8वां ईयूवीआईसी 2022 फोर्टिस मोहाली में आयोजित होगा

  • वैरिकाज़ नसों के जटिल मामलों पर विचार-विमर्श करेंगे डॉक्टर्स
  • – सभी प्रतिनिधियों को वीनस अल्ट्रासाउंड फिजिक्स और इंस्ट्रूमेंटेशन के ज्ञान और समझ को बढ़ाने के लिए प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए 30 से अधिक मामलों का लाइव संचालन किया जाएगा

डेमोक्रेटिक फ्रंट सामवाददाता, मोहाली – 12 अगस्त 22 :  

वैरिकाज़ वेनस (नसों) और वैरिकाज़ नसों के प्रबंधन से जुड़े उन्नत उपचार विकल्पों के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए, फोर्टिस अस्पताल मोहाली में 8वें एंडोवास्कुलर और अल्ट्रासाउंड-गाइडेड वेनस इंटरवेंशन कोर्स-2022 (ईयूवीआईसी) का आयोजन किया जा रहा है। यह आयोजन 12-14 अगस्त 2022 तक किया जायेगा।

वैस्कुलर सोसाइटी फॉर लिम्ब साल्वेज के अंतर्गत में वेनस एसोसिएशन ऑफ इंडिया (वीएआई) के सहयोग से मेडिकल कोर्स / वर्कशॉप का आयोजन किया जा रहा है और इसमें दुनिया भर के डॉक्टर भाग लेंगे। सभी प्रतिनिधियों को वीनस अल्ट्रासाउंड फिजिक्स और इंस्ट्रूमेंटेशन, वीनस लोअर एक्सट्रीमिटी अल्ट्रासाउंड इवेल्यूएशन, मैपिंग फॉर वेन एब्लेशन प्रोसिजर्स और मैनेजमेंट ऑफ वीनस डीजज के बारे में उनकी समझ बढ़ाने के लिए प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए 30 से अधिक मामलों का लाइव संचालन किया जाएगा।

डॉ रावुल जिंदल, डायरेक्टर, वास्कुलर सर्जरी, फोर्टिस अस्पताल मोहाली, जो सत्र का नेतृत्व करेंगे तथा कोर्स का संचालन करेंगे, ने कहा, तीन दिवसीय इस कोर्स / वर्कशॉप का उद्देश्य वैरिकाज – वेंस के लक्षणों, कारणों और उपचार विकल्पों के बारे में जागरूकता फैलाना है। वैरिकाज़ नसों से पीड़ित रोगियों में पैरों में फैली हुई नसें दिखाई देती हैं जो दर्द, सूजन, खुजली और रक्तस्राव का कारण बनती हैं। कुछ रोगियों को पैर में स्किन पिगमेंटेशन और अल्सरेशन का भी अनुभव होता है। क्लिनिकल एग्जामिनेशन और डुप्लेक्स अल्ट्रासाउंड के माध्यम से इस चिकित्सा रोग का निदान किया जाता है; और इन नसों को अलग करने के लिए विभिन्न प्रक्रियाएं हैं।

 वर्कशॉप में वास्कुलर अल्ट्रासाउंड थियोरी और मॉडल और रोगियों पर व्यावहारिक प्रशिक्षण शामिल होगा; यूएसजी गाइडेड पंचर का आईजेवी/फेमोरल वेन/पोपलाइटल वेन/फेमोरल आर्टरी/एक्सिलरी वेन/लॉन्ग सैफेनस वेन और शॉर्ट सेफेनस वेन; मेडिकल स्टॉकिंग्स और ईवीएलटी/आरएफ/फोम स्क्लेरोथेरेपी के लाइव प्रदर्शन के साथ वैरिकाज़ नसों के उन्नत उपचार का व्यावहारिक प्रशिक्षण; डीवीटी थ्रोम्बोलिसिस और आईवीसी फिल्टर के लाइव प्रदर्शन; कॉस्मेटिक वैरिकाज़ नसों का उपचार; स्टेम सेल और पीआरपी थेरेपी, वैरिकाज़ वेन (एमओसीए) के मैकेनिक-केमिकल एब्लेशन, ग्लू तकनीक और अन्य नवीनतम प्रक्रियाओं का लाइव प्रदर्शन किया जाएगा।

प्रसिद्ध अंतर्राष्ट्रीय डॉक्टर – फ्रांस से प्रो. जीन फ्रेंकोइस, डॉ. जीन पैट्रिक बेनिग्नी और डॉ. पास्कल फिलोरी; मिस्र से डॉ. वसीला ताहा; तुर्की से डॉ. सुआत डोगांसी और डॉ. अहमद कुरसट बोजक़ुर्ट; भारतीय डॉक्टरों के साथ यूके के डॉ. मार्क व्हाइटली -डॉ. डी बी देकीवाडिया, डॉ आर पिंजला, डॉ एम पटेल, डॉ पीयूष चौधरी, डॉ अमित श्रीवास्तव, डॉ एस पडारिया, डॉ आर वर्गीस, डॉ एचएस बेदी, डॉ डी सेल्वराज, डॉ एस देसाई, डॉ गुलशनजीत सिंह, डॉ यूपी सिंह और डॉ लाडबंस कौर व्याख्यान देंगे और वर्कशॉप का संचालन करेंगे।

कोर्स में वैरिकाज़ वेन्स  सर्विस प्रोवाइडर, सोनोग्राफर और अन्य एलाइड हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स भी भाग लेंगे।

