पुलवामा हमले के डेढ़ घंटे बाद राहुल ने लगाए ठुमके, सुरजेवाला ने प्रधान मंत्री पर बोला तीखा हमला

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि जिस वक्त देश शहीदों के शव के टुकड़े चुन रहा था. उस वक्त पीएम मोदी अपने नाम के नारे लगवा रहे थे.( जिस वक्त देश शहीदों के शव के टुकड़े चुन रहा था. उसके ठीक डेढ़ घंटे बाद राहुल गांधी ठुमके लगा रहे थे, पुलवामा हत्याकांड के शहीदों की पीड़ा उनके चेहरे पर साफ झलकती है। कांग्रेस के पास इस आचरण के लिए कोई शब्द नहीं बचा है) इस विडियो का ब्योरा आपको ताल ठोक के के इस अंक में देखें

कांग्रेस की सिर्फ एक ही चाहत है ‘सत्ता’, इसके लिए कुछ भी? क्या झूठ फैलाना ठीक है,? क्या सत्ता के लिए किसी भी निम्न स्तर पर गिर जाना यही कांग्रेस की नीति है?

संबित पात्र ने बताया की एक प्र्वकता का कर्तव्य है जब उसे कोई अति महत्वपूर्ण घटना का पता चले तो वह तुरंत अपने पार्टी अध्यक्ष को सूचित करे। सुरजेवाला स्वयं यह मान रहे हैं की उनको पुलवामा हमले का 3: 14 दोपहर को पता चल गया था, फिर उन्होने क्या इस बात को राहुल गांधी के साथ सांझा नहीं किया? यदि नहीं तो वह कैसे प्रवक्ता हैं, और यदि किया तो फिर डेढ़ घंटे बाद राहुल को नाचने की क्या सूझी?

संबित जानते हैं की उनके इन प्रश्नों का उत्तर उन्हे कभी नहीं मिलेगा, परंतु सत्ता पक्ष भी विपक्ष से प्रश्न पूछ सकता है।

सुरजेवाला ने क्या कहा वह तो इस विडियो के बाद आप सब पढ़ ही लेंगे परंतु वह क्या छुपा रहे थे वह इस एपिसोड में आपको ज़रूर जानना चाहिए।

साभार ज़ी न्यूज़

अब आगे

पुलवामा अटैक पर कांग्रेस ने गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके भारतीय जनता पार्टी पर पुलवामा हमले को लेकर राजनीति करने का आरोप लगाया है. कांग्रेस ने कहा कि ‘पीएम मोदी और अमित शाह बस इसका राजनीतिक फायदा उठा रहे हैं. उन्होंने राष्ट्रीय शोक की घोषणा भी नहीं की.’

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि जिस वक्त देश शहीदों के शव के टुकड़े चुन रहा था. उस वक्त पीएम मोदी अपने नाम के नारे लगवा रहे थे और अमित शाह रैली में कांग्रेस पर हमला कर रहे थे.

सुरजेवाला ने कहा, ‘जब देश दोपहर में हुए पुलवामा अटैक पर शहीदों की जान जाने पर रो रहा था, तब पीएम मोदी शाम तक जिम कॉर्बेट पार्क में शाम तक फोटो शूट कराते रहे. पूरी दुनिया में कोई ऐसा पीएम है क्या? मेरे पास इस आचरण के लिए कोई शब्द नहीं बचे हैं.’

सुरजेवाला ने कहा कि हमले के बाद मोदी और शाह ने राष्ट्रीय शोक की भी घोषणा नहीं की, ताकि उनकी रैलियां और राजनीतिक कार्यक्रम रुक न जाएं.

कांग्रेस ने पीएम मोदी के दक्षिण कोरिया के दौरे पर भी सवाल उठाए. साथ ही सुरजेवाला ने ये भी कहा कि पीएम मोदी शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए उनके परिवार वालों को इंतजार करवा रहे थे.

सुरजेवाला ने कश्मीर में बढ़ी अस्थिरता पर तो सवाल उठाया ही, पुलवामा अटैक पर सरकार के सामने सवाल रखे. उन्होंने कहा कि आतंकियों को इतनी बड़ी मात्रा में आरडीएक्स और रॉकेट लॉन्चर कैसे मिले? उन्होंने सवाल किया कि जब सीआरपीएफ जवानों की तैनाती में देरी हुई थी, तो उन्हें एयरलिफ्ट क्यों नहीं किया गया? जैश-ए-मुहम्मद की ओर से चलाए गए धमकी भरे वीडियो को नजरअंदाज क्यों किया गया?

