जिस गुरु से करुणानिधि ने राजनीति के गुर सीखे,जीवन के अंत में भी उनका साथ मिल गया.


अंतिम संस्कार के लिए जब राजाजी हॉल से मरीना बीच के लिए करुणानिधि की शवयात्रा निकली तो उनके पीछे लाखों समर्थकों का हुजूम था


पूर्व मुख्यमंत्री और डीएमके प्रमुख एम करुणानिधि को मरीना बीच पर दफनाया गया. करुणानिधि को अंतिम वक्त में अपने राजनीतिक गुरु अन्नदुरई की समाधि के  बगल में ही जगह मिली. जिस गुरु से करुणानिधि ने राजनीति के गुर सीखे,जीवन के अंत में भी उनका साथ मिल गया.

अंतिम संस्कार के लिए जब राजाजी हॉल से मरीना बीच के लिए करुणानिधि की शवयात्रा निकली तो उनके पीछे लाखों समर्थकों का हुजूम था. समर्थकों ने नम आंखों से कलाइग्नर को अंतिम विदाई दी.

करुणानिधि के अंतिम संस्कार में कई राज्यों के मुख्यमंत्री और राजनेता शामिल हुए थे. इनमें में मुख्य रूप से कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी, केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन, तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव, माकपा महासचिव प्रकाश करात, केरल के पूर्व मुख्यमंत्री ओमान चांडी और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव समेत कई अन्य नेताओं ने करुणानिधि को श्रद्धांजलि अर्पित की.

केरल के राज्यपाल पी सदाशिवम, मुख्यमंत्री विजयन और विपक्ष के नेता रमेश चेन्निथला के साथ राजाजी हॉल में श्रद्धांजलि देने पहुंचे. चांडी ने कहा, ‘वह हमारे देश के एक दिग्गज नेता और बहुत बढ़िया प्रशासक थे. जब वह मुख्यमंत्री थे, तब वह केरल और केरलवासियों का ध्यान रखते थे. हमारे बीच रहे अच्छे संबंध को मैं याद करता हूं.’

तमिल फिल्म जगत के लोगों ने भी करुणानिधि को श्रद्धांजलि अर्पित की. पेरियार ई वी रामास्वामी के निधन के बाद करुणानिधि ने एक कविता लिखी थी. उस कविता को संवाददाताओं के सामने उद्धृत करते वक्त लेखक और गीतकार वैरामुथु रो पड़े.

उन्होंने कहा, ‘क्या हम ताजमहल के विध्वंस को सिर्फ इसलिए स्वीकार कर सकते हैं कि उसकी संरचना पुरानी हो चुकी है? वही जो करुणानिधि ने पेरियार के निधन पर लिखा था, हम इस तथ्य को स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं कि कलाइग्नर अब नहीं रहें.’

बुधवार सुबह मद्रास हाईकोर्ट के कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश ने उनका अंतिम संस्कार मरीना बीच पर करने की इजाजत दे दी थी. हाईकोर्ट का यह फैसला सुनते ही राजाजी हॉल के बाहर जमे हजारों डीएमके में खुशी की लहर दौड़ पड़ी, वहीं करुणानिधि के बेटे और उनके सियासी वारिस स्टालिन की आंखों से आंसू छलक आएं.

अपने नेता के अंतिम दर्शन के लिए राजाजी हॉल के बाहर पार्टी समर्थकों का भारी हुजूम लगा रहा, जो किसी भी तरह दर्शन को आतुर थे. इस दौरान पुलिस को भीड़ पर काबू के लिए लाठीचार्ज भी करना पड़ा. लाठीचार्ज के बाद मची भगदड़ में 3 लोगों की मौत हो गई और करीब 33 लोग घायल हो गए.

डीएमके के कार्यकारी अध्यक्ष एमके स्टालिन ने पार्टी कार्यकर्ताओं और समर्थकों से शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील की. स्टालिन ने इसके साथ कहा, ‘पुलिस हमें सुरक्षा दे या नहीं, लेकिन मैं आपके पैर पकड़कर विनती और विनम्र निवेदन करता हूं कि शांति व्यवस्था बनाए रखते हुए धीरे-धीरे यहां से हट जाएं.’

