UIFT & VD, PANJAB UNIVERSITY organizes Webinar

Chandigarh April 22, 2021

University Institute of Fashion Technology & Vocational Development, (UIFT & VD), Panjab University, Chandigarh, organized a webinar titled “Sewing Threads: Technicalities in Selection and Usage on Fashion Products” ,today.

Mr Uday Narayan Bammanwadi, Technical Service Manager with M/s. Guetermann India Private Limited, Gurgaon in his address, talked about the sewing threads – how these are manufactured, what are the types of sewing threads used in the apparel and textile industry and technicalities related to sewing and sewing threads. He differentiated between the spun and core spun sewing threads and elaborated Micro Core Technology (MCT) in thread manufacturing. There are various types of raw material or fibers used in manufacturing of yarn. He also illustrated how PET bottles are recycled to prepare sewing yarn contributing towards sustainable practices.

Puckering is a very common problem encountered during stitching operations on the production floor. He discussed various kinds of Puckering and technical reasons for the problem and showed samples of how correct selection of needle and yarn can lead to no pucker situation. Adjusting feed dog for pucker free situation was also demonstrated. 

Ticket number or yarn thickness and its selection for different fabrics were discussed at length. While stitching, a needle thread is continuously under pressure and has friction with the needle hole and the fabric. Needle temperature is also raised while high speed sewing and lubrication of sewing thread protect it from these extreme temperatures. Lubrication of thread can be during the dyeing stage or it can be done once the thread is manufactured. Mr Uday stressed that dyebath lubrication is better and lend the yarn with such qualities that thread remains intact and can withstand so many pressures and abrasions. 

Earlier, Anu H. Gupta, Chairperson of UIFT & VD welcomed and introduced the key speaker who has more than 26 years of technical experience in the field of Apparel and sewing technology. She said that

correct choice of sewing thread is very important as the selection of needle and thread can immensely reduce the rejects in a garment factory . 

Around 100 participants including Research scholars, students of Fashion Technology and faculty members from various colleges within and outside the city attended the webinar. 

The speaker answered queries of lot of students like sewing on stretchable fabrics, how GSM of fabric is related to the selection of sewing thread, the needle and machine etc.  Overall, the webinar was very interesting and informative for the researchers and students who will be joining industry in future. 

PUAA plants Trees on World Earth Day

Chandigarh April 22, 2021



Panjab University Alumni Association organized a plantation drive at PU alumni house to celebrate World Earth Day ,here today.


Prof. Jagat Bhushan, Controller of Examinations planted trees in the presence of Prof Anupama Sharma, Dean Alumni Relations, Ms. Renuka Salwan, Director Public Relations, Mr. Amandeep Singla, AE Horticulture along with staff of PU alumni association.


Dr. Jagat Bhushan said that tree plantation is very important step for the community, especially in the testing times of COVID19 and this initiative will go a long way in inculcating awareness about environment amongst students, faculty and staff.

Over 150 saplings of Neem and Gulmohar trees and Sangunya, schefflera, fern and euphorbia plants were planted in the entire premises of alumni house. 


Everyone took a pledge to take care of the plants and to make the environs beautiful and green. 

High Level Committee Meeting held online by PU

Chandigarh April 19, 2021

The meeting of  high level committee of experts headed by Prof. R.P.Tiwari, Vice Chancellor, Central University of Punjab, Bathinda was held today at Panjab University in online mode with all the members present .

The 11-member committee discussed in detail the sub committee recommendations which were mainly related to composition of Senate, Syndicate, Faculties and appointment of Deans. The nominees of Govt of Punjab sought one week time to seek the views of the Govt of Punjab., which will be incorporated in the final report.

7th Soft Skills Development Programme by PU

Chandigarh April 5, 2021

            Panjab University, Chandigarh, in collaboration with Heartful Campus of Heartfulness  Institute, Hyderabad initiated its 7th International online Self Development  Programme (SDP) on 9th January 2021 which is  offering a unique opportunity to participants for  shaping their personalities as it  focuses on character formation and inculcation of core values to strengthen Inner-Self. The programme is uniquely designed by integrating the knowledge of the ancient Indian philosophical wisdom of Yoga with Heart centric approach of meditation.