PS Note: सुरजेवाला क्या प्रश्न ही पूछेंगे या फिर उपरोक्त प्रश्नों यानि राहुल के नाचने का कारण भी समझा पाएंगे

देवबंद से जैश ए मोहम्मद के 2 आतंकी गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश एटीएस ने जैश ए मोहम्मद के दो आतंकी पकड़े हैं. डीजीपी ओपी सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि रात में यूपी एटीएस को संदिग्ध आतंकियों की जानकारी मिली थी. कुछ कश्मीरी देवबंद में बगैर एडमिशन के रह रहे हैं. रात में यूपी एटीएस के आईजी ने देवबंद में ऑपरेशन चलाया. एटीएस ने शाहनवाज़ और आकिब अहमद मलिक को गिरफ्तार किया. दोनों को रिमांड पर लेकर विस्तृत पूछताछ की जाएगी.

डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि गिरफ्तार किया गया जैश का आतंकी शाहनवाज कुलगाम और आकिब पुलवामा का रहने वाला है. शाहनवाज़ जैश ए मोहम्मद का सक्रिय आतंकी है. दोनों लोग जैश ए मोहम्मद के लिए भर्ती का काम करते हैं. ओपी सिंह ने बताया कि आरोपियों के पास से 32 बोर की 2 पिस्टल और 30 जिंदा कारतूस मिले हैं. दोनों के मोबाइल से जेहादी चैट्स मिले हैं. शाहनवाज़ ग्रेनेड्स का एक्सपर्ट है.

इससे पहले यूपी एटीएस ने एक दुकानदार सहित लगभग 10 से 12 छात्रों को हिरासत में लिया था. जिनमें 2 कश्मीर के छात्र, 5 ओडिशा और अन्य अलग-अलग जगह थे. यह छापेमारी देर रात करीब 2 बजे की गई थी.

बता दें कि पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद खुफिया एजेंसियों की ओर से आतंकी हमले की संभावना जताई गई थी. हाल ही में कानपुर ट्रेन धमाका भी हुआ. साथ ही महाराष्‍ट्र के रायगढ़ में भी बस में आईईडी बम मिलने से हड़कंप मच गया. हालांकि आशंकाओं को लेकर सक्रिय हुई एजेंसियां संदिग्‍धों पर कड़ी नजर रख रही हैं. वहीं पुलिस भी सतर्कता बरत रही है.

द्देश आपके झूठे प्रचार से आजिज़ आ चुका है राहुल जी: बीजेपी

नई दिल्लीः पुलवामा आतंकी हमले वाले दिन प्रधानमंत्री पर फिल्म की शूटिंग में व्यस्त रहने के राहुल गांधी के आरोपों पर पलटवार करते हुए बीजेपी ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष उस दिन सुबह के समय का फोटो जारी करके देश को गुमराह करना बंद करें, देश आपके फेक न्यूज से तंग आ चुका है.  राहुल गांधी के ट्वीट के बाद बीजेपी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर कहा, ‘‘ राहुल जी, भारत आपके फेक न्यूज से तंग आ चुका है . उस दिन सुबह के समय की फोटो निर्लज्जता से जारी करके देश को गुमराह करना बंद करें .’’ 

कांग्रेस अध्यक्ष पर निशाना साधते हुए बीजेपी के ट्विटर हैंडल पर कहा गया है कि ऐसा लगता है कि आपको पहले पता चल गया होगा, लेकिन भारत के लोगों को शाम में ही जानकारी मिली. बीजेपी ने कहा कि अगली बार इससे बेहतर स्टंट करें जहां जवानों की शहादत नहीं जुड़ी हुई हो.

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पुलवामा आतंकी हमले वाले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक चैनल के लिए फिल्म की शूटिंग करने संबंधी खबरों को लेकर शुक्रवार को उन पर हमला बोला और आरोप लगाया कि जब शहीदों के घर ‘दर्द का दरिया’ उमड़ा था तो ‘प्राइम टाइम मिनिस्टर’ हंसते हुए दरिया में शूटिंग कर रहे थे. 