Mann’s “outbursts” against him and Sandhu were out of “sheer frustration and personal hatred”.Khaira

Chandigarh:

Hitting out at Bhagwant Mann, leader of AAP’s dissident MLAs Sukhpal Singh Khaira on Wednesday claimed the Sangrur MP’s “outbursts against him and party leader Kanwar Sandhu were out of “sheer frustration and personal hatred”.

Khaira also claimed that Mann’s resignation, after Delhi chief minister Arvind Kejriwal’s apology to SAD leader Bikram Singh Majithia, was tendered as part of “strategy” with the consent of the party leadership in Delhi. Khaira also said that he and the MLAs supporting him would hold a massive march in October which would start from Talwandi Sabo.

The Bholath MLA’s attack on the Sangrur MP comes a day after Mann had called Khaira and Sandhu as “opportunists”.

Khaira asked Mann if the issue of AAP convenor Kejriwal’s apology to SAD leader Bikram Singh Majithia had “ended” for him after “agreeing” to resume the post of chief of state unit. Khaira said Mann’s “outbursts” against him and Sandhu were out of “sheer frustration and personal hatred”.

Bagwant – Khaira

“During a meeting at my home four months back, senior AAP leader Manish Sisodia told me you react too early on every issue. He told me that Mann’s resignation (from the post of president state unit) was part of strategy and he resigned with our consent,” claimed Khaira while addressing media in Chandigarh.

Sisodia told me that I could also resign (as LoP in Assembly) with their consent and there will not be any problem, Khaira said.

“I told Manishji I am not a man of double standards,” Khaira claimed.

Mann had resigned as AAP’s Punjab chief in March this year after Delhi chief minister Arvind Kejriwal apologised for leveling charges of involvement in drugs trade against SAD leader former Punjab minister Majithia.

Khaira asked Mann if he had given his approval to Kejriwal’s apology after accepting the post of state unit chief.

“I want to ask Mann that you gave resignation on Kejriwal’s apology…You have now accepted the post of state unit chief. Does it mean that issue of Kejriwal’s apology has ended for you and you have given your approval to it,” asked Khaira.

Replying to the Mann’s charge that Khaira was fighting only for the “chair”, Khaira said the MP’s statement had upset him.

“I was not expecting such a statement from Mann. He had described me as courageous in his tweet. What sin have I committed in the last seven days which prompted Mann to make such a statement,” said Khaira.

On Mann demanding that Khaira and Sandhu should resign, Khaira put a counter-question. Does AAP belong to any individual? he asked.

Rebutting Mann’s charge of him being an “opportunist”, Khaira said he entered politics with Congress in 1997 and joined AAP in December 2015.

“But Mann was first with Lok Bhalai Party, then he joined Manpreet Badal’s PPP and thereafter he moved into AAP. And now he calls us opportunist. People will judge him,” said Khaira.

Asserting that he was against the party’s decision to remove him in an “undemocratic” manner, Khaira said he would not become the LoP even if the party offers the post to him.

Kharar MLA Kanwar Sandhu asked Mann and other MLAs whether they opposed the call for autonomy for the Punjab unit.

Sandhu said they were compelled to raise the voice for autonomy in Punjab unit after party’s graph was sliding fast in the state.

“After we went through the party’s constitution, we came to know that the party has given immense power to volunteers. There has not been any state political affairs committee (PAC) and state executive committee yet in the state. The party was not functioning at all,” claimed Sandhu.

There have not been in-charges in 55-60 assembly constituencies, he claimed.

Asked what if the party acts against them, Sandhu said “how” could they stop it but added it would be a wrong precedent as they were fighting to strengthen the party.

On the Mann’s allegation that Khaira had refused to give his official residence for party activities, Sandhu said it was not possible neighbouring residents had raised objections many a time over holding of press conferences in that house.

Khaira said he campaigned in 38 Vidhan Sabha constituencies for the party and called the allegations of Mann in this regard as baseless.

AIADMK’s self-goal may put NDA in troubled waters

There is no little amount of irony in the fact that a party that preaches rationalism, atheism and iconoclasm is desperate to secure for its departed leader a memorial for the ages. DMK’s desperation to get a Marina Beach burial for Muthuvel Karunanidhi (1924-2018) and its deification of Kalaignar stands in stark contrast with its so-called anti-idolatry ideology.

