अनियमितताओं के चलते पेटीएम पर 1 करोड़ और वेस्टर्न यूनियन पर 27.78 लाख का जुर्माना

भारतीय रिजर्व बैंक ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक लिमिटेड (पीपीबीएल) पर 1 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है। … इसके अलावा आरबीआई ने वेस्टर्न यूनियन फाइनेंशियल सर्विसेज पर 27.78 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। मनी ट्रांसफर सर्विस स्कीम (एमटीएसएस) के निर्देशों का पालन न करने पर ये जुर्माना लगाया गया है।

दिल्ली/चंडीगढ़ :

देश के अग्रणी पेंमेंट्स बैंकों में से एक पेटीआयी एम पेमेंट्स बैंक को बड़ा झटका लगा है। दरअसल, भारतीय रिजर्व बैंक यानी आरबीआई ने नियमों के उल्लंघन के लिए पेटीएम पेमेंट्स बैंक लि. यानी पीपीबीएल पर एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है।  पेमेंट एंड सेटलमेंट की धारा 6(2) के उल्लंघन के चलते यह जुर्माना लगाया गया है.

इसके अलावा आरबीआई ने वेस्टर्न यूनियन फाइनेंशियल सर्विसेज पर 27.78 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। मनी ट्रांसफर सर्विस स्कीम (एमटीएसएस) के निर्देशों का पालन न करने पर ये जुर्माना लगाया गया है।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने एक बयान में कहा कि पेटीएम पेमेंट्स बैंक के ऑथराइजेशन के फाइनल सर्टिफिकेट जारी करने के आवेदन की जांच करने पर, आरबीआई ने पाया कि पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने ऐसी जानकारी दी थी, जो तथ्यात्मक स्थिति को नहीं दर्शाती थी। केंद्रीय बैंक ने कहा, “क्योंकि यह पेमेंट एंड सेटलमेंट सिस्टम एक्ट की धारा 26 (2) का उल्लंघन था, पेटीएम पेमेंट्स बैंक को एक नोटिस जारी किया गया था।”

व्यक्तिगत सुनवाई के दौरान मिले लिखित जवाबों और मौखिक जानकारियों की समीक्षा करने के बाद,समीक्षा के बाद आरबीआई ने आरोपों को सही पाया। इसी के बाद पीपीबीएल पर जुर्माना लगाने की कार्रवाई की गई।

हिन्दू विवाह की तरह संस्कार नहीं एक कांट्रैक्ट है निकाह कर्नाटक – उच्च न्यायालय

हाई कोर्ट ने कहा कि मुसलमानों में एक अनुबंध के साथ निकाह होता है और यह अंतत: वह स्थिति प्राप्त कर लेता है जो आमतौर पर अन्य समुदायों में होती है। यही स्थिति कुछ न्यायोचित दायित्वों को जन्म देती है। वे अनुबंध से पैदा हुए दायित्व हैं। अदालत ने कहा कि कानून के तहत नए दायित्व भी उत्पन्न हो सकते हैं।

  • कर्नाटक HC ने कहा- मुस्लिम निकाह एक कांट्रैक्‍ट है, इसके कई मायने
  • फैमिली कोर्ट का आदेश रद्द कराने हाई कोर्ट पहुंचा था मुस्लिम शख्‍स
  • कोर्ट ने याचिका रद्द कर दी, साथ ही 25 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया

कर्णाटक/नयी दिल्ली:

उच्च न्यायालय ने कहा है कि मुस्लिम निकाह एक अनुबंध या कॉन्ट्रैक्ट है, जिसके कई अर्थ हैं, यह हिंदू विवाह की तरह कोई संस्कार नहीं और इसके टूट जाने से बने कुछ अधिकारों एवं दायित्वों से पीछे नहीं हटा जा सकता। यह मामला बेंगलुरु के भुवनेश्वरी नगर में 52 साल के  एजाजुर रहमान की एक याचिका से संबंधित है, जिसमें 12 अगस्त, 2011 को बेंगलुरु में एक पारिवारिक अदालत के प्रथम अतिरिक्त प्रिंसिपल न्यायाधीश का आदेश रद्द करने का अनुरोध किया गया था।