शहीदों के घर ‘दर्द का दरिया’ उमड़ा था और ‘प्राइम टाइम मिनिस्टर’ दरिया में शूटिंग कर रहे थे: राहुल
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पुलवामा आतंकी हमले वाले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक चैनल के लिए फिल्म की शूटिंग करने संबंधी खबरों को लेकर शुक्रवार को उन पर हमला बोला और आरोप लगाया कि जब शहीदों के घर ‘दर्द का दरिया’ उमड़ा था तो ‘प्राइम टाइम मिनिस्टर’ हंसते हुए दरिया में शूटिंग कर रहे थे.

गांधी ने प्रधानमंत्री की शूटिंग से जुड़ी तस्वीर ट्विटर पर शेयर करते हुए कहा, ‘‘पुलवामा में 40 जवानों की शहादत की खबर के तीन घंटे बाद भी ‘प्राइम टाइम मिनिस्टर’ फिल्म शूटिंग करते रहे. देश के दिल व शहीदों के घरों में दर्द का दरिया उमड़ा था और वे हंसते हुए दरिया में फोटोशूट पर थे.’’ 

इससे पहले बृहस्पतिवार को कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि जब देश इस जघन्य हमले के कारण सदमे में था तो उस वक्त मोदी कार्बेट पार्क में एक चैनल के लिए फिल्म की शूटिंग और नौकायन कर रहे थे. उन्होंने यह भी दावा किया कि प्रधानमंत्री अपनी सत्ता बचाने के लिए जवानों की शहादत और ‘राजधर्म’ भूल गए. सुरजेवाला ने कहा, ‘‘हमला 14 फरवरी दिन में करीब तीन बजे हुए और प्रधानमंत्री करीब सात बजे तक शूटिंग और चाय नाश्ते में व्यस्त थे. प्रधानमंत्री के इस आचरण को लेकर गंभीर सवाल खड़े होते हैं.’’ 

उधर, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि देश की सुरक्षा पर प्रधानमंत्री की प्रतिबद्धता को लेकर आरोप लगाने का देश की जनता पर कोई असर नहीं होने वाला है. गौरतलब है कि गत 14 फरवरी को हुए पुलवामा आत्मघाती आतंकी हमले में सीआरपीएफ के कम से कम 40 जवान शहीद हो गए थे.

मध्य प्रदेश कांग्रेस कर्णाटक की तर्ज़ पर

भोपाल: मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार के मंत्रियों के रवैए से नाराज सत्ता पक्ष के ही विधायक लामबंद हो रहे हैं. ऐसे 25 से अधिक विधायकों ने तो एक क्लब ही बना लिया है. इन विधायकों में से कई मुख्यमंत्री कमलनाथ के सामने अपनी नाराजगी भी जाहिर कर चुके हैं.

सूत्रों का कहना है कि कई मंत्रियों के रवैए से विधायकों में नाराजगी है. इस क्लब में अधिकांश विधायक वे हैं जो पहली बार विधानसभा का चुनाव जीत कर आए हैं. इस क्लब में सत्ताधारी दल के अलावा निर्दलीय और कांग्रेस सरकार को समर्थन देने वाले दलों के विधायक भी बताए जा रहे हैं.

बसपा की विधायक रामबाई ने संवाददाताओं से चर्चा करते हुए स्वीकार किया कि 28 से 30 विधायक इस क्लब में हैं. इसी तरह विधायक डॉ. हीरालाल अलावा ने भी विधायकों की नाराजगी का जिक्र किया. सूत्रों का कहना है कि विधायकों में इस बात को लेकर नाराजगी है कि उनके क्षेत्रों में अफसरों के तबादले उनकी सलाह के बगैर व उन्हें भरोसे में लिए बगैर किए जा रहे है और मंत्री लगातार उनकी उपेक्षा कर रहे हैं. 

