Priynka Chaurvedi reveals internal culture of ‘The Congress’

It is being said that Priyanka Chaturvedi’s decision  — the high-profile Congress national spokesperson and media cell convenor quit her party and joined the Shiv Sena because she no longer felt safe, valued and able to carry on with her work in dignity within the Grand Old Party — is an example of ideological duplicity and opportunism. It is as if her concerns over misogyny and lack of respect for women rampant in Congress’ internal culture, issues that made her take this step, ceased to matter the moment she walked into the rival camp.

Within hours of Chaturvedi’s decision, Congress’ national spokesperson Sanjay Jha had this to say on Twitter: “Within 48 hours Shiv Sena, alliance partner of #BJP, has no “goons” in it. Awesome! Kya baat hai! Political opportunism touches a new nadir. The self-righteous bullshit is sickening. But hey, tomorrow is another day.”

The reason being provided for this phony argument is that if Congress encourages goons by rewarding them instead of punishing them, then Shiv Sena is no better and muscle-flexing is more ingrained in Shiv Sena’s brand of politics. This argument is specious, and a straw man aimed at obfuscating the real issue and diluting the charges against Congress.

It is nobody’s argument that Shiv Sena doesn’t harbour goons. Goon-and-gun culture is prevalent in every political party. In varying degrees, almost every Indian political outfit uses goons as a veritable tool to wield influence. For a party in power, goons become an unofficial extension of the State. They run a parallel administration. The situation is grimmer in states where regional outfits are in power such as in West Bengal.

The issue of crime in Indian politics and why money and muscle are the preferable route to electoral power has been the subject of much scholarly debate. Milan Vaishnav, a senior fellow at Washington DC-based Carnegie Endowment who has written on a book on this subject (When Crime Pays), argues that when a ”government is unable to fulfill its basic responsibilities and social divisions are rife, voters seek refuge in strongmen who can deliver what the State cannot. This nexus is not necessarily unique to India; it shows up in democracies across the globe, from the Philippines to Pakistan.”

Remember, Chaturvedi did not walk out of Congress because of a generic aversion towards the Grand Old Party’s culture of tolerating goons. She cannot lay claim to that moral high ground. Had that been the case, the charge of duplicity against her leveled by a section of media and some members of her former party would have been valid. It is worth noting that Chaturvedi, in her resignation letter and at a news conference two days prior to announcing her decision, leveled specific charges of misogyny against her party. She accused the Congress of reinstating some leaders who had “attacked” her, behaved as “lumpen goons” and allegedly threatened her with rape and said that she felt let down by her party’s actions.

On Wednesday, Chaturvedi posted on Twitter that she was “deeply saddened that lumpen goons get preference in @incindia over those who have given their sweat and blood. Having faced brickbats and abuse across (the) board for the party but yet those who threatened me within the party getting away with not even a rap on their knuckles is unfortunate.”

The decision to reinstate the eight leaders against whom Chaturvedi brought specific charges of threat, intimidation and attack was taken by Jyotiraditya Scindia, who is in charge of the campaign in west Uttar Pradesh.  Chaturvedi’s “appeal to the Gandhis also did not work” leading her to feel “that she was not given the respect she deserved.”

In his defence, Scindia said the suspended leaders “apologised”. Since when has a mere apology been enough to reinstate individuals who have leveled such serious threats against a woman and a party colleague? Congress encouraged this act of misogyny by reinstating the cadres against whom Chaturvedi brought charges. And the party’s high command is complicit in this act by its dint of silence.

At a news conference in Mumbai, seated alongside Shiv Sena chief Uddhav Thackeray, Chaturvedi said she was “pained by the fact that some party members who made certain remarks about me were reinstated. It was forgotten that a woman like me dedicated 10 years without any greed or expecting returns. It was a matter of self-respect for me and I did not want to let down all those women for whom I spoke”. She said she let her grievances be known to the party’s high command, but refused to answer whether the central leadership tried to prevent her from resigning.

In her resignation letter, the former Congress spokesperson brought two damning charges that reveals Congress culture and exposes party chief Rahul Gandhi’s tall claims on women’s empowerment as a mere sham.

In the letter sent to the Congress president, Chaturvedi wrote: “In the last few weeks certain things have convinced me that my services are not valued in the organisation and that I have reached the end of the road. At the same time I also feel that more time I spend in the organisation will be at cost of my own self respect and dignity.”

“What saddens me is that despite the safety, dignity, empowerment of women being promoted by the party and has been your call to action the same is not reflected in the action of some of the members of the party. A serious incident and misbehaviour against me by certain party members while I was on official duty for the party has been ignored under the guise of all hands needed for elections. This indignity to me has been the final factor to convince me to move on and focus on other things outside INC.”

The letter leaves Rahul, who has, on numerous occasions and very recently in Chennai claimed that Congress assures “women of India that we will stand with them and we will do everything in our power to empower them and ensure they get their rightful place in our democracy and economy”,  with very little defence. During that  interaction with students in Chennai, the Congress president also promised 33 percent reservation for women in government jobs and Parliament if voted to power, and urged women to be “fearless in claiming their space.”

It is interesting that Rahul promises 33 percent reservation for women if voted to power when its working committee — its highest decision-making body that was reconstituted last year — has only seven women among 51 members and only three, including his mother, in the main body.

The second issue that emerges from Chaturvedi’s letter is the fact that Congress was and remains a party of and for dynasts. Chaturvedi is widely acknowledged to be a feisty spokesperson who defended her party vigorously during debates or any other fora. She was perceived as a hardworking and dedicated party worker destined for a greater role within the party. Contrast her fortune with that of her namesake, Priyanka Gandhi Vadra, and the intrinsic nature of a dynastic party becomes clear.