कुलदीप बिशनोई के धुर विरोधी ‘प्रोफेसर संपत सिंह’ फिर से कॉंग्रेस में शामिल

32 साल तक देवीलाल और ओमप्रकाश चौटाला और 10 साल तक पूर्व में कांग्रेस के साथ काम कर चुके आज़ के भाजपा नेता प्रोफेसर संपत सिंह ने दीपेंद्र सिंह हुड्डा के साथ कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल से मुलाकात के बाद विधिवत रूप से कांग्रेस ज्वाइन की। प्रोफेसर संपत सिंह छह बार विधायक रह चुके हैं। पूर्व में वित्त मंत्री, पूर्व बिजली मंत्री और नेता प्रतिपक्ष जैसे अहम पदों पर आसीन रह चुके संपत सिंह को पार्टी आदमपुर में अपना उम्मीदवार बना सकती है। छह बार के विधायक सिंह ने 2019 में कांग्रेस छोड़ दी थी और बाद में भारतीय जनता पार्टी से जुड़े रहे। हालांकि उन्होंने दावा किया कि वह कभी भी औपचारिक रूप से सत्तारूढ़ पार्टी में शामिल नहीं हुए। शुरू से ही प्रो. संपत सिंह कुलदीप बिश्नोई एक-दूसरे विरोधी रहे हैं। वर्ष 2016 में कुलदीप बिश्नोई के दोबारा से कांग्रेस में आने के बाद 2019 में संपत सिंह ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया था। उस समय संपत सिंह ने नलवा से टिकट कटने पर कुलदीप बिश्नोई पर गंभीर आरोप लगाए थे।

पूर्व मंत्री संपत सिंह कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। (फाइल फोटो)
  • हरियाणा में बीजेपी को बड़ा झटका, एकबार फिर कांग्रेस में बंपर ज्वाइनिंग
  • बीजेपी के 3 कद्दावर नेताओं समेत 5 ने थामा कांग्रेस का दामन
  • भूपेंद्र सिंह हुड्डा और चौ. उदयभान के नेतृत्व में ज्वाइन की पार्टी
  • दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने भी किया सभी नेताओं का पार्टी में स्वागत  
  • अपने-अपने क्षेत्र के बड़े नेताओं द्वारा पार्टी ज्वाइन करने से कांग्रेस होगी मजबूत- हुड्डा
  • तय हो चुका है कि 2024 में कांग्रेस की बनेगी सरकार- हुड्डा
  • सभी नेताओं ने सही समय पर लिया सही फैसला- हुड्डा
  • बड़े नेताओं के आने से जनहित के मुद्दों पर सरकार के खिलाफ लड़ाई होगी मजबूत- चौ. उदयभान
  • बीजेपी-जेजेपी को सत्ता से उखाड़ फैंकने में कामयाब होगी कांग्रेस- चौ. उदयभान

डेमोक्रेटिक फ्रंट संवाददाता, चंडीगढ़ – 8 अगस्त :

हरियाणा में कांग्रेस का कुनबा लगातार बढ़ता जा रहा है। अलग-अलग पार्टियों के बड़े नेता लगातार कांग्रेस का दामन थाम रहे हैं। इसी कड़ी में आज 5 बड़े नेताओं ने पार्टी का दामन थामा। पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा व हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौधरी उदयभान के नेतृत्व में पांचों नेताओं ने कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की। इस मौके पर राज्यसभा सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा भी मौजूद रहे।

वरिष्ठ नेता और 6 बार विधायक रह चुके प्रोफेसर संपत सिंह ने दीपेंद्र सिंह हुड्डा के साथ कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल से मुलाकात के बाद आज विधिवत रूप से भाजपा छोड़कर कांग्रेस ज्वाइन की। प्रोफेसर संपत सिंह पूर्व में वित्त मंत्री और नेता प्रतिपक्ष जैसे पदों पर आसीन रह चुके हैं।

इस मौके पर उन्होंने कहा कि वो कभी भूपेंद्र सिंह हुड्डा व कांग्रेस से दूर नहीं हुए थे। लेकिन कांग्रेस के भीतर रहकर कुछ स्वार्थी नेता पार्टी को लगातार कमजोर करने में लगे थे। ऐसे नेताओं की वजह से ही लगातार 2 बार कांग्रेस को सत्ता से बाहर रहना पड़ा। ऐसे लोगों की वजह से ही उन्हें कांग्रेस छोड़ने का फैसला करना पड़ा था। लेकिन अब पार्टी के साथ भीतरघात करने वालों का सच सार्वजनिक हो चुका है और वो कांग्रेस से बाहर जा चुके हैं। इसलिए उन्होंने फिर से भूपेंद्र सिंह हुड्डा और चौ. उदयभान के नेतृत्व में कांग्रेस ज्वाइन करने का फैसला लिया है।  

नारनौंद से पूर्व विधायक रामभगत शर्मा और नारनौल से पूर्व विधायक रहे राधेश्याम शर्मा ने भी आज बीजेपी छोड़कर कांग्रेस का दामन थामा। हरियाणा डेमोक्रेटिक फ्रंट छोड़कर हिम्मत सिंह ने भी घर वापसी करते हुए कांग्रेस के लिए संघर्ष का ऐलान किया। इनके अलावा बैंक एसोसिएशन के बड़े नेता रहे ललित अरोड़ा ने भी कांग्रेस ज्वाइन कर अपने राजनीतिक सफर का आगाज किया।

इस मौके पर भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि यह सभी नेता अपने-अपने इलाकों की मजबूत आवाज हैं। कद्दावर नेताओं द्वारा पार्टी ज्वाइन करने से प्रदेश में कांग्रेस को मजबूती मिलेगी। लगातार पार्टी की बढ़ती ताकत से स्पष्ट हो चुका है कि प्रदेश में आने वाली सरकार कांग्रेस की होगी। हुड्डा ने पार्टी में शामिल हुए सभी सदस्यों को पूर्ण मान सम्मान का भरोसा दिलाया। उन्होंने कहा कि सभी नेताओं ने सही समय पर सही फैसला लिया है।

चौधरी उदयभान ने कांग्रेस का पटका पहनाकर सभी नेताओं का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि आज एकबार फिर परिवार के पुराने सदस्य इकट्ठा हो गए हैं। भविष्य में सभी मिलकर भाजपा की जनविरोधी और सांप्रदायिक नफरत वाली नीतियों को हराने का काम करेंगे। इनके आने से अग्निपथ योजना, बेरोजगारी और महंगाई जैसे मुद्दों पर सरकार के खिलाफ जारी लड़ाई को मजबूती मिलेगी। आने वाले चुनाव में कांग्रेस बीजेपी-जेजेपी सरकार को उखाड़ फैंकने का काम करेगी।