वोहरा को मिली जमानत

चंडीगढ
आज पंजाब हरियाणा उच्च न्यायालय ने पंचकूला सैक्टर 16 निवासी सतीश कुमार वोहरा को अंतरिम जमानत दे दी। सतीश वोहरा के खिलाफ महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय समन्वयक रंजीता मेहता द्वारा 29 अक्टूबर 2018 को दी गई शिकायत पर सेक्टर 14 के पुलिस स्टेशन में भारतीय दण्ड सहिंता की धारा 500 और 506 के तहत मामला दर्ज है
इस अन्तरिम जमानत पर अगली सुनवाई 5 अप्रैल को होगी।

आपको याद दिला दें कि 28 सितम्बर 2018 को वोहरा ने पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए रंजीता मेहता पर कुछ आरोप लगाए थे जिनमें उन्होंने कहा कि रंजीता ने उनसे लाखों रुपए का धोखा किया है इतना ही नहीं कुछ फ़र्ज़ी तरीकों से उन्होंने वोहरा परिवार को धोखा दिया है।

आपको बता दें कि 14 नवम्बर पर सतीश कुमार वोहरा की अग्रिम जमानत रद्द कर दी गई थी। रंजीता मेहता ने 13 नवम्बर को पुलिस को शिकायत दी कि 12 नवम्बर शाम 7 बजे सैक्टर 16 की मार्किट में वोहरा ने उनको धमकी दी जबकि वोहरा ने इस बात को पूर्णतः नकारते हुए कहा कि यह आरोप सरासर गलत है क्योंकि जो समय रंजीता बता रही हैं उस समय तो वह पुलिस चौकी में अपना ब्यान दर्ज करवा रहे थे जो कि पुलिस के रिकार्ड में मौजूद है और पुलिस ने उस ब्यान को अदालत में भी पेश किया है।
ब्यान पर समय और तिथि दोनों दर्ज होती हैं।

रंजीता का दूसरा आरोप था कि वोहरा ने रंजीता के पति अभि मेहता के दफ्तर में जा कर उनकी छवि बिगाड़ने की कोशिश की।

वोहरा ने इस आरोप को भी खारिज करते हुए कहा कि वह कभी भी उनके दफ्तर नहीं गए न ही किसी से कोई बात ही की। पुलिस भी सम्बन्धित दफ्तर जा कर तहकीकात कर चुकी है और आरोप बेबुनियाद पाए गए।
वोहरा ने कहा वह पहले भी जाँच में शामिल हुए और अब भी सहयोग करेंगे क्योंकि उन्हें न्यायिक प्रक्रिया पर पूरा यकीन है।

करे जैश भरे जेयूडी(जमात-उद-दावा)

पुलवामा हमले की जैश की स्वीकरोकती के पश्चात पकिस्तान ने जेयूडी(जमात-उद-दावा) को बैन करने का निशच्य लिया है यह फैसला राष्ट्रीय सुरक्षा समिति (एनएससी) की बैठक में लिया गया जिसकी अध्यक्षता पीएम इमरान खान ने की

नई दिल्ली: पुलवामा हमले के बाद भारत के सख्ती ने रंग दिखा दिया है. पाकिस्तान ने 2008 मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के संगठन जमात-उद-दावा और उसके चैरिटी विंग फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन पर प्रतिबंध लगा दिया है. जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में हुए आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवानों के शहीद होने के बाद पाकिस्तान पर कार्रवाई करने को लेकर लगातार अंतरराष्ट्रीय दबाव बन रहा था. 

पीटीआई के मुताबिक गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि प्रधानमंत्री इमरान खान की अध्यक्षता में उनके कार्यालय में गुरुवार को हुई राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक में इन संगठनों पर प्रतिबंध लगाने का फैसला लिया गया.

प्रवक्ता ने एक बयान में कहा, ‘गैरकानूनी करार दिए गए संगठनों के खिलाफ कार्रवाई तेज करने का फैसला बैठक में लिया गया.’ उन्होंने कहा, ‘यह तय किया गया कि गृह मंत्रालय द्वारा जमात-उद-दावा और फलह-ए-इंसानियत फाउंडेशन को गैरकानूनी घोषित किया जाए.’  इससे पहले गृह मंत्रालय ने दोनों संगठनों को निगरानी सूची में रखा था.

अधिकारियों के अनुसार, जेयूडी के नेटवर्क में 300 मदरसे औरस्कूल, अस्पताल, एक प्रकाशन और एम्बुलेंस सेवा शामिल हैं. दोनों समूहों के पास करीब 50,000 स्वयंसेवक और सैकड़ों की संख्या में वेतनभोगी कर्मचारी हैं.

