आबकारी एवं कराधान विभाग को नए वित्त वर्ष से पहले एडवांस तकनीक से सुसज्जित किया जाएगा : उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चैटाला

 पंचकूला, 19 जनवरी:

हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चैटाला ने कहा कि प्रदेश के आबकारी एवं कराधान विभाग को नए वित्त वर्ष से पहले एडवांस तकनीक से सुसज्जित किया जाएगा ताकि हरियाणा का यह मॉड्यूल देशभर में अव्वल व अनुकरणीय बन सके। इसके अलावा, उत्कृष्टड्ढ कार्य करने वाले अधिकारियों को जिला स्तर पर सम्मानित किया जाएगा। उपमुख्यमंत्री पंचकुला के लोक निर्माण विभाग विश्राम गृह में हरियाणा के आबकारी एवं कराधान विभाग द्वारा ‘जीएसटी के रजिस्ट्रेशन, रिफंड तथा इन्वेस्टिगेशन’ के मुद्दों पर आयोजित सेमीनार में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। इस अवसर पर कार्यक्रम की अध्यक्षता विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव  अनुराग रस्तोगी ने की। सेमिनार में प्रदेशभर से आए डी ई टी सी, ई टी ओ, ए ई टी ओ, इंस्पेक्टरों ने भाग लिया और अपने सुझाव रखें। सेमीनार में आबकारी एवं कराधान विभाग के आयुक्त  शेखर विद्यार्थी, सहायक आयुक्त  सिद्घार्थ जैन के अतिरिक्त विभिन्न संयुक्त आयुक्त, जिलों से आए जिला आबकारी एवं कराधान आयुक्त समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

डिप्टी सीएम, जिनके पास आबकारी एवं कराधान विभाग का प्रभार भी है, ने आबकारी एवं कराधान विभाग के अधिकारियों द्वारा कोविड-19 के दौरान किए गए कार्य की प्रशंसा की और कहा कि प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद विभाग ने जीएसटी व अन्य मामलों में किए गए संग्रह में अहम भूमिका निभाई है। उन्होंने फील्ड के अधिकारियों द्वारा दिए गए सुझावों व काम में आने वाली बाधाओं को सुनने के बाद कहा कि वर्तमान युग में नित नई तकनीक आ रही हैं जिसके कारण विभाग के कंप्यूटर के हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर समेत अन्य सिस्टम को अपग्रेड करने की आवश्यकता है। उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे कनिष्ठ अधिकारियों की ड्यूटी का आवंटन यथोचित ढंग से करें ताकि कार्य में निपुणता व गुणवत्ता आ सके।

उपमुख्यमंत्री ने आबकारी एवं कराधान विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे विषय-विशेषज्ञ व अनुभवी अधिकारियों की एक टीम बनाएं जो कि उत्पादों के मूल्य की लिस्ट बनाएं ताकि कोई भी उत्पादक अंडर-बिल बनाकर टैक्स की चोरी न कर पाए। उन्होंने फील्ड अधिकारियों से अधिक से अधिक सुझाव देने का आह्वान किया ताकि सिस्टम को पारदर्शी व मजबूत बनाया जा सके, इससे कार्य में तेजी आएगी तथा डिजिटली फ्रॉड को रोका जा सकेगा।

आबकारी एवं कराधान विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव  अनुराग रस्तोगी ने इस सेमीनार को उपमुख्यमंत्री की सोच का हिस्सा बताते हुए कहा कि वैट के बाद जीएसटी शुरू होने पर पिछले 3-4 वर्षों में टैक्स को एकत्रित करने में काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ा है, परंतु आज के सेमीनार से विभाग की कार्यप्रणाली में महत्वपूर्ण परिवर्तन होंगे। उन्होंने बताया कि टैक्स चोरी से संबंधित एफआईआर, केस की जांच, कंप्यूटर के हार्डवेयर,आईटी व अधिकारियों व कर्मचारियों को टैक्स के रिफंड आदि के प्रशिक्षण के बारे में आए सुझावों पर विभाग द्वारा जल्द कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने ई कॉमर्स ट्रेनिंग पर भी बाल दिया जाएगा । अन्य राज्यों से भी स्टैंडर्ड शेड्यूल के रेट भी लेने चाहिए ताकि उनकी कीमत के बारे में भी  सही जानकारी मिल सके।

Police Files, Chandigarh – 19 January

‘Purnoor’ Korel, CHANDIGARH – 19/ 01/ 2021

19.01.2021

One arrested for possessing illicit liquor

          Chandigarh Police arrested Akshay Kumar R/o # 57, Village Raipur Khurd, Chandigarh and recovered 4 boxes (containing 48 bottles) of whiskey from his possession near Wooden Saw, Village Raipur Khurd, Chandigarh on 18.01.2021. A case FIR No. 08, U/S 61-1-14 Excise Act has been registered in PS-Maulijagran, Chandigarh. He was later bailed out. Investigation of the case is in progress.

