पुलवामा हमले के डेढ़ घंटे बाद राहुल ने लगाए ठुमके, सुरजेवाला ने प्रधान मंत्री पर बोला तीखा हमला

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि जिस वक्त देश शहीदों के शव के टुकड़े चुन रहा था. उस वक्त पीएम मोदी अपने नाम के नारे लगवा रहे थे.( जिस वक्त देश शहीदों के शव के टुकड़े चुन रहा था. उसके ठीक डेढ़ घंटे बाद राहुल गांधी ठुमके लगा रहे थे, पुलवामा हत्याकांड के शहीदों की पीड़ा उनके चेहरे पर साफ झलकती है। कांग्रेस के पास इस आचरण के लिए कोई शब्द नहीं बचा है) इस विडियो का ब्योरा आपको ताल ठोक के के इस अंक में देखें

कांग्रेस की सिर्फ एक ही चाहत है ‘सत्ता’, इसके लिए कुछ भी? क्या झूठ फैलाना ठीक है,? क्या सत्ता के लिए किसी भी निम्न स्तर पर गिर जाना यही कांग्रेस की नीति है?

संबित पात्र ने बताया की एक प्र्वकता का कर्तव्य है जब उसे कोई अति महत्वपूर्ण घटना का पता चले तो वह तुरंत अपने पार्टी अध्यक्ष को सूचित करे। सुरजेवाला स्वयं यह मान रहे हैं की उनको पुलवामा हमले का 3: 14 दोपहर को पता चल गया था, फिर उन्होने क्या इस बात को राहुल गांधी के साथ सांझा नहीं किया? यदि नहीं तो वह कैसे प्रवक्ता हैं, और यदि किया तो फिर डेढ़ घंटे बाद राहुल को नाचने की क्या सूझी?

संबित जानते हैं की उनके इन प्रश्नों का उत्तर उन्हे कभी नहीं मिलेगा, परंतु सत्ता पक्ष भी विपक्ष से प्रश्न पूछ सकता है।

सुरजेवाला ने क्या कहा वह तो इस विडियो के बाद आप सब पढ़ ही लेंगे परंतु वह क्या छुपा रहे थे वह इस एपिसोड में आपको ज़रूर जानना चाहिए।

साभार ज़ी न्यूज़

अब आगे

पुलवामा अटैक पर कांग्रेस ने गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके भारतीय जनता पार्टी पर पुलवामा हमले को लेकर राजनीति करने का आरोप लगाया है. कांग्रेस ने कहा कि ‘पीएम मोदी और अमित शाह बस इसका राजनीतिक फायदा उठा रहे हैं. उन्होंने राष्ट्रीय शोक की घोषणा भी नहीं की.’

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि जिस वक्त देश शहीदों के शव के टुकड़े चुन रहा था. उस वक्त पीएम मोदी अपने नाम के नारे लगवा रहे थे और अमित शाह रैली में कांग्रेस पर हमला कर रहे थे.

सुरजेवाला ने कहा, ‘जब देश दोपहर में हुए पुलवामा अटैक पर शहीदों की जान जाने पर रो रहा था, तब पीएम मोदी शाम तक जिम कॉर्बेट पार्क में शाम तक फोटो शूट कराते रहे. पूरी दुनिया में कोई ऐसा पीएम है क्या? मेरे पास इस आचरण के लिए कोई शब्द नहीं बचे हैं.’

सुरजेवाला ने कहा कि हमले के बाद मोदी और शाह ने राष्ट्रीय शोक की भी घोषणा नहीं की, ताकि उनकी रैलियां और राजनीतिक कार्यक्रम रुक न जाएं.

कांग्रेस ने पीएम मोदी के दक्षिण कोरिया के दौरे पर भी सवाल उठाए. साथ ही सुरजेवाला ने ये भी कहा कि पीएम मोदी शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए उनके परिवार वालों को इंतजार करवा रहे थे.

सुरजेवाला ने कश्मीर में बढ़ी अस्थिरता पर तो सवाल उठाया ही, पुलवामा अटैक पर सरकार के सामने सवाल रखे. उन्होंने कहा कि आतंकियों को इतनी बड़ी मात्रा में आरडीएक्स और रॉकेट लॉन्चर कैसे मिले? उन्होंने सवाल किया कि जब सीआरपीएफ जवानों की तैनाती में देरी हुई थी, तो उन्हें एयरलिफ्ट क्यों नहीं किया गया? जैश-ए-मुहम्मद की ओर से चलाए गए धमकी भरे वीडियो को नजरअंदाज क्यों किया गया?