एनएससी बैठक से पहले इमरान और बाजवा ने की एक बैठक
‘भाषा’ के मुताबिक जियो टीवी ने सूत्रों के हवाले से अपनी रिपोर्ट में बताया कि एनएससी की बैठक से पहले प्रधानमंत्री खान और सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने बैठक की जिसमें उन्होंने क्षेत्र की सुरक्षा स्थिति पर विचार-विमर्श किया.

सूत्रों के हवाले से चैनल ने बताया कि इसके बाद एनएससी बैठक के दौरान पुलवामा हमले और इसके बाद उपजी स्थिति पर चर्चा की गई. इस बैठक में सेना प्रमुख जनरल बाजवा, सेवाओं के प्रमुख, खुफिया एजेंसियों के प्रमुखों, सुरक्षा अधिकारियों और वित्त, रक्षा, विदेश मामलों तथा गृह विभाग के लिए संघीय तथा राज्य मंत्रियों ने भाग लिया.

पाकिस्तान के आईसीसी से निष्कासन की तैयारी मे बीसीसीआई

हाल ही में पुलवामा में CRPF के काफिले पर हुए आतंकवादी हमले में भारत के दर्जनों जवानों की शहादत के बाद इसी साल इंग्लैंड में होने वाले क्रिकेट वर्ल्ड कप में भारत पाकिस्तान मुकाबला के बहिष्कार का मांग लगातार जोर पकड़ती जा रही है. अब खबर आई है कि बीसीसीआई ने एक चिट्ठी तैयार की है जिसमें आईसीसी से क्रिकेट के इस महाकुंभ से पाकिस्तान को बैन करने की मांग की जाएगी और ऐसा ना होने की सूरत में बीसीसीआई यानी टीम इंडिया वर्ल्ड का हिस्सा नहीं होगी.

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक बोर्ड के सीईओ राहुल जौहरी ने इस खत का मजमून तैयार कर लिया है और इसे बोर्ड को चला रही सीओए के चीफ विनोद राय की मंजूरी भी हासिल हो चुकी है. इसे गुरुवार को आआईसीसी के चेयरमेन शशांक मनोहर को भेजा जा सकता है लेकिन उससे पहले कानूनी सलाह ली जाएगी.

भारत और पाकिस्तान के बीच 16 जून का वर्ल्ड कप का मुकाबला खेला जाएगा. इस टूर्नामेंट में कुल 10 टीमें भाग लेंगी.

भारत और पाकिस्तान के बीच आईसीसी विश्व कप में होने वाले मैच के बहिष्कार की मांग के बीच मैनचेस्टर में 16 जून को होने वाले इस मैच का जलवा प्रशंसकों के बीच बरकरार है. ओल्ड ट्रैफर्ड में 25000 दर्शकों की क्षमता के बावजूद टिकटों के लिए 400000 से अधिक लोगों ने आवेदन किया है.

“Sexual abuse is rampant in Church” Sister Lucy

Religious women, priests and laymen who supported a nun after she filed a police complaint of rape against Jalandhar ex-bishop Franco Mulakkal, are being systematically targeted by the Catholic Church in Kerala.

Nuns, who form the most vulnerable community in the Church, are facing most of this oppression. While five nuns who took to streets demanding the arrest of the bishop are being put under pressure and threatened, another nun who was an important witness in the case was harassed and tortured under wrongful confinement in a convent this wee. Another who participated in the protest has been served a canonical notice of expulsion from her Franciscan Clarist Congregation (FCC).

Sister Lucy Kalappura, who has been given time up to 10 March to give reasons not to initiate expulsion proceedings against her, is least deterred by the move. The 53-year-old nun, who works in a government-aided school under the management of the Mananthavady diocese in Wayanad district, talks about the reasons in this interview. Here are the edited excerpts of the conversation:

Why are you confident that the present move to oust you from the congregation will not succeed?

Because I have not done anything wrong. They cannot oust me for supporting a fellow nun while she was suffering physical, mental and spiritual pain and five of her colleagues came out on the streets demanding justice. The FCC authorities have, therefore, cooked up flimsy grounds by raking up old issues for proceedings against me. The charges they have levelled against me will not stand legal scrutiny. Therefore, I am not afraid of their moves.

File image of Sister Lucy Kalappura. Image courtesy: TK Devasia
File image of Sister Lucy Kalappura

If you feel so, why do you think your superior general has served you with a canonical notice with a threat of dismissal from the congregation?