रहमान ने अपनी पत्नी सायरा बानो को पांच हजार रुपये के ‘मेहर’ के साथ विवाह करने के कुछ महीने बाद ही ‘तलाक’ शब्द कहकर 25 नवंबर, 1991 को तलाक दे दिया था। इस तलाक के बाद रहमान ने दूसरी शादी की, जिससे वह एक बच्चे का पिता बन गया। बानो ने इसके बाद गुजारा भत्ता लेने के लिए 24 अगस्त, 2002 में एक दीवानी मुकदमा दाखिल किया था. पारिवारिक अदालत ने आदेश दिया था कि वादी वाद की तारीख से अपनी मृत्यु तक या अपना पुनर्विवाह होने तक या प्रतिवादी की मृत्यु तक 3,000 रुपये की दर से मासिक गुजारा भत्ते की हकदार है।

न्यायमूर्ति कृष्णा एस दीक्षित ने 25,000 रुपये के जुर्माने के साथ याचिका खारिज करते हुए सात अक्टूबर को अपने आदेश में कहा, ‘निकाह एक अनुबंध है जिसके कई अर्थ हैं, यह हिंदू विवाह की तरह एक संस्कार नहीं है। यह बात सत्य है।’ न्यायमूर्ति दीक्षित ने विस्तार से कहा कि मुस्लिम निकाह कोई संस्कार नहीं है और यह इसके समाप्त होने के बाद पैदा हुए कुछ दायित्वों और अधिकारों से भाग नहीं सकता। पीठ ने कहा, ‘तलाक के जरिये विवाह बंधन टूट जाने के बाद भी दरअसल पक्षकारों के सभी दायित्वों और कर्तव्य पूरी तरह समाप्त नहीं होते हैं।’ उसने कहा कि मुसलमानों में एक अनुबंध के साथ निकाह होता है और यह अंतत: वह स्थिति प्राप्त कर लेता है, जो आमतौर पर अन्य समुदायों में होती है। अदालत ने कहा, ‘यही स्थिति कुछ न्यायोचित दायित्वों को जन्म देती है। वे अनुबंध से पैदा हुए दायित्व हैं।’

अदालत ने कहा कि कानून के तहत नए दायित्व भी उत्पन्न हो सकते हैं। उनमें से एक दायित्व व्यक्ति का अपनी पूर्व पत्नी को गुजारा भत्ता देने का परिस्थितिजन्य कर्तव्य है जो तलाक के कारण अपना भरण-पोषण करने में अक्षम हो गई है। न्यायमूर्ति दीक्षित ने कुरान में सूरह अल बकराह की आयतों का हवाला देते हुए कहा कि अपनी बेसहारा पूर्व पत्नी को गुजारा-भत्ता देना एक सच्चे मुसलमान का नैतिक और धार्मिक कर्तव्य है। अदालत ने कहा कि एक मुस्लिम पूर्व पत्नी को कुछ शर्तें पूरी करने की स्थिति में गुजारा भत्ता लेने का अधिकार है और यह निर्विवाद है। न्यायमूर्ति दीक्षित ने कहा कि मेहर अपर्याप्त रूप से तय किया गया है और वधु पक्ष के पास सौदेबाजी की समान शक्ति नहीं होती।

अरुणाचल प्रदेश में एलएसी पर भारतीय सेना का तोप खाना तैनात

भारत ने अरुणाचल प्रदेश में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) के पास बोफोर्स तोपें तैनात कर दी हैं। भारत ने अरुणाचल के सीमावर्ती इलाकों में बोफोर्स तोप को तैनात करने का यह कदम ऐसे समय में उठाया है जब पूर्वी लद्दाख के इलाके में चीन के साथ पिछले कई महीनों से गतिरोध जारी है। बताया जा रहा है कि यह बोफोर्स तोप अरुणाचल प्रदेश में चीन से लगे अग्रिम चौकियों पर तैनात किये गये हैं। 

नयी दिल्ली:

भारतीय सेना ने अरुणाचल प्रदेश के पास चीन से लगती वास्तविक नियंत्रण रेखा के अग्रिम इलाकों में बोफोर्स तोपों की तैनाती की है। वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीन के साथ चल रहे विवाद के बीच इसे भारत की तरफ से बड़ा कदम माना जा रहा है। इसकी जानकारी समाचार एजेंसी ANI ने दी है।