कांग्रेस में शामिल होने वाले नेताओं की सूची-

1. प्रो. संपत सिंह- प्रो. संपत सिह 1980 से राजनीति में सक्रिय हैं। 6 बार विधायक रह चुके हैं। प्रदेश के वित्त मंत्री और नेता प्रतिपक्ष जैसे पदों पर आसीन रह चुके हैं। उन्होंने बीजेपी छोड़कर कांग्रेस ज्वाइन की है।

2. राधेश्याम शर्मा- राधेश्याम शर्मा बीजेपी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए हैं। राधेश्याम शर्मा ने 2005 में नारनौल से निर्दलीय चुनाव लड़ा तथा जीत हासिल की थी। उनके भाई चौटाला सरकार में राज्य मंत्री रहे हैं।

3. प्रो. रामभगत शर्मा- नारनौंद से निर्दलीय विधायक रहे रामभगत शर्मा ने 2019 में बीजेपी ज्वाइन की थी। वो बीजेपी छोड़ने के बाद कांग्रेस में शामिल हुए हैं।

4.  हिम्मत सिंह- यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव रह चुके हिम्मत सिंह ने 2014 में अंबाला सिटी से कांग्रेस प्रत्याशी के तौर पर 35 हजार वोट मिली थीं। वो 2019 में हरियाणा डेमोक्रेटिक फ्रंट में शामिल हुए थे। एचडीएफ छोड़कर उन्होंने कांग्रेस ज्वाइन की है।

5. ललित अरोड़ा- ऑल इंडिया पंजाब नेशनल बैंक एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे ललित अरोड़ा ने कांग्रेस के साथ अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत की है। ललित अरोड़ा मुख्यमंत्री के निर्वाचन क्षेत्र करनाल के प्रभावशाली नेता हैं।

6. हिसार और आदमपुर से दर्जनभर पूर्व सरपंचों ने भी कांग्रेस ज्वाइन की।

श्रावण मास का पहला सोमवार: सनातन मंदिर धर्म सभा सेक्टर 46 ने लगाया खीर मालपुड़े का लंगर

चंडीगढ़ संवाददाता, डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़, 18 जुलाई, 2022: 

सावन माह के पहले सोमवार के अवसर पर श्री सनातन धर्म मंदिर सेक्टर 46 मंदिर कमेटी की ओर से मंदिर प्रांगण में खीर माल पुड़े का लंगर लगाया गया । जिसे भक्तों ने श्रध्दापूर्वक ग्रहण किया ।मंदिर के पुजारी पंडित राहुल ने बताया कि सावन माह की शुरुआत 14 जुलाई 2022 से हो गयी है। आज सावन मास का पहला सोमवार है। इस बार सावन में विशिष्ट संयोग बन रहे हैं। आज पहले सोमवार को सुबह रुद्राभिषेक के साथ शिव पुराण कथा के साथ पूरा दिन मंदिर में पूजा पाठ का सिलसिला जारी रहा। मंदिर में श्रावण माह के पहले सोमवार के होने के चलते दिन भर  माथा टेकने वाले भक्तों का तांता लगा रहा। भक्तो ने श्रद्धाभाव से अपने इष्ट महादेव भोले शंकर पर दूध और पुष्प अर्पित कर अपने परिवार और समस्त समाज की भलाई की मनोकामना की वही भक्तों ने खीरपुड़े के लंगर का प्रसाद ग्रहण किया।

मंदिर कमेटी की ओर से प्रत्येक सोमवार को सवेरे 6 बजे से लेकर रात्रि 8 बजे तक खीर मालपुड़े का लंगर लगाया जाएगा।श्री सनातन धर्म मंदिर कमेटी के प्रधान जतिंदर भाटिया ने बताया कि भगवान शिव के प्रिय मास सावन माह की शुरुआत 14 जुलाई, गुरुवार से हो गई थी। वहीं 18 जुलाई को पहला सोमवार पड़ा है। हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार, सावन के महीने में भगवान शिव की विधिवत पूजा करने से हर एक मनोकामना पूर्ण हो जाती है। इसके साथ ही सुख-समृद्धि की प्राप्ति होत है। हिंदू पंचांग के अनुसार, इस साल सावन सोमवार पूरे 4 पड़ रहे हैं। जिसमें आज पहला सावन सोमवार है। बाबा भोलेनाथ की कृपा पाने के लिए भक्त सावन में सोमवार का व्रत रखते हैं। सावन के पहले सोमवार में काफी विशिष्ट योग बन रहे हैं। मंदिर कमेटी की ओर से मंदिर परिसर में श्रावण  मास के प्रत्येक सोमवार को सुबह 6 बजे से रत 8 बजे खीरपूड़े का लंगर लगाया जा रहा है I उन्होंने बताया कि सावन मास के आज पहले सोमवार को सभा की ओर से खीर मालपुड़े का लँगर लगाया गया है,  जिसे भगवान शिव के भक्तों ने श्रद्धा से ग्रहण किया।

आज लगाए गए लंगर के मौके पर कमेटी के सदस्य सुशील सोबत, धर्मपाल गुप्ता, डी डी शर्मा, राकेश सेठी,आर के आनंद सहित बी आर सहवाल, ओ पी सचदेवा और पंडित राहुल, पंडित हरि, पंडित गोपाल और पंडित शैलेंद्र व सदस्यों ने लंगर की सेवा में अपना हाथ बंटाया ।

पीपली में बजेगा सरकार के खिलाफ आंदोलन का बिगुल – चढूनी

कोशिक खान.डेमोक्रेटिक फ्रंट, यमुनानगर :