In failing to retain an important member of the party by adequately addressing her grievances, Rahul has proven that his protestations in favour of women’s rights and empowerment is a sham: much like many other aspects of his politics.

राहुल के अमेठी नामांकन का असर क्या वायनाड की सीट पर पड़ेगा ??

राहुल विंन्सी गांधी या सिर्फ राहुल गांधी, यदि इन शिकायतों को सच माना जाये और इन पर कार्यवाई हो जाये तो कांग्रेस का क्या भविष्य रह जाएगा??

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नामांकन पत्रों की जांच को अमेठी के रिटर्निंग ऑफिसर ने 22 अप्रैल तक के लिए स्थगित करने का आदेश दिया है। रिटर्निंग ऑफिसर डॉ. राम मनोहर मिश्र ने आदेश में कहा कि राहुल गांधी के अधिवक्ता राहुल कौशिक ने इन आरोपों के खंडन के लिए समय मांगा है। इसके बाद भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने राहुल गांधी की नागरिकता पर सवाल उठाए हैं।

बीजेपी प्रवक्‍ता जीवीएल नरसिम्‍हा ने शनिवार को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस करके राहुल गांधी से उनकी नागरिकता को लेकर जवाब मांगा है। उन्‍होंने कहा है कि राहुल गांधी बताएं कि वह ब्रिटिश नागरिक हैं या नहीं? उन्‍होंने आरोप लगाया कि एक कंपनी में राहुल की नागरिकता ब्रिटिश दर्ज है।

कांग्रेस और राहुल गांधी को जवाब देना पड़ेगा

बीजेपी प्रवक्‍ता जीवीएल नरसिम्‍हा ने कहा कि राहुल गांधी और उनके वकील राहुल कौशिक अमेठी में नामांकन पत्र पर रिटर्निंग अफसर के ऑब्जेक्शन का जवाब नहीं दे सके हैं। उनको 22 तारीख का टाइम दिया गया है। ये आश्चर्य की बात है कि उनके पास जवाब नहीं था। कांग्रेस और राहुल गांधी को जवाब देना पड़ेगा।

राहुल की भारतीय नागरिकता पर सवाल

उन्‍होंने कहा कि राहुल गांधी जी की नागरिकता को लेकर सबसे पहला सवाल है- क्या राहुल गांधी भारत के नागरिक हैं कि नहीं। क्योंकि उनके 2004 के डिक्लेरेशन में राहुल ने कहा था कि बैक ऑप्स कंपनी में उन्होंने निवेश किया था और 2005 में ब्रिटेन के सामने जो डॉक्यूमेंट दिए गए थे, उसमें राहुल गांधी को ब्रिटिश सिटीजन दिखाया गया था। नरसिम्‍हा का कहना है कि अगर वह ब्रिटेन के नागरिक हैं तो देश के नियम के मुताबिक राहुल की भारतीय नागरिकता खत्म हो जाती है।

राहुल गांधी के नामांकन के खिलाफ जताई गई आपत्ति

दरअसल, अमेठी में राहुल गांधी के नामांकन के खिलाफ आपत्ति जताई गई है। राहुल की नागरिकता और डिग्री को लेकर सवाल उठाया गया है। अमेठी से ही चुनाव लड़ रहे एक निर्दलीय उम्‍मीदवार के वकील रवि प्रकाश ने राहुल गांधी की नागरिकता पर सवाल उठाते हुए उनके नामांकन पत्र की जांच की मांग की थी।

रवि प्रकाश का कहना है कि ब्रिटेन की एक रजिस्‍टर्ड कंपनी के दस्‍तावेजों में उन्‍होंने अपनी ब्रिटिश नागरिकता का उल्‍लेख किया है और गैर भारतीय देश में चुनाव नहीं लड़ सकता है। रवि प्रकाश का कहना है कि इसके साथ ही राहुल शैक्षणिक सर्टिफिकेट में भी कई सारी गलतियां हैं। उन्‍होंने मांग की कि राहुल गांधी के असली शैक्षणिक दस्‍तावेज सामने आने चाहिए।

बताया गया कि राहुल का असली नाम राउल विंची है। साथ ही उनके पास ब्रिटिश नागरिकता है। निर्दलीय प्रत्याशी ध्रुव लाल कौसल के वकील, अफजल वारिस, सुरेंद्र चंद्र व सुरेश कुमार शुक्ला ने उनके नामांकन को रद्द करने की मांग की है।

वकील का आरोप है कि राहुल ने दस्तावेजों में इंग्लैंड की अपनी कंपनी का जिक्र नहीं किया। उन्होंने राहुल को ब्रिटेन का नागरिक बताया वहीं राहुल की डिग्री पर सवाल भी उठाए। उन्होंने दावा किया है कि राहुल ने एफिडेविट में जिन कॉलेजों से पढ़ाई का जिक्र किया है असल में राहुल ने उन कॉलेजों से पढ़ाई की ही नहीं है।

10 अप्रैल को दाखिल किया था नामांकन

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने 10 अप्रैल बुधवार को अमेठी सीट से नामांकन भरा था। नामांकन भरने से पहले उन्होंने रोड शो निकाला। इस दौरान उनके साथ उनका पूरा परिवार था। इस बार राहुल गांधी अमेठी के अलावा वायनाड सीट से भी लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं। अमेठी लोकसभा सीट पर पांचवे चरण में 6 मई को चुनाव होना है।