Yet if the Dravidian ideologue is being imbued with a cultish aura and venerated as a demigod in death, the absurdity mirrors the confusion within the larger Dravidian Movement that has deviated from its egalitarian ideals and roots in cultural autonomy to emerge as a vehicle for Tamizh chauvinism, driven by an insecurity forged in the fire of identity politics.

The Dravidian Movement (that has its roots in the erstwhile Justice Party, founded in 1916 by around 30 non-Brahmanical leaders) has been vastly influential in shaping Dravidian identity, regional politics and even strengthening federalism in India.

However, for all the stress on “rationalism” and “atheism” espoused by founder EV Ramasamy (Periyar) and later handholding by CN Annadurai’s DMK (that gradually deviated from its demand for a separate Dravida Nadu to join the political mainstream), the Dravidian Movement could never rid the Tamizh society of its steadfast rootedness in theism.

It is here that we must seek the answers from the contradiction within DMK’s ranks that teaches iconoclasm, yet seeks divinity for its leaders so that party workers, cadres and supporters can pay eternal homage. Politics, after all, is shaped by the society. A grasp of this reality is essential in understanding the controversy around a Marina Beach burial for the five-time Tamil Nadu chief minister who breathed his last on Tuesday at the age of 94.

M Karunanidhi passed away on Tuesday

If DMK revealed the hollowness of its idealism in seeking a memorial for its departed patriarch, the AIADMK revealed its penchant for scoring own-goals in making a controversy out of it. The fact that the Madras High Court had to step in to act on a petition filed by the DMK at a special hearing and order the state government to permit the burial of Karunanidhi at Anna Square on Marina sands beside his mentor and former chief minister Annadurai, amounts to little more than political suicide for the ruling party.

Chief minister E Palaniswamy (EPS) and his deputy O Panneerselvam (OPS) should have realised that the act of rejecting DMK’s wish to lay Kalaignar to rest at Marina Beach (near the memorials of J Jayalalithaa and MGR) might be seen as a slight to Tamil Nadu’s tallest leader, a grave insult to his memory and trigger widespread popular outrage. If EPS and OPS failed to grasp the depth of the blunder, it could only be put down to their lack of political maturity.

In denying DMK’s demand, the AIADMK government had cited rules of the Coastal Regulation Zone Act and stressed on the fact that Karunanidhi was a “former” chief minister, not a “sitting” one and therefore, unlike Jayalalithaa, did not merit a place at Anna Square. The death of a popular leader is an emotive issue. The ruling party’s stance looked more like vendetta politics and pettiness over a deceased’s mortal remains instead of a rational position.

The AIADMK leadership perhaps failed to grasp the fact that the nonagenarian Kalaignar wasn’t just Tamil Nadu’s tallest leader butwas also one of the greatest influencers in Tamizh society and culture through his writings, films, poetry, not to speak of his contribution to the Dravidian cause over the course of a long political career spanning several decades.

He was also at the forefront of resisting ‘imperialism of northern India’ — always a sensitive issue in Tamizh politics. The Justice Party, father of the Dravidian Movement, received a boost in its political campaign back in 1937 “when the Madras Presidency government led by C. Rajagopalachari insisted on compulsory learning of Hindi in the State”, as Sruthisagar Yamunan writes in The Hindu.

‘Anti-Hindi’ sentiment and ‘resisting cultural imperialism of the north’ remained the keystones of DMK’s politics. Karunanidhi’s political career benefitted immensely in taking part in and shaping that fight. The Congress, for instance, scripted its own death in the state when in 1965, it tried to make Hindi the sole ‘official language’ of the country. It could never to return to power after being rejected by voters in 1967. This sentiment, closely tied with supremacy of Tamizh culture espoused by the Dravidian Movement, holds its relevance in regional politics.

This latest controversy, therefore, will obliquely harm even the BJP — which is seen as an unofficial ally of the AIADMK — and have wider implications for national politics beyond the confines of the state. To understand this, we need only take a look at the way the Congress and DMK are trying to set the battle lines.