Action against Gambling

Chandigarh Police arrested Bablu, Nanhe Saah, Kamal Singh and Jarif all resident of BDC, Sector-26, Chandigarh while they were gambling at BDC, Sector-26, Chandigarh on 18.01.2020. Total cash Rs. 7120/- was recovered from their possession. In this regard, a case FIR No. 16, U/S 13-3-67 Gambling Act has been registered in PS-26, Chandigarh. Later he was bailed out. Investigation of the case is in progress.

Snatching

A lady resident of Sector 31, Panchkula (HR) reported that unknown person occupant of motorcycle No. CH04L-9452 snatched away complainant’s purse containing mobile phone and cash Rs. 2500/- near H.No. 3459, Sector-27-D, Chandigarh on 18.01.2021. A case FIR No. 15, U/S 379A IPC has been registered in PS-26, Chandigarh. Investigation of the case is in progress.

Vikarm R/o # 1175-A, Sector-20B, Chandigarh reported that two unknown persons occupants of motorcycle No. PB65AX—- snatched away complainant’s mobile phone at backside of PB and HR Civil Secretariat, Sector 1, Chandigarh on 18.01.2021. A case FIR No. 06, U/S 379A IPC has been registered in PS-03, Chandigarh. Investigation of the case is in progress.

Accident

          A case FIR No. 05, U/S 279, 337 IPC has been registered in PS-03, Chandigarh on the statement of Varun Kumar Gupta R/o # 6/24, Shyam Colony, Sehatpur, Faridabad (HR) against driver of car No. HP-83-0243 namely Ankush Dhiman R/o # 136 Ward No. 7, Tehsil Complex, Bhrampuri, Distt. Hamirpur (HP) who hit to complainant’s car No. HR-51BZ-2909 at Press Light Point, Chandigarh on 17.01.2021. Investigation of the case is in progress.

Theft

Manish Kumar Gupta R/o # 387, Sector-38A, Chandigarh reported that unknown person stole away 2 inverter batteries from his house on the night intervening 17/18-01.2021. A case FIR No. 15, U/S 380 IPC has been registered in PS-39, Chandigarh. Investigation of the case is in progress.

Dowry

A lady resident of Chandigarh alleged that her husband & others resident of Distt. Jind, Haryana harassed the complainant to bring more dowry. A case FIR No. 05, U/S 498A IPC has been registered in PS-Women, Chandigarh. Investigation of the case is in progress.

समाजवादी व्यापार सभा ने किया व्यापारी चौपाल का आयोजन

राहुल भारद्वाज सहारनपुर:

समाजवादी व्यापार सभा के प्रदेश अध्यक्ष, विधायक व पूर्व मंत्री संजय गर्ग ने व्यापारियों की चौपाल में नोटबंदी और जी॰एस॰टी॰ से आई मंदी के बाद अब कोरोना महामारी के कारण व्यापारियों की परेशानी, और व्यापार घटने से असुरक्षा की भावना उत्पन्न होने, तथा कानून-व्यवस्था चौपट होने से आम व्यापारी दहशत में हैं , ई- कामर्स ने छौटे व्यापारी की कमर तोड़ कर रख दी है जिस कारण व्यापारी मानसिक अवसाद से ग्रसित होता जा रहा है ।संजय गर्ग खुमरान रोड, पुरानी चुंगी, सहारनपुर पर आयोजित ‘व्यापारी चैपाल’ में व्यापारियों की समस्याओं पर चर्चा कर रहे थे। चर्चा के दौरान उन्होंने कहा व्यापारियों का उत्पीड़न किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा, उन्होंने कहा कि उनका खोया सम्मान दिलाया जाएगा। व्यापारियों का यह हाल केंद्र और प्रदेश की सरकारों के द्वारा लिए गये ग़लत निर्णयों के कारण हुआ है।

चौपाल का संचालन कर रहे खुमरान रोड व्यापार मण्डल के अध्यक्ष मनोज प्रजापति ने कहा कि सरकार द्वारा कोरोना में राहत दिलाने हेतु दिये गये राहत पेकेज में छोटे व्यापारियों को किसी प्रकार के ऋण का कोई लाभ नहीं मिला है। व्यापारी बैंक के ब्याज और टैक्स के बोझ से परेशान हैं। विद्युत विभाग कम राशि का बिल देय होने पर भी विद्युत कनैक्शन काटकर व्यापारियों का उत्पीड़न कर रहा है। वहीं पुलिस अनावश्यक रूप से व्यापारियों का चालान काटकर व्यापारियों का शोषण कर रही  है।आशीष गुप्ता ने कहा कि पहले से ही जीएसटी, नोटबंदी की मार झेल रहा व्यापार मंदी से गुजरता हुआ कोरोना काल में और निराश हो गया है। रिश्वतखोरी और इंस्पेक्टर राज से व्यापारी तनाव में है।