PS Note: सुरजेवाला क्या प्रश्न ही पूछेंगे या फिर उपरोक्त प्रश्नों यानि राहुल के नाचने का कारण भी समझा पाएंगे

देवबंद से जैश ए मोहम्मद के 2 आतंकी गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश एटीएस ने जैश ए मोहम्मद के दो आतंकी पकड़े हैं. डीजीपी ओपी सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि रात में यूपी एटीएस को संदिग्ध आतंकियों की जानकारी मिली थी. कुछ कश्मीरी देवबंद में बगैर एडमिशन के रह रहे हैं. रात में यूपी एटीएस के आईजी ने देवबंद में ऑपरेशन चलाया. एटीएस ने शाहनवाज़ और आकिब अहमद मलिक को गिरफ्तार किया. दोनों को रिमांड पर लेकर विस्तृत पूछताछ की जाएगी.

डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि गिरफ्तार किया गया जैश का आतंकी शाहनवाज कुलगाम और आकिब पुलवामा का रहने वाला है. शाहनवाज़ जैश ए मोहम्मद का सक्रिय आतंकी है. दोनों लोग जैश ए मोहम्मद के लिए भर्ती का काम करते हैं. ओपी सिंह ने बताया कि आरोपियों के पास से 32 बोर की 2 पिस्टल और 30 जिंदा कारतूस मिले हैं. दोनों के मोबाइल से जेहादी चैट्स मिले हैं. शाहनवाज़ ग्रेनेड्स का एक्सपर्ट है.

इससे पहले यूपी एटीएस ने एक दुकानदार सहित लगभग 10 से 12 छात्रों को हिरासत में लिया था. जिनमें 2 कश्मीर के छात्र, 5 ओडिशा और अन्य अलग-अलग जगह थे. यह छापेमारी देर रात करीब 2 बजे की गई थी.

बता दें कि पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद खुफिया एजेंसियों की ओर से आतंकी हमले की संभावना जताई गई थी. हाल ही में कानपुर ट्रेन धमाका भी हुआ. साथ ही महाराष्‍ट्र के रायगढ़ में भी बस में आईईडी बम मिलने से हड़कंप मच गया. हालांकि आशंकाओं को लेकर सक्रिय हुई एजेंसियां संदिग्‍धों पर कड़ी नजर रख रही हैं. वहीं पुलिस भी सतर्कता बरत रही है.

भाजपा के नेताओं का अगर गला भी खराब हो जाता है तो वे नेहरू को जिम्मेदार ठहराने लगते हैं: मनीष

मनीष ने यह भी आरोप लगाया कि कश्मीर की मौजूदा हालात के लिए बीजेपी जिम्मेदार है

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के जरिए पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू को कश्मीर समस्या का जनक कहे जाने पर कांग्रेस ने पलटवार किया है. साथ ही दावा किया कि सत्तारूढ़ पार्टी के नेताओं का अगर गला भी खराब हो जाता है तो वे नेहरू को जिम्मेदार ठहराने लगते हैं.

पार्टी ने यह भी आरोप लगाया कि कश्मीर की मौजूदा हालात के लिए बीजेपी जिम्मेदार है. जिसने पीडीपी के साथ अवसरवादी गठबंधन किया था. कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कहा, ‘अगर भारतीय जनता पार्टी के नेताओं का गला खराब हो जाता है या गले में खराश भी शुरू होती है तो उसके लिए पंडित नेहरू जिम्मेदार हो जाते हैं.’ उन्होंने दावा किया, ‘अगर कश्मीर की परिस्थिति खराब हुई है तो उसके लिए बीजेपी पूरी तरह से जिम्मेदार है. जो अवसरवाद का गठबंधन इन्होंने पीडीपी के साथ बनाया था, उसने जम्मू-कश्मीर को इस मोड़ पर लाकर खड़ा कर दिया है.’

