कोरोना से डरे हरियाणा के मंत्रियों का HRA दोगुना किया गया

हरियाणा के मंत्रियों में 100 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है, राज्य सरकार ने इसे 50,000 रुपये से बढ़ाकर 1 लाख रुपये प्रति माह कर दिया है।

इससे पहले, सरकारी आवास का लाभ नहीं लेने वाले मंत्रियों को प्रति माह 50,000 रुपये के समेकित भत्ते का भुगतान किया जा रहा था। अब, उन्हें बिजली और पानी के शुल्क के रूप में 80,000 रुपये के मासिक एचआरए का भुगतान 20,000 रुपये के रूप में किया जाएगा और कुल भत्ता 1 लाख रुपये होगा।

पिछले साल, मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की अध्यक्षता में हरियाणा मंत्रिमंडल ने हरियाणा मंत्रियों के भत्ते (संशोधन) नियम, 2019 को तैयार करके एचआरए में वृद्धि करने का निर्णय लिया था।

गृह मंत्री अनिल विज राज्य सरकार के HRA बोनान्ज़ा के एकमात्र लाभार्थी के लिए निर्धारित हैं। विज ने चंडीगढ़ में आधिकारिक आवास नहीं लेने और अंबाला छावनी से चंडीगढ़ की यात्रा करने को प्राथमिकता दी है। दूसरी ओर, उनके सभी कैबिनेट सहयोगियों को चंडीगढ़ में आधिकारिक आवास आवंटित किया गया है।

Police Files, Chandigarh

Korel, DATED – 26.03.2020

Theft

A lady resident of Maulijagran, Chandigarh reported that unknown person who stole away 1 LED TV, cash Rs. 28000/-, one pair gold ear ring, mangal sutra, gold ring, silver kada, silver kangan, 1 smart watch, 2 ladies watch from complainant’s residence on 22.03.2020. A case FIR No. 44, U/S 380 IPC has been registered in PS-Maulijagran, Chandigarh. Investigation of case is in progress.

Dowry death

A case FIR No. 50, U/S 304-B, 34 IPC has been registered in PS-34, Chandigarh on the complaint of Satya Bushan Mishra R/o # 351, Sabha Kheda, Primary School, gali No.3, Ekta Nagar, Raibrailly road, Lucknow, U.P., who alleged that Manoj Kumar Mishra, Saket Kumar Mishra and a lady all resident of Sector 44, Chandigarh all they harassed complainant’s daughter for more dowry due to this she committed suicide. All accused arrested in this case. Investigation of case is in progress.

Well Played CHINA……..

COVID 19 Another Conspiracy Theory

China’s hapless soccer team might not have qualified for the World Cup, but when it comes to playing the game of global politics, its leaders have shown considerably more finesse.

  • SCENE 1 : The curtain opens: China becomes ill, enters a “crisis” and paralyzes its trade.  The curtain closes.
  • SCENE II.  The curtain opens: The Chinese currency is devalued.  They do not do anything.  The curtain closes.
  • SCENE III.  The curtain opens:: Due to the lack of trade of companies from Europe and the USA that are based in China, their shares fall 40% of their value.  
  • SCENE IV.  The curtain opens:: The world is ill, China buys 30% of the shares of companies in Europe and the US at a very low price.  The curtain closes.
  • SCENE V. The curtain opens: China has controlled the disease and owns companies in Europe and the US.  And he decides that these companies stay in China and earn $ 20,000Billions.  The curtain closes.  How is the play called?
  • SCENE  VI: Checkmate!

 ReAmazing but true

 Two videos have passed between yesterday and today that convinced me of something I suspected, but had no basis.  It was just my speculation.  Now I am convinced that the corona virus was purposely propagated by the Chinese themselves.

 At first they were too prepared.  Three weeks after the start of the roll, 14 days and a 12,000-bed hospitals were already under construction.  And they really built them in two weeks.  Awesome.

 Yesterday they announced that they had stopped the epidemic.  They appear in videos celebrating, they announce that they even have a vaccine.  How could they create it so quickly without having all the genetic information?  Well if you are the owner of the formula it is not difficult at all.

 And today I just saw a video that explains how Den Xiao Ping gave the west a half stick.  Due to the coronavirus, the actions of Western companies in China fell dramatically.  China I just hope, when they went down enough they bought them.  Now the companies,

 Created by the USA and Europe in China with all the technology put in by these exchanges and their capital they passed into the hands of China, which is now rising with all that technological potential and will be able to set prices at will to sell everything they need to the West.  How are you?

