आयकर विभाग का बिहार में तलाशी के दौरान 100 करोड़ रुपए के बेहिसाब का चला पता और 14 बैंक लाकर सीज

रघुनंदन पराशर, डेमोक्रेटिक फ्रंट, जैतो – 22 नवम्बर  :

            केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि आयकर विभाग ने सोने और हीरे के आभूषणों और रियल एस्टेट के कारोबार में लगे कुछ समूहों के ठिकानों पर तलाशी और जब्ती अभियान चलाया। इन समूहों के पटना, भागलपुर, डेहरी-ऑन-सोन, लखनऊ और दिल्ली में फैले 30 से अधिक परिसरों पर यह तलाशी अभियान चलाया गया।

            तलाशी के दौरान बड़ी संख्या में आपत्तिजनक दस्तावेज और डिजिटल साक्ष्य मिले हैं, जो आय चोरी को दर्शाते हैं। इन सभी साक्ष्यों को जब्त कर लिया गया है।

            सोने और हीरे के आभूषणों के कारोबार में लगे एक समूह से जब्त किए गए साक्ष्यों के विश्लेषण से पता चला है कि इस समूह ने अपनी बेहिसाब आय का आभूषणों की नकद खरीद, दुकानों के नवीनीकरण और अचल संपत्तियों में निवेश किया है। इस समूह को ग्राहकों से अग्रिम राशि की आड़ में अपनी लेखा बहियों में 12 करोड़ से अधिक की बेहिसाब धनराशि शामिल करने का भी पता चला है। इसके अलावा, तलाशी अभियान के दौरान  स्टॉक के भौतिक सत्यापन पर 12 करोड़ रुपए से अधिक का बेहिसाब स्टॉक भी मिला है।रियल स्टेट व्यापार में लगे एक अन्य समूह के मामले में भूमि की खरीद, भवनों के निर्माण और अपार्टमेंट की बिक्री में बेहिसाब नकद लेन-देन करने के भी सबूत मिले हैं जिन्हें जब्त कर लिया गया है। एक जाने-माने भूमि दलाल के मामले में उपरोक्त बेहिसाब लेनदेन की पुष्टि हुई है। इस तरह के बेहिसाब नकद लेनदेन की मात्रा 80 करोड़ रुप‌ए से अधिक है। समूह के प्रमुख व्यक्तियों द्वारा इस प्रकार अर्जित की गई अघोषित आय का बड़े भूमि खंडों सहित कई अचल संपत्तियों की खरीददारी में निवेश किया गया है।

            तलाशी अभियान के दौरान 5 करोड़ रूपए से अधिक मूल्य की बेहिसाब नकदी और जेवरात भी जब्त किए गए हैं। कुल 14 बैंक लॉकरों को सीज किया गया है। अभी तक की गई तलाशी कार्रवाई में 100 करोड़ रुपए से अधिक के बेहिसाब लेनदेन का पता चला है। आगे की जांच चल रही है।

ब्राह्मण उत्थान समिति परिवार ने किया शशि शंकर तिवारी को सम्मानित 

डेमोक्रेटिक फ्रंट संवाददाता,  चण्डीगढ़ : 

            ब्राह्मण उत्थान समिति परिवार द्वारा शशि शंकर तिवारी के भाजपा में शामिल होने के खुशी में विकास नगर में स्वागत समारोह रखा गया। इसमें ब्राह्मण उत्थान समिति के प्रधान पंडित श्रीनिवास पांडेय, उपप्रधान पंडित, श्याम विहारी मिश्रा, राज मनि तिवारी, शिव मणि तिवारी, जवाहर लाल शुक्ला, राम महेश्वर तिवारी, राजेश तिवारी, हरिशंकर मिश्रा, चेयरमैन पवन कुमार शर्मा, भूपेंद्र दुबे, रमेश शर्मा, अरविंद सिंह, विजय पाल तिवारी, नारायण दत्त शर्मा  इत्यादि प्रमुख व्यक्तियों ने खुशी ज़ाहिर करते हुए शशि शंकर तिवारी को अंगवस्त्र पुष्पगुच्छ देकर सम्मानित किया।

            इस मौके पर शशि शंकर तिवारी ने कहा कि राष्ट्र सेवा धर्म सेवा के लिये भारतीय जनता पार्टी ही सर्वोपरि   है। उन्होंने कहा कि मैंने दल बदला है दिल नहीं। मैं पहले भी राष्ट्रवादी था और अब भी हूँ। इस बात को लेकर कांग्रेस में मेरा विरोध भी होता था।   