दरअसल हाल ही में चीन के विदेश विभाग के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने अरुणाचल को लेकर विवादित बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि चीन अवैध रूप से बने तथाकथित अरुणाचल प्रदेश को मान्यता नहीं देता है और भारत के उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू के इस क्षेत्र में किए गए दौरे का विरोध करता है। इस पर भारत की तरफ से भी चीन को बेहद सख्त शब्दों में जवाब दिया गया था।

इससे पहले मंगलवार को खबर आई थी कि अरुणाचल प्रदेश में भारतीय सेना ने अपनी पहली एविएशन ब्रिगेड स्थापित कर दी है। इस एविएशन ब्रिगेड का काम सिर्फ फारवर्ड बेस पर सैन्य साजोसामान पहुंचाना और बचाव कार्यों तक ही सीमित नहीं है बल्कि ये ब्रिगेड वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के एयर स्पेस की निगरानी भी करती है. साथ ही ये चीन के एयरस्पेस पर भी पैनी नजर रखती है।

चीन के एयरस्पेस उल्लंघन पर निगाहें
चीन के हेलीकॉप्टरों के लगातार भारतीय एयर स्पेस वायलेशन की खबरें आती रहती हैं। किसी भी तरह के वायलेशन को रोकने का जिम्मा भी अब एविएशन ब्रिगेड के पास है। अरुणाचल के रूपा में इसी काम के लिए एक एयर-स्पेस कंट्रोल सेंटर बनाया गया है।

LAC पर होवित्ज़र तोपों की हुई है तैनाती
हाल ही में अमेरिका से ली गई अल्ट्रा लाइट हॉवित्ज़र तोप M-777 की तैनाती एलएसी के कई इलाकों में की गई है। ये तोप वजन में हल्की होने के कारण ली गई थी जिससे हेलिकॉप्टर के जरिए इन्हें ऊंचे इलाकों में आसानी से कम समय में पहुंचाया जा सके। भारत ने अमेरिका से कुल 145 तोप का सौदा किया जिनमें में पचास फीसदी तोप भारत को मिल चुकी हैं।

आर्टिलरी को लेकर बड़ी तैयारी कर रही है सेना
भारतीय सेना हर तरह की तोप का एक पूरा बुके तैयार कर रही है जिससे हर मैदान में उनका इस्तेमाल किया जा सके. भारतीय सेना ने आर्टिलरी के आधुनिकीकरण के लिए जो प्लान बनाया है उसके मुताबिक 2025 से 2027 तक 3000 से 3600 तोपों को रेजिमेंट में शामिल करना है.

हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष, ज्ञान चंद गुप्ता ने निफ्ट, पंचकुला में क्राफ्ट बाजार का किया उद्घाटन

  • निफ्ट पंचकूला हरियाणा के लोगों के लिए एक लंबे समय से लंबित सपना था, जो अब हकीकत बन गया है-गुप्ता
  • सेक्टर-23 में निफ्ट पंचकूला के लिए अत्याधुनिक कैंपस दिसंबर 2021 तक बनकर हो जाएगा तैयार -गुप्ता

पंचकूला 20 अक्टूबर:

हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने पंचकूला के सेक्टर-26 में राष्ट्रीय फैशन प्रौद्योगिकी संस्थान (निफ्ट) पंचकूला (अस्थायी परिसर) में क्राफ्ट बाजार प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। क्राफ्ट बाजार का आयोजन 20 अक्टूबर से 22 अक्टूबर तक सुबह 11 बजे से शाम 6 बजे तक किया जा रहा है।

        इस अवसर पर बोलते हुए गुप्ता ने कहा कि निफ्ट पंचकूला हरियाणा के लोगों के लिए एक लंबे समय से लंबित सपना था, जो अब पूरा हो गया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार सेक्टर-23 में निफ्ट पंचकूला के लिए एक अत्याधुनिक परिसर विकसित कर रही है, जिसे दिसंबर 2021 तक पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार बुनकरों और कारीगरों के उत्थान के लिए प्रतिबद्ध है और निफ्ट पंचकूला इस लक्ष्य को हासिल करने में अहम भूमिका निभाएगा।