I think it is part of a larger plan by those supporting the bishop to intimidate the witnesses and silence those supporting the nuns. A similar warning was issued to priests and laymen, who came out in the open against the bishop. Many others are being harassed and tortured.

I feel this is aimed at torpedoing the case. I don’t know why the supporters of the bishop are resorting to these tactics if they believe that he is innocent. The case is in the court. The bishop will get ample opportunity to prove his innocence if he is really innocent.

Do you personally think the bishop is guilty of rape?

I do not know either the bishop or the nuns. I have not seen any of them before. I came to know about the incident only after I read in the media about the protest staged by the five nuns, who stayed with the rape survivor at the Kuravilangad convent at Kochi. Such a street protest by nuns was unprecedented in the history of Catholic Church. When the nuns resorted to such a protest, I believed that they had a strong reason to do so. I am not trying to judge anybody. Let the court bring out the truth.

Why did you then decide to join the protest?

There are thousands of nuns in the Catholic Church across India. I thought they will stand by the protesting nuns after they came out of their convent demanding justice. I felt they had a moral responsibility to listen to these nuns in their hour of crisis. When none came forward, I stepped out. I am an ordinary nun. I don’t have the power or resources to provide any material support to the protesting nuns. But I felt at least my presence would give them strength to continue their fight for justice. I will continue to support them as long as they fight for justice.

Has your decision got to do anything with similar sexual abuse you have faced while serving as a nun?

I have personally faced sexual advances not only from priests but also members of the laity, but I have not succumbed to them. At least two priests tried to sexually abuse me in my workplace. While I was teaching in a school in Rajasthan, the headmaster of the school, who was also a priest, made sexual advances against me when I approached him to clear a doubt in the subject I taught. I could overcome such advances as I held my vow of chastity strong. I could avoid similar situations later in life by keeping safe distance from such people.

Do you think sexual abuse is a serious issue in the Catholic Church?

Yes. Sexual abuse is rampant in the Catholic Church. It is hidden under the iron walls of the Church.

There are several nuns who are silently suffering the sexual exploitation. Many have told me about their experiences after I came forward to support the Kuravilangad nuns. The priests who preach the Ten Commandments in the Church violate them without any scruples.

Why is sexual abuse rising in the Church now?

I think it is because of the influence of materialism that is gripping the Church. It is running after money. The Church charges money for every sacrament and service it renders from poor and rich alike. Why does the church need so much money for its spiritual activities? The money is not used to help the poor and the needy as Jesus Christ taught, but to help priests and prelates to lead a luxurious life. The pursuit for luxury has been leading to corruption and other aberrations. There is no love left in the Church anymore.

Why do you think nuns are not coming out against the sexual exploitation they are suffering within the Church?

I think it is because of lack of financial independence. The nuns fear they may be ousted from the congregation if they speak out. Once they are ousted, they have nowhere to go and have no means to sustain their lives.

While they have surrendered their share of the family property after joining the religious order, whatever they earn from the job as a nun is taken away by the congregation.

They are totally dependent on their superiors for their personal needs. The nuns have to beg for money they need for even simple things like recharging a phone. Most often, these requests are not considered sympathetically. This forces nuns to seek support from outside the congregation. Since their immediate contact is a priest, many nuns approach them for money. Some priests misuse this opportunity. Thus, lack of financial independence not only forces them to suffer the abuses silently but also makes them vulnerable to abuses.

Can you blame the priests alone for the sexual abuse happening in the Church?

Certainly not. There are many among the nuns who seek sexual pleasure. This is because they don’t have the true religious calling. I cannot blame them because they have been pushed into religious life at a very young age. I don’t think any woman who has chosen religious life after attaining the age of maturity will break the vow of chastity. I have been, therefore, demanding raising the age of girls for entering the religious life from the present 15 to 21. This is one of the charges against me.

Have you chosen the religious path on your own volition?

I had felt the religious calling while I was studying in Class 10. However, I waited till I passed my pre-degree to enter the nunnery. I tried to sustain the calling by joining a Christian college and staying in a hostel run by the nuns while studying for pre-degree. My main motive behind the decision was to do good for the people. If I had chosen a married life, I thought I would not have been able to do things I wanted to because of family obligations.

Do you regret your decision in light of the several bitter experiences you have faced in your 33 years of life as a nun?