तिवारी ने कहा, ‘जब 2015 में चुनाव हुए थे तब 64 प्रतिशत लोगों ने वोट डाले थे. जब श्रीनगर में लोकसभा का उपचुनाव हुआ तब सात प्रतिशत लोगों ने वोट डाले. ये जो बड़े तुर्रम खान बनते हैं, जो सरकार में बैठे हैं, वो अनंतनाग की लोकसभा सीट का उपचुनाव आज तक नहीं करवा पाए हैं. ऐसे में अगर जम्मू-कश्मीर के हालात बिगड़े हैं तो उसके लिए सीधा-सीधा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी, उनकी सरकार और पीडीपी के साथ अवसरवादी गठबंधन जिम्मेदार है.’’ दरअसल, अमित शाह ने पुलवामा आतंकी हमले की पृष्ठभूमि में बृहस्पतिवार को एक जनसभा में दावा किया था कि पाकिस्तान जिस कश्मीर के कारण आतंकवादी घटनाएं करवा रहा है उस समस्या के जनक जवाहर लाल नेहरू हैं. अगर उस समय सरदार पटेल देश के प्रधानमंत्री होते तो आज ये समस्या ही नहीं होती.

PS note:
मनीष तिवारी की मानें तो 2014 से पहले घाटी के हालात बहुत ही सर्वांगीण विकास की ओर जा रहे थे, और कभी घाटी में कोई बड़ी वारदात नहीं हुई। मनीष को तो यह भी याद नहीं होगा कि काशमीर कि इकलौती पहचान काश्मीरी पंडित हैं, जो अब घाटी में नहीं, बल्कि अपने ही देश में रेफूजी हैं। और मनीष कि मानें तो यह सब 2014 के बाद हुआ है।

मनीष भूलते हैं कि विभाजन के समय पर ही कश्मीर मुद्दे का समाधान कर पाने में नेहरू की असफलता की देश भारी कीमत चुका रहा है और नेहरू की इस भूल की उपेक्षा नहीं की जा सकती। गौर करने वाली बात यह है कि गृहमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल सभी दूसरी राजशाही वाली सियासतों का भारत संघ में एकीकरण करने में सफल रहे। जब उनमें से किसी ने दुविधा दिखाई या पाकिस्तान में शामिल होने की इच्छा जाहिर की, तो पटेल ने उन्हें उनकी जगह दिखा दी। उदाहरण के लिए, हैदराबाद के निजाम के सशस्त्र विद्रोह को कुचल दिया गया।

 जम्मू-कश्मीर राजशाही वाला एकमात्र ऐसा राज्य था, जिसे भारत से जोड़े जाने की प्रक्रिया सीधे प्रधानमंत्री नेहरू की देखरेख में हो रही थी। कश्मीर को पाने के लिए भारत के खिलाफ पाकिस्तान की 1947 की पहली जंग ने भी नेहरू सरकार को इस बात का बेहतरीन मौका दिया था कि वह न केवल हमला करने वालों को खदेड़ देती, बल्कि पाकिस्तान के साथ हमेशा के लिए कश्मीर मुद्दे को सुलझा देती।

‘ये दुख की बात है, संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि तमाम देश आतंकवाद के खिलाफ भारत के साथ खड़े है, वहीं यहां कुछ दल देश के साथ नहीं हैं.’ संबित

नई दिल्ली: पुलवामा आतंकी हमले के मुद्दे पर कांग्रेस पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए बीजेपी ने शुक्रवार को कहा कि कुछ दल देश के साथ नहीं हैं और उनके ट्वीट पाकिस्तानी चैनल में दिखाए जा रहे हैं.

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने से कहा कि कल ट्वीट करके हमारी सरकार की तरफ से ये जानकारी दी गई कि भारत का पानी पाकिस्तान में नहीं जाएगा, वो पानी भारत में डाइवर्ट होगा. उन्होंने कहा कि जो कभी नहीं हुआ, उसे कल स्पष्ट किया गया . इस कदम के बाद भारत की वाहवाही हो रही है. लेकिन सरकार की इस कार्रवाई से कुछ लोग परेशान हैं.

बीजेपी ने साधा कांग्रेस पर निशाना 
बीजेपी प्रवक्ता ने आरोप लगाया कि उसके बाद मनीष तिवारी और शशि थरूर ने ट्वीट करके हिन्दुस्तान के विरोध में बात की है. उनके बयान पाकिस्तान के चैनल में दिख रहे हैं.