 None of this could have happened by chance.  China who cared that a few old men died?  Fewer old-age pensions to pay, but the loot has been huge.  And right now the West is financially defeated, in crisis and stunned by the disease.  And without knowing what to do.

 Masterfully diabolic.  It had to be the communists. 

Adding to this, they are now the single largest owners of US treasury with 1.18 trillion holding surpassing Japan.

An instrument that has seen the most rally

One ☝ prospective & Analogy….

How come Russia & North Korea are totally free of Covid- 19? Because they are staunch ally of China. Not a single case reported from this 2 countries. On the other hand South Korea / United Kingdom / Italy / Spain and Asia are severely hit. How come Wuhan is suddenly free from the deadly virus? China will say that their drastic  initial  measures they took was very stern and Wuhan was locked down to contain the spread to other areas. Why Beijing was not hit?  Why only Wuhan? Kind of interesting to ponder upon.. right? Well ..Wuhan is open for business now. America and all the above mentioned countries are devastated financially. Soon American economy will collapse as planned by China.

  China knows it CANNOT defeat America militarily as USA is at present THE MOST POWERFUL  country in the world. So use the virus…to cripple the economy and paralyse the nation and its Defense capabilities. I’m sure Nancy Pelosi got a part in this. . to topple Trump. Lately President Trump was always telling of how GREAT American economy was  improving in all fronts. The only way to destroy his vision of making AMERICA GREAT AGAIN is to create an economic havoc. Nancy Pelosi was unable to bring down Trump thru impeachment. ….so work along with China to destroy Trump by releasing a virus. Wuhan’s epidemic was  a showcase. At the peak of  the virus epidemic. ..China’s President Xi Jinxing…just wore a simple RM1 facemask to visit those effected areas.  As President he should be covered from head to toe…..but it was not the case.  He was already injected to resist any harm from the virus….that means a cure was  already in place before the virus was released. Some may ask….Bill Gates already predicted the outbreak in 2015…so the Chinese agenda cannot be true. The answer is. ..YES…Bill Gates did predict. .but that prediction is based on a genuine virus outbreak.  Now China is also telling that the virus was predicted well in advance. ….so that its agenda would play along well to match that  prediction. China’s vision is to control the World economy by buying up stocks now from countries facing the brink of severe  ECONOMIC COLLAPSE.  Later China will announce that  their Medical Researchers  have found a cure to destroy the virus.

  Now China have other countries stocks in their arsenal and these countries will soon be slave to their new master….. CHINA

दिल्ली के आम आदमी मोहल्ला क्लीनिक का डॉक्टर और उसका परिवार कोरोना पोसिटिव, 800 लोग quantrine

तथाकथित स्वास्थ्य सेवाओं की मिसाल कहे जाने वाले दिल्ली के मोहल्ला क्लीनिक अब कोरोना वाइरस फैलने में अहम किरदार निभा रहे हैं। अब एक मोहल्ला क्लीनिक के कारण 800 लोगों को अलग थलग किए जाने की आवश्यकता है। जिस मोहल्ला क्लीनिक की बात की जा रही है वहाँ की एक महिला मरीज से डॉक्टर और उसके परिवार इस संक्रामण का शिकार बने, और अब त 800 लोग उनके संपर्क में आने से प्रभावित बताए जा रहे हैं। स्थिति बेहद चिंताजनक है, अच्न ही यदि 800 लोगों को संभालना पड़ जाये तो????

नई दिल्ली: 

 दिल्ली में 800 लोगों को क्वारनटीन किया गया है. दरअसल आम आदमी मोहल्ला क्लीनिक के एक डॉक्टर कोरोना संक्रमित पाए गए हैं जिसके बाद 800 लोगों को क्वारनटीन के लिए कहा गया है. एक ही जगह से फैलने वाले संक्रामण की यह अब तक की सबसे बड़ी घटना होगी।

डॉक्टर की पत्नी और बेटी भी कोरोना संक्रमित हो चुकी हैं. जानकारी के मुताबिक एक महिला मरीज से डॉक्टर को कोरोना संक्रमण हुआ है जो कि इलाज के लिए क्लीनिक आई थी. यह डॉक्टर मौजपुर के एक मोहल्ला क्लीनिक में बैठते हैं. 