            उन्होंने सभी से मिलजुल कर ब्राह्मण उत्थान समिति परिवार को मज़बूत करने की अपील की।

टीचर ने खाने में छिपकली को बताया बैंगन, पीट-पीटकर खिलाया खाना, 200 से ज्यादा बच्चे बीमार

            आरोप है कि बच्चों ने जब खाना खाने से इनकार कर दिया तो उन्हें टीचर ने पीटा और जबरदस्ती खाना खिलाया। जैसे ही बच्चों ने खाना खाया उन्हें उलटियां होना शुरू हो गईं और थोड़ी देर के बाद बच्चों की हालत बिगड़ने लगी। बीमार पड़ने के तुरंत ही उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया। फिलहाल बच्चों का उपचार किया जा रहा है और पुलिस मामले की जांच कर रही है।

टीचर ने खाने में छिपकली को बताया बैंगन, पीट-पीटकर खिलाया खाना, 200 से ज्यादा बच्चे बीमार

डेमोक्रेटिक फ्रंट, बिहार :

            नवगछिया प्रखंड में मदत्तपुर गांव के विद्यालय के छात्रों ने बताया कि गुरुवार को मिड-डे-मील परोसा गया था। आयुष नाम के एक छात्र की थाली से छिपकली मिली। वह जोर से चिल्लाया तो सभी बच्चे खाना छोड़ खड़े हो गए। इसकी जानकारी टीचर चितरंजन को मिली तो वह पहुंचे और थाली देखकर कहने लगे कि छिपकली नहीं बैंगन है। टीचर ने थाली से छिपकली निकाल दी और बोले- चुपचाप खाना है तो खाओ नहीं तो घर जाकर खाओ।

            स्कूल में मिड-डे मील खाने के बाद कई बच्चों की तबियत खराब हो गई। इसकी वजह उन्हें छिपकली वाला खाना खिलाना था। पूरा मामला बिहार भागलपुर के एक स्कूल का है जहां मिड-डे मील खाने के बाद 200 बच्चे बीमार हो गए। बच्चों ने खाने में छिपकली होने की शिकायत की तो टीचर खाना फेंकवाने के बजाय बच्चों से यह कह दिया कि छिपकली नहीं बैंगन है। जब बच्चों ने खाने से मना किया तो टीचर ने पीट-पीटकर उन्हें खाना खिलाया।

            मामला नवगछिया प्रखंड में मदत्तपुर गांव के मध्य विद्यालय का है। क्लास 6 की छात्रा शिवानी कुमारी ने बताया कि गुरुवार को मिड-डे-मील परोसा गया। आयुष नाम के एक छात्र की थाली से छिपकली मिली। वह जोर से चिल्लाया तो सभी बच्चे खाना छोड़ खड़े हो गए। इसकी जानकारी टीचर चितरंजन को मिली तो वह पहुंचे और थाली देखकर कहने लगे कि छिपकली नहीं बैंगन है। टीचर ने थाली से छिपकली निकाल दी और बोले- चुपचाप खाना है तो खाओ नहीं तो घर जाकर खाओ।

            इसके बाद भी जब बच्चे नहीं खा रहे थे तो उन्होंने पीट-पीटकर खाना खिलाया। इसके बाद सभी को उल्टियां होने लगीं। करीब 200 बच्चे बीमार हो गए। घटना की जानकारी मिलने के बाद धीरे-धीरे परिजन स्कूल पहुंचने लगे। सभी बच्चों को नवगछिया अनुमंडल अस्पताल में भर्ती कराया गया। फिलहाल सभी बच्चे खतरे से बाहर हैं।

            जैसी ही बच्चों को उल्टियां होनीं शुरू हुईं तो स्कूल में मौजूद स्टाफ के हाथ-पैर फूल गए। बच्चों को इलाज के लिए ले जाने की जगह स्टाफ ने आनन-फानन में खाना फेंक दिया। खाना स्कूल के पास ही फेंका गया। ग्रामीण संजय कुमार के साथ BDO गोपाल कृष्ण जांच के लिए पहुंचे। उन्होंने खाना फेंके जाने वाली जगह का मुआयना किया तो वहां मरी हुई छिपकली भी मिली।