किसानों की मुश्तरका मालिकान जमीनों पर  सुप्रीम कोर्ट के दिए गए फैसले के विरोध में  सोमवार को बड़ी संख्या में किसान अनाज मंडी जगाधरी में इकट्ठा हुए। इस मौके पर यहां पहुंचे भारतीय किसान यूनियन के गुरनाम सिंह चढूनी ने किसानों को संबोधित  करते हुए कहा कि मुश्तका मालिकान जमीनों को लेकर जो सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया है। वह फैसला किसानों के ख़िलाफ़ है और हमें ऐसा लगता है कि इसमे सरकार की मिलीभगत से यह फैसला आया है। उन्होंने कहा कि पूरे हरियाणा में किसानों के खातों से छूटी हुई ज़मीनें है वह कई लाखों एकड़ जमीन है। और एक-एक गांव में सैकड़ों एकड़ जमीन खाली है जो सरकार को जा रही है। उन्होंने कहा कि 60 वर्ष से अधिक का समय हो गया है। उस पर किसान खेती करते आया है। कई किसानों ने ज़मीनों को बेच दिया है। कई जगह ज़मीनों को अपने नाम कर लिया गया है। कई जमीनों पर कालोनियां काटकर बेच दी गई है। उन्होंने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि पिछले दो वर्ष से सरकार भूमि बैंक बना रही है, यह सरकार को कैसे पता था। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों की इन जमीनों को लेकर इकट्ठा कर बड़ी कंपनियों को लीज  पर दे देगी। इस तरह से कंपनियों की खेती में एंट्री हो जाएगी और किसान को 5-10 एकड़ में ही अपनी खेती करनी पड़ेगी। उन्होंने कहा कि हरियाणा और पंजाब में भी विभाजन से पहले जमीनों की मुरब्बाबंदी की गई थी। जिसमें कुछ जमीनें साँझा खाते में थी जिनको बाद में बांट लिया गया था। उन्होंने सरकार से मांग करते हुए कहा कि सरकार उन  मुश्तकान मालिकान जमीन पर हक किसानों को ही मिलें। इसको लेकर 25 जुलाई को पूरे हरियाणा में तहसील स्तर पर हरियाणा के मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिए जाएंगे और 25 अगस्त को पीपली अनाज मंडी में किसानों की एक रैली की जाएगी और सरकार के खिलाफ आंदोलन का बिगुल बजेगा इस मौके पर जिला प्रधान संजू गुंदियाना, डायरेक्टर मंदीप रोड छप्पर सहित बड़ी संख्या में किसान उपस्थित रहे।

संसद सत्र शुरू होते ही दीपेन्द्र हुड्डा ने अग्निपथ योजना के खिलाफ पेश किया कामरोको प्रस्ताव

  •          नियम 267 के तहत दीपेन्द्र हुड्डा के कार्य स्थगन प्रस्ताव को राज्य सभा के सभापति ने अस्वीकार किया
  •          जब तक सरकार अग्निपथ योजना वापस नहीं करती, संसद में और संसद के बाहर लड़ाई जारी रहेगी – दीपेन्द्र हुड्डा
  •          कोरोना की आड़ में सेना में खाली पड़े करीब 2 लाख पदों पर 3 साल से बंद भर्ती शुरू हो– दीपेन्द्र हुड्डा

चंडीगढ़ संवाददाता, डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़, 18 जुलाई, 2022: 

सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने आज संसद का मानसून सत्र शुरू होते ही अग्निपथ योजना के खिलाफ राज्य सभा में नियम 267 के तहत कार्य-स्थगन प्रस्ताव पेशकर चर्चा कराने की मांग की। उन्होंने कहा कि अग्निपथ योजना से पूरे देश के युवाओं में अपने भविष्य को लेकर भ्रम और चिंता की स्थिति है और उनमें काफी रोष है। इसलिये सरकार सारा काम रोककर इस अति महत्तवपूर्ण विषय पर तुंरत विस्तार से चर्चा कराए। दीपेन्द्र हुड्डा के कार्य स्थगन प्रस्ताव को राज्य सभा के सभापति ने अस्वीकार कर दिया और इसके बाद पूरे दिन के लिए सदन की कार्रवाई स्थगित हो गई। सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि जब तक सरकार अग्निपथ योजना वापस नहीं करती, संसद में और संसद के बाहर लड़ाई जारी रहेगी।

अपने नोटिस में सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि पिछले दिनों केंद्र सरकार बिना किसी चर्चा और विचार-विमर्श के मनमाने ढंग से देश भर में अग्निपथ योजना को लागू कर दिया। सरकार ने इस योजना का जल्दबाजी में क्रियान्वयन कर देश भर के युवाओं को दुविधा और भ्रम की स्थिति में धकेल दिया। देश के कई हिस्सों में इस योजना के खिलाफ व्यापक विरोध-प्रदर्शन देखा गया। अग्निपथ योजना न देशहित में है, न देश सुरक्षा के, न ही युवाओं के भविष्य के हित में है। सरकार ने कोरोना की आड़ में पिछले 3 वर्षों से सेना में भर्ती नहीं की। उन्होंने मांग करी कि अग्निपथ योजना तुरंत रद्द कर सरकार देश के युवाओं से माफ़ी माँगे और और सेना में खाली पड़े अधिकारी व गैर-अधिकारी वर्ग के करीब 2 लाख पदों पर 3 साल से बंद पड़ी भर्ती को तुरंत खोले।

साप्ताहिक संगीतमय विश्वकर्मा महापुराण कथा का आयोजन

  • वामन भगवान की कथा सुनकर श्रद्धालुओं को किया भाव विभोर, भगवान वामन अद्धभुत झांकी ने श्रद्धालुओं के बीच आकर्षक बिंदु
  • 13 जुलाई की मंदिर में हवन के उपरांत सम्पन्न होगा श्री विश्वकर्मा महापुराण कथा, गुरुपूर्णिमा में होगी विधि विधान के साथ पूजा