बता दें  देश में अब तक कोरोना के 649 पॉजिटिव मामले सामने आ चुके हैं. आज कश्मीर में एक 65 वर्षीय कोरोना पीड़ित की मौत हो गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय की और से जारी आंकड़ों के मुताबिक कश्मीरी शख्स को मिलाकर अब तक कोरोना से 13 लोगों की मौत हो गई है. राहत की बात ये है कि कोरोना से करीब 42 लोग ठीक होकर घर जा चुके हैं.

कोरोना वायरस: इतिहास याद रखेगा कि कट्टरपंथी मुसलमानों ने नहीं की देश की फ्रिक: पाञ्च्जन्य

जब 21वीं सदी का भारत का इतिहास लिखा जाएगा, तब उसमें यह लिखा जाएगा कि देश के कट्टरपंथी मुसलमानों ने आपदा की घड़ी में 100 करोड़ देशवासियों की चिंता नहीं की। उन्होंने देश के प्रति जिम्मेदारी नहीं निभाई और अपनी ज़िद एवं मूर्खता के कारण निर्दोष बहुसंख्यक आबादी को मौत के मुंह में धकेल दिया। कोरोना वायरस संक्रमण से कर्नाटक के कलीबुर्गी में जिस 76 वर्षीय मुस्लिम व्‍यक्ति की मौत हुई, वह 29 जनवरी से 29 फरवरी तक मजहबी यात्रा करके सऊदी अरब से लौटा था। यह देश में कोरोना वायरस संक्रमण से पहली मौत थी। भारत आने के बाद 6 मार्च को बुजुर्ग की तबीयत खराब हुई तो पहले घर में ही इलाज कराया। इसी तरह, विदेशों से आने वाले अन्‍य कट्टरपंथी मुसलमानों ने भी न जो स्‍वास्‍थ्‍य जांच कराई और न ही सतर्कता बरती। वे घूमते रहे और वायरस फैलाते रहे।

दरअसल, कट्टरपंथी मुसलमानों ने दो कारणों से ऐसा किया। पहला अशिक्षा-अज्ञानता तथा दूसरा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति घृणा और पूर्वाग्रह। जिहादी सोच वाले मुसलमान यह कहते रहे कि इस्‍लाम में स्‍वास्‍थ्‍य जांच की इजाजत नहीं है। वे किसी बीमारी और मौत से नहीं डरते। अल्‍लाह की मर्जी के बिना उन्‍हें कुछ नहीं हो सकता। दूसरी ओर पूर्वाग्रह और मन में नफरत लिए नागरिकता संशोधन कानून, एनआरसी के विरुद्ध प्रदर्शन करते रहे। देश नाजुक स्थिति में है और जरा सी चूक से महामारी फैल सकती है। दुनियाभर में हाहाकार मचा हुआ है और हज़ारों लोग Covid-19 के संक्रमण से मर चुके हैं। कोरोना वायरस का संक्रमण न फैले इसके लिए प्रधानमंत्री मोदी ने देशवासियों से 22 मार्च, 2020 को जनता कर्फ्यू का पालन करते की अपील की। उन्‍होंने लोगों से घरों में ही बंद रहने का आह्वान किया, लेकिन जिहादी सोच वाले मुसलमानों पर कोई असर नहीं पड़ा और सामान्‍य दिनों की तरह ही जुमे की नमाज के लिए मस्जिदों में भीड़ जुटी। यही नहीं, ऑल इंडिया सूफी उलेमा काउंसिल ने 22 मार्च को मुसलमानों से मस्जिद में जमा होने की अपील की।

कट्टरपंथी मुसलमानों का ऐसा व्‍यवहार तब है, जब प्रधानमंत्री दुनियाभर में फंसे अपने नागरिकों को सुरक्षित निकाल कर भारत ला रहे हैं, जिनमें अधिकतर मुसलमान हैं। इनमें अधिकतर “मुस्लिम ब्रदरहुड” कहे जाने वाले देशों में फँसे हुए थे। यहाँ इस बात का उल्लेख करना अनिवार्य हो जाता है कि “मुस्लिम ब्रदरहुड” देशों के पास अकूत संपत्ति है। उनके पास तेल के भंडार है, लेकिन उन्होंने भारतीय मुसलमानों का यह कहते हुए इलाज करने से इनकार किया कि उनके पास कोरोना वायरस से निपटने के लिए इतने संसाधन नहीं हैं कि सैकड़ों भारतीय मुसलमानों का इलाज या स्वास्थ्य जांच कर सकें।

