रेशन प्रक्रिया में नम्बरदारों की भागीदारी यकीनी बनाने के लिए कहा।

            नम्बरदारों की तरफ से मान-भत्ता बढ़ाने सम्बन्धी की माँग पर वित्त मंत्री ने यूनियन नेताओं को विश्वास दिलाया कि वह जल्दी ही यह मुद्दा मुख्यमंत्री भगवंत मान के साथ सांझा करेंगे। उन्होंने कहा कि इस माँग के वित्तीय प्रभावों को भी पढ़ा जायेगा जिससे योग्य फ़ैसला लिया जा सके। इस मीटिंग में विशेष सचिव व्यय मुहम्मद तैयब भी उपस्थित थे।

सरकार की किसान हितैषी अहम पहलकदमियां बताईं

  • मुख्यमंत्री द्वारा धान का एक-एक दाना ख़रीदने का प्रण
  • निर्विघ्न और सुचारू खरीद यकीनी बनाने के लिए विस्तृत प्रबंध किये
  • अलग-अलग लम्बित मुद्दों के हल के लिए किसानों के साथ की मीटिंग
  • किसानों को पराली प्रबंधन के लिये सहयोग की अपील

राकेश शाह, डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़ :

            पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने किसानों की मेहनत से पोषित फसल का एक-एक दाना ख़रीदने के लिए राज्य सरकार की दृढ़ वचनबद्धता दोहराई।


            यहां पंजाब भवन में किसानों के साथ मीटिंग के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने किसानों की फ़सल मंडियों में पहुँचते ही ख़रीदने के लिए पुख़्ता प्रबंध कर लिए हैं। उन्होंने कहा कि किसानों को उनके बैंक खातों में मौके पर ही अदायगी यकीनी बनाने के लिए प्रणाली विकसित की गई है। भगवंत मान ने कहा कि मंडियों में अनाज की निर्विघ्न और सुचारू खरीद यकीनी बनाई जा रही है जिससे किसानों को किसी किस्म की दिक्कत का सामना न करना पड़े।


            मुख्यमंत्री ने यह भी ऐलान किया कि मौजूदा खरीद सीजन के दौरान किसानों के ट्रैक्टरों को अनाज की लोडिंग/ढुलाई के लिए इजाज़त दी जायेगी। उन्होंने कहा कि मौजूदा खरीद सीजन के लिए इस एक्ट में उचित संशोधन किया जायेगा। भगवंत मान ने कहा कि राज्य सरकार किसानों की भलाई के लिए वचनबद्ध है।


            मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि किसानों को धान की सीधी बुवाई के लिए उत्साहित करने के लिए वित्तीय सहायता का वितरण शुरू कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि 17000 किसानों के बैंक खातों में अदायगी की जा चुकी है। भगवंत मान ने कहा कि बाकी रहते किसानों की अदायगी भी एक हफ़्ते में कर दी जायेगी।


            मुख्यमंत्री ने किसानों को यह भी भरोसा दिलाया कि लम्पी स्किन बीमारी का शिकार हुए पशुधन की विस्तृत सूची राज्य सरकार की तरफ से भारत सरकार को भेजी जायेगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार इस बीमारी के कारण पशुधन का नुकसान सहने वाले किसानों को मुआवज़ा देने का मुद्दा केंद्र सरकार के समक्ष उठाएगी। भगवंत मान ने कहा कि इस बीमारी को महामारी ऐलानने को यकीनी बनाने के लिए पहले ही केंद्र सरकार के पास यत्न किये जा रहे हैं।

           
            एक अन्य मुद्दे पर बात करते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब में किसान आंदोलन के दौरान दर्ज हुए कई केस पहले ही रद्द किये जा चुके हैं और बाकी रहते केस भी जल्द ही रद्द कर दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि आंदोलन के दौरान जानें गवाने वाले किसानों के परिवारों को पहले ही 5-5 लाख रुपए की सहायता दी जा चुकी है।

            भगवंत मान ने आगे कहा कि आंदोलन के दौरान जानें गवाने वाले कुल 624 किसानों में से 326 के वारिसों को सरकारी नौकरियाँ दीं चुकी हैं और बाकियों को भी जल्दी ही नौकरियाँ दीं जाएंगी।


            मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार आंदोलन के दौरान शहीद हुए किसानों के नाम पर यादगार बनाने के लिए काम करेगी। उन्होंने कहा कि मूँगी की फ़सल का मुआवज़ा भी किसानों को दिया जा चुका है। भगवंत मान ने कहा कि भविष्य में मूँगी की फ़सल की खरीद के लिए आगामी पुख़्ता प्रबंध किये जाएंगे।


            मुख्यमंत्री ने किसानों को भरोसा दिलाया कि वह एफ. आई. आरज़. का मुद्दा रेलवे मंत्रालय के समक्ष भी उठाएंगे। उन्होंने यह भी कहा कि राज्य सरकार किसानों को लाभ पहुँचाने के लिए फूड प्रोसेसिंग उद्योग को बढ़ावा देने के लिए वचनबद्ध है।

            मीटिंग के दौरान भगवंत मान ने बताया कि राज्य में 15 अक्तूबर से पशु मेले फिर शुरू होंगे।
विचार-विमर्श में हिस्सा लेते हुये किसानों ने गन्ने के मूल्य में विस्तार करने के लिए मुख्यमंत्री का धन्यवाद किया और उन्होंने मुख्यमंत्री को प्राईवेट मिलों की बकाया राशि की अदायगी के लिए दख़ल देने की अपील की। मीटिंग के दौरान यह भी फ़ैसला किया गया कि चीनी मिलों में पिड़ायी सीजन 5 नवंबर से शुरू होगा, जिससे पहले तैयारियों का जायज़ा लेने के लिए 11 अक्तूबर को मीटिंग की जायेगी।


            मुख्यमंत्री ने किसानों को कहा कि राज्य सरकार पराली के प्रबंधन के लिए हर संभव यत्न कर रही है। उन्होंने कहा कि किसानों को इस कार्य के लिए राज्य सरकार का साथ देना चाहिए। भगवंत मान ने कहा कि राज्य के वातावरण को बचाना समय की मुख्य ज़रूरत है।

दुश्मनी की राजनीति करने और झूठे केस दर्ज करने को लेकर वड़िंग ने की सरकार की निंदा


राकेश शाह, डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़ : 

            पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग ने कांग्रेस पार्टी के नेताओं के खिलाफ दुश्मनी की राजनीति करने वाली आम आदमी पार्टी सरकार की निंदा की है और कहा कि उनकी पार्टी लोगों की अदालत में इस लड़ाई का जवाब देगी।


      उन्होंने एक ठेकेदार से पैसे लगने के लिए साजिश रचने के मामले में मंत्री फौजा सिंह सरारी के खिलाफ मजबूत सबूत होने के बावजूद उसे दिए जा रहे संरक्षण के खिलाफ राज्य स्तर पर प्रदर्शन किए जाने का भी ऐलान किया।
      उन्होंने आप सरकार से कहा कि बहुत हो गया। हम आपके द्वारा बिना किसी सबूत के अपनी मनमर्जी से चुन-चुन कर लोगों को प्रताड़ित करने व धमकाने की और इजाजत नहीं दे सकते।


            प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने सरकार के दोहरे मापदंड पर जिक्र करते हुए कहा कि एक ओर आप ने अपने दो मंत्रियों विजय सिंगला और फौजा सिंह सरारी को आजाद घूमने की छूट दे रखी है। सिंगला के संबंध में आपने ड्रामा किया और बाद में अदालत में केस को अच्छी तरीके से नहीं पेश किया, जिसे लेकर बड़े-बड़े दावों के विपरीत या तो इनके पास सबूत नहीं है या फिर उसे बचाने के लिए सबूतों को अदालत से छुपा लिया गया।


            इसी तरह सरारी के खिलाफ साफ तौर पर खुला मामला है, जिसके अपने ओएसडी ने स्वीकार किया है कि ऑडियो रिकॉर्डिंग सही है। उसके खिलाफ कोई भी कार्रवाई करना तो दूर, आपने तो जांच भी नहीं शुरू की।