इस मौके पर निफ्ट पंचकूला के निदेशक प्रो. डॉ. अमनदीप सिंह ग्रोवर ने कहा कि वर्तमान में निफ्ट पंचकूला में दो स्नातकोत्तर पाठयक्रम (एम.डी. और एमएफएम) और तीन स्नातक डिजाइन पाठयक्रम (एफडी, एफसी और टीडी में बी.डी.एस.) हैं। एक और अंडर ग्रेजुएट कोर्स बैचलर ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी (बीएफटेक) शैक्षणिक सत्र 2022-23 से शुरू होगा। उन्होंने कहा कि यह क्राफ्ट बाजार चल रहे कोविड प्रोटोकॉल के कारण परिसर के आसपास के कारीगरों से मिलकर की गई एक शुरुआत है। उन्होंने कहा कि भविष्य में विभिन्न राज्यों के कारीगरों के साथ इस तरह की कई और शिल्प पहल और अन्य डिजाइन कार्यशालाएं आयोजित की जाएंगी।
निफ्ट पंचकूला में एसोसिएट प्रोफेसर और कैंपस अकादमीय समन्वयक, डॉ विशु अरोड़ा ने कहा कि क्राफ्ट बाजार आने वाले त्योहारों के लिए पंचकूला और ट्राइसिटी के निवासियों को स्थानीय उत्पाद खरीदने में मदद करेगा।

इस अवसर पर भाजपा जिला उपाध्यक्ष उमेश सूद और अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे। 

ममता डोगरा जिला प्रधान नियुक्त

चण्डीगढ़ :

डडूमाजरा कालोनी, जिला डॉ. बीआर अंबेडकर, चण्डीगढ़ में जसवीर सिंह मेहता प्रधान संत शिरोमणि श्री गुरु रविदास विश्व महापीठ, चण्डीगढ़ की अध्यक्षता में मीटिंग आयोजित की गई। इसमें सुश्री ममता डोगरा को डॉक्टर बीआर अंबेडकर नगर का जिला प्रधान नियुक्त किया गया।

इसी दौरान सुनील को भी रविदास विश्व महापीठ कार्यकारिणी मेंबर नियुक्त किया गया। मीटिंग में प्रधान जसवीर सिंह मेहता के साथ डॉक्टर नवनीत कौर उप प्रधान, श्रीमती सिमरनजीत कौर प्रदेश कार्यकारिणी मेंबर, रामलाल जनरल सेक्ट्ररी, गुरबख्श सिंह पीठ सचिव भी शामिल थे। ममता डोगरा ने संत शिरोमणि श्री गुरु रविदास विश्व महापीठ के प्रधान  व अन्य कार्यकर्ताओं का धन्यवाद करते हुए बताया कि श्री गुरु रविदास महाराज जी और बाबा साहब ने हमेशा ही दबे कुचले लोगों को सामाजिक बराबरी के लिए संघर्ष करने की प्रेरणा दी। अतः उन्होंने कहा कि जन्म के आधार पर कोई भी छोटा बड़ा नहीं है। गुरु रविदास महाराज जी ने समाज की एकता के लिए संघर्ष किया था और हमें आज उनके बताए हुए मार्ग पर चलकर अपने धर्म और जीवन को सफल बनाना चाहिए।

राजकोट में 200 महिलाओं ने ‘तलवार रास’ में दिखाया हस्तलाघव

गुजरात के राजकोट में राजपूत महिलाओं ने अपने तलवार बाजी कौशल का शानदार प्रदर्शन कर सबके दिलों को जीत लिया है। दरअसल, राजकोट में पांच दिवसीय तलवार रास कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें राजपूत महिलाओं ने न सिर्फ बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया, बल्कि अपने तलवार कौशल का प्रदर्शन भी किया। इसका एक वीडियो सामने आया है, जिसमें एक महिला अपनी आंखों पर पट्टी बांधकर कुछ महिलाओं की पीठ पर चढ़कर तलवार बाजी करती दिख रही है।

राजकोट में चल रहे पांच दिन के कार्यक्रम में ‘तलवार रास’ का आयोजन किया। इस कार्यक्रम में महिलाओं ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया और तलवार कौशल दिखाया। कार्यक्रम में राजपूती महिलाओं ने आंख में पट्टी बांधकर तलवार से करतबबाजी दिखाई। वीडियो में दिख रहा है कि एक महिला आंख में पट्टी बांधकर कुछ महिलाओं की पीठ पर चढ़कर तलवार से करतब दिखा रही है।