चीन के हुबेई प्रान्त की राजधानी वुहान से जब मानवता को लीलने वाला यह वायरस फैला, लगभग उसी समय भारत में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में मुसलमान सड़कों पर उतर रहे थे। मार्च 2020 आते-आते वायरस का प्रकोप बढ़ गया। देश में कोरोना वायरस से संक्रमितों की बढ़ती संख्‍या को देखते हुए मंदिर, चर्च, सार्वजनिक वाहन, बाज़ार, दफ्तर, मॉल, थियेटर आदि बन्द कर दिए गए। देशभर में कर्फ्यू जैसे हालात हैं। सरकार जनता से बार-बार घरों में रहने के लिए अपील कर रही है। एहतियातन देश में धारा 144 भी लागू कर दी गई है ताकि लोग सड़कों पर न जुटें। लेकिन उस समय भी मुसलमान सड़क जाम कर धरने पर बैठे रहे। हज़ारों की संख्या में मस्जिदों में नमाज के लिए भीड़ जुट रही थी।

इस तरह संक्रमण फैलता रहा। डर के मारे बड़ी संख्‍या में लोग अपने-अपने घरों को लौट रहे हैं। इससे इनके संक्रमित होने की आशंका है। यदि ऐसा हुआ तो बड़ी संख्‍या में जान हानि होगी। इसमें सबसे ज़्यादा गरीब लोग मारे जाएंगे। अस्पतालों की हालत दयनीय हो जाएगी। बहुतायत लोगों को इलाज तक उपलब्ध नहीं मिल पाएगा। कोरोना वायरस से बचाव के लिए सरकार की सतर्कता और उसके द्वारा उठाए गए कदमों की दुनिया तारीफ कर रही है। शुरुआत में दुनियाभर के कोरोना वायरस संक्रमितों के मुकाबले की भारत में यह संख्या नाममात्र की थी। सरकार की अपील देशहित में थी, अगर मुसलमानों ने थोड़ी सी भी संवेदना दिखाई तो खतरा टल सकता है।

ऐसा नहीं है कि केवल कट्टरपंथी मुसलमान ही सरकार के साथ असहयोगात्‍मक रवैया अपना रहे हैं। इनके साथ कुछ सेकुलर, पतित वामपंथी, तथाकथित उदारवादी और बेवक़ूफ़ों-बुद्धिहीनों की बड़ी जमात भी है। आपदा की घड़ी में ये सब अलग डफली बजाकर और कुछ लोग संक्रमण दूसरों में फैलाकर दिन-रात लोगों की सेवा में जुटे चिकित्सकों, नर्सिंग कर्मचारियों, सफाईकर्मियों और पुलिसकर्मियों की मेहनत पर पानी फेर रहे हैं। उनका मनोबल गिरा रहे हैं।

60 के दशक की हेरोइन निम्मी नहीं रहीं, वह 88 वर्ष की थीं

  • निम्मी ने राज कपूर,‌ नरगिस और प्रेम नाथ स्टारर फिल्म ‘बरसात’ (1949) से अपने‌ फिल्मी करियर की शुरुआत की थी.
  • 1986 में आई फिल्म ‘लव ऐंड गॉड’ निम्मी की अंतिम फिल्म थी और उससे पहले उन्होंने राजेंद्र कुमार और साधना स्टारर फिल्म ‘मेरे महबूब’ (1963) में काम किया था.

हिंदी सिनेमा में राजकपूर की खोज मानी जाने वाली मशहूर अभिनेत्री निम्मी का बुधवार की शाम यहां मुंबई में हृदयगति रुक जाने से निधन हो गया। वह कुछ अरसे से बीमार चल रही थीं। सरला नर्सिंग होम में शाम छह बजे के करीब उन्होंने अंतिम सांस ली। निम्मी के पिता मेरठ के रहने वाले थे और निम्मी का जन्म आगरा में हुआ। वह 87 साल की थीं। 

मुंबई- 

पचास और साठ के दशक की बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री निम्मी का बुधवार (25 मार्च) की शाम मुंबई में उनके घर पर निधन हो गया. वह 88 वर्ष की थीं. वो पिछले काफी लंबे समय से बीमार थीं. उन्होंने सांताक्रूज के एक प्राइवेट अस्पताल में अंतिम सांस ली. निम्मी का अंतिम संस्कार आज (26 मार्च) की दोपहर बाद किया जाएगा.