            In the series of online session, the 18th session was held on 4th April,  on Soft Skills Development by using the approach of Self Exploration by guest speaker Ms. Rikita Swaroop, Master Trainer for MEPSC –National skills Development Corporation India from Ranchi, Jharkhand. She used Mentimeter to reach out to participants while making them think by asking probing existential questions for which they were forced to peep within to find answers. This was followed by anecdotes and sharing of lived experiences. The dilemmas which we face in our day to day living were highlighted beautifully by her. Values need to be discussed through jurisprudence and clarification approach was the message she gave to teachers. Teachers themselves have to practice those virtues about which they talk about in their class room.

            Earlier, the session began with yogic technique of body relaxation  followed by discussions on how a simple meditation practice can not only relieve the heaviness of the mind but takes on to create a new version of yourself, full of unlimited potential and excellence. 

            The programme was coordinated By Prof. Latika Sharma and Prof O. P.  Katare. The event witnessed an audience of over 100 enthusiastic participants including faculty and students from across the country.

            The talk concluded by reminiscing the beauty of the spring flower which begins again, the day you begin is a journey in its own. Overall, the session had a magical effect opening a new dimension and perspective in order to transform the personality.

            During the various sessions eminent experts from various fields deliberated on various themes including emotional strength, will power development, intuitional intelligence, stress moderation, time management and holistic health by sharing their valuable knowledge and experience with participants. 

            Ms. Rikita Swaroop is a Master Trainer for MEPSC –National skills Development Corporation India; Trainer for Soft Skills & Business Communication, Facilitator for Brighter Minds and Career Development. She has been consulting, delivering and facilitating trainings in Corporate, Government and Education sector for last 20 years both independent as well in association with 45 organizations. In addition she is an active member and trainer for heartfulness Meditation. Sister is presently presiding as Joint Secretary IYA- Jharkhand Chapter and is state Coordinator for heartfulness campus.           

UBS Alumni Takes Charge of ONGC

Chandigarh April 1, 2021

University Business School, Panjab University, Chandigarh is proud of Mr. Subhash Kumar, who completed the Master of Commerce programme of Panjab University with distinction in 1983, for having assumed the additional charge of the Chairman and Managing Director of Oil and Natural Gas Corporation(ONGC) today, shared Prof. V.R. Sinha, Dean of University Instructions, PU and Chairman, UBS. He also expressed that it is a moment of pride for PU also.

Mr. Kumar is Director (Finance) of ONGC, one of the Global 500 companies, since January 2018. Previously, he had a brief stint as Director (Finance) at Petronet LNG Ltd, a role he took up in August 2017.

Mr Kumar joined ONGC in 1985 as Finance & Accounts Officer (F&AO). After initially working in Jammu and Dehradun, he had a long stint at ONGC Videsh, the overseas arm of ONGC. During his tenure with ONGC Videsh, Mr Kumar was associated with key acquisitions and expansion of company’s footprint from single asset company in 2001 into a company with global presence in 17 countries with 37 assets. He played a key role in evaluation and acquisition of many Assets abroad by ONGC Videsh.

He worked as Head Business Development, Finance & Budget and also as Head Treasury Planning & Portfolio Management Group at ONGC Videsh from April 2010 to March 2015. He then went on to serve as Chief Financial Officer of Mansarovar Energy Colombia Limited, a 50:50 joint venture of ONGC Videsh and Sinopec of China, from September 2006 to March 2010.

Mr Kumar joined back ONGC as Chief Commercial & Head Treasury of ONGC in July, 2016 where he played a key role in evaluation, negotiation, and concluding outstanding issues pertaining to the organization.