The Congress or the DMK spokesperson’s suggestions — that BJP is behind the ‘slight to Kalaignar’ — might appear as far-fetched, given the fact that the BJP has gone out of its way not to let such an impression develop. The Centre has declared a day of national mourning, the Tricolour will fly at half-mast and Prime Minister Narendra Modi and Defence Minister Nirmala Sitharaman have rushed to pay their last respects to the departed leader.

Yet, BJP’s apparent proximity with the AIADMK has given DMK and Congress the opportunity to paint them in a corner. The AIADMK recently voted against the no-confidence motion against the Modi government, causing MK Stalin to call its arch-rival”spineless”.

It has also emerged that AIADMK may endorse the BJP-backed candidate in the Thursday election to the post of Rajya Sabha deputy chairman. The shifting sands of regional and national politics will soon see all local skirmishes getting subsumed within the larger political battle for 2019. If the controversy over Kalaignar’s burial triggers an emotive, statewide reaction and hands DMK an electoral advantage, the party could emerge much stronger in 2019 and be in a position to call the shots.

The opening of Tamil politics following the departure of both Jayalalithaa and Karunanidhi presents opportunities for the existing players. The AIADMK seems to have committed a tactical blunder. This may lead to upsetting BJP’s carefully laid plans.

Opening Ceremony of 7th Thang-Ta Fedration Cup 2018

Thang Ta Fedration of India

Cordially Invite you to

Opening Ceremony of 7th Thang-Ta Fedration Cup 2018

Thang-Ta is a form of martial art.

EVENT DETAILS:

VENUE- Skating Rink, (Near DAV College), Sector-10, Chandigarh

DATE-   August 9, 2018 (Thursday)

TIME-  10:00 AM Onwords

छत गिरने से 4 भाई ज़ख्मी

चंडीगढ़:

सेक्टर 45 स्थित मकान नंबर 1075 की छत बुधवार को दोपहर 12:40 बजे के करीब अचानक गिर गई जिसके कारण मकान में मौजूद चार भाई दब गए घटना की सूचना वहां पर मौजूद लोगों ने फायर ब्रिगेड को दी सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची फायर ब्रिगेड की टीम ने किसी तरह से घायलों को निकाल कर सेक्टर 45 के सीविल अस्पताल में भर्ती कराया जहां पर औपचारिक इलाज के बाद लोगों को छुट्टी दे दी गई। घायलों की पहचान जुबेर, राजा, मंसफ, मुजफ्फर के रूप में हुई है जो चारों भाई है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार चारों भाई सेक्टर 35 की मार्केट में चिकन की रेहणी लगाते है अपने दुकान की सामान बना रहे थे कि बुधवार को अचानक छत गिर गई और चारों छत के नीचे दब गए। दबे लोग यहां पर पीछले 14 साल से किराए पर रहते है, पीछे से रहने वाले बिहार से है। लोगों ने बताया की इसकी जानकारी मकान मालिक को कई बार दी जा चुकी है कि मकान की छत कच्ची है जो कभी भी गिर सकती है लेकिन मकान मालिक अभी तक सही नही कराए।

अग्रवाल विकास ट्रस्ट पंचकुला के प्रधान सत्यनारायण गुप्ता पंजाब पीडबल्यूडी मंत्री विजय इन्द्र सिंगला से मिले

 

पंजाब सरकार के PWD मंत्री श्री विजय इंद्र सिंगला जी के कार्यालय में मिले अग्रवाल विकास ट्रस्ट पंचकूला के प्रधान सत्यनारायण गुप्ता ने आगामी 4 नवंबर को 13वां अग्रवाल वैश्य युवक युवती परिचय सम्मेलन के बारे में मीटिंग की थी उन्हें निमंत्रण देने के लिए भी मिलेऔर पिछले परिचय सम्मेलन में न आ पाने के कारण उन्हें आज सम्मानित किया साथ में अग्रवाल विकास ट्रस्ट के वरिष्ठ उपाध्यक्ष मनोज अग्रवाल भी मौजूद थे

DF Breaking: Para Trooper Naresh Chandra injured

Photo for referential purpose only

 

PARA TROOPER NARESH CHANDRA || 9 PARA || sustained bullet injury in an ongoing encounter at Baramulla in Kashmir.
He has been evacuated and shifted to base hospital.
Four terrorist have been killed so far in the operation. Few more are supposed to be trapped in.