बच्चों के बीमार होने की खबर मिलते ही परिजन स्कूल पहुंचे और उन्हें अस्पताल ले गए। इलाज के बाद अब सब खतरे से बाहर हैं।

            स्कूल के प्रिंसिपल ने कहा कि खाने में छिपकली नहीं थी। मेन्यू में चावल, दाल, आलू-बैंगन की सब्जी थी। खाने में बैंगन का डंठल मिला था, छिपकली नहीं थी। घटना की सूचना पर नवगछिया अनुमंडलीय अस्पताल में SDO, SDPO, BDO समेत कई अधिकारी पहुंचे। प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी विजय कुमार झा ने बताया कि बच्चों के बीमार होने की जानकारी मिली है। किस कारण से बच्चे बीमार पड़े, इसकी जांच होगी। इसके बाद जो जवाबदेह होगा, उस पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

इस         घटना के बाद ग्रामीणों ने स्कूल के बाहर प्रदर्शन शुरू कर दिया। कुछ ग्रामीण कार्रवाई की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए। इधर, ग्रामीणों की मांग पर नवगछिया BEO विजय कुमार झा ने रसोइए को बर्खास्त और प्रिंसिपल को सस्पेंड कर दिया है। स्कूल के सभी शिक्षकों का तबादला दूसरे स्कूल में किया जा रहा है।

            भोजपुर में मिड डे मिल का भोजन करने से उत्क्रमित मध्य विद्यालय (हरिजन टोली) में 50 बच्चे बीमार हो गए। सभी बच्चों ने सोमवार को स्कूल में खाना खाया था। इसके बाद रात होते ही एक दो बच्चों की तबीयत बिगड़ने लगी। मंगलवार की सुबह से ही एक के बाद एक 50 बच्चे बीमार पड़ गए । सभी को इलाज के लिए पीरो रेफरल अस्पताल ले जाया गया, जहां उनका इलाज किया गया। मामला पीरो प्रखंड के हसन बाजार ओपी अंतर्गत हरनाम टोला गांव का है।

उत्तराखंड जन कल्याण समिति के प्रथम रक्तदान शिविर में 96 यूनिट रक्त एकत्र 

डेमोक्रेटिक फ्रंट संवाददाता, मोहाली  :

            उत्तराखंड जन कल्याण समिति, मोहाली द्वारा प्रथम रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया जिसमें 96 यूनिट रक्त एकत्र हुआ। इस अवसर पर सभी नवनिर्वाचित पदाधिकारियों ने शपथ भी ग्रहण की। सभा के प्रधान दीपक सिंह परिहार ने बताया कि उनकी संस्था समय-समय पर धार्मिक एवं जन कल्याण के लिए अनेकों कार्य करती रहती है।

            इस अवसर पर पंजाब भाजपा की कार्यकारिणी के सदस्य संजीव वशिष्ट, मोहाली भाजपा के उपाध्यक्ष उमाकांत तिवारी, चण्डीगढ़ की पूर्व सीनियर डिप्टी मेयर हीरा नेगी, जसविंदर सिंह, अनिल कुमार,  मंडल  प्रधान मोहाली, बी वी बहुगुणा, कुंदन लाल उनियाल, बचन सिंह नगरकोटी, मनोज रावत,  पूरन सिंह रावत, दलीप सिंह रावत एवं ट्राइसिटी में उत्तराखंड की अनेक सभाओं एवं उत्तराखंड कीर्तन मंडली, मोहाली के पदाधिकारी शामिल हुए।  

अमृत लाल मीणा ने कोयला मंत्रालय में सचिव का पदभार संभाला

रघुनंदन पराशर , डेमोक्रेटिक फ्रंट, जैतो – 1 नवम्बर :

            कोयला मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि अमृत लाल मीणा ने आज कोयला मंत्रालय में सचिव का पदभार संभाल लिया। 1989 बिहार कैडर के आई.ए.एस.अधिकारी अमृत लाल मीणा मौजूदा पदभार ग्रहण करने से पहले वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के उद्योग संवर्धन और आंतरिक व्यापार विभाग में विशेष सचिव (लॉजिस्टिक्‍स) पद का दायित्‍व संभाल रहे थे।

            अमृत लाल मीणा ने कल ही कोयला सचिव के रूप में सेवानिवृत्‍त हुए डॉ. अनिल कुमार जैन का स्थान लिया है।