उन्होंने दावा किया कि पुलवामा हमले के बाद एक कांग्रेस प्रायोजित लेख छपता है जो हमारे जवानों की जाति विवेचना करता है. उन्होंने सवाल किया कि क्या सेना की कोई जाति होती है? 

पात्रा ने कहा, ‘ये दुख की बात है. संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि तमाम देश आतंकवाद के खिलाफ भारत के साथ खड़े है. वहीं यहां कुछ दल देश के साथ नहीं हैं . ’ उन्होंने जोर दिया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की डिप्लोमेसी के कारण ही आज विश्व के कई देश भारत के साथ खड़े हैं. कांग्रेस पर निशाना साधते हुए बीजेपी प्रवक्ता ने कहा कि आपने अगर 70 सालों में विश्व को गले लगा लिया होता तो आज ऐसी नौबत नहीं आती .

पात्रा ने कहा कि अभी कुछ देर पहले पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि भारत में होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले ये हमला कैसे हुआ? वो तो दुश्मन देश है, लेकिन हमारे ही देश में ममता बनर्जी सहित कुछ नेताओं ने भी इस तरह की बातें कही हैं जो वाकई दुःखद है .

‘देश के कुछ दुश्मन देश के अंदर हैं’ 
उन्होंने कहा कि हम पाकिस्तान से पहले भी लड़े हैं, उसे नाकों चने चबाये हैं. मगर देश के कुछ दुश्मन देश के अंदर हैं, जिनके दिए साक्ष्यों को पाकिस्तान इस्तेमाल कर रहा है .

पुलवामा आतंकी हमले के बाद सरकार की कार्रवाई का जिक्र करते हुए संबित पात्रा ने कहा कि जो कायराना हमला पाकिस्तान ने करवाया था, उसके बाद भारत सरकार ने सभी अलगाववादी नेताओं के सुरक्षा चक्र को खत्म किया. 

उन्होंने जोर दिया कि जो बहुत सालों में नहीं हुआ था, वो हमने एक झटके में किया. इससे देश में कई सारे लोग परेशान हैं . कुछ लोगों को ये बात हजम नहीं हो रही है .बीजेपी प्रवक्ता ने जोर दिया कि जब संयुक्त राष्ट्र समेत तमाम देश आतंकवाद के खिलाफ भारत के साथ खड़े है, वहीं इस मुद्दे पर देश में एक स्वर निकलना चाहिए .

द्देश आपके झूठे प्रचार से आजिज़ आ चुका है राहुल जी: बीजेपी

नई दिल्लीः पुलवामा आतंकी हमले वाले दिन प्रधानमंत्री पर फिल्म की शूटिंग में व्यस्त रहने के राहुल गांधी के आरोपों पर पलटवार करते हुए बीजेपी ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष उस दिन सुबह के समय का फोटो जारी करके देश को गुमराह करना बंद करें, देश आपके फेक न्यूज से तंग आ चुका है.  राहुल गांधी के ट्वीट के बाद बीजेपी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर कहा, ‘‘ राहुल जी, भारत आपके फेक न्यूज से तंग आ चुका है . उस दिन सुबह के समय की फोटो निर्लज्जता से जारी करके देश को गुमराह करना बंद करें .’’ 

कांग्रेस अध्यक्ष पर निशाना साधते हुए बीजेपी के ट्विटर हैंडल पर कहा गया है कि ऐसा लगता है कि आपको पहले पता चल गया होगा, लेकिन भारत के लोगों को शाम में ही जानकारी मिली. बीजेपी ने कहा कि अगली बार इससे बेहतर स्टंट करें जहां जवानों की शहादत नहीं जुड़ी हुई हो.

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पुलवामा आतंकी हमले वाले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक चैनल के लिए फिल्म की शूटिंग करने संबंधी खबरों को लेकर शुक्रवार को उन पर हमला बोला और आरोप लगाया कि जब शहीदों के घर ‘दर्द का दरिया’ उमड़ा था तो ‘प्राइम टाइम मिनिस्टर’ हंसते हुए दरिया में शूटिंग कर रहे थे. 