फिल्मी पर्दे पर जलवे बिखेरने वाली एक्ट्रेस जन्म के समय नाम नवाब बानो था. राज कपूर ने उन्हें स्क्रीन नाम दिया- निम्मी. निम्मी पहली बार स्क्रीन पर फिल्म बरसात में साल 1949 में दिखी थीं. उनकी मौत की जानकारी मशहूर फिल्म क्रिटिक कोमल नाहटा ने ट्वीट कर साझा कीं. निम्मी ने अपने जमाने की आन, उड़न खटोला, मेरे मेहबूब जैसी कई फिल्मों में यादगार किरदार निभाई थे. उन्हें अपने दौर की बेहतरीन एक्ट्रेस के तौर पर शुमार

निम्मी की शादी लेखक अली राजा के साथ हुई, जिन्होंने दुनिया को 2007 में ही छोड़ दिया था. निम्मी ने 16 साल फिल्मों में काम किया. साल 1949 से लेकर 1965 तक वे फिल्मों में सक्रिय रहीं.

कहा जाता है कि करियर के शुरुआती दिनों में निम्मी काफी डिमांड में थीं. कहा जाता है कि दिलीप कुमार से लेकर राज कपूर, अशोक कुमार, धर्मेंद्र जैसे कई बड़े सितारे उनके साथ काम करने को लेकर उत्सुक थे. निम्मी के निधन को लेकर मशहूर फिल्म डायरेक्टर महेश भट्ट ने भी ट्वीट किया है और उन्हें श्रद्धांजलि दी है. वहीं, बॉलीवुड की कई हस्तियों ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है.

क्या यह एक नयी जिहाद की तैयारी है?

जिहाद किसी भी प्रकार की हो सकती है। आप उसे खड्ग से लड़ने वाली अथवा लव जिहाद का नाम दे सकते हैं। अब जिहाद का एक नया स्वरूप सामने आ रहा है, वह है बीमारी फैलाने वाला वुहान वाइरसमक्का से आए कुछ लोग जिनहोने अपने quarantine stamps मिटा दिये थे या वह भी इसी का हिस्सा नहीं हैं? ऐसे लोगों पर क्या राष्ट्र द्रोह का मामला नहीं चलना चाहिए? वुहान वायरस से लड़ने के लिए पीएम मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार और अधिकांश राज्य सरकारों ने कमर कस ली है। पर कुछ लोग ऐसे भी हैं जो जानबूझकर इस काम में भी बाधा डाल रहे हैं। अभी पुलिस की कार्रवाई में कुछ ऐसे विदेशी प्रचारक पकड़े गए हैं, जो इस्लामिक प्रचार के नाम पर अपने कर्मों से वुहान वायरस फैलाने पर तुले हुए हैं। सूत्रों की मानें तो बंगाल में जहां रोहङियाओं को सरकारी पराश्रय मिलता है वहाँ इन लोगों की तादाद चिंताजनक ढंग से अधिक हो सकती है।

अभी हाल ही में बिहार में एक मस्जिद से एक दर्जन से भी ज़्यादा मुसलमान पकड़े गए हैं, जिन पर वुहान वायरस से संक्रमित होने का खतरा बताया जा रहा था। इसके पश्चात तो ऐसे संदिग्धों को पकड़ने के लिए देशभर में छापेमारी की जाने लगी।

रांची में भी 11 मौलवियों को धरा गया

इसी तरह रांची में भी इस्लामिक प्रचारकों की वजह से लोगों को कोरोना के खौफ का सामना करना पड़ा। दरअसल, कोरोना वायरस से सर्वाधिक प्रभावित देश चीन, कजाकिस्तान और किर्गिस्तान के 11 नागरिकों के रांची के तमाड़ के रडग़ांव स्थित एक मस्जिद में ठहरे होने की सूचना पर इलाके में हड़कंप मच गया। इसकी सूचना पुलिस प्रशासन को दी गई। पुलिस-प्रशासन मेडिकल टीम के साथ वहां पहुंची और सभी मौलवियों की स्वास्थ्य जांच की। सभी को रेस्क्यू करते हुए क्वारंटाइन के लिए मुसाबनी स्थित कांस्टेबल ट्रेनिंग स्कूल भेज दिया गया।