एनडीए के उप-राजयसभापती उम्मीदवार हरिवंशह को शिवसेना का समर्थन

हरिवंश – हरिप्रसाद


9 अगस्त को होने वाले उपसभापति के चुनाव में बीजेपी, विपक्ष को वाकओवर देने के मूड में नहीं है


राज्यसभा के उपसभापति के चुनाव के लिए एनडीए ने जेडीयू के सांसद हरिवंश को अपना उम्मीदवार घोषित किया था. इन्हें अब शिवसेना का भी समर्थन मिल गया है. उच्च सदन में शिवसेना के सदस्य अनिल देसाई ने कहा ‘‘हम एनडीए उम्मीदवार का समर्थन करेंगे.’’ उल्लेखनीय है कि शिवसेना भाजपा से नाराज चल रही है. इसी क्रम में शिवसेना के सदस्य हाल ही में मोदी सरकार के खिलाफ लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव के दौरान अनुपस्थित भी रहे थे. उच्च सदन में शिवसेना तीन सदस्य हैं. इससे पहले पार्टी सांसद संजय राउत ने भी कल उपसभापति चुनाव में राजग उम्मीदवार को समर्थन देने की पुष्टि की थी.

इस तरह 9 अगस्त को होने वाले राज्यसभा के उपसभापति पद के चुनाव के लिए पक्ष और विपक्ष दोनों ने ही अपने अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है. एनजीए ने जहां जेडीयू के सांसद हरिवंश को अपना उम्मीदवार बनाया वहीं कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्ष ने बीके हरिप्रसाद को पहले ही अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया था.

मॉनसून सत्र के समाप्त होने से एक दिन पहले 9 अगस्त को सुबह 11 बजे उपसभापति पद के लिए चुनाव होगा और राज्यसभा के उपसभापति को चुना जाएगा. बता दें कि राज्यसभा के उपसभापति पीजे कुरियन का कार्यकाल इस साल के जून के महीने में पूरा हो गया है.

राज्यसभा में 245 सदस्य हैं. ऐसे में राज्यसभा के उपसभापति का चुनाव जीतने के लिए 122 सदस्यों के समर्थन का आंकड़ा पाना होगा. वर्तमान में बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए के पास राज्यसभा में 85 सांसद हैं. वहीं यूपीए के पास 114 सीटें हैं. ऐसे में माना जा रहा है कि विपक्ष के उम्मीदवार को चुनाव जीतने में कोई खास मुश्किल का सामना नहीं करना पड़ेगा.

उपसभापति राज्यसभा के लिए भाजपा का गेमपलान


इसे बीजेपी का ऐसा मास्टरस्ट्रोक माना जा रहा है जिस पर विपक्षी दलों को भी अपना उम्मीदवार खड़ा करने में कई दौर की बैठक करनी पड़ी


राज्यसभा के उपसभापति पद के चुनाव के लिए बीजेपी ने काफी सोच-समझकर सियासी बिसात बिछाई है. बीजेपी ने अपनी सहयोगी जेडीयू के राज्यसभा सांसद हरिवंश को अपना उम्मीदवार बनाया है. हरिवंश वरिष्ठ पत्रकार भी रहे हैं. उनके नाम को आगे कर बीजेपी ने एनडीए के भीतर के सियासी समीकरण को साधने की पूरी कोशिश की है.

हरिवंश का नाम सामने आने के बाद अपनी पार्टी के उम्मीदवार की जीत के लिए बिहार के मुख्यमंत्री और जेडीयू अध्यक्ष नीतीश कुमार काफी सक्रिय हो गए हैं. नीतीश कुमार ने उपसभापति पद के चुनाव में एनडीए के उम्मीदवार के समर्थन के लिए कई दूसरे छोटे राजनीतिक दलों से संपर्क साधना शुरू कर दिया है, जिनकी भूमिका काफी अहम है. इन राजनीतिक दलों की ताकत भले ही कम है, लेकिन, राज्यसभा के भीतर अपने उम्मीदवार की जीत के लिए इनका समर्थन बेहद अहम है.