पंचकुला की परनीत कौर, GATE 2021 में 316 रैंक हासिल कर ट्राइसिटी में आयीं अव्वल

हाल ही में आयोजित GATE 2021 में, UIET पंजाब यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करने वाली पंचकुला की परनीत कौर ने भारत में 316 वीं रैंक हासिल कर इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में ट्राइसिटी में पहला स्थान हासिल किया।

परनीत कौर बधाई की पात्र हैं।

बाबर कोआक्रांता बताने पर भड़के ओवैसी और वामपंथी

दिल्ली यूनिवर्सिटी में नए सिलेबस के ड्राफ्ट में 20 से 30 फीसदी तक बदलाव किया गया है। इतिहास (ऑनर्स) के पहले पेपर ‘Idea of Bharat’ पढ़ाया जाएगा। ड्राफ्ट सिलेबस के तीसरे पेपर में सरस्वती-सिंधु सभ्यता को पढ़ाया जाएगा। वेदों में सरस्वती नदी का विस्तार से उल्लेख मिलता है। ‘भारत की सांस्कृतिक विरासत’ नाम से 12वां पेपर है। रामायण और महाभारत जैसे सांस्कृतिक विरासत का विषय शामिल हुआ। इस्लामिक शासकों के आगे आक्रमणकारी शब्द जोड़ने पर विवाद है। नए पाठ्यक्रम में आक्रमण शब्द का इस्तेमाल मुस्लिम शासकों जैसे बाबर के संबंध में किया गया है। भारत की सांस्कृतिक विरासत पढ़ किसकी बौखलाहट बढ़ी?

सरीका तिवारी, नयी दिल्ली/चंडीगढ़:

गुरु नानकदेव जी ने बाबर के आक्रमण और लोगों की दुर्दशा के समय भारत की तबाही का आँखों देखा उल्लेख किया और युद्ध की स्थिति का वर्णन किया:

ਖੁਰਾਸਾਨ ਖਸਮਾਨਾ ਕੀਆ ਹਿੰਦੁਸਤਾਨੁ ਡਰਾਇਆ।। (ਪੰਨਾ ੩੬੦) खुरासान खस्माना कीआ हिंदुस्तान डराइया। (पृष्ठ 360)

अर्थ: खुरासान के क्षेत्र को किसी को सौंपकर(हारकर), बाबर ने भारत पर हमला किया और उसे डराया।

ਪਾਪ ਕੀ ਜੰਞ ਲੈ ਕਾਬਲਹੁ ਧਾਇਆ ਜੋਰੀ ਮੰਗੈ ਦਾਨੁ ਵੇ ਲਾਲੋ।। ( पाप की जंज लै कबूलों धाया जोरी मांगे दान वे लालो।।)

ਸਰਮੁ ਧਰਮੁ ਦੁਇ ਛਪਿ ਖਲੋਏ ਕੂੜੁ ਫਿਰੈ ਪਰਧਾਨੁ ਵੇ ਲਾਲੋ।। (शर्म धर्म दुई छपी खलोए कूड़ू फिरे परधान वे लालो॥)

ਕਾਜੀਆ ਬਾਮਣਾ ਕੀ ਗਲ ਥਕੀ ਅਗਦੁ ਪੜੈ ਸੈਤਾਨੁ ਵੇ ਲਾਲੋ।। (ਪੰਨਾ ੭੨੨) (काजिया ब्राह्मणा की गल थकी अगदु पढ़े शैतान वे लालो॥)

अर्थात हे लालों, बाबर पाप की बारात ले कर काबुल से मार आत मचाता हुआ आया है और धिंगाजोरी से भारत को दहेज के रूप में मांग रहा है। शर्म और धर्म दोनों ही अलोप हो चुके हैं, अब झूठ की प्रधनगी है। क़ज़ियों और ब्राह्मणों के काम धंधे सब चौपट हो चुके हैं अब विवाह जैसी पवित्र रसम भी शैतान ही करवा रहा है।

गुरु जी के शब्दों में बाबर एक आक्रांता है बाबर की दरिंदगी का वर्णन गुरु जी ने अपनी कोमल वाणी में अत्यंत दुखी हो कर किया है। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) एक सांविधिक इकाई है, जो विश्वविद्यालयों में उच्च शिक्षा से संबंधित सभी प्रकार के कार्यकलापों की एक जिम्मेदार संस्था है। यूजीसी ने हाल ही में बीए इतिहास के पाठ्यक्रम का एक ड्राफ्ट प्रकाशित किया, जो भारतीय इतिहास के सभी पहलुओं पर प्रकाश डालता है। यूजीसी के इसी प्रयास के कारण कई बुद्धिजीवी और नेता व्यथित हैं, जिनमें असदुद्दीन ओवैसी प्रमुख रूप से सम्मिलित हैं।