‘तलवार रास’ में राजपूत महिलाएँ पारंपरिक कपड़े पहनती हैं। तलवार के साथ अपने कौशल का प्रदर्शन करते हुए पारंपरिक नृत्य करती हैं। राजकोट के शाही परिवार की राजकुमारी कादंबरी देवी ने कहा, “तलवार रास पिछले बारह वर्षों से आयोजित किया जा रहा है। हर साल एक नया समूह होता है और महिलाएँ पूरे उत्साह के साथ इस कार्यक्रम में भाग लेती हैं।”

कादंबरी देवी ने आगे कहा, “तलवार एक देवी की तरह है और इसलिए हम शस्त्र पूजा करते हैं।” यह आयोजन राजपूत महिला योद्धाओं के इतिहास को जीवित रखने और यह संदेश देने के लिए है कि आज की महिलाएँ उतनी ही शक्तिशाली हैं जितनी वे सालों पहले थीं।

तलवार रास की लिबरलों ने मुहर्रम से तुलना की

‘तलवार रास’ महिला सशक्तिकरण की बड़ी-बड़ी बातें करने वाले लिबरल को पसंद नहीं आया। उन्होंने इसकी तुलना मुहर्रम से करते हुए इसे ‘संघी आतंकवाद’ तक कह डाला।

विडंबना यह है कि इस कार्यक्रम की आलोचना करने वाले लोगों को विदेशी ‘आत्मरक्षा‘ तकनीकों को बढ़ावा देने में कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन पारंपरिक भारतीय कला और संस्कृति को देखकर वे भयभीत हो जाते हैं। बता दें कि गुजरात की लोक परंपराओं के विद्वान डॉ. उत्पल देसाई के अनुसार, तलवार रास राजपूत युद्ध नायकों की याद में बनाया गया था, जो भुचर मोरी (18 जुलाई, 1591) के ऐतिहासिक युद्ध में मारे गए थे।

पिंजोर में आयोजित वाल्मीकि जयंती में बतौर मुख्यातिथि पहुंचे पूर्व डिप्टी सीएम चन्द्रमोहन,वाल्मीकि जयंती पर सभी को दी बधाई

  • पूर्व चेयरमैन विजय बंसल ने बतौर विशिष्ट अतिथि की शिरकत,नए भवन व धर्मशाला के लिए किया आश्वसत
  • इलाके के विकास में वाल्मीकि समाज का काफी योगदान : चन्द्रमोहन

पिंजोर न्यूज(20 अक्टूबर 2021):

महर्षि वाल्मीकि जयंती के पावन पर्व पर रामबाग रोड़ पिंजोर स्थित वाल्मीकि मंदिर व धर्मशाला में वाल्मीकि सभा पिंजोर द्वारा वाल्मीकि जयंती का आयोजन करवाया गया जिसमें कालका से चार बार लगातार विधायक व हरियाणा सरकार के उपमुख्यमंत्री रह चुके श्री चन्द्रमोहन ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की तो वही उनके साथ पूर्व चेयरमैन विजय बंसल एडवोकेट ने बतौर विशिष्ट अतिथि शिरकत की।पूर्व पार्षद संजीव कुमार राजू ने बताया कि श्री चन्द्रमोहन ने अपने कार्यकाल के दौरान पिंजोर वाल्मीकि मंदिर के भवन निर्माण में निजी कोष से आर्थिक योगदान दिया था जिससे वाल्मीकि समाज के लोगो के साथ अन्य स्थानीय निवासियों को कार्यक्रम करने में भी सहूलियत मिली।चन्द्रमोहन ने इस अवसर पर सभी को वाल्मीकि जयंती की बधाई दी।

संजीव राजू ने चन्द्रमोहन व विजय बंसल से आग्रह किया है कि अब समय की मांगनुसार वाल्मीकि समाज के लिए भव्य भवन का निर्माण करवाया जाए जिसपर विजय बंसल ने आश्वस्त करते हुए कहा कि श्री चन्द्रमोहन के सहयोग व महर्षि वाल्मीकि भगवान जी के आशीर्वाद से यदि उन्हें सेवा का मौका मिला तो नगर परिषद कालका की गद्दी सम्भालने के बाद नगर परिषद की जमीन पर वाल्मीकि समाज का भव्य मंदिर व भवन धर्मशाला का निर्माण करवाया जाएगा।