गैर-यूपीए और गैर-एनडीए दलों की भूमिका बढ़ी

एनडीए और यूपीए के मौजूदा सांसदों की तादाद लगभग बराबर है. लेकिन, टीआरएस, बीजेडी और एआईएडीएमके जैसे गैर-एनडीए और गैर-यूपीए दलों की भूमिका बढ़ गई है. टीआरएस के 6, बीजेडी के 9 और एआईएडीएमके के 13 सांसदों का समर्थन काफी अहम हो गया है.

एआईएडीएमके के सभी 13 सांसद एनडीए उम्मीदवार का ही समर्थन करेंगे क्योंकि अविश्वास प्रस्ताव के दौरान भी उन्होंने सरकार का ही साथ दिया था. भले ही एआईएडीएमके औपचारिक तौर पर एनडीए का हिस्सा नहीं हो, लेकिन सूत्रों के मुताबिक, पार्टी एनडीए और सरकार के खिलाफ नहीं जाएगी.

दूसरी तरफ टीआरएस के राज्यसभा में 6 सदस्य हैं. एनडीए उम्मीदवार को जीत दिलाने के लिए टीआरएस के समर्थन की जरूरत होगी. नीतीश कुमार ने टीआरएस के समर्थन के लिए तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव से बात भी की है. अभी पिछले कुछ महीनों में केसीआर के बीजेपी के करीब आने की संभावना भी दिख रही है. ऐसे में इस बात की उम्मीद की जा रही है कि टीआरएस एनडीए उम्मीदवार के पक्ष में ही वोट करेगी.

नीतीश के चलते मान सकती है बीजेडी

बीजेपी को उम्मीद बीजेडी से भी है. बीजेपी के रणनीतिकारों को लग रहा है कि सीधे-सीधे बीजेपी के नाम पर नहीं तो कम-से-कम जेडीयू और नीतीश कुमार के  नाम पर बीजेडी राजी हो सकती है. उम्मीद की जा रही है कि नीतीश कुमार के कहने पर ओडीशा के मुख्यमंत्री शायद मान जाएं. बीजेडी अगर समर्थन कर देती है तो फिर एनडीए के लिए राहें आसान हो जाएगी.

बीजेपी का गेम प्लान भी यही है. बीजेपी को लगा कि अकले अपने दम पर बहुमत नहीं होने की सूरत में नीतीश कुमार को आगे कर उन दलों को साधा जा सकता है जो बीजेपी के साथ तो नहीं हैं, लेकिन, कांग्रेस के साथ भी जाना पसंद नहीं करते.

दूसरी तरफ, एनडीए के सहयोगी दलों की तरफ से भी जेडीयू के नाम पर ऐतराज नहीं है. अकाली दल और शिवसेना दोनों को लेकर पहले कई तरह के कयास लगाए जा रहे थे. अकाली दल के राज्यसभा सांसद नरेश गुजराल का भी नाम उपसभापति पद के लिए चर्चा में था. लेकिन, दूसरी सहयोगी जेडीयू के उम्मीदवार के नाम के ऐलान के बाद अकाली दल में थोड़ी नाराजगी भी दिखी थी. लेकिन, आखिर में अकाली दल ने एनडीए उम्मीदवार के पक्ष में खड़ा होने का फैसला किया है.

शिवसेना भी एनडीए के पक्ष में खड़ी हो सकती है

दूसरी तरफ, शिवसेना को लेकर भी कई तरह के कयास लगाए जा रहे थे. बीजेपी के साथ शिवसेना के रिश्ते ठीक नहीं हैं. सरकार में रहते हुए भी शिवसेना बीजेपी के खिलाफ बोलती रहती है. अविश्वास प्रस्ताव के दौरान भी शिवसेना ने जिस तरह से सदन से बाहर रहने का फैसला किया वो दोनों दलों के रिश्तों में कड़वाहट को दिखाने वाला है.

फिर भी शिवसेना को साधने के लिए जेडीयू उम्मीदवार को आगे करने की कोशिश सफल होती दिख रही है. सूत्रों के मुताबिक, राज्यसभा के भीतर 6 सांसदों वाली शिवसेना पार्टी एनडीए के समर्थन में खड़े हो सकती है.