चंडीगढ संवाददाता, डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़ – 12 जुलाई 2022 : 

गुरु पूर्णिमा के अवसर पर रामदरबार  स्थित श्री विश्वकर्मा मंदिर में में चल रही साप्ताहिक संगीतमय श्री विश्वकर्मा महापुराण कथा में कथा व्यास श्री विश्वकर्मा दास दर्शन धीमान ने भगवान विश्वकर्मा जी के वामन भगवान की कथा सुनाई। और भगवान के भजनों को गाकर  श्रद्धालुओं को भाव विभोर कर दिया।

इस अवसर पर वामन भगवान की सुंदर झांकी उपस्थित श्रद्धालुओं को दिखाई गई, जिसने सभी की आकर्षित किया या यूं कहें वामन भगवान की झांकी कथा की बीच आकर्षण का केंद्र बनी रही। इस अवसर पर मधुर भजन गाए गए और भगवान का गुणगान किया गया।

कथा व्यास श्री विश्वकर्मा दास दर्शन धीमान ने इस अवसर पर वामन भगवान की कथा का श्रवण करवाते हुए श्रद्धालुओं को बताया कि समुंद्रमंथन से निकले अमृत को पीकर देवों ने दैत्यराज बली से युद्धकर अपना स्वर्ग जब वापिस पा लिया तब दैत्यराज बली ने अपने गुरु शुक्राचार्य जी की सेवाकर उनके आशीर्वाद से बिना युद्ध करे आदिनारायणविश्वकर्मा जी की भक्ति से एक महान यज्ञ किया जिसकी पवित्र आहुतियों की सुगंध ने पाताल पृथ्वी व सातो आकाश को मोहित कर दिया और स्वर्ग का शासन पाया तब देवों को दुबारा स्वर्ग दिलाने के लिये देवमाता आदिति ने पयोव्रत से अपने गर्भ से वामन भगवान को जन्म दिया जो एक ब्रह्मण के रूप में राजा बली के यज्ञ में दान मांगने गये जहां राजा बली ने उनकी इच्छानुसार तीन पग भूमि दान देने का वचन दिया , तो वामन भगवान अपना विराट रूप धारण कर अपने दो पग में ही बली का सारा राज्य नाप लिया, तब भगवन ने कहा मैं अपना तीसरा पग कहां रखूं तब राजा बली ने कहा प्रभु जी ये मेरा शरीर आपका ही दिया है आप अपना तीसरा पग मेरे सिर पर रख दो, बली का समर्पण देख प्रभु ने कहा तू मेरा परमभक्त है मैं तुम्हें सुतललोक देता हुं इस प्रकार दैत्यकुल में जन्म लेकर बली प्रभु का परम भक्त हुआ ओर  भक्ति  के फलस्वरूप उसने विश्व रचियता भगवान विश्वकर्मा जी द्वारा बनाया स्वर्ग से भी सुदंर सुतल लोक को प्राप्त कर भगवान का प्यारा हुआ। उन्होंने बताया कि यह कथा संदेश देती जब एक दैत्य भगवान को सब कुछ अर्पित कर सकता है तो क्या हम मानव होकर भगवान को सम्पर्ण नहीं कर सकते।

इस अवसर पर मंदिर के प्रधान रामजी दास ने बताया कि 13 जुलाई  को मंदिर में 10 बजे सुबह भव्य हवन किया जाएगा। तथा पूर्णाहुति के बाद कथा संम्पन्न होगी। जिसके उपरांत विशाल भंडारा किया जाएगा। 

Kids Fashion Show of Glorify Int’l & Rhythm of Dance Academy held 

  • Kids Fashion Show of Glorify Int’l & Rhythm of Dance Academy held 

Chandigarh Correspondent, Demokratic Front, Chandigarh – July 11 :

A Kids Fashion Show was held here at Mahatma Gandhi State Institute of Public Administration, Sector 26, Chandigarh under the aegis of Glorify International and Rhythm Of Dance Academy. 

The winners of the fashion show were announced as follows: (Fashion girls sub-junior) Rayna Arora, Drishti, Roma Singh. (Fashion boys sub-junior) Ishmeet, Paras. (Dance sub-junior) Divjas Kaur, Ramanjot Singh, Sanveer. (Dance junior) Ananya Malik, Ridhima Manchanda, Disha Barman and Yadavi Nanda. (Fashion girls junior) Yadavi Nanda, Kanishka, Jinia Luthra. (Fashion boys junior) Kairav Chopra, Tanmay Thareja, Shivam. 

One of the organizers, Mrs Sanam Gill said, “A cash prize money of Rs 12,000 was distributed amongst the winners. The main attractions of the show were Ramp walk, Dance Masti, Sashe and Medals, Photo shoot and few other things.”

Mrs Vandana Pathak and Mr Dinesh Sardana, co-organisers, said, “The motive behind this programme was to provide a platform for the children to have fun, where they also enjoyed the ramp walk and dance as well.” 

Sonia Manchanda, President (Punjab), Rashtriya Mahila Jagrati Manch, and Riti Bhardwaj, Vice President, announced to give a cash prize of Rs 1100 to the winner boy.

The chief guest of the programme was Suresh Garg, state president of Akhil Bharatiya Aggarwal Sangathan. Face of The Glorify Shelly Taneja, Brand Ambassadors Manpreet Walia and Yelena Walia also graced the occasion. The jury members included Preeti Walia (Super Jury), Suparna Barman, Shalu Gupta, Master Mak, Arun,  VIP Guest Shivani Chawla and Celebrity Guest Preeti Chawla.

The programme was sponsored and supported by Black Securities, SDS Photography, Media Mantraa PR, Monika Creations, Gurudev Creations, The Visa Hub, Ashutosh DK from Raah Production, Palak from Beauty Glitz, Preeti Arora Entertainment, Anchor Vikram, Kritika Goswami, Sethi Dhaba and Exotic Models.