पूर्वांचल सांस्कृतिक महासंघ ने मनाया विश्वकर्मा दिवस

एच एस लक्की ने शिरकत

विनोद कुमार /सरोज बाला, डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़ – 25 अक्तूबर :

            चंडीगढ़ कांग्रेस के कॉलोनी सेल और पूर्वांचल सांस्कृतिक महासंघ ने आज विकास नगर मौली जागरां में बड़ी धूमधाम से विश्वकर्मा जयंती मनाई, जिसमें हजारों  स्थानीय लोगों ने भाग लिया। धार्मिक अनुष्ठानों के बाद एक सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किया गया, जिसमें चंडीगढ़ कांग्रेस के अध्यक्ष एच.एस. लकी और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनीष बंसल सम्मानित अतिथि के रुप में शामिल हुए.  पवन कुमार बंसल, जो इस समारोह भाग लेने के लिए आने वाले थे, कल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में मल्लिकार्जुन खड़गे  के कार्यभार सम्भालने के उपलक्ष्य में की जा रही तैयारियों में व्यस्त रहने के कारण नहीं आ सके

            ,इस अवसर पर बोलते हुए, चंडीगढ़ कांग्रेस के कॉलोनी सेल के अध्यक्ष मुकेश राय ने कहा कि आज सारे देश का मजदूर और कामगर वर्ग भारी संकट के दौर से गुजर रहा है और उन्हें भगवान विश्वकर्मा के आशीर्वाद की सख्त जरूरत है. भगवान विश्वकर्मा को दिव्य वास्तुकार बताते हुए उन्होंने कहा, जिन्होंने उन्होंने ही सारे ब्रम्हांड का निर्माण किया है. उन्होंने मोदी सरकार पर देश के कुछ अमीर कारोबारी परिवारों को चलाने के लिए मजदूर वर्ग के हितों की अनदेखी करने का आरोप लगाते हुए लोगों को आगाह किया कि अगर पिछले कुछ सालों से जारी आर्थिक गिरावट का दौर जल्दी ही नहीं बदला गया तो भारत को श्रीलंका जैसे हालात  का सामना करना पड़ सकता है 

            एच.एस. लकी ने भगवान विश्वकर्मा को माथा टेकते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी ने निजी क्षेत्रों के साथ एक स्वस्थ प्रतिस्पर्धा के लिए सार्वजनिक क्षेत्र को हमेशा मजबूत किया, जिससे मजदूर वर्ग को आगे बढ़ने और प्रगति करने में मदद मिली। उन्होंने आरोप लगाया कि अतीत में कांग्रेस के शासन के दौरान हासिल की गई देश की आर्थिक प्रगति को वर्तमान सरकार की विभाजनकारी और जनविरोधी नीतियों के कारण खत्म किया जा रहा है,

            पूर्वांचल सांस्कृतिक संघ के अध्यक्ष मनोज सिंह ने भगवान विश्वकर्मा की शिक्षाओं को याद किया और कामकाजी समुदायों और कारीगरों से अपने हितों की रक्षा के लिए एक साथ आने का आग्रह किया.  उन्होनें आरोप लगाया कि वर्तमान सरकार द्वारा उनका और उनकी आने वाली सन्तानों का भविष्य खतरे में डाला जा रहा है,इस अवसर पर बोलने वाले अन्य लोगों में जगदीश चौधरी, परमानंद, कैलाश पाल, देव कुमार, राकेश राय, प्रेम सिंह, शिव पाल, शुभम चौधरी और प्रमोद सिंह शामिल थे।

आगामी त्यौहारों के मद्देनज़र रेलवे द्वारा त्यौहार स्पैशल ट्रेनें चलाने का निर्णय 

रघुनंदन पराशर, डेमोक्रेटिक फ्रंट, जैतो  –  12 अक्तूबर :