राज्यसभा के गणित को आंकड़ों के हिसाब से देखें तो 245 सदस्यीय राज्यसभा में अभी 244 सदस्य हैं और 1 सीट खाली है. सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों को अपने उम्मीदवार को जिताने के लिए 123 सांसदों के समर्थन की जरूरत होगी. एनडीए के राज्यसभा में 90 सांसद हैं. इसमें बीजेपी के 73, बोडो पीपुल्स फ्रंट के पास 1, जेडीयू के 6, नामांकित सदस्य 4, आरपीआई (ए) के 1, शिरोमणि अकाली दल के 3 और सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट के 1 सांसद शामिल हैं. ऐसे में एनडीए को उम्मीद एआईएडीएमके के 13 सांसदों के अलावा सहयोगी शिवसेना के 3 और टीआरएस के 6 सांसदों पर टिकी है.

दूसरी तरफ विपक्ष के पास भी 112 सांसदों का समर्थन दिख रहा है. इसमें कांग्रेस के 50, आम आदमी पार्टी के 3, बीएसपी के 4, टीएमसी के 13, सीपीआई के 2, सीपीएम के 5, डीएमके के 4, इंडियन मुस्लिम लीग के 1, जेडीएस के 1, केरल कांग्रेस के 1, एनसीपी के 4, आरजेडी के 5, एसपी के 13, टीडीपी के 6 सांसद शामिल हैं.

लेकिन, सबकी नजरें टिकी हैं बीजेडी के उपर. अगर बीजेडी ने एनडीए उम्मीदवार को समर्थन देने का फैसला कर लिया तो फिर उपसभापति के चुनाव में एनडीए की राह आसान हो जाएगी.

राज्यसभा के उपसभापति पद के चुनाव में बीजेपी की रणनीति चर्चा का विषय है. जेडीयू उम्मीदवार के आगे आने से बीजेपी के साथ नीतीश कुमार की नजदीकी भी दिख रही है. नीतीश का बढ़ा हुआ कद भी दिख रहा है. इसे बीजेपी का ऐसा मास्टरस्ट्रोक माना जा रहा है जिस पर विपक्षी दलों को भी अपना उम्मीदवार खड़ा करने में कई दौर की बैठक करनी पड़ी.

नेहरू आत्मकेंद्रित थे, विभाजन उनकी ही दें है : दलाई लामा

 

बौद्ध धर्मगुरु दलाई लामा ने एक कार्यक्रम में कहा कि यदि जवाहर लाल नेहरू की जगह जिन्ना प्रधानमंत्री होते तो देशा का विभाजन नहीं होता. यह बात उन्होंने गोवा इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट में छात्रों से बातचीत के दौरान कही.

एक राष्ट्रीय दैनिक के मुताबिक , दलाई लामा ने कहा ‘महात्मा गांधी तो जिन्ना को प्रधानमंत्री बनाना चाहते थे, लेकिन नेहरू ने इसके लिए मना कर दिया. वह आत्मकेंद्रित थे. नेहरू ने कहा था कि मैं प्रधानमंत्री बनना चाहता हूं. भारत पाकिस्तान एक हो जाता अगर जिन्ना प्रधानमंत्री बन जाते. पंडित नेहरू बहुत ज्ञानी थे, लेकिन उनसे गलती हो गई.’

इस बीच एक छात्र ने जब यह पूछा कि आखिर कोई किस तरह इस तरह के निर्णय ले जिससे कि गलतियां नहीं हों? इस पर दलाई लामा ने नेहरू के निर्णय की पृष्‍ठभूमि में कहा, ‘गलतियां होती ही हैं.’

इंस्‍टीट्यूट की 25वीं वर्षगांठ के मौके पर बौद्ध धर्मगुरू को आमंत्रित किया गया है. गोवा में पिछले सात सालों में दलाई लामा का यह पहला लेक्‍चर है.

इससे पहले धर्मशाला नगर निगम ने दलाई लामा मठ को नोटिस भेजा था. यह नोटिस अवैध निर्माण के खिलाफ चलाई जा रही मुहिम के तहत भेजा गया था.