शहीदों के घर ‘दर्द का दरिया’ उमड़ा था और ‘प्राइम टाइम मिनिस्टर’ दरिया में शूटिंग कर रहे थे: राहुल
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पुलवामा आतंकी हमले वाले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक चैनल के लिए फिल्म की शूटिंग करने संबंधी खबरों को लेकर शुक्रवार को उन पर हमला बोला और आरोप लगाया कि जब शहीदों के घर ‘दर्द का दरिया’ उमड़ा था तो ‘प्राइम टाइम मिनिस्टर’ हंसते हुए दरिया में शूटिंग कर रहे थे.

गांधी ने प्रधानमंत्री की शूटिंग से जुड़ी तस्वीर ट्विटर पर शेयर करते हुए कहा, ‘‘पुलवामा में 40 जवानों की शहादत की खबर के तीन घंटे बाद भी ‘प्राइम टाइम मिनिस्टर’ फिल्म शूटिंग करते रहे. देश के दिल व शहीदों के घरों में दर्द का दरिया उमड़ा था और वे हंसते हुए दरिया में फोटोशूट पर थे.’’ 

इससे पहले बृहस्पतिवार को कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि जब देश इस जघन्य हमले के कारण सदमे में था तो उस वक्त मोदी कार्बेट पार्क में एक चैनल के लिए फिल्म की शूटिंग और नौकायन कर रहे थे. उन्होंने यह भी दावा किया कि प्रधानमंत्री अपनी सत्ता बचाने के लिए जवानों की शहादत और ‘राजधर्म’ भूल गए. सुरजेवाला ने कहा, ‘‘हमला 14 फरवरी दिन में करीब तीन बजे हुए और प्रधानमंत्री करीब सात बजे तक शूटिंग और चाय नाश्ते में व्यस्त थे. प्रधानमंत्री के इस आचरण को लेकर गंभीर सवाल खड़े होते हैं.’’ 

उधर, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि देश की सुरक्षा पर प्रधानमंत्री की प्रतिबद्धता को लेकर आरोप लगाने का देश की जनता पर कोई असर नहीं होने वाला है. गौरतलब है कि गत 14 फरवरी को हुए पुलवामा आत्मघाती आतंकी हमले में सीआरपीएफ के कम से कम 40 जवान शहीद हो गए थे.

Youth held for snatching 10 cases solved

Keeping in view the spurt in incidence of snatching and vehicle theft cases, senior officers has issued special directions and instructions to curb and detect this crime. Working on the directions of the senior officers, on 21.2.2019, acting on secret information a team of Police Station-34 Chandigarh led by SI Satnam Singh, I/c Police Post Burail Chandigarh laid down naka in Sector-45 Chandigarh under the supervision of SHO Police Station-34 Chandigarh. During Naka Duty accused Rintu S/o Jaipal R/o # 2553/1 Phase-2 Ram Darbar Chandigarh riding on Red Colour Suzuki Access No.CH-42(T)-9306 used for committing crime in Case FIR No. 421 dated 30.11.2018 U/s 379,356 IPC PS-34 Chandigarh in Sector-45 Chandigarh. 

                                During interrogation Case FIR No. 409 dated 21.11.2018, U/S 379,356 IPC Police Station-34 Chandigarh has been worked out and Purse containing documents have been recovered.  With the arrest of accused Case FIR No. 6 dated 4.1.2019, U/S 392,34,411 IPC Police Station Mouli Jagran Chandigarh has also been worked out. Red Colour Suzuki Access No.CH-42(T)-9306 used for committing crime and Total 03 Smart Phones have been recovered from the accused, which were snatched from him from different sectors in Chandigarh.

The previous involvement of accused is as under:-

S.N FIR NO. DATED UNDER SECTION POLICE STATION
1 345 10.9.2012 377 IPC MANI MAJRA
2 366 05.10.2013 394,411,34 IPC PS-31
3 291 23.10.2013 341,307,395,511 IPC PS-I/AREA
4 199 26.6.2014 307,302 IPC PS-31
5 200 27.6.2014 341,397,34 IPC PS-I/AREA
6 92 30.12.2016 392,34 IPC PS-49
7 265 28.7.2017 363,366 IPC PS-34
8. 10 09.1.2019 379,411 IPC PS-ZIRAKPUR
9 16 15.1.2019 244 IPC PS-DERABASSI
10 06 4.1.2019 392,34,411 IPC PS-MOULI JAGRAN

            The accused is on Police remand with Police Station-34 Chandigarh, he will be produced in court on 24.2.2019.