            रेल मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि आगामी त्यौहारों को लेकर  रेलयात्रियों के सुविधाजनक आवागमन हेतु  त्यौहार स्पैशल ट्रेनें  चलाने का निर्णय लिया है। सूत्रों के अनुसार ट्रेन संख्या 04678/04677 फिरोजपुर कैंट- पटना –फिरोजपुर कैंट आरक्षित त्यौहार स्पैशल (02 ट्रिप), ट्रेन  04678 फिरोजपुर कैंट से पटना के लिए  25 अक्तूबर तथा 28 अक्तूबर (दो ट्रिप) को चलेगी। यह त्यौहार स्पैशल रेलगाड़ी 04678 फिरोजपुर कैंट से दोपहर 01:25 बजे प्रस्थापन करके अगले दिन शाम 05.00 बजे पटना पहुँचेगी। वापसी दिशा में 04677 पटना से फिरोजपुर कैंट के लिए  26 अक्टूबर तथा 29 अकै (दो ट्रिप) को चलेगी। यह स्पैशल ट्रेन 04677 पटना से शाम 07:00 बजे प्रस्था2न करके अगले दिन रात्रि 10.15 बजे फिरोजपुर कैंट पहुँचेगी। मार्ग में यह त्यौहार स्पैशल ट्रेन कोटकपूरा, बठिंडा, रामपुरफूल, धुरी, पटियाला, राजपुरा, अम्बाला कैंट, यमुनानगर जगाधरी, सहारनपुर, मुरादाबाद, बरेली, लखनऊ, प्रतापगढ़, वाराणसी, पंडित, दीनदयाल उपाध्याय, बक्सर, आरा स्टेशनों पर दोनों दिशाओं में ठहरेगी ।

            ट्रेन संख्या 04680/04679 अमृतसर-कटिहार-अमृतसर आरक्षित त्यौहार स्पैशल (02 ट्रिप)

04680 अमृतसर से कटिहार के लिए  22  तथा 27 अक्तूबर (दो ट्रिप) को चलेगी। यह त्यौहार स्पैशल ट्रेन 04680 अमृतसर से सुबह 08:10 बजे प्रस्थाान करके अगले दिन शाम 04.30 बजे कटिहार पहुँचेगी। वापसी दिशा में ट्रेन 04679 कटिहार से अमृतसर के लिए  23 तथा 28 अक्तूबर (दो ट्रिप) को चलेगी। यह स्पैशल ट्रेन 04679 कटिहार से रात्रि 08:00 बजे प्रस्थान करके एक दिन बाद सुबह 04.30 बजे अमृतसर  पहुँचेगी।

मार्ग में यह स्पेशल ट्रेन  जलंधर सिटी, फगवाड़ा, लुधियाना, सरहिंद, अम्बाला छावनी, यमुनानगर जगाधरी, सहारनपुर,  मुरादाबाद, बरेली, सीतापुर, गोंडा, बस्ती, गोरखपुर, छपरा, छपरा ग्रामीण, हाजीपुर, मुज़फ़्फ़रपुर, समस्तीपुर, बरौनी, खगरिया, मानसी तथा नौगछिया स्टेशनों पर दोनों दिशाओं में ठहरेगी ।

लालू यादव के खिलाफ चार्जशीट, नौकरी के बदले जमीन घोटाले में CBI ने दाखिल की चार्जशीट

                                नौकरी के बदले जमीन घोटाला मामले में घिरे लालू प्रसाद यादव के खिलाफ CBI ने चार्जशीट दायर की है। आरोप है कि रेल मंत्री रहते हुए लालू यादव ने पटना के 12 लोगों को ग्रुप डी में नौकरी दी और उनसे अपने परिवार के लोगों के नाम पटना में जमीनें लिखवा लीं। चार्जशीट में CBI ने लालू प्रसाद के अलावा राबड़ी देवी और 14 अन्य को आरोपी बनाया है।

  • नौकरी के बदले जमीन घोटाला मामले में सीबीआई ने बड़ी कार्रवाई की है
  • CBI ने लालू यादव, राबड़ी देवी और मीसा भारती के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की है

सारिका तिवारी, डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़/नयी दिल्ली/पटना – 07 अक्तूबर :

            नौकरी के बदले जमीन घोटाले में सीबीआई ने पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की। इस चार्जशीट में उनके अलावा उनकी पत्नी राबड़ी देवी, बेटी मीसा भारती और 13 अन्य लोग शामिल हैं। एक तत्कालीन जीएम अब रिटायर हो चुके हैं, उनके खिलाफ भी चार्जशीट दाखिल किया गया है। परिवार के अन्य सदस्यों के खिलाफ भी जांच हो सकती है। इस चार्जशीट में लालू के बेटे और बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव का नाम नहीं है।