कांग्रेस का ‘न्याय’ अब न्यायालय में, 2 हफ्तों में मांगा जवाब

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कांग्रेस की न्यूनतम आय योजना (न्याय) को लेकर पार्टी को शुक्रवार को नोटिस जारी किया. इस जनहित याचिका में कांग्रेस के चुनावी घोषणा पत्र से न्यूनतम आय की गारंटी के वादे को हटाने की मांग की गई है.
इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने जिस याचिक को स्वीकार किया है वह याचिका बहुत साल पहले ही स्वत: संगयान से ले ली जानी चाहिए थी। लैपटाप, साइकल, राशन, कर्जा माफी इत्यादि। 72000 हों या मुफ्त राशन पानी, यह सब बंद होना चाहिए। न्यायालय का यह स्वागत योग्य कदम है, बस यह वकीलों की बहस ही में न उलझ कर रह जाये।

प्रयागराज: इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कांग्रेस की न्यूनतम आय योजना (न्याय) को लेकर पार्टी को शुक्रवार को नोटिस जारी किया. इस जनहित याचिका में कांग्रेस के चुनावी घोषणा पत्र से न्यूनतम आय की गारंटी के वादे को हटाने की मांग की गई है.

जस्टिस सुधीर अग्रवाल और जस्टिस राजेंद्र कुमार की पीठ ने अधिवक्ता मोहित कुमार और अमित पांडेय द्वारा दायर जनहित याचिका पर यह आदेश पारित किया. अदालत ने कांग्रेस पार्टी और चुनाव आयोग को दो सप्ताह के भीतर अपने जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया. 

अदालत ने पूछा- इस तरह की घोषणा वोटरों को रिश्वत देने की कैटगरी में क्यों नहीं? क्यों न पार्टी के खिलाफ पाबंदी या दूसरी कोई कार्रवाई की जाए, अदालत ने इस मामले में चुनाव आयोग से भी जवाब मांगा, कांग्रेस पार्टी और चुनाव आयोग को जवाब दाखिल करने के लिए दो हफ्ते का वक्त दिया, अदालत ने माना कि इस तरह की घोषणा रिश्वतखोरी व वोटरों को प्रभावित करने की कोशिश है. 

याचिकाकर्ता की दलील थी कि चुनावी घोषणा पत्र में 72,000 रुपये न्यूनतम आय की गारंटी का वादा रिश्वत के समान है और यह जन प्रतिनिधित्व कानून का उल्लंघन है. एक राजनीतिक दल इस तरह का वादा नहीं कर सकता क्योंकि यह कानून और आचार संहिता का उल्लंघन है. इस याचिका में अदालत से चुनाव आयोग को निर्देश जारी कर कांग्रेस के चुनावी घोषणा पत्र से न्यूनतम आय की गारंटी का वादा हटवाने का अनुरोध किया गया है. अदालत ने इस मामले की अगली सुनवाई की तारीख 13 मई तय की. 

प्रियंका के पार्टी छोड़ने पर सुरजेवाला का बयान

प्रवक्ता हो या किसी भी सतर का नेता जब वह अपने दल को छोडता है तो दल में असर तो पड़ता है, फिर कांग्रेस जैसे बड़े दल को जो चुनावों की तैयारी में जुटा हुआ है के फ़ाइर ब्रांड प्रवक्ता का छोडना तो और भी कष्टप्रद हो जाता है। सुरजेवाला ने प्रियंका चतुर्वेदी के कांग्रेस छोडने पर बहुत ही नपटुला ब्यान दिया।

नई दिल्ली: कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी के इस्तीफे के बाद पार्टी के मीडिया विभाग के प्रमुख रणदीप सुरजेवाला ने शुक्रवार को कहा कि पार्टी के किसी साथी का अलग होना दुखद है और ऐसे मामले में टीम का मुखिया होने के नाते मेरी भी जवाबदेही बनती है.

प्रियंका के इस्तीफे के बारे में पूछे जाने पर सुरजेवाला ने कहा,‘मैंने टॉम वडक्कन के जाने के समय भी कहा था और आज फिर कह रहा हूं कि जब भी कांग्रेस का कोई व्यक्ति बाहर जाता है तो यह हमारे लिए दुख का विषय होता है. लोग करियर में आगे बढ़ने की इच्छा रखते हैं. अगर टीम में कुछ होता है तो उसका असर नेता होने के कारण मेरे ऊपर भी आता है.’

‘प्रियंका चतुर्वेदी’ कांग्रेस का अग्निबाण अब शिवसेना के तूणीर में

कांग्रेस का अग्निबाण अब शिव सेना के तूणीर से मोदी के लिए कांग्रेस ही के खिलाफ चलेगा। यूं तो शत्रुघ्न सिन्हा का जाना तय ही था परंतु एक ‘खामोश’ करवाने वाला सन्नाटा उनकी कमी को बार बार उजागर करता था। प्रियंका चतुर्वेदी के शिव सेना में शामिल होने से शत्रुघ्न सिन्हा की कमी काफी हद तक नहीं खलेगी। कांग्रेस की आत्ममुग्धता की पराकाष्ठा का नतीजा है प्रियंका चतुर्वेदी का इस्तीफा और झापड़ है शिव सेना में शामिल होना। कल ही से इसके कयास लगाए जा रहे थे की इस अग्निशामक दलों के लिए भय का कारण बनी प्रियंका अब भाजपा के किस घटक दल में शामिल होंगी? भाजपा के खिलाफ हमेशा मुखर रहने वाली प्रियंका के लिए कमाल थामना आसान राह नहीं थी, परंतु शिव सेना के शिव बन्धन में बंधना बनिस्पत आसान था। ख्म तो मोदी ही का है।

नई दिल्ली/मुंबई: लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस को झटका देते हुए पार्टी की पूर्व प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने सभी पदों से इस्तीफा दे दिया. इसके थोड़ी देर बाद ही वह शिवसेना में शामिल हो गईं. शुक्रवार को शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की मौजूदगी में पार्टी में शामिल हो गईं. ठाकरे ने जल्दबाजी में बुलाए गए मीडिया कांफ्रेंस में उनका स्वागत किया और कहा कि वह खुश हैं कि ‘उन्होंने शिवसेना में शामिल होने का फैसला किया है.’