            जबकि कांग्रेसी नेताओं जैसे साधु सिंह धर्मसोत, संगत सिंह गिलजियां, भारत भूषण आशू और अब कैप्टन संदीप संधू के खिलाफ केस दर्ज करने को लेकर वड़िंग ने कहा कि सिर्फ इसलिए क्योंकि किसी व्यक्ति ने आरोप लगाया कि उसने किसी को पैसे दिए या उसने उसे कोई काम करने को कहा, आपने केस दर्ज कर लिए और एक पूर्व मंत्री को जेल भेज दिया।


            उन्होंने खुलासा किया कि दुश्मनी की राजनीति के तहत बड़ी संख्या में कांग्रेसी सरपंचों और जमीनी स्तर पर कार्यकर्ताओं को प्रताड़ित किया गया है। यह तानाशाही और अस्वीकार योग्य है।


            प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने चेतावनी देते हुए कहा कि आप खतरनाक प्रथा कायम कर रही है और इसका कोई अंत नहीं होगा, यदि इसे यहां और अभी ना रोका गया। आप हमेशा सत्ता में नहीं रहने वाले और ना ही कहीं जाने वाले हो, आपको यहीं पर ही इसका अंजाम भुगतना पड़ेगा।


            उन्होंने पुलिस अधिकारियों को आंखें बंद करके आप सरकार के हुक्म मानने के विरुद्ध चेतावनी दी। उन्होंने पुलिस अधिकारियों से अपने दिमाग का इस्तेमाल करने और सबूतों के आधार पर कार्रवाई करने को कहा ना कि आंखें बंद करके इनके दुश्मनी भरे निर्देश मानें। हो सकता है कि आप को हमारे खिलाफ कुछ राजनीतिक बदल लेना है, लेकिन आप क्यों उसमें पार्टी बन रहे हो।


            वड़िंग ने कहा कि कांग्रेसी नेताओं के विरुद्ध दुश्मनी और प्रताड़ना की राजनीति का अंत होना चाहिए। हम प्रदर्शनों को गलियों तक लेकर जाएंगे और अधिक सहन नहीं करेंगे। उन्होंने सरकार को दुश्मनी की राजनीति के तहत दर्ज किए गए झूठे मामलों में सबूत पेश करने को कहा।


            उन्होंने सरकार से कहा कि खबरदार रहें, क्योंकि पंजाब के लोग आपको देख रहे हैं और उन्होंने आपको अपने राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ दुश्मनी की राजनीति करने के लिए नहीं चुना, लोगों ने आपको शासन के लिए चुना है, जिस संदर्भ में आप या तो नहीं जानते कि शासन कैसे चलाया जाता है या फिर आपकी इसे सीखने की मंशा नहीं है

रिज़र्व बैंक के निष्पक्ष उधार अभ्यास कोड की पालना न करने वाली कर्ज़ देने वाली कंपनियों के विरुद्ध की जायेगी सख़्त कार्यवाही : चीमा

  • ग्रामीण और खेत मज़दूर यूनियनों के सांझे मोर्चो के साथ मीटिंग के दौरान माँगों पर विस्तार में चर्चा

राकेश शाह, डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़ :

            पंजाब के वित्त मंत्री एडवोकेट हरपाल सिंह चीमा भारतीय रिज़र्व बैंक के निष्पक्ष उधार अभ्यास कोड का उल्लंघन करने वाली कर्ज़ देने वाली फर्मों को चेतावनी दी कि यदि ऐसे उल्लंघन का कोई भी मामला सरकार के ध्यान में आने पर सख़्त कार्यवाही की जायेगी।