2 snatchers arrested

A team of PS 31 police officials, under the supervision of SHO, succeeded to work out a snatching case by arresting following two persons and recovered snatched mobile phone from their possession. Apart from this, 05 other mobile phones have also been recovered from their possession, which were found to be snatched by them from the area of Mohali, Pb and the same were taken into police possession u/s 102 Cr.P.C

Today i.e. 22.02.19, during the investigation of case FIR No 60 dates 13.02.19 u/s 379, 356 IPC was registered in this police station 31,  a team led by ASI Lakha Singh of 31 has laid a naka near Gurudwara Turn sector 47/C, Chandigarh and on receipt of secret information he has arrested two boys namely Amandeep Singh s/o Jasbir Singh Vill Patton near International Airport JLPL Area Mohali Pb and Kasim Ali s/o Kadar Ali Vill Mouli Baidwan Mohali Pb Age 18 yrs. At the time of arrest of accused person possessed the motorcycle make Hero Honda Spelender PB 65AS 3355, which was used by them at the time of committing snatching on the intervening night of 13/14-02-2019. The snatched mobile make Comio. Besides the snatched mobile police have also recovered 5 more mobiles of various makes I.e. 3 of Samsung, 1 Gionee, 1 MI from the possession of accused person, which were snatched by them from area Mohali, Sohana, Mataour in previous days.

MODUS OPERANDI

The accused person mostly target the labourer who were on there way to home after finishing their jobs. They kept following them and stop them in abandoned and dark area.

Profile of accused persons

Amandeep Singh s/o Jasbir Singh Vill Patton near International Airport JLPL Area Mohali Pb

Qualification 8th

Residing with mother and brothers

Working as patient care boy in Hospital Sec 71 Chd

Involved in crime since 2 years

Criminal cases – 3 cases already registered including 2 cases of snatching in PS Sohana and 01 case of NDPS Act in PS Phase 8 Mohali Punjab

He is Drug addict

Kasim Ali s/o Kadar Ali Vill Mouli Baidwan Mohali Pb Age 18 yrs

Qualification 10 fail

Labour work in  Water Company Sec 82 Mohali Pb

Residing with parents. He is also a drug addict.

वोहरा को मिली जमानत

चंडीगढ
आज पंजाब हरियाणा उच्च न्यायालय ने पंचकूला सैक्टर 16 निवासी सतीश कुमार वोहरा को अंतरिम जमानत दे दी। सतीश वोहरा के खिलाफ महिला कांग्रेस की राष्ट्रीय समन्वयक रंजीता मेहता द्वारा 29 अक्टूबर 2018 को दी गई शिकायत पर सेक्टर 14 के पुलिस स्टेशन में भारतीय दण्ड सहिंता की धारा 500 और 506 के तहत मामला दर्ज है
इस अन्तरिम जमानत पर अगली सुनवाई 5 अप्रैल को होगी।

आपको याद दिला दें कि 28 सितम्बर 2018 को वोहरा ने पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए रंजीता मेहता पर कुछ आरोप लगाए थे जिनमें उन्होंने कहा कि रंजीता ने उनसे लाखों रुपए का धोखा किया है इतना ही नहीं कुछ फ़र्ज़ी तरीकों से उन्होंने वोहरा परिवार को धोखा दिया है।

आपको बता दें कि 14 नवम्बर पर सतीश कुमार वोहरा की अग्रिम जमानत रद्द कर दी गई थी। रंजीता मेहता ने 13 नवम्बर को पुलिस को शिकायत दी कि 12 नवम्बर शाम 7 बजे सैक्टर 16 की मार्किट में वोहरा ने उनको धमकी दी जबकि वोहरा ने इस बात को पूर्णतः नकारते हुए कहा कि यह आरोप सरासर गलत है क्योंकि जो समय रंजीता बता रही हैं उस समय तो वह पुलिस चौकी में अपना ब्यान दर्ज करवा रहे थे जो कि पुलिस के रिकार्ड में मौजूद है और पुलिस ने उस ब्यान को अदालत में भी पेश किया है।
ब्यान पर समय और तिथि दोनों दर्ज होती हैं।

रंजीता का दूसरा आरोप था कि वोहरा ने रंजीता के पति अभि मेहता के दफ्तर में जा कर उनकी छवि बिगाड़ने की कोशिश की।