कांग्रेस छोड़ने के बाद उनके शिवसेना में शामिल होने के बाद जब प्रियंका से पूछा गया अब वह बीजेपी की सहयोगी शिवसेना का हिस्सा हैं. ऐसे में क्या अब भी वह स्मृति ईरानी की डिग्री के खिलाफ उसी तरह हमलावर रहेंगी, जिस तरह से कांग्रेस में थीं. इस पर प्रियंका ने कहा, पिछले पांच साल में जब भी जरूरी हुआ शिवसेना ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला है. जहां तक मेरी बात है तो मैं गाना गाती रहूंगी.

बता दें कि कुछ दिन पहले जब केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने अपना नामांकन दाखिल किया था, उस समय उन्होंने बताया था कि वह ग्रेजुएट नहीं हैं. इस पर तंज कसते हुए प्रियंका चतुर्वेदी ने एक गाना गाया था. यह सोशल मीडिया पर बहुत वायरल हुआ था.

कांग्रेस पर लगाए उपेक्षा के आरोप…
इससे पहले उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे ने प्रियंका चतुर्वेदी को गुलदस्ता दिया और कई वरिष्ठ पार्टी नेताओं की उपस्थिति में उन्हें ‘शिव बंधन’ धागा बांधा. इसके बाद चतुर्वेदी (39) ने कुछ कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा उनके साथ दुर्व्यवहार किए जाने की घटना में उनका समर्थन नहीं करने को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा. उन्होंने कहा, “मैंने बिना किसी स्वार्थ के कांग्रेस पार्टी की 10 वर्षो तक सेवा की. लेकिन, पार्टी ने मेरी शिकायत को दरकिनार कर दिया, जबकि यह मामला शीर्ष नेतृत्व तक पहुंचाया गया था.”

चतुर्वेदी ने कहा कि उन्होंने उनके साथ दुर्व्यवहार करने वाले कार्यकर्ताओं को दोबारा बहाल किए जाने को लेकर शीर्ष नेतृत्व के समक्ष अपना दर्द बयां किया था. चतुर्वेदी ने हालांकि स्वीकार किया कि वह मथुरा सीट की उम्मीदवारी को लेकर नजरअंदाज किए जाने से थोड़ी निराश थीं, लेकिन उन्होंने जोर देकर कहा कि कांग्रेस छोड़ने की मुख्य वजह उनके साथ दुर्व्यवहार करने वाले कार्यकर्ताओं के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं किया जाना है.

कांग्रेस सपा-बसपा की ‘बी’ टीम है: उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा

यूपी के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा बोले, रायबरेली-अमेठी से साफ हो जाएगा कांग्रेस का सूपड़ा
उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने गुरुवार को कहा कि इस लोकसभा चुनाव में रायबरेली और अमेठी से कांग्रेस तथा आजमगढ़ और कन्नौज से सपा का सूपड़ा साफ हो जाएगा. 

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने गुरुवार को कहा कि इस लोकसभा चुनाव में रायबरेली और अमेठी से कांग्रेस तथा आजमगढ़ और कन्नौज से सपा का सूपड़ा साफ हो जाएगा. शर्मा ने कहा, ‘जिस प्रकार का जनसमर्थन भाजपा को मिल रहा है, उससे यह तय हो गया है कि रायबरेली और अमेठी में कांग्रेस को पराजय का स्वाद चखना पड़ेगा.’ कांग्रेस को सपा व बसपा की ‘बी’ टीम बताते हुए उन्होंने कहा कि हाथ के पंजे की देश को अब जरूरत नहीं है. इस पंजे ने देश को लूटा है और बर्बाद किया है.

उन्होंने कहा कि सरकारें आती जाती रहेंगी पर विकास न करने वालों को जनता दंड देना जानती है. इस चुनाव में जाति व धर्म के बंधन टूट गए हैं और विकास का कहर विपक्षियों पर टूट पड़ा है. ‘इस चुनाव में मोदी की लहर नहीं बल्कि विपक्षियों पर मोदी की लोकप्रियता का कहर है.’ 

शर्मा ने कहा कि चुनाव में विपक्ष को अभी से हार नजर आने लगी है इसलिए उस हार का ठीकरा ईवीएम पर फोड़ने की तैयारी की जाने लगी है. वे चुनाव हारेंगे जरूर क्योंकि उन्होंने काम नहीं किया. पहले चुनाव बिजली, पानी, सड़क के मुद्दों पर होते थे पर इस चुनाव में वे सभी मुद्दे गायब है क्योंकि मोदी ने उन सभी कामों को पूरा करके दिखाया है. उन्होंने कहा कि सपा, बसपा, तृणमूल कांग्रेस, राजद सभी एक दूसरे के पिछलग्गू बने हुए हैं. इनके पास कोई नीति अथवा सिद्धांत नहीं हैं. इनके पास विकास का कोई एजेन्डा नहीं है तथा ये केवल भाजपा व मोदी को रोकने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं.