I have thought many times that I could do better by remaining outside the cloistered life. I chose the religious order as I wanted to do good for the people. But after joining the convent, I realised it was not easy. I needed permission from higher authorities for anything I wanted to do.

I have to beg them for money to even give alms to a beggar. I could do better as an ordinary woman.

I have seen many ordinary people doing a lot of good for the society. The nuns, on the other hand, are confined to the convents. Though many convents have large sums of money, they are not spent for the needy. In spite of this, I do not regret my decision to join the religious order. I am fully satisfied because I have not allowed anybody to subjugate me, any pain to tire me and no regulations to enslave me. Therefore, I have no prick of conscience. I am holding my head high.

What is the message you have for fellow nuns?

I love all my fellow nuns. What I have to tell them is that we are not supposed to remain subjugated. We are entitled to get all reasonable benefits which the priests get. We should get happiness and satisfaction within the convent. We should fight for financial freedom so that we can help a poor person we come across the society without going through the rigorous process of seeking permission from the authorities.

We should not need permission to do good for the people. We should not bow down to the priests. If any of the nuns find chastity difficult to observe, they should quit the order and lead a married life instead of violating the vow.

For Pakistan, it’s time to stop the bluster and inject some sober reality into statements.

If it wasn’t such a dangerous situation, the statements coming thick and fast from Pakistan would be hilarious and perplexing. Pakistan prime minister Imran Khan is his speech aimed mostly at the international community and his domestic audience — leaning forward at each word and gesture — prof-erred advice to India on Kashmir, and promised to take immediate action if India provided ‘actionable’ intelligence on the involvement of Pakistan in the Pulwama attacks.

According to Khan, this was a “Naya” Pakistan that would act differently. To most watchers, however, it seemed remarkably like the same old Pakistan, protesting too much and doing precious little. Yes, the Pakistan prime minister is considerably better looking than that poor Nawaz Sharif, now showing his age as he battles multiple cases. But that’s about all.

File picture of Imran Khan
File picture of Imran Khan.

To an ignorant observer, Imran’s speech would have seemed to be entirely sincere, especially when he asked what Pakistan had to gain from an attack at a time when it was seeking financial assistance from one and all. The observer, however uninformed, would only have to type in “Jaish-e-Mohammed” into a search engine to get all the details of the outfit’s huge buildings and campuses in Bahawalpur in the province of Punjab.

Thereafter if interested, he or she could also access an interesting input. Recent reports amply demonstrate Jaish-e-Mohammed chief’s threats against Kashmir, and Pulwama specifically, during a rally on 5 February in Peshawar barely nine days before the attack. That is the date when Pakistan marks “Kashmir Solidarity Day” when extremist and terror groups show their muscle at rallies where every kind of threat against India, and its leaders are publicly made. Really, Prime Minister Khan, it’s simply far too easy to see.

In the same taped broadcast, Khan also chose to warn India that Pakistan would retaliate against any attack, which is something that would be expected from the prime minister of a country that is in danger. However, the curious part is that he chose to make these statements five days after the Pulwama attack, and well after Prime Minister Narendra Modi’s own warning of a suitable retaliation. Khan’s stated position is that he was busy with the Saudi prince, which is somewhat plausible since he was engaged in driving the royal around. But no head of a country is likely to react so slowly to a threat of war unless he was either waiting for some commitment/information from some source or, else he’s been told to make such a statement by the powers that stand at his elbow. Reports pointing to 35 cuts and editing in the video only fuelled this speculation.

Since then others in his entourage, probably fired by his public indignation have been up in arms. The Pakistan foreign minister pre-empted his chief by calling for proof (16 February) of Jaishe-Mohammed’s hand in the attack, probably reading from a statement that lies in triplicate in a file related to the 26/11 Mumbai Attacks. Former Pakistan cricket captain Shahid Afridi backed Khan to the hilt, but clearly far more upset at the cancellation of the forthcoming matches of the Pakistan Super League.

A far more extreme position came from Pakistan Ambassador to Afghanistan Zahid Nasrullah Khan who chose to issue a statement that peace talks between the US and the Taliban would be affected if India resorted to violence. This created a hum on social media and seemed to expose Pakistan’s game of blackmail and efforts to drag the US into the whole. The statement was, however, less undiplomatic than it seemed. Next week, the US representative is to meet with Taliban leaders at Qatar. The Pakistan ambassador was making a threat that he could easily deliver on. In the event, the US didn’t rise to the bait. The US National Security Advisor supported India’s right to self-defence, as did Secretary of State Mike Pompeo.