‘मेरी याददाश्‍त चली गई है’, सत्‍येंद्र जैन ने ED के सवालों पर द‍िया ये जवाब

साल 2017 में आय से अधिक संपत्ति रखने के मामले में केंद्रीय जाँच ब्यूरो (CBI) ने मनी लॉन्ड्रिंग के तहत सत्येंद्र जैन के खिलाफ FIR दर्ज की थी। इसी शिकायत के आधार पर प्रवर्तन निदेशालय ने AAP नेता के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किया था। जाँच एजेंसी ने ये आरोप लगाया था कि जैन चार कंपनियों से मिली फंडिंग के स्त्रोत के बारे में नहीं बता सके थे, जबकि वो उसमें शेयर होल्डर थे। इन कंपनियों ने कथित तौर पर 2010 से 2014 तक 16.39 करोड़ रुपए की मनी लॉन्ड्रिंग की थी।

  • धन शोधन मामले में मंत्री सत्येंद्र जैन और करीबियों पर मामला दर्ज
  • ईडी ने छानबीन के दौरान कैश और सोना बरामद किया था
  • ईडी के सामने बोले जैन, कोरोना के कारण मेरी याददाश्त ही चली गई

नयी दिल्ली(ब्यूरो) डेमोक्रेटिक फ्रंट, नयी दिल्ली :

दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन की जमानत याचिका पर अपना आदेश मंगलवार को सुरक्षित रख लिया। जैन को मनी लॉड्रिंग के एक मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने गिरफ्तार किया है। विशेष न्यायाधीश गीतांजलि गोयल ने ईडी के साथ ही जैन की दलीलों को सुनने के बाद अपना आदेश सुरक्षित रख लिया है। एजेंसी ने धन शोधन रोकथाम कानून की आपराधिक धाराओं के तहत जैन को हिरासत में लिया था, वह अभी न्यायिक हिरासत में हैं।

सुनवाई के दौरान ईडी ने बताया कि एक सवाल पूछे जाने के दौरान सत्येन्द्र जैन ने कहा कि उन्हें कोरोना हुआ था और इसके कारण उनकी याददाश्त चली गई। हवाला से जुड़े कुछ कागजातों के सम्बन्ध में सत्येन्द्र जैन से ईडी सवाल कर रही थी। ईडी ने बताया कि सत्येंद्र जैन से कुछ कागजात के बारे में सवाल किए गए थे। जैसे हवाला से पैसा पाने वाले ट्रस्ट से सत्येंद्र जैन का क्या कनेक्शन है, वे उसके मेंबर क्यों हैं?

कोर्ट में सत्येंद्र जैन के वकील हरिहरन पेश हुए थे। उन्होंने उन पॉइंट्स के बारे में अपनी दलीलें पेश की हैं, जिन बिंदुओं की वजह से जमानत न मिलने का डर है। वकील ने कहा कि जैन के देश छोड़ने का डर, सबूतों को नष्ट करने और गवाहों को धमकाने की बात कही जा रही है, लेकिन मामले की जांच के दौरान सत्येंद्र जैन विदेश गए थे और वापस भी आए थे।

कोर्ट से वकील ने कहा कि इस मामले की जांच 2018 से चल रही है और आज तक किसी भी गवाह को किसी तरह से नुकसान नहीं पहुंचाया गया है और न ही धमकाया गया है। यहां तक की जांच कर रही एजेंसियों ने सभी गवाहों के बयान पहले ही रिकॉर्ड कर चुकी हैं।

सबूत नष्ट करने वाले पॉइंट पर वकील ने कहा कि सभी सबूत डॉक्यूमेंट में हैं और सभी एजेंसी के पास हैं, जिनसे छेड़छाड़ बिल्कुल नहीं की जा सकती है।

दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने आम आदमी पार्टी (आआपा) के नेता सत्येंद्र कुमार जैन को सोमवार (13 जून, 2022) को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। प्रवर्तन निदेशालय ने जैन को 30 मई की रात को गिरफ्तार किया था। उन पर मनी लॉन्ड्रिंग (Money Laundering Case) का आरोप है। 

उल्लेखनीय है कि 6 जून को प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने ‘आम आदमी पार्टी’ नेता के घर सहित उनके 7 ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापेमारी की थी। इस दौरान ईडी ने 2.82 करोड़ रुपए की अघोषित नकदी व 1.80 किग्रा सोना बरामद किया था। इसके बाद ईडी ने 9 जून को मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में जैन को दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट में पेश किया था। ईडी ने दावा किया था कि केजरीवाल के मंत्री सत्येंद्र जैन ने पत्नी और बेटियों के नाम पर 16 करोड़ की धोखाधड़ी की है।

गौरतलब है कि साल 2017 में आय से अधिक संपत्ति रखने के मामले में केंद्रीय जाँच ब्यूरो (CBI) ने मनी लॉन्ड्रिंग के तहत सत्येंद्र जैन के खिलाफ FIR दर्ज की थी। इसी शिकायत के आधार पर प्रवर्तन निदेशालय ने आम आदमी पार्टी (आआपा) नेता के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किया था। जाँच एजेंसी ने ये आरोप लगाया था कि जैन चार कंपनियों से मिली फंडिंग के स्त्रोत के बारे में नहीं बता सके थे, जबकि वो उसमें शेयर होल्डर थे। इन कंपनियों ने कथित तौर पर 2010 से 2014 तक 16.39 करोड़ रुपए की मनी लॉन्ड्रिंग की थी।