उन्होंने कहा कि तृणमूल ने बंग्लादेश के घुसपैठियों को बंगाल में बुलाकर देश की छाती पर मूंग दलने के लिए डाल दिया है. यह हिन्दू व मुसलमान दोनों के लिए परेशानी का सबब है. हिन्दुस्तान के चुनाव में इन घुसपैठियों के बाद अब बांग्लादेश के कलाकारों को बुलाकर तृणमूल तथा कांग्रेस का प्रचार कराया जा रहा है. हिन्दुस्तान के चुनाव में इनकी कोई जरूरत नहीं है.

सीतापुर व कुशीनगर की चुनावी सभाओं में शर्मा ने कहा कि मोदी का परिवार स्वाभिमान के साथ जीवन यापन कर रहा है. कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि एक परिवार वह है जिसके एक सदस्य पर आरोप है कि वह चार लाख रूपये से व्यवसाय आरंभ करके पहले 400 करोड़ रूपये के मालिक बन गए और अब चार हजार करोड़ रूपये की सम्पत्तियों को खरीदने की चर्चा है और ये आरोपी प्रधानमंत्री पर आक्षेप लगाते हैं.

शर्मा ने कहा, ‘… जिसने अपना जीवन जनता के लिए समर्पित कर दिया . इन लोगों ने प्रधानमंत्री पर आरोप लगाते समय देश की गरिमा का भी ख्याल नहीं रखा . इनके आरोपों पर प्रधानमंत्री को भी कहना पड़ा कि एक बुलेटप्रूफ होता है पर मैं गाली प्रूफ हो गया हूं.’ उन्होंने कहा, ‘गली-गली में शोर है, एक बात श्योर है, हमारा पीएम प्योर है.’ 

शर्मा ने कहा कि एयर स्ट्राइक पर सवाल उठाने वालों को जान लेना चाहिए कि आतंकी भारत में घटना करके बिरयानी खाकर वापस चले जाएं, ऐसा अब नहीं होने वाला है. यह मोदी युग है, जिसमें गले लगाएंगे पर गला काटने का प्रयास किया तो घर में घुसकर मारेंगे.

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि भारत की तस्वीर बदलने के साथ ही नए भारत का निर्माण हो रहा है . आज हिन्दुस्तान शक्तिशाली राष्ट्रों में जाना जा रहा है . एक समय वह था जब दुनिया के बडे़ देशों में भारत की गरीबी के चित्र दिखाए जाते थे. आज मोदी के कमान संभालने के बाद अमेरिका के राष्ट्रपति अपने देश के नौजवानों से कहते हैं कि भारत से आने वाले होनहार युवा अपने देश के नौजवानों को बेरोजगार कर देंगे. इनसे बचकर रहना होगा. ये बदली परिस्थितियों को बताता है. 

“अगर मैं देशद्रोही हूं तो चुनाव कैसे लड़ रहा हूं?’’कन्हैया कुमार

इस बार का चुनाव पढ़ाई और कड़ाही के बीच की लड़ाई है: कन्हैया कुमार। कन्हैया कुमार के इस ब्यान के जो भी मतलब निकले जाएँ वह सिरे से निरर्थक होंगे। कन्हैया कुमार का मानना है की जनता की लड़ाई जनता के पैसे से ही होनी चाहिए, तो कोई उनसे पूछे की वह आज तक डॉ॰ की उपाधि क्यों नहीं ले पाये। जबकि जनता का ही पैसा था जिस पर वह सालों जेएनयू में ऐश करते रहे।
जिस शोध कार्य के लिए इनहोने लाखों रुपये लिए क्या वह पूरा हो गया है?
यदि वह पूरा हो गया है तो उसका कीनिया को क्या लाभ हुआ?
या उस शोध कार्य का भारत को क्या लाभ हुआ?
और अब चुनाव लड़ने के लिए तत्पर होना।

कुछ भी कहें कन्हैया पर यह इबारत बिलकुल ठीक बैठती है

‘तालीम है अधूरी, मिलती नहीं मजूरी’

ऐसा प्रतीत होता है की कन्हैया कुमार को सिर्फ जनता के पैसे पर जीने की आदत हो गयी है.

बेगूसराय: मौजूदा लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha elections 2019) में बिहार की बेगूसराय सीट पर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह को कड़ी टक्कर दे रहे जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष और भाकपा उम्मीदवार कन्हैया कुमार ने इस मुकाबले को पढ़ाई और कड़ाही के बीच की लड़ाई करार दिया. उन्होंने कहा कि एक ओर तो पढ़-लिखकर अपना और देश का भविष्य बनाने के इच्छुक युवा हैं और दूसरी तरफ वे लोग हैं जो इन पढ़े-लिखे युवाओं से पकौड़े तलवाना चाहते हैं.

लोकतंत्र पर खतरा
एनसीईआरटी की नौवीं कक्षा की किताब से लोकतंत्र का पाठ हटाए जाने के संदर्भ में वह कहते हैं, ‘‘अगर हम चुप रहें तो कल पूरे देश से ही लोकतंत्र को हटा दिया जाएगा.’’ चुनाव में जेएनयू प्रकरण और देशद्रोह को मुख्य मुद्दा बनाये जाने पर कन्हैया कुमार का कहना है, ‘‘अगर मैं देशद्रोही हूं, अपराधी हूं, दोषी हूं… तो सरकार मुझे जेल में क्यों नहीं डाल देती? अगर मैंने कुछ गलत किया है तब सरकार कार्रवाई करे. अगर मैं देशद्रोही हूं तो चुनाव कैसे लड़ रहा हूं?’’