परन्तु प्रशासन को ऐसा क्यों करना पड़ा? ऐसी क्या आवश्यकता आ पड़ी? चलिए हम आपको बताते हैं… ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि इस्लामिक प्रचारक मजहब के नाम पर विशाल भीड़ इकट्ठा कर लोगों में वुहान वायरस से संक्रमण का खतरा बढ़ा रहे हैं, जिसका प्रतिकूल असर दक्षिण पूर्व एशिया के कुछ इस्लाम बहुल देशों में भी देखने को मिला है।

इस कारण से तमिलनाडु में भी कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। शुक्रवार को राज्य सरकार के स्वास्थ्य मंत्री ने जानकारी दी कि राज्य में अब तक कुल 6 मामले आ चुके हैं। जिनमें से तीन विदेशी नागरिकों को पकड़ा गया है। एक थाई नागरिक है जबकि दूसरा इटली का रहने वाला बताया जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, थाईलैंड के दोनों ही नागरिक तबलीगी जमात के इस्लामिक धर्मगुरु हैं।

जब इन तीनों विदेशी नागरिकों का मेडिकल टेस्ट हुआ तो कोरोना पॉजिटिव आया। अधिकारियों के अनुसार ये दोनों इस्लामिक धर्मगुरु 6 मार्च को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट पर उतरे इसके बाद ये दोनों किसी होटल में ठहरे। फिर 10 मार्च को मिलेनियम एक्सप्रेस से इरोड के लिए यात्रा की थी। अब इससे समझा जा सकता है कि इन दोनों ही इस्लामिक धर्मगुरुओं ने कितने लोगों की जान खतरे में डाली होगी।

अब बता दें कि दोनों थाई प्रचारक जिस तब्लीगी जमात से आते हैं, ये संगठन दुनिया के 213 मुल्कों में फैली हुई है। जमात से दुनियाभर के 15 करोड़ लोग जुड़े हुए हैं। जमात कोई सरकारी मदद नहीं लेती है। जमात की कोई बेवसाइट, अखबार या चैनल नहीं है। भारत में जमात का हेड ऑफिस दिल्ली में हज़रत निजामुउद्दीन दरगाह के पास है। जमात की एक खास बात ये है कि ये अपना एक अमीर (अध्यक्ष) चुनते हैं और उसी की बात मानते हैं।

अब बात करते हैं कोरोना वायरस फैलाने में मुस्लिम प्रचारकों के सहभागिता की। इस महामारी को फैलाने में विशेषकर तब्लीगी जमात ने मिडल ईस्ट में कई सभाएं की। इनमें से एक कुआलालंपुर में पेटलिंग मस्जिद में चार दिवसीय मुस्लिम जनसभा का आयोजन किया गया, जिसमें 1500 विदेशियों सहित 16 हजार स्थानीय लोग शामिल हुए थे। इस खबर के लिखे जाने तक मलेशिया में 1500 से ज़्यादा वुहान वायरस के केस कंफर्म हो चुके हैं।

बताया जाता है कि लगभग दो तिहाई मामलों को इस जनसभा के लिए जिम्मेदार ठहराया गया था, जो 27 फरवरी से 1 मार्च के बीच आयोजित की गई थी। यही वजह था कि दक्षिण पूर्व एशिया में कोरोना का प्रकोप एकाएक बढ़ा।

परन्तु यह खतरा केवल तमिलनाडु या तेलंगाना तक ही सीमित नहीं है। इस खतरे की चपेट में दिल्ली जैसे राज्य भी हैं। धर्म के नाम पर जिस तरह इन लोगों ने शाहीन बाग में उपद्रव मचा रखा था, वह प्रदर्शन स्थल के उखाड़ कर फेंके जाने के बाद भी नहीं बदला है। ऐसे में धर्म के नाम पर जिस तरह से वुहान वायरस के कैरियर बनने में इस्लामिक प्रचारकों ने सहभागिता निभाई है, वह भारत सहित कई देशों के लिए काफी घातक सिद्ध हो सकता है।

आज का राशिफल

Aries

26 मार्च 2020: कुछ कामों में रुकावटें आ सकती हैं. मेहनत ज्यादा हो सकती है. जॉब स्विच करने का मन बना सकते हैं लेकिन सोच-समझकर फैसला लें. किसी काम या बात में जल्दबाजी करने से नुकसान हो सकता है. सेहत को लेकर सावधान रहें. पैसे और सेविंग के मामले में दूर स्थान के किसी व्यक्ति से सलाह ले सकते हैं. निवेश या खर्चे को लेकर भी बातचीत हो सकती है. पार्टनर का मूड अच्छा रहेगा. दाम्पत्य जीवन भी सुखमय रखेगा.