वेरका समेत 4 पूर्व कांग्रेसी मंत्री और मोहाली के मेयर भाजपा में शामिल

राजा का दावा है कि सुनील जाखड़ राज्यसभा का टिकट हासिल करना चाहते हैं। अमरिंदर सिंह ने कहा, ”इस साल हुए विधानसभा चुनाव ने बहुत कुछ बदल दिया है। कितने बड़े नेता हार गए हैं। कोई फर्क नहीं पड़ता है कि आपने कितनी बार चुनाव जीता है। जो नेता काम करते हैं सिर्फ वही अपनी पकड़ जनता के बीच बनाए रखने में कामयाब रहे हैं।” अमरिंदर सिंह राजा ने आगे कहा, ”सुनील जाखड़ पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रहे हैं। उनको कैंपेन कमेटी का चीफ बनाया गया. टिकट बंटवारे में वो स्क्रीनिंग कमेटी के मेंबर रहे। लेकिन उन्होंने इसलिए कांग्रेस छोड़कर बीजेपी ज्वाइन की क्योंकि उन्हें सीएम नहीं बनाया गया।” राजा वडिंग ने कहा,” काँग्रेस के कुछ सीनियर नेताओं ने ताकत और मंत्रिपद का लुत्फ उठाया। वह भाजपा में शामिल हो रहे हैं। वह अमित शाह से मिलने जा रहजे हजाइओन। वह चाहते हैं की पंजाब में पैदा हुए हालात से ध्यान हटा कर इस तरफ लगा दिया जाए। जो जाना चाहते हैं, कह चले जाएँ, लेकिन डोला पैन न करें। वह मूसे वाला से ध्यान हटा कर फोकस अपनी ओर करना चाहते हैं।“

कोरल ‘पुरनूर’, डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़ :  

पंजाब कांग्रेस की हालत गुजरात कांग्रेस की तरह हो चली है, जहां बीते पांच साल में एक दर्जन से ज्यादा विधायकों सहित पार्टी के कार्यवाहक अध्यक्ष भी कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो चुके हैं। बीते शुक्रवार को कहा जा रहा था कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री राजकुमार वेरका भाजपा में शामिल होने जा रहे हैं, लेकिन उनका जाना तो तय ही है, साथ में कई बड़े नेताओं के भी शामिल होने की संभावना है। कहा जा रहा है कि कांग्रेस के जो नेता अब भाजपा में शामिल हो सकते हैं, उनमें बलबीर सिद्धू, गुरप्रीत कांगड़ और श्याम सुंदर अरोड़ा भी शामिल हैं। इन नेताओं की हाल ही में भाजपा में शामिल हुए पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ के साथ एक अहम बैठक हुई है।

चंडीगढ़ में भाजपा के कार्यक्रम में मौजूद पूर्व मंत्री राजकुमार वेरका, गुरप्रीत कांगड़, बलबीर सिद्धू, शाम सुंदर अरोड़ा।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के चंडीगढ़ दौरे ने पंजाब कांग्रेस में खलबली मचा दी है। पंजाब के 4 पूर्व कांग्रेसी मंत्री भाजपा में शामिल हो गए हैं। इनमें राजकुमार वेरका, शाम सुंदर अरोड़ा, गुरप्रीत कांगड़ और बलबीर सिद्धू शामिल हैं। इनके अलावा महिंदर कौर जोश और केवल ढिल्लो ने भी भाजपा जॉइन कर ली है। मोहाली से नगर निगम के मेयर अमरजीत सिंह ने भी भाजपा जॉइन कर ली है। बठिंडा से अकाली दल नेता रहे सरूप चंद सिंगला ने भी भाजपा जॉइन कर ली है। जल्द ही केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह इन्हें भाजपा की प्राथमिक सदस्यता दिलाएंगे।

पहले यह भी अटकलें लगाई जा रही थी कि पूर्व डिप्टी सीएम ओपी सोनी भी भाजपा में शामिल हो सकते हैं, लेकिन उन्होंने इस बात को नकार दिया है, जबकि पूर्व मंत्री राजकुमार वेरका ने भाजपा में जाने से पहले अपने ट्विटर अकाउंट से कांग्रेस वाला अपना प्रोफाइल हटा दिया है। इसलिए उनका भाजपा में शामिल होना सुनिश्चित हो चुका है। इसके अलावा कांग्रेस नेता केवल सिंह ढिल्लों ने भी भाजपा में जाने के लिए कमर कस ली है।

पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के करीबी रहे राजकुमार वेरका लंबे समय से अपने स्तर पर कांग्रेस पार्टी के लिए बयान जारी कर रहे थे। बीते 27 मई को उन्होंने कांग्रेस हाईकमान पर हमला बोला था। उन्होंने कांग्रेस हाईकान को मूक दर्शक और तमाशबीन बताया था।

वेरका का यह बयान तब आया था जब पूर्व डिप्टी मुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने मुख्यमंत्री भगवंत मान से अपील की थी कि उन्हें कैप्टन से पूछताछ कर कांग्रेस के कार्यकाल के दौरान रेत-बजरी की काम करने वाले कांग्रेसी नेताओं की लिस्ट हासिल करनी चाहिए और उस पर कार्रवाई करनी चाहिए।

इस पर कैप्टन ने कहा था कि मुख्यमंत्री भगवंत मान अगर उनसे लिस्ट मांगेगे तो वह उन्हें मुहैया करवा देंगे। रंधावा के इस बयान से कांग्रेस पार्टी में खासी खलबली मच गई थी। कई नेताओं की जान सांसत में आ गई थी कि अगर कहीं कैप्टन ने मुख्यमंत्री को लिस्ट दे दी तो उनकी परेशानी बढ़ जाएगी।

इसी प्रतिक्रम में राजकुमार वेरका द्वारा हाईकमान को मूकदर्शक और तमाशबीन बताए जाने के बाद से ही यह संकेत मिलने लगे थे कि वह भी कांग्रेस पार्टी को अलविदा कह सकते हैं। हालांकि वेरका ने कांग्रेस पार्टी छोड़ने की अभी पुष्टि नहीं की है, लेकिन उनके करीबी सूत्र बताते हैं कि वह एक दो दिनों में ही भाजपा ज्वाइन कर सकते है।