देशद्रोह के आरोप बेबुनियाद
कन्हैया कुमार ने कहा,‘‘मेरा चुनाव लड़ना ही इस बात का सबूत है कि देशद्रोह के आरोप बेबुनियाद हैं. जनता सब जानती है. लोग वास्तविक मुद्दों पर बात करना चाहते हैं लेकिन भाजपा मनगढ़ंत मुद्दों की आड़ में लोगों को बांट रही है क्योंकि उसके पास जनता से जुड़ा कोई मुद्दा नहीं है. पिछले पांच वर्ष में केंद्र सरकार ने कुछ भी ठोस नहीं किया इसलिए वह भ्रम फैला रही है.’’

भाकपा उम्मीदवार ने कहा कि साजिश करने वालों को देश की चिंता नहीं है बल्कि वे चाहते हैं कि ‘देश में न कोई बोले, ना सवाल करे.’ अपने चुनाव अभियान पर संतोष व्यक्त करते हुए कुमार ने कहा, ‘‘मैं, खुद को मिल रहे जनसमर्थन से उत्साहित हूं और मुझे अपनी सफलता का पूरा भरोसा भी है. राजनीतिक लड़ाई में सच्चाई और ईमानदारी हो तो जनता का सहयोग अपने आप मिलता है.’’

महागठबंधन का सवाल
यह पूछे जाने पर कि अगर पूरा विपक्ष मिलकर उन्हें अपना उम्मीदवार बनाता तो सीधी टक्कर होती, कुमार ने कहा, ‘‘भाजपा विरोधी मतों का विभाजन नहीं होगा… मुकाबला सीधा ही है.’’

राजनीति में प्रवेश संबंधी सवाल पर कन्हैया कुमार ने कहा ‘‘मैंने कुछ तय नहीं किया. संयोग और परिस्थितियां ही सब कुछ तय करती हैं. बेगूसराय में जन्म लेने के बाद मैंने सोचा नहीं था कि कभी दिल्ली जाऊंगा. दिल्ली पहुंच कर यह तय नहीं किया था कि जेएनयू जाऊंगा और छात्र संघ का अध्यक्ष बनूंगा. फिर मैं जेल भी गया. बेगूसराय से भाकपा उम्मीदवार बनना भी तय नहीं था.’’

चुनावी चंदे का मुद्दा
चुनावी चंदे के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा ‘‘मेरा मानना है कि जनता की लड़ाई जनता के पैसे से हो. मेरा पूरा अभियान जनता के सहयोग से ही चल रहा है. वैसे भी, यह लड़ाई तो पढ़ाई और कड़ाही के बीच है- एक तरफ पढ़-लिखकर अपना और देश का भविष्य बनाने के इच्छुक युवा हैं तो दूसरी तरफ वे लोग हैं जो इन पढ़े-लिखे युवाओं से पकौड़े तलवाना चाहते हैं.’’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए भाकपा नेता ने कहा कि वह हर दिन 20 घंटे काम करते हैं और देश बर्बाद हो रहा है. उन्होंने आरोप लगाया कि एअर इंडिया, बीएसएनएल, एचएएल के बाद अब भारतीय डाक विभाग की भी हालत खराब हो गई है और उसे करोड़ों रुपये का घाटा हुआ है.

बेगूसराय का गणित
कभी कांग्रेस का गढ़ रही बेगूसराय सीट पर 2014 के लोकसभा चुनाव में पहली बार भाजपा के भोला सिंह ने राजद के तनवीर हसन को 58,335 मत से हराया था. भाकपा के राजेंद्र प्रसाद सिंह 1,92,639 वोट पाकर तीसरे नंबर पर थे.

उससे पहले 2009 के लोकसभा चुनाव में जदयू के मोनाजिर हसन ने इस सीट पर भाकपा के कद्दावर नेता शत्रुघ्न प्रसाद सिंह को पराजित कर कब्जा जमाया था. वहीं 2004 में जदयू के राजीव रंजन सिंह ने कांग्रेस की कृष्णा शाही को हराया था. इस सीट पर कांग्रेस ने अब तक आठ बार जीत दर्ज की है जबकि भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने एक बार जीत दर्ज की.

बेगूसराय लोकसभा सीट पर मतदाताओं की कुल संख्या 19,53,007 है जिनमें 10,38,983 पुरुष और 9,13,962 महिला मतदाता हैं. इस सीट पर भूमिहार मतदाताओं की संख्या सबसे अधिक है. इसके बाद मुसलमान, कुशवाहा, कुर्मी तथा यादव मतदाता हैं.

बिहार का लेनिनग्राद
‘बिहार का लेनिनग्राद’ और ‘लिटिल मॉस्को’ कहलाने वाला बेगूसराय गंगा नदी के पूर्वी किनारे पर बसा है. इस लोकसभा सीट पर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के टिकट पर चुनाव लड़ रहे कन्हैया कुमार का मुकाबला भाजपा के भूमिहार नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह तथा राष्ट्रीय जनता दल (राजद) एवं महागठबंधन के उम्मीदवार तनवीर हसन से है. गिरिराज सिंह के बारे में कुमार ने कहा कि आम लोगों को उनके मंत्रालय तक का पता नहीं है और वे केवल अनाप-शनाप बयानबाजी के लिए जाने जाते हैं.

शत्रु ने प्रमोद किशन को लखनऊ में ‘खामोश’ किया

लखनऊ में प्रचार करने पर विवाद, शत्रुघ्न बोले – मुझे पार्टी प्यारी है लेकिन परिवार पहले

अभिनेता सांसद शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम सिन्हा ने गुरुवार को लखनऊ लोकसभा सीट से नामांकन दाखिल किया. इस दौरान उनके पति शत्रुघ्न सिन्हा ने चुनाव प्रचार किया लेकिन यह बात कांग्रेस प्रत्याशी आचार्य प्रमोद कृष्णम को रास नहीं आई. शत्रुघ्न ने भी बागी तेवर दिखाते हुए कहा कि परिवार को सपोर्ट करना मेरा कर्तव्य है.   