            अधिकारियों ने बताया कि सीबीआई ने पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद, उनकी पत्नी राबड़ी देवी और 14 अन्य के खिलाफ रेलवे में उनके कार्यकाल के दौरान कथित तौर पर जमीन के बदले नौकरी घोटाले में चार्जशीट दाखिल किया है। उन्होंने कहा कि लालू की बेटी मीसा भारती और रेलवे के एक पूर्व महाप्रबंधक को भी हाल ही में सीबीआई की विशेष अदालत में दायर चार्जशीट में आरोपी बनाया गया है।

            रेलवे के समूह में नौकरी देने का मामला काफी पुराना है। लालू प्रसाद 2004 से 2009 के बीच केंद्र की यूपीए सरकार में रेल मंत्री रहे। उन पर आरोप है कि पद पर रहते हुए उन्होंने बिहार में बड़ी संख्या में लोगों को रेलवे में नौकरी देने का प्रलोभन दिया और बदले में उनसे जमीन ली। सीबीआइ ने करीब एक वर्ष पहले 23 सितंबर को इस मामले की प्रारंभिक जांच शुरू की। पुख्ता सबूत हाथ लगने के बाद सीबीआइ ने इस मामले में प्राथमिकी दर्ज की। सीबीआइ ने आरोप प्रमाणित होने के बाद इसी वर्ष 20 मई को लालू के पटना स्थित आवास के साथ ही देश के अलग-अलग 17 ठिकानों पर छापे मारे। लालू के साथ उनकी पत्नी राबड़ी देवी, पुत्री मीसा भारती, हेमा यादव एवं जमीन देकर नौकरी लेने वाले कुछ अन्य लोगों पर केस दर्ज किया गया था। एजेंसी ने आरोप लगाया है कि पटना में करीब 1.05 लाख वर्ग फुट जमीन प्रसाद के परिवार के सदस्यों ने विक्रेताओं को नकद भुगतान कर अधिग्रहित की थी।

            इसी मामले में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो के आफिसर आन स्पेश ड्यूटी (ओएसडी) रहे भोला यादव को जुलाई में सीबीआइ ने गिरफ्तार किया था। भोला 2005 से 2009 तक लालू के ओएसडी थे। जांच एजेंसी ने पटना से लेकर दरभंगा तक के भोला के ठिकानों पर छापे मारे थे। उनपर आरोप है कि पटना में कुछ संपत्तियों के मालिकों तथा उनके परिवार के सदस्यों को रेलवे में नौकरी देने के बदले में उनकी संपत्तियों को पूर्व मंत्री के परिवार के सदस्यों को बेच दिया गया या भेंट के तौर पर दिया गया था। मुंबई, जबलपुर, कोलकाता, जयपुर एवं हाजीपुर के रेलवे जोन में नौकरी पाने वाले 12 लोगों के अलावा राजद सुप्रीमो, उनकी पत्नी राबड़ी देवी और बेटियों मीसा भारती और हेमा यादव को इस मामले में नामजद किया है।

आम आदमी पार्टी के हिन्दू धर्म विरोधी होना एक टीवी चैनल ने दिखाया

डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़/पंचकुला :

केजरीवाल का मंत्री दिल्ली में हिंदुओं को, हिंदू देवी देवताओं को गाली दे रहा है और केजरीवाल गुजरात में जय श्री कृष्णा बोलने का ढोंग कर रहा है – कपिल मिश्रा

मुफ़्त का सामान देकर गरीब हिंदुओं का धर्म परिवर्तन कराने वाली एजेन्सी बन गयी हैं आम आदमी पार्टी – कपिल मिश्रा

आम आदमी पार्टी के नेता/मंत्री ने 10,000( दस हज़ार) लोगों से हिन्दू धर्म और देवी देवताओं के विरोध में शपथ दिलवाई।

प्रशांत किशोर का दावा- नीतीश कुमार ने दिया जेडीयू अध्यक्ष बनने का ऑफर

            प्रशांत किशोर फिलहाल जन सुराज अभियान के तहत बिहार में 3500 किलोमीटर की पदयात्रा निकाल रहे हैं। पटना से लगभग 275 किलोमीटर दूर पश्चिम चंपारण जिले के जमुनिया गांव में पीके ने मंगलवार को सीएम नीतीश कुमार पर जमकर प्रहार किया। उन्होंने कहा, “नीतीश मुख्यमंत्री बनके बहुत होशियार बन रहे हैं। 2014 में (लोकसभा) चुनाव हारने के बाद दिल्ली आकर उन्होंने कहा था कि हमारी मदद कीजिए। महागठबंधन बनाकर (2015 बिहार विधानसभा चुनाव) में हमलोगों ने उनको जिताने में कंधा लगाया, अब बैठकर (मुख्यमंत्री बनकर) हमें ज्ञान दे रहे हैं । अभी 10-15 दिन पहले बुलाकर बोले कि हमारी पार्टी का नेतृत्व कीजिए, हमने कहा कि अब यह नहीं हो सकता है।”