श्री चन्द्रमोहन ने कहा कि वाल्मीकि समाज ने हमेशा उनका साथ दिया है।इलाके के विकास में वाल्मीकि समाज का काफी योगदान है।आज समाज व सभी को महर्षि वाल्मीकि के उपदेशों का पालन करने की जरूरत है।महर्षि वाल्मीकि जहां एक महान कवि थे वही उनके उपदेशों को पालन किया जाना जरूरी है।

श्री विजय बंसल ने सम्बोधित करते हुए कहा कि आदिकवि महर्षि वाल्मीकि जी मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम जी की जीवन गाथा पर आधारित आदिकाव्य हिन्दू ग्रंथ ‘रामायण’ के रचयिता होने के साथ साथ महान व्यक्तित्व के धनी थे।समाज को एकजुट करने में उनके उपदेशों का पालन करना जरूरी है।

वाल्मीकि समाज की ओर से संजीव राजू एडवोकेट पूर्व पार्षद,संजीव धारीवाल प्रधान,विनोद गोरी एडवोकेट,खुशी राम,मोहन लाल,राजीव कुमार,प्रिंस,टोनी,रिंकू,रवि समेत अन्य लोगो ने चन्द्रमोहन का स्वागत किया इसके साथ ही उनके साथ आए विजय बंसल एडवोकेट,रविन्द्र रिहोड़,दीपांशु बंसल,सजल,अजय बबल आदि का भी सिरोपा पहनाकर अभिनंदन किया। इस दौरान गुरुप्यारा लाल,कृष्णा शर्मा पूर्व पार्षद,भूरी बेगम,पवन गुप्ता,जगदीश शर्मा,दीक्षित शर्मा समेत अन्य कांग्रेस कार्यकर्ता भी मौजूद रहे।

जितिन प्रसाद के पश्चात हरेन्द्र और पंकज मालिक के साथ कई नेता बढ़ा रहे हैं प्रियंका वाड्रा की मुश्किलें

यूपी की सत्ता में वापसी की कोशिश में लगी कांग्रेस को झटके लगने का सिलसिला जारी है। कई बड़े नेताओं के कांग्रेस छोड़ने के बाद अब पश्चिमी यूपी के जाट नेता हरेंद्र मलिक व उनके पुत्र पूर्व विधायक पंकज मलिक ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने आज शाम अपने आवास पर पत्रकारों से वार्ता करते हुए बताया कि दोनों ने कांग्रेस के सभी पदों से अपना त्यागपत्र पार्टी हाईकमान को भेज दिया है। वहीं पूर्व सांसद हरेंद्र मलिक ने बताया कि जल्द ही वे नया राजनीतिक निर्णय लेंगे। इससे पहले भी कई नेता कांग्रेस छोड़ सपा का दामन थाम चुके हैं जिनमें उन्नाव की पूर्व सांसद अन्नू टंडन, कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष रहे पूर्व विधायक गयादीन अनुरागी और पूर्व विधायक विनोद चतुर्वेदी शामिल हैं। वहीं कांग्रेस के कद्दावर नेता रहे जितिन प्रसाद भाजपा में ठिकाना तलाशा तो पूर्व विधायक ललितेश पति त्रिपाठी के कांग्रेस छोडऩे के बाद अगला कदम उठाने का इंतजार है। सूत्रों के अनुसार कॉंग्रेस द्वार महिलाओं के लिए 40% आरक्षण की घोषणा के पश्चात इन्हें टीकेट मिलने के आसार धूमिल हो चले थे इसीलिए पिता पुत्र द्व्य ने यह कदम उठाया। अभी और अधिक चुनाव लड़ने के इच्छुक इधर उधर छिटक सकते हैं।

लखनऊ(ब्यूरो) :

उत्तर प्रदेश की सत्ता में वापसी की कोशिश में लगी कांग्रेस को झटके लगने का सिलसिला जारी है। कई बड़े नेताओं के कांग्रेस छोड़ने के बाद अब पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जाट नेता हरेंद्र मलिक व उनके पुत्र पूर्व विधायक पंकज मलिक ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। पिता-पुत्र के समाजवादी पार्टी में शामिल होने के संकेत हैं।