The situation then went from strange to stranger as other Pakistani officials weighed in. Sheik Rashid, a politician who changes parties like he changes his clothes, waxed eloquent declaring, “If anyone tries to look at Pakistan with evil in their minds, their eyes will be gouged out…. Neither will birds chirp nor will bells ring at the temples after that.” With that, there seemed little more to say. Memes and ribaldry prevailed on social media, bringing the whole situation to the level of a circus, and a very poor one at that.

The outcry seemed to be an exercise in one-upmanship. In the middle of all this melee, the usually loquacious Director General ISPR ( Inter-Services Public Relations) Major General Asif Ghafoor was unexpectedly silent. So did the military brass. It would have seemed a dignified silence, but for this barrage of statements from persons like Rashid who are practically unofficial spokespersons for the establishment. In all this, there is one clear danger. In India, it is the prime minister who outlined the position of the government and gave the decision making to the Indian Armed Forces on how to implement his directive. That is how a democratic country works, despite the apparent noise and flurry of public hyperventilating. In Pakistan, it is still unclear, and thereby there is always a risk of misinterpretation of signals and a possible unintended escalation. It’s time to stop the bluster and inject some sober reality into statements. This is all getting too much like reality TV. Except that this is about war and loss of lives, and somewhere, someone may blunder.

पाकिस्तान में जा रहा भारतीय हिस्से का पानी अब भारत ही में बहेगा: नितिन गडकरी

केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भारतीय पानी को पाकिस्तान जाने से रोकने के लिय उठाए गए कदमों की बात तो की परंतु वह यह भूल गए की पुंजाब में अमरिंदर-सिद्धू की सरकार है, इनहोने पहले ही सतलुज यामिना नहर को समतल कर दिया है और हरियाणा के हिस्से मेन आने वाला सतलुज का पानी भी पाकिस्तान को ही जाने दिया है क्या इस प्रकार वह पाकिस्तान को पानी रोक पाएंगे???

नई दिल्ली; पुलवामा आतंकी हमले के बाद मोदी सरकार ने बड़ा कदम उठाते हुए पाकिस्तान को जाने वाले अपने हिस्से के पानी को रोकने का फैसला किया है. इसके साथ ही इस पानी को जम्मू और कश्मीर और पंजाब की तरफ मोड़ने का फैसला भी केंद्र सरकार ने लिया है. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने ट्वीट कर यह जानकारी दी.

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘पीएम मोदी के नेतृत्व में हमारी सरकार ने पाकिस्तान के ओर जाने वाले अपने हिस्से के पानी को रोकने का फैसला किया है. हम पूर्वी नदियों के पानी का रुख जम्मू कश्मीर और पंजाब की तरफ मोड़ेंगे.’ 

MODI Govt. has decided to stop our share of water which used to flow to Pakistan

नितिन गडकरी ने एक अन्य ट्वीट में कहा, शाहपुर-कंडी में रावी नदी पर बांध बनाने का काम शुरू हो चुका है. वहीं UJH प्रोजेक्ट हमारे हिस्से के पानी को जम्मू-कश्मीर के लिए संग्रहित करेगा और शेष पानी दूसरे रावी-ब्यास लिंक के जरिए बहते हुए दूसरे बेसिन राज्यों को मिलेगा. 

MODI Govt. has decided to stop our share of water which used to flow to Pakistan

इससे पहले बुधवार को एक कार्यक्रम में नितिन गडकरी ने कहा था, ‘बंटवारे के बाद भारत और पाकिस्तान को तीन-तीन नदियों के पानी के इस्तेमाल की अनुमति मिली थी. इस समझौते के बावजूद भारत के कोटे में आई तीन नदियों का पानी अब तक पाकिस्तान में प्रवाहित हो रहा था. अब हमने इन तीनों नदियों पर प्रॉजेक्ट्स का निर्माण कराया है, जिनकी मदद से अब इन नदियों का पानी पंजाब और जम्मू-कश्मीर के लोगों के लिए इस्तेमाल किया जाएगा. एक बार जब यह काम शुरू हो जाएगा तो इससे यमुना नदी के जलस्तर में वृद्धि भी हो सकेगी.’