            वित्त मंत्री ने यह चेतावनी ग्रामीण और खेत मज़दूर यूनियनों के सांझे मोर्चो की मीटिंग की अध्यक्षता करते हुये दी। फ्रंट ने मंत्री को अवगत करवाया कि कुछ माईक्रोफाईनांस फर्मों समेत बहुत सी उधार देने वाली फर्में घटिया चालों और नाजायज वसूली अभ्यासों का सहारा ले रही हैं। इसका गंभीर नोटिस लेते हुये स. चीमा ने वित्त विभाग को हिदायत की कि ऐसी किसी भी घटना की रिपोर्ट भारतीय रिज़र्व बैंक को की जाये और ऐसे अदारों के पूरे भारत के लायसेंस को रद्द करने समेत सख़्त कार्यवाही की सिफ़ारश की जाये।
            दो घंटे तक चली इस उच्च स्तरीय मीटिंग के दौरान वित्त मंत्री की तरफ से फ्रंट की माँगों के बारे विस्तार से विचार-विमर्श किया गया। इस मीटिंग में पुलिस, सामाजिक सुरक्षा, बिजली, सहकारिता, ख़ाद्य और सिवल सप्लाई, ग्रामीण विकास और वित्त विभागों के सीनियर अधिकारी उपस्थित थे। वित्त मंत्री ने इन अधिकारियों को हिदायत की कि जिन मुद्दों पर तुरंत कार्यवाही संभव है ऐसीं सभी माँगों पर तुरंत कार्यवाही यकीनी बनाई जाये।

            स. चीमा ने फ्रंट की अन्य जायज़ माँगों की पूर्ति के लिए वित्तीय और कानूनी उलझनों पर सम्बन्धित विभागों को रिपोर्ट पेश करने के लिए कहा। उन्होंने फ्रंट के मसलों के जल्दी हल के लिए सम्बन्धित अधिकारियों को फ्रंट के नुमायंदों के साथ समय-समय पर मीटिंगें करने के निर्देश भी दिए।

            वित्त मंत्री ने ग्रामीण और खेत मज़दूर यूनियन के सांझे मोर्चे को यह भी भरोसा दिया कि उनकी माँगों पर विचार करने के लिए, जिनका हल मुख्यमंत्री के स्तर पर ही हो सकता है, वह जल्दी ही मुख्यमंत्री भगवंत मान के साथ फ्रंट की मीटिंग तय करवाएंगे।


            इस मीटिंग में ए. डी. जी. पी लॉ एंड आर्डर अर्पित शुक्ला और विशेष सचिव वित्त यशनजीत सिंह भी मौजूद थे।

40 करोड़ रुपए की लागत से राजपुरा के जल सप्लाई और सिवरेज सिस्टम का सुधार करेंगे : डॉ. इन्दरबीर सिंह निज्जर

  • कस्बे के 25 हज़ार लोगों को मिलेगा जल सप्लाई और सिवरेज सिस्टम का लाभ

 राकेश शाह, डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़ :

            पंजाब सरकार ने राजपुरा कस्बे के लिए जल सप्लाई और सिवरेज की सुविधा मुहैया करवाने 40 करोड़ की लागत वाला प्रोजैक्ट शुरू किया है।


            स्थानीय निकाय मंत्री डॉ. इन्दरबीर सिंह निज्जर ने इस प्रोजैक्ट के काम का जायज़ा लेने के बाद विभाग के अधिकारियों को इस काम को तेज़ी से मुकम्मल करने के निर्देश दिए हैं।


            इस सम्बन्धी और जानकारी देते हुये स्थानीय निकाय मंत्री ने बताया कि नगर कौंसिल, राजपुरा की सीमा में जल सप्लाई की सुविधा मुहैया करवाने के लिए वाटर वर्कस की नयी मोटरें, नलास रोड और एकता कालोनी में 02 बुस्टिंग ट्युवबैलज़ स्थापित किये जाने हैं। इसी तरह पानी की सप्लाई का सामर्थ्य बढ़ाने के लिए गंडा खेड़ी से वाटर वर्कस तक डी आई पाईप लाईनें बिछाने का काम भी इस प्रोजैक्ट के अधीन शामिल है।


            कैबिनेट मंत्री ने आगे बताया कि राजपुरा कस्बे में 49 किलोमीटर एरिये में सिवरेज लाईनों और 35 किलोमीटर एरिया में जल सप्लाई लाईनें बिछायी जाएंगी। उन्होंने बताया कि राजपुरा के करीब 25000 लोगों को जल सप्लाई और सिवरेज सिस्टम का लाभ मिलेगा।