सारिका तिवारी, डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़/पटना : 

            प॰चंपारण के जमुनिया में जन सुराज पदयात्रा के चौथे दिन प्रशांत किशोर ने एक बार फिर सार्वजनिक मंच पर नीतीश कुमार के कमरे की बात सार्वजनिक कर दी है। उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की डर्टी पॉलटिक्‍स राजनीति की पोल खोलते हुए कहा कि नीतीश कुमार ने मुझे घर पर बुलाया था अपना उत्तराधिकारी बनने का प्रलोभन दिया था। उन्‍होंने कहा कि “वो ये सब क्‍या कर रहे हैं आओ पार्टी संभालो।”  ये बात प्रशांत किशोर ने अपनी चौथे दिन की पद यात्रा के दौरान चंपारण में कही।

            उन्‍होंने कहा कि वो एक साल के भीतर गांवों के उन लोगों को वापस बिहार लाएंगे जो बिहार से बाहर नौकरी के लिए गए हुए हैं। उन्‍होंने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि इस बार आप उसे वो‍ट करिएगा जो आपके बेटी और पत्‍नी को रोटी दे। जो रोजगार दे और आपके अपनों को जो बाहर काम कर रहे हैं, उन्‍हें वापस बिहार बुलाए।

            उन्होंने नीतीश कुमार पर अपना प्रहार जारी रखते हुए कहा, 2014 में (लोकसभा) चुनाव हारने के बाद दिल्ली आकर उन्होंने कहा था कि हमारी मदद कीजिए। महागठबंधन बनाकर (2015 बिहार विधानसभा चुनाव) में हमलोगों ने उनको जिताने में कंधा लगाया, अब बैठकर (मुख्यमंत्री बनकर) हमें ज्ञान दे रहे हैं । अभी 10-15 दिन पहले बुलाकर बोले कि हमारी पार्टी का नेतृत्व कीजिए, हमने कहा कि अब यह नहीं हो सकता है।” आईपैक  के संस्थापक किशोर ने कहा, “मैं एक डॉक्टर का बेटा हूं, देश भर में अपनी योग्यता साबित करने के बाद अपने गृह राज्य में काम करने की कोशिश कर रहा हूं।

            किशोर को 2018 में कुमार द्वारा जदयू में शामिल किया गया था और वह कुछ ही हफ्तों में पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाये गए थे। हालांकि सीएए-एनपीआर-एनआरसी विवाद को लेकर कुमार के साथ तकरार के कारण कुछ साल से भी कम समय में उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया गया। जदयू नेताओं ने प्रशांत किशोर के नवीनतम बयान पर तुरंत कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है पर किशोर का यह गुस्सा जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह द्वारा उनकी फंडिंग के स्रोत पर सवाल उठाने के एक दिन बाद आया। 

            किशोर ने नाराजगी भरे लहजे में कहा, जो लोग जानना चाहते हैं कि मुझे पैसा कहां से मिल रहा है, उन्हें पता होना चाहिए कि उनकी तरह मैंने दलाली नहीं की है। अपनी बुद्धि से दस साल काम किए हैं। किशोर ने कहा, बडे़-बडे़ नेता उनके पास इस बात के लिए आते थे कि चुनाव कैसे जीतेंगे। इसके लिए कुछ पैसा ले लीजिए । मेरी मदद कीजिए । मीडिया वाले मुझे राजनीतिक रणनीतिकार और चुनाव प्रबंधक कहते थे ।

 उन्होंने अपने अभियान को चलाने के लिए उसके आर्थिक स्रोत पर उठाए गए प्रश्न पर कहा, इससे पहले मैंने कभी किसी से पैसा नहीं लिया । लेकिन आज मैं दान मांग रहा हूं। यह वह शुल्क है जो मैं इस आंदोलन के लिए ले रहा हूं, जिसमें हमारे द्वारा यहां लगाए गए तंबू पर खर्च होता है।