Taurus

26 मार्च 2020: बिजनेस में फायदा हो सकता है. नौकरीपेशा लोगों की पदोन्नति हो सकती है. साथ काम करने वालों से सहयोग मिलेगा. जीवनसाथी से मदद मिलने के योग बन रहे हैं. अविवाहित लोगों की लव लाइफ अच्छी हो सकती है. आपके कामकाज के तरीकों में बदलाव हो सकता है, जिससे आपको फायदा होगा. इसके साथ ही कामकाज की टेंशन कम हो सकती है. करियर में आगे बढ़ने के कुछ अच्छे मौके मिल सकते हैं. आमदनी बढ़ने की भी संभावना है.

Gemini

26 मार्च 2020: सितारों की स्थिति आपके लिए खास हो सकती है. आज आप सक्रिय रहेंगे. आपको नया काम या नई जिम्मेदारी मिल सकती है. रुके हुए काम पूरे हो सकते हैं. कुछ नए लोग आपसे जुड़ सकते हैं. लव पार्टनर की मदद से धन लाभ के योग हैं. आपको भावनात्मक सहयोग मिल सकता है. सामाजिक और सामूहिक कामों के लिए लोगों से मुलाकात हो सकती है. ताजगी और स्फूर्ति महसूस होगी. सेहत में सुधार होने के योग हैं.

Cancer

26 मार्च 2020: आज आप कुछ लोगों को इम्प्रेस कर सकते है. जॉब बदलने या एक्स्ट्रा इनकम के लिए भी विचार कर सकते हैं, इसमें आपको किस्मत का साथ मिल सकता है. नई शुरुआत करने में भी सफल हो सकते हैं. रुका हुआ पैसा मिलने की संभावना है. अचानक फायदा हो सकता है. बिजनेस में नए सौदे हो सकते हैं. आत्मविश्वास बढ़ सकता है. पारिवारिक सुख और संतोष रहेगा. दुर्घटना या चोट लगने के योग बन रहे हैं. आपको संभलकर रहना होगा.

Leo

26 मार्च 2020: अधिकारियों से सहयोग कम ही मिल पाएगा और आपको बिजनेस में सावधान रहना होगा. बिजनेस या फिर कोई भी काम हाथ में लेंगे तो उसमें सफलता की संभावना कम है. बिजनेस के मामलों में किसी अनुभवी की सलाह जरूर लें. जल्दबाजी न करें. अकेलेपन से बचें. अधूरे काम निपटाने में आपको परेशानियां आ सकती हैं. आज मिलने वाले पैसों को आने वाले समय के लिए बचा कर रखें.

Virgo

26 मार्च 2020: आज बिजनेस और नौकरी के बड़े मामलों पर कुछ फैसले हो सकते हैं या प्लानिंग भी बन सकती हैं. पैसों की स्थिति में सुधार हो सकता है. आमदनी बढ़ाने और खर्चों में कटौती करने पर विचार कर सकते हैं. आज आप नौकरी या कारोबार से जुड़ा कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं. जीवनसाथी से गिफ्ट मिल सकता है. प्रेमियों के लिए समय अच्छा हो सकता है. महत्वपूर्ण लोगों से मुलाकात हो सकती है. नौकरी में बदलाव और पदोन्नति की संभावना है. आज आप किसी को बिना मांगे राय देने से बचें. आपकी सेहत में पहले से थोड़ा सुधार भी हो सकता है.

Libra

26 मार्च 2020: कुछ रुके हुए काम पूरे हो सकते हैं. नौकरी और बिजनेस में समय पर सहयोग नहीं मिलने से परेशानी हो सकती है. कुछ लोग आपके काम का विरोध भी कर सकते हैं. इसके अलावा आप कुछ नया और ज्यादा करने की सोच सकते हैं. आने वाले कुछ दिनों में बड़े काम करने की योजना बना सकते हैं. जीवनसाथी से मदद और समर्थन मिल सकता है. आज आपको विवाह प्रस्ताव भी मिल सकते हैं. शादीशुदा लोगों के लिए दिन ठीक कहा जा सकता है.