            मंत्री ने बताया कि मुख्यमंत्री पंजाब, स. भगवंत मान के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार राज्य के लोगों को भ्रष्टाचार मुक्त प्रशासन मुहैया करवाने के लिए वचनबद्ध है। इसलिए उनकी तरफ से अधिकारियों को निर्देश दिए गये हैं कि काम में पारदर्शिता लानी यकीन बनाई जाये।


            श्री वी. के. शर्मा, सी. ई. ओ., पंजाब जल सप्लाई और सिवरेज बोर्ड ने बताया कि जल सप्लाई का 55 प्रतिशत और सिवरेज का 80 प्रतिशत काम मुकम्मल कर लिया गया है। उन्होंने विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि यह काम निर्धारित समय के अंदर हर हाल में मुकम्मल किया जाये।

बुराई कितनी भी प्रबल क्यों न हो, जीत हमेशा सच्चाई की ही होती है – आदर्श पाल

छछरौली में हर्षोउल्लास के साथ मनाया गया दशहरा का पर्व

कोशिक खान, डेमोक्रेटिक फ्रंट, छछरौली/यमुनानगर – 6 अक्तूबर :

            पूरे भारत में दशहरा के पर्व को बड़े ही उत्साह और धूमधाम के साथ मनाया जाता है। भारत में विभिन्न स्कृतियां होने के बावजूद, यह किसी भी तरह से इस त्योहार के उत्साह को प्रभावित नहीं करती है। 

            दशहरा के त्योहार में सभी का उत्साह और जोश एक समान रहता है। इसी कड़ी में नवजीवन जन कल्याण वैल्फेयर सोसाइटी छछरौली के द्वारा हर साल की भांति एसएस स्कूल छछरौली के प्रांगण में दशहरा का पर्व बड़े ही हर्षोउल्लास के साथ मनाया गया जिसमे आम आदमी पार्टी के अम्बाला लोकसभा क्षेत्र  संगठन मंत्री चौधरी आदर्श पाल ने मुख्यातिथि के रूप में शिरकत की।

            इस मौके पर नवजीवन जन कल्याण वैल्फेयर सोसाइटी छछरौली के अध्यक्ष जगमोहन (जग्गी), अमरनाथ चोटानी, रविरंजन बैनीवाल, याद राम नम्बरदार, विशाल सिंगला,  रोमी जगाधरी, बसपा के जिला सचिव राजेश कटारिया, अजय शर्मा समेत गणमान्य लोगों ने कार्यक्रम में शिरकत की।


            इस मौके पर बोलते हुए आप नेता आदर्श पाल ने कहा कि  दशहरा को भारत के कुछ क्षेत्रों में विजयदशमी के रूप में भी जाना जाता है। यदि हम क्षेत्रीय और जातीय मतभेदों को अलग रखकर विचार करें, तो इस त्योहार के आयोजनों का एक ही मकसद है और वह है बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश देना। दूसरे शब्दों में, यह त्योहार बुराई की शक्ति पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है।

            हिंदू पौराणिक कथाओं पर नजर डालें, तो कहा जाता है कि इसी दिन देवी दुर्गा ने महिषासुर नामक राक्षस का वध कर दिया था। अन्य परंपराओं का यह भी मानना है कि भगवान राम ने दशहरा के दिन ही असुरों के  महान राजा रावण से युद्ध किया था और उसे पराजित कर ये सिद्ध किया था कि बुराई कितनी भी प्रबल क्यों न हो, जीत हमेशा सच्चाई की ही होती है।