लखनऊ: लोकसभा चुनाव 2019 के लिए अभिनेता सांसद शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम सिन्हा ने गुरुवार को लखनऊ लोकसभा सीट से नामांकन दाखिल किया. इस दौरान उनके पति शत्रुघ्न सिन्हा भी मौजूद रहे. शत्रुघ्न ने अपनी पत्नी के लिए लखनऊ में चुनाव प्रचार भी किया लेकिन यह बात कांग्रेस प्रत्याशी आचार्य प्रमोद कृष्णम को रास नहीं आई. उन्होंने अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए शत्रु को पार्टी धर्म निभाने की नसीहत दे डाली. शत्रुघ्न कहां चुप रहने वाले थे. उन्होंने भी बागी तेवर दिखाते हुए कहा कि परिवार को सपोर्ट करना मेरा कर्तव्य है. 

उधर, प्रमोद कृष्णम ने कहा, “शत्रुघ्न सिन्हा जी ने यहां आ करके अपना पति धर्म निभाया है, लेकिन मैं शत्रु जी यह कहना चाहूंगा कि पति धर्म उन्होंने आज निभा दिया, लेकिन एक दिन मेरे लिए प्रचार करके वो पार्टी धर्म निभाएं.”

लखनऊ में उलझे सियासी समीकरण
शत्रुघ्न सिन्हा ने बीजेपी से बगावत कर हाल ही में कांग्रेस का दामन थामा है. इतना ही नहीं पटना साहिब से कांग्रेस के उम्मीदवार भी हैं. उधर, उनकी पत्नी सपा की सदस्यता लेकर लखनऊ से चुनाव मैदान में हैं. यूपी में कांग्रेस – सपा के बीच गठबंधन न होने से दोनों पार्टी के नेता असहज महसूस कर रहे हैं.

लखनऊ से केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह दोबारा मैदान में है. देखना होगा कि शत्रुघ्न सिन्हा को लेकर कांग्रेस हाईकमान क्या रुख अपनाता है. वैसे जिस तरह से शत्रुघ्न ने पलटवार किया है, उससे साफ है कि आने वाले वक्त में वह पूनम सिन्हा के लिए प्रचार करना नहीं छोड़ेंगे. 

बीजेपी का अभेद दुर्ग है लखनऊ 
लखनऊ को बीजेपी का अभेद दुर्ग कहा जा सकता है. पिछले 28 साल से बीजेपी का इस सीट पर कब्जा है. बीजेपी 1991 से इस सीट पर काबिज है. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की यह परंपरागत सीट रही है. बाजपेयी ने 1991, 1996,1998,1999 और 2004 का लोकसभा चुनावों इस सीट से जीते. 2009 में लाल जी टंडन को बीजेपी ने यहां से उतारा, उन्हें भी जीत मिली. 2014 में राजनाथ सिंह इस सीट से भारी मतों से जीते. अब सिंह इस सीट से दोबारा चुनाव लड़ रहे हैं.

साध्वि प्रज्ञा होंगी भोपाल में भाजपा का चेहरा

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भोपाल सीट की जंग रोचक हो गई है. साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का मुकाबला पूर्व मुख्यमंत्री और भोपाल सीट से कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह से होगा। भोपाल से टिकट मिलने पर बोलीं साध्वी प्रज्ञा, ‘धर्म की जीत होगी, अधर्म का नाश होगा’

भोपाल: लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भोपाल सीट की जंग रोचक हो गई है. बीजेपी ने भोपाल लोकसभा सीट से बुधवार को साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को पार्टी का उम्मीदवार घोषित किया है. प्रज्ञा का मुकाबला पूर्व मुख्यमंत्री और भोपाल सीट से कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह से होगा. बीजेपी ने विदिशा, गुना और सागर सीट के उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है. हालांकि इंदौर सीट को लेकर सस्पेंस बरकरार है. भोपाल से टिकट मिलने के बाद प्रतिक्रिया देते हुए प्रज्ञा ने कहा, “हम तैयार हैं. अब इसी कार्य में लग गई हूं.” 

उन्होंने कहा, “चुनाव में भगवा मुद्दा होगा और भोपाल का विकास मुद्दा होगा.” अपने खिलाफ महबूबा मुफ्ती और जावेद अख्तर के ट्वीट पर प्रज्ञा ने कहा कि इसके अलावा वो कर भी क्या सकते है. भोपाल के लोग को संदेश एक अच्छी दिशा में जाने के लिए तैयार रहें, अच्छा भोपाल बनाने के लिए तैयार रहें अच्छा भोपाल बनाएंगे. दिग्विजय के स्वागत करने पर बोली प्रज्ञा करना भी चाहिए, उन्हें मेरे यहां चुनाव लड़ने का स्वागत. पूर्ण मत और बहुमत से जीतूंगी भोपाल लोकसभा का चुनाव. उधर, पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रत्याशी के चयन में कोई देरी नहीं हुई. पार्टी ने सोच समझकर प्रत्याशी का चयन किया है. 

उधर, कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह ने भी साध्वी प्रज्ञा को भोपाल से बीजेपी की ओर से प्रत्याशी घोषित किए जाने पर प्रतिक्रिया दी. उन्होंने एक ट्वीट में लिखा, “मैं साध्वी प्रज्ञा जी का भोपाल में स्वागत करता हूं. आशा करता हूं कि इस रमणीय शहर का शांत, शिक्षित और सभ्य वातावरण आपको पसंद आएगा. मैं मां नर्मदा से साध्वी जी के लिए प्रार्थना करता हूं और नर्मदा जी से आशीर्वाद मांगता हूं कि हम सब सत्य, अहिंसा और धर्म की राह पर चल सकें. नर्मदे हर!” दिग्विजय सिंह ने बकायदा इसका वीडियो जारी किया. 