दि आइडिया ऑफ भारत

बीए इतिहास का पहला पेपर “आइडिया ऑफ भारत” पर आधारित है। यह भारतवर्ष की अवधारणा, भारतीय ज्ञान परंपरा, कला एवं साहित्य, धर्म, विज्ञान, जैन एवं बौद्ध साहित्य, भारतीय आर्थिक परंपरा एवं ऐसे ही अन्य टॉपिक्स को कवर करता है। इनमें वेद, उपनिषद, महान ग्रंथ, जैन एवं बौद्ध साहित्य, वसुधैव कुटुंबकम की अवधारणा, भारतीय अंक पद्धति एवं गणित, समुद्री व्यापार इत्यादि सम्मिलित है। 

ड्राफ्ट में बताया गया है कि इस पाठ्यक्रम के माध्यम से छात्र प्राचीन भारत के नागरिकों के प्रारम्भिक जीवन और संस्कृति से परिचित होंगे एवं उस समाज की व्यवस्था, धर्म पद्धति एवं राजनैतिक इतिहास को जान सकेंगे। इस पाठ्यक्रम का एक उद्देश्य यह भी है कि छात्र भारत में लगातार हुए सामाजिक एवं सांस्कृतिक परिवर्तनों का भी अध्ययन कर सकें।

सिंधु-सरस्वती सभ्यता की व्याख्या

इस स्नातक कोर्स का तीसरा पेपर प्राचीन भारत के इतिहास लेखन एवं ऐतिहासिक स्रोतों की व्याख्या से संबंधित है। इसमें वैदिक काल, जैन और बौद्ध धर्म के उदय से संबंधित कई विषय हैं। इस खंड की सबसे महत्वपूर्ण बात है कि इसमें सिंधु-सरस्वती सभ्यता के अस्तित्व से संबंधित सभी पहलुओं की व्याख्या की गई है। साथ ही हिंदुओं में भेद उत्पन्न करने के लिए प्रचलित की गई आर्य आक्रमण की थ्योरी को भी नकारा गया है।

आक्रांता अब आक्रांता ही कहा जाएगा

अभी तक स्नातक कार्यक्रमों की इतिहास की पुस्तकों में बाबर और तैमूरलंग जैसे आक्रमणकारियों के लिए आक्रांता अथवा आक्रमणकारी जैसे शब्द नहीं लिखे जाते थे किन्तु UGC ने इस ड्राफ्ट में इसे स्वीकार किया है।

बुद्धिजीवियों और नेताओं का विरोध

हालाँकि जब भी इतिहास में किसी भी प्रकार के सुधार की बात आती है तो कुछ राजनैतिक नेताओं और स्वघोषित बुद्धिजीवियों को यह सुधार आरएसएस का षड्यंत्र ही दिखाई देता है। वामपंथी पोर्टल टेलीग्राफ ने कुछ शिक्षकों और विद्यार्थियों का वक्तव्य छापा है कि वैदिक और हिन्दू धार्मिक ग्रंथों का उपयोग करके शिक्षा का भगवाकरण किया जा रहा है। इन “शिक्षकों और विद्यार्थियों” ने यह भी चिंता व्यक्त की है कि “आइडिया ऑफ भारत” पर आधारित ने पाठ्यक्रम से “मुस्लिम शासनकाल की महत्ता” समाप्त हो जाएगी। 

टेलीग्राफ ने दिल्ली विश्वविद्यालय के सेंट स्टीफंस कॉलेज के एक अनजान विद्यार्थी का कथन छापा कि वह “आइडिया ऑफ भारत” के माध्यम से प्राचीन भारतीय सभ्यता के महिमामंडन से व्यथित है। दिल्ली विश्वविद्यालय के ही श्यामलाल कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफेसर जीतेंद्र मीणा जी भी व्यथित हैं कि नया पाठ्यक्रम सेक्युलर साहित्य के स्थान पर धार्मिक साहित्य का महिमामंडन करता है एवं मुगल इतिहास को दरकिनार कर देता है।