इससे हमें यह पता चलता है कि दोनों घटनाओं का परिणाम समान है।

बॉक्स:
सभी धर्म के लोग होते हैं होते है शामिल : जग्गी
            दशहरा पर्व के आयोजक नवजीवन जन कल्याण वैल्फेयर सोसाइटी छछरौली के अध्यक्ष जगमोहन (जग्गी) ने बताया कि दशहरा का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है। रावण दहन का यह कार्यक्रम लोगों को एकजुट करता है, क्योंकि इसके दर्शक न कि केवल हिंदू धर्म से बल्कि सभी धर्म के लोग होते हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि दशहरा हमें सिखाता है कि अच्छाई हमेशा बुराई को मात देती है और प्रकाश हमेशा अंधेरे पर विजय प्राप्त करता है। हर उम्र के लोग इस मेले का लुत्फ उठाने के लिए यहां उपस्थित होते हैं। बच्चे इस आयोजन का सबसे ज्यादा इंतजार करते हैं और अपने माता-पिता से आतिशबाजी को देखने के लिए ले जाने की जिद करते हैं। वे आतिशबाजी देखते हैं और आश्चर्यजनक दृश्यों का आनंद उठाते हैं।

विधायक अमोलक ने जलाया पुतला, दशहरा मेला देखने उमड़ी भीड़ 

रघुनंदन पराशर, डेमोक्रेटिक फ्रंट, जैतो  –  6 अक्तूबर  :

            श्री रामाकृष्ण ड्रामेटिक क्लब जैतो ने स्थानीय रामलीला मैदान में दशहरा पर्व धूमधाम से मनाया। समारोह के मुख्य अतिथि जैतो के आप विधायक अमोलक सिंह, विशिष्ट अतिथि पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष पवन गोयल, ट्रक यूनियन के अध्यक्ष जैतो हरसिमरन सिंह मल्होत्रा, आम आदमी पार्टी  के वरिष्ठ नेता सतपाल डोड व  राजिंदर गोयल कोटकपुरा थे।

            इस मौके पर दर्शकों के मनोरंजन के लिए रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के दौरान मंच सचिव संदीप शर्मा टोनी व सोनू सूरी ने मंच सचिव की भूमिका निभाई। इस मौके पर तहसीलदार जैतो लवप्रीत कौर, डी.एस.पी. जैतो, अवतार सिंह (राज), इंस्पैक्टर मनोज कुमार  एस.एच.ओ. जैतो, थाना बाजखाना के एस.एच.ओ. चमकौर सिंह, नगर परिषद अध्यक्ष सुरजीत सिंह बाबा, पार्षद तुलसी राम बांसल, पार्षद डा. हरीश चंद्र गोयल, आप के जैतो के अध्यक्ष अशोक गर्ग आदि उपस्थित थे। 

            इस अवसर पर मुख्य अतिथि विधायक अमोलक सिंह ने क्लब को आर्थिक सहायता दी। क्लब ने मुख्य अतिथि विधायक अमोलक सिंह, विशिष्ट अतिथियों, समर्थकों व कलाकारों को सम्मानित किया। मुख्य अतिथि विधायक अमोलक सिंह और विशिष्ट अतिथियों ने रावण के पुतले को आग लगाई।

            इस अवसर पर श्री राम कृष्ण ड्रामेटिक क्लब के अध्यक्ष एडवोकेट सतीश कुमार ‘भीरी’, अध्यक्ष अमन बांसल, संरक्षक सुरिंदर गोयल भूची, उपाध्यक्ष अनिल मित्तल ‘टोनी’, सचिव नरेश मित्तल, निदेशक मास्टर सुरिंदर लूंबा, निर्देशक विक्की सदावर्तिया, संगीत निर्देशक सोनू वर्मा व संगीत निर्देशक विक्की सदावर्तिया, कोषाध्यक्ष कमल किशोर गुप्ता, पी.आर.ओ.संदीप लूंबा,ग्राउंड इंचार्ज अशोक कुमार गर्ग, पंडाल ड्यूटी इंचार्ज नानी गोयल, स्टेज सेक्रेटरी संदीप शर्मा टोनी, सोनू सूरी, सोनू लूंबा और पंकज जिंदल, स्वागत समिति के नेता टोनी डोड व दर्शन चौधरी, राम अवतार वर्मा, टिक्कू ढल्ला, पाला रावण, मानक शाह शर्मा, सुनील कुमार फैटी (सोनू), नरेश शिवा, स्टोर कीपर सुदर्शन गोयल कुक्कू और गणेश कुमार डोला, डागर कांत शर्मा, बब्बू नगीना, मोनू लूंबा, एडवोकेट उमाशंकर शंकर शर्मा व अन्य पदाधिकारियों और सदस्यों के साथ बड़ी संख्या में लोग दशहरा देखने के लिए उमड़े हुए थे जिन्होंने ने दशहरा मेले का खूब का आनंद लिया। अंत में श्री रामा कृष्णा ड्रामेटिक क्लब जैतो के अध्यक्ष एडवोकेट सतीश कुमार ‘भीरी’, अध्यक्ष अमन बांसल और पी.आर.ओ. संदीप लूंबा ने अतिथियों, कलाकारों, सहयोगी सज्जनों और शहरवासियों व पुलिस को धन्यवाद दिया।