आज ही बीजेपी में शामिल हुईं थी प्रज्ञा
प्रज्ञा आज ही बीजेपी में शामिल हुईं. बुधवार को भाजपा दफ्तर पहुंचीं और उन्होंने पार्टी की सदस्यता ग्रहण की. इस मौके पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित पार्टी के कई नेता मौजूद थे. प्रज्ञा ने इस मौके पर भोपाल से चुनाव लड़ने के सवाल पर कहा था, “भोपाल संसदीय क्षेत्र में दिग्विजय सिंह कोई चुनौती नहीं हैं. मेरा जीवन राष्ट्र के लिए समर्पित है, लिहाजा जो जरूरी होगा उसे करूंगी.”

साध्वी प्रज्ञा सितंबर 2008 में हुए मालेगांव विस्फोट मामले में आरोपी हैं. इस विस्फोट में सात लोगों की मौत हो गई थी. प्रज्ञा इस मामले में नौ साल जेल में थीं और फिलहाल वह जमानत पर हैं.

प्रज्ञा ठाकुर : चिदम्बरम के हिन्दू – भगवा आतंकवाद की बली

पी चिदम्बरम द्वारा गधे गए भगवा आतंकवाद की पहली बाली थीं साध्वी प्रज्ञा ठाकुर।कांग्रेस राज में 2008 से आतंकवादी होने का दंश झेल रही साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने जेल में मुक़द्दमे की सुनवाई तक बहुत सी यातनाएं झेलीं। हिन्दू धर्म के प्रति समर्पित यह युवा साध्वी कांग्रेस की आँख की किरकिरी बनी हुई थी। कांग्रेस के निशाने पर रही साध्वी प्रज्ञा के साथ असीमानंद, कर्नल पुरोहित इत्यादि को भी हिन्दू आतंकवादी घोषित किया गया और जेलों में डाल दिया गया। राजनीति से प्रेरित मामले अभी न्यायालय में विचाराधीन हैं।

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) का सियासी पारा गर्मी के साथ ही लगातार बढ़ता जा रहा है. इन सबके बीच मध्य प्रदेश की चर्चित भोपाल लोकसभा सीट पर बीजेपी ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के नाम पर मुहर लगा दी है. कांग्रेस ने इस संसदीय सीट पर एमपी के पूर्व सीएम और पार्टी के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह को उम्मीदवार घोषित किया है. 

हिंदुत्व का बड़ा चेहरा
हिंदुत्व के चेहरे के रूप में जानी जाने वाली साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का जन्म मध्य प्रदेश के कछवाहाघर में हुआ था. साध्वी प्रज्ञा महाराष्ट्र के मालेगांव बम धमाके में आरोपी बनाए जाने पर सुर्खियों में आई थीं. इस मामले में उनके साथ लेफ्टिनेंट कर्नल प्रसाद श्रीकांत पुरोहित को भी आरोपी बनाया गया था. साध्‍वी प्रज्ञा का नाम आरएसएस नेता सुनील जोशी हत्‍याकांड में भी सामने आया था. हालांकि, इस मामले में उन्हें बरी कर दिया गया था. प्रज्ञा ठाकुर को उनके भड़काऊ भाषणों के लिए भी जाना जाता है.

मालेगांव बम धमाके में हैं आरोपी
29 सितंबर, 2008 में महाराष्ट्र के मालेगांव बम धमाके में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को आरोपी बनाया गया था. इस बम धमाके में 8 लोग मारे गए थे और करीब 90 लोग घायल हुए थे. महाराष्ट्र पुलिस की एटीएस ने प्रारंभिक जांच के बाद प्रज्ञा ठाकुर को गिरफ्तार कर लिया था. इसके बाद धमाके की जांच एनआईए को सौंप दी गई थी. एनआईए ने जांच में पाया था कि बम धमाके में उपयोग की गई मोटर साइकिल प्रज्ञा ठाकुर के नाम रजिस्टर्ड थी. एनआईए ने जांच में पाया था कि बम धमाके की साजिश भोपाल में ही रची गई थी. प्रज्ञा ठाकुर करीब 9 वर्षों तक जेल में रही थीं. फिलहाल इस मामले में वह जमानत पर बाहर हैं.

आचार्य महामंडलेश्वर की मिली उपाधि
इतिहास में पोस्ट ग्रैजुएट प्रज्ञा ठाकुर अपने शुरुआती समय में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़ी रहीं. 2007 में उन्होंने संन्यास ले लिया था. उन्हें भारत भक्ति अखाड़े की आचार्य महामंडलेश्वर बनाया गया और उन्हें आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी पूर्णचेतनानंद गिरी के नाम से जाना जाता है. 

कांग्रेस पर लगाए थे ‘हिंदू आतंकवाद’ का जुमला गढ़ने के आरोप
जेल से बाहर आने के बाद प्रज्ञा ठाकुर ने कहा था कि उन्हें 23 दिनों तक यातना दी गई थी. साध्वी प्रज्ञा ने आरोप लगाया था कि तत्कालीन गृहमंत्री पी चिदंबरम ने ‘हिंदू आतंकवाद’ का जुमला गढ़ा था और भगवा आतंकवाद कांग्रेस का षड्यंत्र था. इसे साबित करने के लिए कहानी रची गई और उन्हें झूठे केस में फंसाया गया.