ऐसे मुद्दों पर ओवैसी कुछ न कहें, यह असंभव है। उन्होंने सीधे भाजपा पर यह आरोप लगा दिया कि भाजपा अपनी हिन्दुत्व की विचारधारा को पाठ्यक्रम में सम्मिलित करने का कार्य कर रही है। ओवैसी ने एक ट्वीट में कहा कि शिक्षा प्रोपेगंडा नहीं है। भाजपा हिन्दुत्व की विचारधारा को पाठ्यपुस्तकों में शामिल कर रही है। माईथोलॉजी को स्नातक कार्यक्रमों में नहीं पढ़ाना चाहिए। ओवैसी ने ड्राफ्ट पर प्रश्न उठाते हुए कहा कि पाठ्यक्रम मुस्लिम इतिहास को मलीन कर रहा है।

First meeting of Bazm-E-Adab at Dept. of Urdu, PU

Chandigarh March 26, 2021

            Bazm-E-Adab,  Literature forum of the Department of Urdu, Panjab University, Chandigarh organized its first meeting today. Dr. Ali Abbas, Coordinator of the Department described Psychology as an integral part of society and Literature.

            He added that psychology was the major factor behind the evolution of human culture. “Being the heart, mind and soul of the society and its literature, it always provided food for the thought for the betterment of human society as a whole, he added.

             Prof. Rehana Parveen (Retd.) in her presidential address, said that the contribution of psychology to society and literature was second to none.it has motivated us all towards aesthetic sense and discipline.

            Earlier, a research scholar of Urdu department Ripudaman Savrup Sharma highlighted the psychological aspect of Qissa Puran Bhagat by Qadiryar, a famous Punjabi poet.

            Bazm-E-Adab meets every fortnightly where students can present their creative writing and exchange their views and experience.

Prof. Prashant Kumar Gautam gets Charge of Director, Sports, PU

Chandigarh March 26, 2021

            Prof. Prashant Kumar Gautam, University Institute of Hotel and Tourism Management, Panjab University, Chandigarh, has been given additional charge of Director, Physical Education with immediate effect till further orders.

            Prof. Gautam is presently serving as Dean (Nominated), Faculty of Hospitality, Tourism and Travel Mgt, IK Punjab Technical University (2021-23)         

            Earlier, Prof. Gautam served as Director at Institute of Hotel and Tourism Management (UIHTM), Panjab University w.e.f. 19 August 2015 till 30.04.2019.

            In addition, he is holding prominent positions in various bodies of Tourism and Hospitality.

श्रीमद्भागवद्गीता : जीवन जीने की कला – प्रो. राजकुमार, कुलपति,

  • सप्त दिवसीय (आनलाईन) महर्षि विश्वामित्र वेद वेदाङ्ग कार्यशाला तथा राष्ट्रीय संगोष्ठी का शुभारम्भ विश्वेश्वरानंद विश्वबन्धु संस्कृत एवं भारत भारती अनुशीलन संस्थान, पंजाब विश्वविद्यालय साधु आश्रम में हुआ
  • श्रीमद्भागवद्गीता : जीवन जीने की कला – प्रो. राजकुमार, कुलपति, पंजाब विश्वविद्यालय

दिनांक 25.3.2021:

विश्वेश्वरानंद विश्वबन्धु संस्कृत एवं भारत भारती अनुशीलन संस्थान, साधु आश्रम में सप्त दिवसीय महर्षि विश्वामित्र वेद वेदाङ्ग कार्यशाला तथा राष्ट्रीय संगोष्ठी के उद्घाटनोत्सव के मुख्यातिथि प्रो. श्रेयांश द्विवेदी, कुलपति, महर्षि वाल्मीकि संस्कृत विश्वविद्यालय, कैथल, हरियाणा, विशिष्ट अतिथि प्रो. कृष्णकान्त शर्मा, पूर्व डीन, संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय, काशी हिन्दू विश्वविद्यालय, वाराणसी, अध्यक्ष प्रो. राजकुमार, कुलपति, पंजाब विश्वविद्यालय, चण्डीगढ़ थे। कार्यक्रम का शुभारम्भ श्री कृष्णकान्त तिवारी, काशी के द्वारा वैदिक मंगलाचरण के द्वारा किया गया। मंच का संचालन डा. ऋतु बाला ने किया। डा.सुधांशु कुमार षडंगी (विभागाध्यक्ष) ने आनलाइन जुडे़ सभी महानुभावों का स्वागत कर अतिथियों का परिचय दिया। प्रो. नरसिंह चरण पण्डा ने वेद वेदाङ्ग कार्यशाला तथा राष्ट्रीय संगोष्ठी के उद्घाटनोत्सव में विषय प्रवर्तन किया। इस अवसर पर अध्यक्ष प्रो. राजकुमार, कुलपति, पंजाब विश्वविद्यालय, चण्डीगढ़ ने छात्रों को आशीर्वाद हेतु अपने सम्बोधन में कार्यक्रम की प्रंशसा कर संस्कृत की प्रति अपनी अथाह प्रेम भावना को अभिव्यक्त किया तथा विशेष रुप से श्रीमद्भगवद्गीता के विषय में कहा कि यह एक ऐसा ग्रन्थ है जो सबको जीवन में अवश्य पढना चाहिए क्योंकि यह ग्रन्थ विषाद से प्रसाद की ओर, कायरता से शूरवीरता की ओर, निराशा से आशा की ओर, अस्थिरता से स्थिरता की ओर, सन्देह से विश्वास की ओर, दुर्बलता से दृढता की ओर ले जाना वाला है। मुख्यातिथि प्रो. द्विवेदी जी ने इस अवसर पर कहा कि वेद में गूढ़ ज्ञान निहित है। मानव द्वारा ग्राह्य उच्चतम आध्यात्मिक सत्य, नैतिक सिद्धान्तों के बीज इत्यादि बहुश विषय वेद में प्राप्त होते है। आज प्रत्येक छात्र, अध्यापक का यह दायित्व बनता है कि वे वेद ज्ञान का सर्वत्र प्रचार तथा प्रसार करें। विशिष्ट अतिथि प्रो. शर्मा जी ने इस अवसर पर वेदार्थ ज्ञान हेतु वेदचतुष्टय, वेदाङ्ग को समझना अनिवार्य बताया है। कार्यशाला तथा राष्ट्रीय संगोष्ठी के विषय वेदार्थ निर्णय में ऋषि, छन्द एवं देवताओं का वैशिष्ट्य में वर्णित ऋषि, छन्द, देवता तत्वों का सामान्य परिचय दे विषय को सरल बनाने का प्रयास किया। धन्यवादज्ञापन प्रो. कृष्णा सैनी ने किया। कार्यशाला का प्रथम व्याख्यान दोपहर 3.00 बजे प्रारंभ हुआ। इसके व्याख्याता प्रो. विक्रम कुमार, पंजाब विश्वविद्यालय ने सूक्तों में प्रतिपादित देवताओं का स्वरूप पर विस्तृत विवरण प्रदान किया। देवताओं के उत्पत्ति, उनके स्थानादि का निरूपण तथा स्वरूप का विवेचन किया। पूषन्, सविता, सरस्वती, आदित्य आदि वेदाताओं को लौकिक उदाहरण के द्वारा प्रस्तुत किया।  इस अवसर पर प्रो. प्रेमलाल शर्मा, प्रो. रघुबीर सिंह, प्रो. प्रवीण सिंह राणा, आचार्य सांख्यायन, डा. सुबोध कुमार, डा. सुनीता जायसवाल, डा. नरेन्द्र दत्त तिवारी, नवनालंदा विश्वविद्यालय, डा. सुषमा अलंकार, चण्डीगढ., डा दीपलता, हिमाचल यूनिवर्सिटी, प्रो. कृष्णमुरारि शर्मा, डा. टीना वैद, प्रो. सुभाष चन्द्र दास, उत्कल यूनिवर्सिटी, प्रो. रणजीत कुमार, दिल्ली यूनिवर्सिटी, डा. सुमन लता, भावना सोनी, राजेन्द्र मलिक इत्यादि 70 से भी अधिक प्रतिभागिओं ने कार्यक्रम में भाग ले कार्यक्रम की गरिमा को बढाया है।