प्रशांत किशोर का दावा- नीतीश कुमार ने दिया जेडीयू अध्यक्ष बनने का ऑफर

            प्रशांत किशोर फिलहाल जन सुराज अभियान के तहत बिहार में 3500 किलोमीटर की पदयात्रा निकाल रहे हैं। पटना से लगभग 275 किलोमीटर दूर पश्चिम चंपारण जिले के जमुनिया गांव में पीके ने मंगलवार को सीएम नीतीश कुमार पर जमकर प्रहार किया। उन्होंने कहा, “नीतीश मुख्यमंत्री बनके बहुत होशियार बन रहे हैं। 2014 में (लोकसभा) चुनाव हारने के बाद दिल्ली आकर उन्होंने कहा था कि हमारी मदद कीजिए। महागठबंधन बनाकर (2015 बिहार विधानसभा चुनाव) में हमलोगों ने उनको जिताने में कंधा लगाया, अब बैठकर (मुख्यमंत्री बनकर) हमें ज्ञान दे रहे हैं । अभी 10-15 दिन पहले बुलाकर बोले कि हमारी पार्टी का नेतृत्व कीजिए, हमने कहा कि अब यह नहीं हो सकता है।”

सारिका तिवारी, डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़/पटना : 

            प॰चंपारण के जमुनिया में जन सुराज पदयात्रा के चौथे दिन प्रशांत किशोर ने एक बार फिर सार्वजनिक मंच पर नीतीश कुमार के कमरे की बात सार्वजनिक कर दी है। उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की डर्टी पॉलटिक्‍स राजनीति की पोल खोलते हुए कहा कि नीतीश कुमार ने मुझे घर पर बुलाया था अपना उत्तराधिकारी बनने का प्रलोभन दिया था। उन्‍होंने कहा कि “वो ये सब क्‍या कर रहे हैं आओ पार्टी संभालो।”  ये बात प्रशांत किशोर ने अपनी चौथे दिन की पद यात्रा के दौरान चंपारण में कही।

            उन्‍होंने कहा कि वो एक साल के भीतर गांवों के उन लोगों को वापस बिहार लाएंगे जो बिहार से बाहर नौकरी के लिए गए हुए हैं। उन्‍होंने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि इस बार आप उसे वो‍ट करिएगा जो आपके बेटी और पत्‍नी को रोटी दे। जो रोजगार दे और आपके अपनों को जो बाहर काम कर रहे हैं, उन्‍हें वापस बिहार बुलाए।

            उन्होंने नीतीश कुमार पर अपना प्रहार जारी रखते हुए कहा, 2014 में (लोकसभा) चुनाव हारने के बाद दिल्ली आकर उन्होंने कहा था कि हमारी मदद कीजिए। महागठबंधन बनाकर (2015 बिहार विधानसभा चुनाव) में हमलोगों ने उनको जिताने में कंधा लगाया, अब बैठकर (मुख्यमंत्री बनकर) हमें ज्ञान दे रहे हैं । अभी 10-15 दिन पहले बुलाकर बोले कि हमारी पार्टी का नेतृत्व कीजिए, हमने कहा कि अब यह नहीं हो सकता है।” आईपैक  के संस्थापक किशोर ने कहा, “मैं एक डॉक्टर का बेटा हूं, देश भर में अपनी योग्यता साबित करने के बाद अपने गृह राज्य में काम करने की कोशिश कर रहा हूं।