वेरका अगर भाजपा ज्वाइन करते हैं तो वह कांग्रेस पांचवें बड़े नेता होंगे, क्योंकि इससे पहले सुनील जाखड़, राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी, फतेह जंग बाजवा, मोगा से डा. हरजोत कांग्रेस को छोड़कर भाजपा ज्वाइन कर चुके हैं। वहीं, ओपी सोनी को लेकर जिस प्रकार से चर्चा गर्म है। उसे देखते हुए लगता है कि आने वाले दिनों में ओपी सोनी भी कांग्रेस को झटका दे सकते हैं।

अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग

इसकी भनक मिलते ही पंजाब कांग्रेस के प्रधान अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग ने कहा कि कांग्रेस के कुछ सीनियर नेताओं ने ताकत और मंत्री पद का लुत्फ उठाया। वह भाजपा जॉइन कर रहे हैं। वह अमित शाह से मिलने जा रहे हैं। वह चाहते हैं कि पंजाब में पैदा हुए हालात से ध्यान हटाकर इस तरफ लगा दिया जाए। जो जाना चाहता है, वह चला जाए। वह मूसेवाला से ध्यान हटाकर फोकस खुद पर करना चाहते हैं।

भाजपा के महासचिव तरूण चुघ ने कहा कि यह तो सिर्फ ट्रेलर है। असली पिक्चर अभी बाकी है। उन्होंने इशारा किया कि कांग्रेस के कई और दिग्गज भाजपा में शामिल होंगे। चुघ ने कहा कि कांग्रेस से लोगों का विश्वास उठ चुका है। आम आदमी पार्टी का काम भी लोग देख रहे हैं। इसलिए पंजाब के भले के लिए लोगों की आस अब भाजपा पर टिकी है। भाजपा उनकी उम्मीदों पर जरूर खरा उतरेगी।

रक्त दाताओं को रक्तदान कर सामाजिक भलाई के लिए बधाई: पार्थ गुप्ता

कोशिक खान, डेमोक्रेटिक फ्रंट, छछरौली, यमुनानगर :


राजकीय महाविद्यालय छछरौली की एनएसएस यूनिट द्वारा व शिव कांवड़ संघ चैरिटेबल ट्रस्ट पूरे महाविद्यालय परिवार के सहयोग से एक स्वैच्छिक रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया । यह रक्तदान शिविर महाविद्यालय की प्राचार्या बलजीत कौर की अध्यक्षता में संपन्न हुआ । रक्तदान शिविर का उदघाटन माननीय जिला उपायुक्त  यमुनानगर पार्थ गुप्ता के कर कमलों द्वारा किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ महाविद्यालय की प्राचार्य बलजीत कौर ने मुख्य अतिथि को पुष्प गुच्छ भेंट करके किया । उन्होंने मुख्य अतिथि का स्वागत करते हुए महाविद्यालय में उनके आगमन पर उनका धन्यवाद किया तथा सभी अतिथिगणों एवं विद्यार्थियों को रक्तदान करने के लिए तथा सेवाएं देने के लिए भी धन्यवाद किया ।

मुख्य अतिथि जिला उपायुक्त पार्थ गुप्ता ने अपने संबोधन में सभी रक्तदाताओं को सामाजिक भलाई के इस पुनित कार्य में सहयोग करने के लिए बधाई दी और कहा कि रक्तदान एक महादान है। उन्होंने अपने संबोधन में विधार्थियों को सड़क सुरक्षा नियमों का पालन करने का भी आग्रह किया । मुख्य अतिथि के भाषण के उपरांत महाविद्यालय की प्राचार्या , शिविर के समन्वयक डॉ संजीव कुमार , संयोजक प्रो. राजवीर, सह-संयोजक डॉ रूचिका वधवा, शिविर सलाहकार प्रो. अशोक बंसल ने एक स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया ।

कार्यक्रम के मुख्य संयोजक एनएसएस यूनिट के कार्यक्रम अधिकारी प्रो. राजवीर ने महाविद्यालय की रक्तदान संबंधित रिपोर्ट प्रस्तुत की और बताया कि यहां से प्रेरित होकर विधार्थी अपने गांव में भी रक्तदान शिविर आयोजित करवाते हैं । शिविर के समन्वयक डॉ संजीव कुमार ने मुख्य अतिथि और अन्य गणमान्य व्यक्तियों का महाविद्यालय परिवार की ओर से धन्यवाद करते हुए सभी का आभार व्यक्त किया ।

राजकीय महाविद्यालय अहडवाला, बिलासपुर से प्राचार्य डॉ सुनील तनेजा, डॉ रमेश धारीवाल, प्रो.मोहेन्द्र, प्रो. अमित कुमार, अनिल गोयल, प्रो. अजय रत्न, आईटीआई के प्राचार्य डॉ शिव दयाल, भाजपा नेता व समाजसेवी गुलशन अरोड़ा, कपिल मनीष गर्ग , जिला रेड क्रास सोसायटी यमुनानगर से रंगा व शिवपाल आदि उपस्थित रहे ।

प्रो. अशोक बंसल व डॉ रूचिका वधवा ने मंच के‌ सूत्रधार की भूमिका का सफलतापूर्वक निर्वहन किया। इस रक्तदान शिविर में पीजीआई चंडीगढ़ की टीम द्वारा शिव कांवड़ महासंघ चैरिटेबल ट्रस्ट, पंचकूला के सहयोग से 140 यूनिट रक्त एकत्रित किया गया । यह चैरिटेबल ट्रस्ट अपनी सेवाओं के लिए बुक आफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी अंकित है ।

इस अवसर पर उपायुक्त यमुनानगर के दिशा निर्देशानुसार राजकीय महाविद्यालय छछरौली द्वारा ऐतिहासिक एवं धार्मिक स्थलों पर तैयार की गई डाक्यूमेंट्री का भी उद्घाटन किया । प्रो. रजनी गोयल व प्रवीन कुमार ने पीजीआई चंडीगढ़ के डॉक्टर की टीम के साथ समन्वय स्थापित कर कार्यक्रम को सफल बनाने में सहयोग दिया । इस अवसर पर  महाविद्यालय के सभी स्टाफ सदस्यों का विशेष योगदान रहा ।