मुजफ्फरनगर निवासी हरेंद्र मलिक चार बार विधायक व इंडियन नेशनल लोक दल के राज्यसभा सदस्य रह चुके हैं। वह कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा की सलाहकार समिति के भी सदस्य हैं। वहीं शामली सीट से दो बार विधायक रह चुके पंकज मलिक कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष के साथ हाल ही में घोषित पार्टी की इलेक्शन स्ट्रैटेजी कमेटी के सदस्य बनाये गए थे। प्रदेश कांग्रेस के नए निजाम में पिता-पुत्र असहज महसूस कर रहे थे और उनके पार्टी छोड़ने की चर्चा इधर कुछ अरसे से जोरशोर से थी।

सूत्रों के अनुसार हरेंद्र मलिक ने दो दिन पहले लखनऊ में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से भेंट की थी। हरेंद्र मलिक ने इसे शिष्टाचार भेंट बताया लेकिन माना जा रहा है कि जल्द ही पिता-पुत्र सपा की साइकिल पर सवार होंगे। कांग्रेस छोड़ सपा में जाने के पीछे स्थानीय सियासी समीकरण बताये जा रहे हैं। इस बाबत पूछने पर हरेंद्र मलिक ने कहा कि राजनीतिक व्यक्ति सियासी वजहों से फैसले लेते हैं। उनके निर्णय को भी इसी परिप्रेक्ष्य में देखा जाना चाहिए।

उधर, मेरठ के पूर्व सांसद हाजी शाहिद अखलाक जल्द ही अपने अगले सियासी कदम के संबंध में खुलासा कर सकते हैं। उनकी फेसबुक पोस्ट के बाद शहर की सियासत गर्म है। कहा जा रहा है कि शाहिद अखलाक जल्द ही असदुद्दीन औवेसी की पार्टी में शामिल हो सकते हैं। लेकिन आज उन्होंने लखनऊ में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मुलाकात की। इससे उनके सपा में जाने की चर्चा तेज हो गई है। दरअसल, हाल ही में मुजफ्फरनगर के पूर्व सांसद कादिर राणा ने भी समाजवादी पार्टी ज्वॉइन की है। वहीं अब अंदाजा लगाया जा रहा है कि शाहिद अखलाख भी जल्द ही सपा में शामिल हो सकते हैं। 

पूर्व सांसद शाहिद अखलाक ने कहा कि अखिलेश यादव से मुलाकात अच्छी रही। शाहिद अखलाक साल 2004 में बसपा के टिकट पर मेरठ के सांसद चुने गए थे। वह मेरठ के मेयर भी रह चुके हैं। वहीं साल 2009 में सेक्युलर एकता पार्टी बनाकर उन्होंने मेरठ से चुनाव लड़ा था। साल 2014 में लोकसभा चुनाव लड़ा था। अब उनके सपा में शामिल होने को लेकर पश्चिमी यूपी की मुस्लिम सियासत में हलचल तेज हो गई है।

भाजपा के शासनकाल में देश में बेरोजगारी के साथ साथ भूखमरी का दंश भी बढ़ति जा रही है : चन्द्र मोहन

पंचकूला 19 अक्टूबर:

हरियाणा के पूर्व उपमुख्यमंत्री चन्द्र मोहन ने कहा कि भाजपा के शासनकाल में देश में बेरोजगारी के साथ साथ भूखमरी का दंश भी बढ़ति जा रहा है और यह इस देश का दुर्भाग्य है कि जहां  देश की आजादी के 75 वें साल में देश के लोगों को भूखमरी की विभीषिका का सामना करना पड़ रहा है और केन्द्र सरकार लोगों का मुख्य मुद्दों से   ध्यान भटकाने के लिए अमृत महोत्सव के नाम पर लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ कर रही है।

      चन्द्र मोहन ने केन्द्र सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि भूखमरी के मामले में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश ने जो प्रगति की है उसकी भूरि भूरि प्रशंसा की जानी चाहिए क्योंकि भारत में भूखमरी का ग्राफ निरन्तर ही बढ़ता जा रहा है। उन्होंने कहा कि विश्व में भूखमरी की हालत की रिपोर्ट विश्वव्यापी कन्सरन आइरिस एड एजेंसी ने  तैयार की है जिसने  विश्व के 116 देशों में भूखमरी की सूची का आकलन किया था और इसमें सबसे बड़ी  चिंता इस बात की है कि जहां भारत वर्ष 2020 में  भूखमरी के मामले में 107 देशों में  विश्व में भारत 94 नम्बर पर था और  अब वह वर्ष 2021 में बढ़कर 116 देशों की सूची में भारत को 101 वहां स्थान पर है। यह भूखमरी बढ़ने का कारण आम आदमी के समझ नहीं  आ रहा है। नेपाल और बांग्लादेश जैसे देश भी भुखमरी के मामले में भारत से बेहतर हैं।