            किशोर को 2018 में कुमार द्वारा जदयू में शामिल किया गया था और वह कुछ ही हफ्तों में पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाये गए थे। हालांकि सीएए-एनपीआर-एनआरसी विवाद को लेकर कुमार के साथ तकरार के कारण कुछ साल से भी कम समय में उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया गया। जदयू नेताओं ने प्रशांत किशोर के नवीनतम बयान पर तुरंत कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है पर किशोर का यह गुस्सा जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह द्वारा उनकी फंडिंग के स्रोत पर सवाल उठाने के एक दिन बाद आया। 

            किशोर ने नाराजगी भरे लहजे में कहा, जो लोग जानना चाहते हैं कि मुझे पैसा कहां से मिल रहा है, उन्हें पता होना चाहिए कि उनकी तरह मैंने दलाली नहीं की है। अपनी बुद्धि से दस साल काम किए हैं। किशोर ने कहा, बडे़-बडे़ नेता उनके पास इस बात के लिए आते थे कि चुनाव कैसे जीतेंगे। इसके लिए कुछ पैसा ले लीजिए । मेरी मदद कीजिए । मीडिया वाले मुझे राजनीतिक रणनीतिकार और चुनाव प्रबंधक कहते थे ।

 उन्होंने अपने अभियान को चलाने के लिए उसके आर्थिक स्रोत पर उठाए गए प्रश्न पर कहा, इससे पहले मैंने कभी किसी से पैसा नहीं लिया । लेकिन आज मैं दान मांग रहा हूं। यह वह शुल्क है जो मैं इस आंदोलन के लिए ले रहा हूं, जिसमें हमारे द्वारा यहां लगाए गए तंबू पर खर्च होता है। 

भोगपुर के सौंदर्यीकरण और विकास के लिए 151.83 लाख रुपए ख़र्च किये जाएंगे

  • टैंडर प्रक्रिया शुरू कर दी गई है

राकेश शाह, डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़ :  

            पंजाब सरकार राज्य के निवासियों को बुनियादी सहूलतें और साफ़-सुथरा वातावरण मुहैया करवाने के लिए यत्नशील है। इस दिशा में काम करते हुए स्थानीय निकाय संबंधी मंत्री डॉ. इन्दरबीर सिंह निज्जर ने बताया कि राज्य सरकार ने भोगपुर के सौंदर्यीकरण और विकास के लिए 151.83 लाख रुपए ख़र्च करने का फ़ैसला किया है। विभाग ने इस सम्बन्धी कार्यवाही शुरू कर दी है।

            इस सम्बन्धी जानकारी देते हुये स्थानीय निकाय मंत्री डॉ. इन्दरबीर सिंह निज्जर ने बताया कि अलग-अलग वार्डों में गलियों और नालियों का निर्माण किया जायेगा। इसके साथ ही कई स्थानों पर गलियों और नालियों की भी मुरम्मत की जायेगी। इसी तरह डम्प साईटों से कूड़ा उठाने के लिए ड्राइवरों की सेवाएं ली जाएंगी, जिससे वातावरण को साफ़ सुथरा और प्रदूषण रहित बनाया जा सके। इसके अलावा अन्य पदों की सेवाएं भी ली जाएंगी जिससे साफ़ सफ़ाई और अन्य कामों को सही ढंग से निपटाया जा सके।

            डॉ. निज्जर ने यह भी कहा कि सभी ट्यूबवैलों के रख-रखाव का काम भी किया जायेगा जिससे भोगपुर निवासियों को पानी की बेहतर सुविधा मुहैया करवाई जा सके।

            मंत्री ने अधिकारियों को हिदायत की कि भगवंत मान के नेतृत्व वाली राज्य सरकार राज्य के लोगों को भ्रष्टाचार मुक्त प्रशासन मुहैया करवाने को मुख्य प्राथमिकता दे रही है, यदि कोई अधिकारी और कर्मचारी भ्रष्टाचार करता पकड़ा गया तो उसे बख्शा नहीं जायेगा।

उन्होंने यह भी बताया कि इन कामों के लिए टैंडर 17 अक्तूबर, 2022 को खोले जाएंगे।