Scorpio

26 मार्च 2020: बिजनेस में फायदे के योग हैं. नौकरीपेशा लोगों के लिए समय ठीक है. रुके हुए काम निपट जाएंगे. पुरानी परेशानियां सुलझ सकती हैं. दुश्मनों पर जीत मिलने के योग हैं. नए काम करने का मन बनेगा. कुछ बड़ी जिम्मेदारियां भी पूरी हो सकती हैं. कुछ अच्छे मौके मिल सकते हैं. व्यापारिक फैसले सोच-समझकर लें. कोई बड़ा फायदा भी होने के योग बन रहे हैं. कई तरह की जिम्मेदारियां आप पर हो सकती हैं. पार्टनर से भी आपको मदद मिल सकती है. सेहत के मामले में सावधान रहें.

Sagittarius

26 मार्च 2020: नौकरीपेशा लोगों के काम में रुकावटें आ सकती है. बिजनेस करने वाले लोग सावधान रहें. कानूनी मामले उलझ सकते हैं. फालतू कामों में समय खराब होने के योग हैं. स्थान में बदलाव संबंधी कोई प्लान बन सकता है. आपकी लव लाइफ में कुछ बदलाव होने के योग बन रहे हैं. इस राशि के अविवाहित लोगों के लिए समय अच्छा हो सकता है. सेहत के मामलों में भी संभलकर रहें.

Capricorn

26 मार्च 2020: पुरानी परेशानियां खत्म होने के योग बन रहे हैं. स्थिति अनुकूल हो सकती है, रुके हुए कामों को पूरा करने की कोशिश करें. बिजनेस और नौकरी में नए आइडिया मिल सकते हैं. आपका एनर्जी लेवल बढ़ सकता है. किसी पर आंख बंद करके भरोसा न करें. पार्टनर से अनबन हो सकती है. वाणी पर नियंत्रण रखें. सेहत के मामले में दिन ठीक है. बीमारी में राहत मिल सकती है.

Aquarius

26 मार्च 2020: करियर के लिए कुंभ राशि वाले लोगों के लिए दिन अच्छा कहा जा सकता है. ऑफिस में साथ वाले लोगों से मदद मिल सकती है. कुछ अच्छे और बड़े बदलाव होने की संभावना बन रही है. ऑफिस और बिजनेस में अनुभवी लोगों से सलाह मिल सकती है. धन लाभ हो सकता है. प्रॉपर्टी के मामलों में भी समय अच्छा कहा जा सकता है. महत्वपूर्ण लोगों से मुलाकात होने के योग हैं. लव लाइफ के लिए भी दिन अच्छा हो सकता है. सेहत का ध्यान रखें.

Pisces

26 मार्च 2020: अचानक फायदा मिलने के योग हैं. पार्टनर भी आपकी मदद करेगा तो धन लाभ हो सकता है. पुराना कर्जा खत्म हो सकता है. फालतू खर्चों पर कंट्रोल हो सकता है. नए इनकम सोर्स मिलने के भी योग हैं. कोई नया काम या नई जिम्मेदारी मिल सकती है. आप कोई भी बात सावधानी से बोलें. सेहत को लेकर सावधान रहें. मौसमी बीमारियों से भी परेशानी हो सकती है.

आज का पंचांग

विक्रमी संवत्ः 2077, 

शक संवत्ः 1942, 

मासः चैत्र, 

पक्षः शुक्ल पक्ष, 

तिथिः द्वितीया सांय 07.54 तक है), 

वारः गुरूवार, 

नक्षत्रः रेवती की (वृद्धि है जो गुरूवार को प्रातः 07.16 तक है), 

योगः ऐन्द्र सांय 04.28 तक, 

करणः बालव, 

सूर्य राशिः मीन, 

चंद्र राशिः मीन, 

राहु कालः दोपहर 1.30 से 3.00 बजे तक, 

सूर्योदयः 06.22, 

सूर्यास्तः 06.31 बजे।

नोटः आज प्रातः 07.16 से पंचक समाप्त हो रहे हैं।

विशेषः आज दक्षिण दिशा की यात्रा न करें। अति आवश्यक होने पर गुरूवार को दही पूरी खाकर और माथे में पीला चंदन केसर के साथ लगाये और इन्हीं वस्तुओं का दान योग्य ब्रह्मण को देकर यात्रा करें।