      चन्द्र मोहन ने कहा कि इसके अतिरिक्त देश को एक चिन्ता और खाए  जा रही है, देश में गरीबों के बच्चों में कुपोषण बढ़ रहा है और ऐसा कहा जा रहा है कि विश्व में भारत देश में 2 वर्ष और 5 वर्ष की आयु के बच्चो की कुपोषण के कारण मृत्यु विश्व में भारत देश में सबसे अधिक हो रही है।

     उन्होंने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी से आग्रह किया है कि वह बढ़ती मंहगाई पर लगाम लगाने का काम करें ताकि गरीब और मजदूर अपने बच्चों को बेहतर खुराक देकर उनको कुपोषण से बचा सके। उन्होंने कहा कि लोगों को एक महीने में 5 किलो अनाज उपलब्ध करवाकर उनकी भूख और तृष्णा को समाप्त नहीं किया जा सकता है।

त्यौहारों के मद्देनजर पंचकूला के खाद्य सुरक्षा अधिकारी डा0 गौरव शर्मा व अन्य स्वास्थ्य कर्मियों ने शहर की विभिन्न मिठाई की दुकानों, दूध की डेयरियों, आदि का किया गया औचक निरीक्षण

  • खाद्य पदार्थो के नमूने लेकर विश्लेषण के लिए करनाल स्थित खाद्य प्रयोगशाला में भेजे-खाद्य सुरक्षा अधिकारी
  • दूषित व मिलावटी खाद्य पदार्थध्मिठाई बेचता पाया जाने पर संबंध्तिा दुकानदार के खिलाफ की जायेगी सख्त कार्यवाही-गौरव शर्मा  

पंचकूला, 19 अक्तूबर:

 त्यौहारों के मद्देनजर पंचकूला के खाद्य सुरक्षा अधिकारी डा0 गौरव शर्मा व अन्य स्वास्थ्य कर्मियों ने शहर की विभिन्न मिठाई की दुकानों, दूध की डेयरियों, किरयाणे की दुकानों व अन्य स्थानों जैसे कोल्ड स्टोर, खाद्य पदार्थध्मिठाई बनाने की फैक्ट्रीयों आदि का औचक निरीक्षण किया और और खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम, 2006 के तहत खाद्य पदार्थो के नमूने लेकर विश्लेषण के लिए भेजे गए।

इस मौके पर खाद्य सुरक्षा अधिकारी ने न खाने योग्य पदार्थों को नष्ट करवाया तथा सभी मिठाई विक्रेताओं एवं निर्माताओं व अन्य खाद्य पदार्थ बेचने वाले दुकानदारों को ताजा व शुद्ध खाद्य पदार्थ बेचने की हिदायत की। इसके साथ-साथ सभी दुकानदारों को दूषित व बासी मिठाई न बेचने की चेतावनी दी गई ताकि यदि कोई भी दुकानदार दूषित व मिलावटी खाद्य पदार्थध्मिठाई बेचता पाया गया तो उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही की जायेगी।

पंचकूला की पांच दुकानों से खाद्य पदार्थोंध्मिठाइयों के लिए सेंपल

उन्होंने बताया कि विभाग द्वारा किए गए निरीक्षण के दौरान माजरी चैंक स्थित गुप्ता स्वीटस से खोया के नमूने लिए गए। इसी प्रकार अनुपम स्वीटस सेक्टर 11से प्लेन बर्फी, अनुपम ईटिंग हाउस, ओद्यौगिक क्षेत्र फेज-1 से गुलाब जामुन, श्री मिष्ठान ओद्यौगिक क्षेत्र फेज-1 से बेसन के लड्डू तथा बीकानेर मिष्ठान भंडार पिंजौर से खोया के नमूने लेकर विश्लेषण के लिए भेजे गए हैं।