वोहरा ने इस आरोप को भी खारिज करते हुए कहा कि वह कभी भी उनके दफ्तर नहीं गए न ही किसी से कोई बात ही की। पुलिस भी सम्बन्धित दफ्तर जा कर तहकीकात कर चुकी है और आरोप बेबुनियाद पाए गए।
वोहरा ने कहा वह पहले भी जाँच में शामिल हुए और अब भी सहयोग करेंगे क्योंकि उन्हें न्यायिक प्रक्रिया पर पूरा यकीन है।

BIZ BASH 2019 ORGANIZED AT GGSCW-26

News & Photo: Rakesh Shah


Photo: Rakesh Shah

Post Graduate Department of Commerce of Guru Gobind Singh College for Women, Sector-26, Chandigarh organized BIZ BASH 2019 on 22nd Feb, 2019. The Fest saw participation of more than 300 students from 18 colleges and universities in and around Chandigarh. The event started with 2 minutes mourning and lamp lighting in remembrance of Pulwama martyrs.

The students participated with full rigour and zeal in various events like Business plan, Just a Minute, Ad Mad show, Skit, Group Dance etc. The auditorium was resonated with the cries of “Bharat Mata ki Jai” and “Vande Matram”.

Photo: Rakesh Shah

Big MJ Guri from 92.7 Big FM was special attraction of the event. After the event the prizes were given away by college Principal Dr. Jatinder Kaur who applauded the efforts put in by the participants.

Panel discussion on “Human Rights and National Security Concerns in India at PU

Chandigarh February 22, 2019

        Keeping in view the recent heartbreaking Pulwama Attacks in the state of Jammu & Kashmir, Centre for Human Rights and Duties in collaboration with Department of Defence and National Security Studiesorganised a panel discussion on the topic – “Human Rights and National Security Concerns in India: Emerging Challenges.” The panel consisted of Hon’ble Justice Jasbir Singh as the Chief Guest along with Prof. SurinderShukla, Col. Jaibans Singh, Sh. C. S. Talwar and Mr. VipulAttri as the student representative.

        Panelists were welcomed by Prof. Jaskaran Singh Waraich, Chairperson, Department of Defence and National Security Studies and were handed over planters. A one minute silence was then observed in the memory of the victims of Pulwama Attack.


        Justice Jasbir Singh, President, State Consumer Disputes Redressal Commission, UT Chandigarh talked about the uselessness of the marches and talks, selfies and worded to showcase our concerns for our army-men. He emphasised on the idea that we shall have to start from ourselves when we talk about change.


        Col. JaibansSingh, stated that various International Human Rights organisations while condemning the Pulwama Attacks also mentioned the few instances of violence against Kashmiris in various other parts of India. While they completely ignored the facts that a lot of citizens came to the rescue of these Kashmiris as well. Some of these organisations are deliberately engaging perception management with the intent to undermine the image of India in the international community. Calls for protest and Bandhs by separatists is also an act of Human rights’ abuse against common citizens whose normal lives are disrupted as well as that of the functioning of educational and healthcare institutions.

Col. Jaibans, Prof. SurinderShukla, Department of Political Science started with Pulwama Attacks and quoted that such attacks do not only result in loss of lives but a loss of trust. She also shared that she feels that the kind of protection which is needed by our soldiers isn’t being clearly given and this should be Indian citizens’ common concern. She pointed out that collaborationbetween military and various think tanks can result as a significant solution to the chaos.


        Sh. C. S. Talwar, IAS, said that in the current scenario, various pseudo human rights activists who have been working deliberatively to undermine national security is a serious threat. While talking about the ethos of the Indian Army, he mentioned the Chief of Army Staff’s commandments for operating in a Counter Insurgency/ Counter Terrorist environment and stated the Indian Armies a highly disciplined force which has always worked towards upholding Human Rights.

        Mr. VipulAttri, Joint Secretary, PUCSC emphasised with Dr. Ambedkar’s ‘Rights can’t be absolute’ and deliberated to why restrictions are necessary. He then talked about the initiation of Social Contract and then ended with Mahatma Gandhi’s ideology.
        Dr. Namita Gupta, Chairperson, Centre for Human Rights and Duties delivered a vote of thanks. This panel discussion was also attended by various faculty members, serving military officers, research scholars, and students of the University.