प्रमोद अरोड़ा ने कहा कि अब व्यापारियों की कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही है। सरकारी विभागों में भ्रष्टाचार अपने चरम पर है। छोटे व मंझोले व्यापारियों का जीएसटी फाइल करने के दौरान विभाग में बढ़ते भ्रष्टाचार से शोषण हो रहा है। साजिद मलिक ने कहा कि सरकार की नीतियों ने कारोबार को सड़क पर लाकर खड़ा कर दिया है। आज व्यापारी की स्थिति बद से बदतर हो गई है। व्यापारी अपनी जीविका भी सुचारू रूप से चला नहीं पा रहा है।राजकुमार ने भाजपा सरकार में व्यापारियों की सुरक्षा पर चर्चा करते हुए कहा कि आज व्यापारी अपने को असुरक्षित महसूस कर रहा है। आए दिन व्यापारियों से लूटपाट की घटनाओं का होना आम हो गया है।

इस अवसर पर संजय माहेश्वरी, प्रवीण राठी, शाहिद अंसारी, फरमान अहमद अंसारी, मनोज कुमार रोहिला, सुशील गुप्ता, अनुज सिंघल, आशू, विशाल मौर्य,  नीरज कपिल, बिट्टू सैनी, धर्मवीर चैहान, हरपाल सिंह वर्मा, अनुज गुप्ता, नवीन सिंघल, अनुराग मलिक, मौ0 आजम शाह आदि मौजूद रहे।

मंदिर के पास से शौचालय हटवाने की मांग को लेकर रोडवेज के आरएम से मिले हिन्दू संगठनों के कार्यकर्ता

राहुल भारद्वाज सहारनपुर:

रोड़वेज बस स्टैण्ड के पास मन्दिर की दीवार से सटाकर बनाये गये शौचालय को हटवाने की मांग को लेकर आज हिन्दू संगठनों के कार्यकर्ता पार्षद विजय कालड़ा (भाल्ला) की अगुवाई में रोडवेज के आरएम से मिले। उन्होने मन्दिर के पास बने शौचालय को हटवाने की पुरजोर तरीके से मांग करते हुए अपना रोष प्रकट किया। हिन्दू संगठनो के कार्यकर्ताओं की भावनाओं को देखते हुए आर एम ने दो दिन में शौचालय को तुडवाने का आश्वासन दिया। 

बता दें कि कल युवा व्यापारी नेता अनिल रसवंत ने मन्दिर से सम्बधिंत एक पोस्ट को सोशल मीडिया पर वायरल करते हुए मन्दिर के समीप बने शौचालय को हटवाने की मांग जिला प्रशासन से की थी। जिसके चलते हिन्दू संगठनो के कार्यकर्ता आज रोड़वेज के आर एम से मिले और अपना रोष प्रकट किया।

मिलने वाले लोगो में राजेन्द्र गुप्ता गर्ग, विकास चैधरी, युवा हिन्दू नेता राहुल झाम्ब, संदीप धीमान, दिनेश हिन्दू,आदेश सोनी, अतुल करणवंशी, अजय प्रजापति, रोहित सैनी, अंकित सैनी, सुशील सैनी, मनीष राजपूत, सुशील कुमार, अमित गुप्ता, गगन नागपाल आदि शामिल रहे।

कांग्रेस,सपा-बसपा छोड़ सैकड़ों लोगों को टोपी पहना कर किया आआपा में शामिल

राहुल भारद्वाज सहारनपुर:

आम आदमी पार्टी विधायक एवं जिला पंचायत चुनाव प्रभारी हाजी युनुस ने पीडब्लूडी गेस्ट हाऊस में प्रेसवार्ता के दौरान कांग्रेस, सपा, बसपा आदि पार्टियों को छोड़कर आप पार्टी का दामन थामने वाले सैकड़ों लोगों का टोपी पहनाकर स्वागत किया। प्रेसवार्ता को सम्बोधित करते हुए हाजी युनुस ने कहा कि नोटबंदी व जीएसटी से देश में बेरोजगारी बढ़ाने के साथ आर्थिक संकट खड़ा हुआ है। जिसके भार से जनता की कमर टूटी है।

उन्होंने कहा कि तीनों काले कृषि कानूनों का खामियाजा किसानों के साथ आम जनता को भुगतना पड़ेगा। देश का अन्नदाता अपने हक की लड़ाई लड़ रहा है जबकि सरकार चंद उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाना चाहती है। उन्होंने कहा कि जनता अब समझ चुकी है और वह भाजपा सरकार को जवाब देने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ने दिल्ली की तस्वीर बदली है और उत्तर प्रदेश की जनता दिल्ली मॉडल पर उत्तर प्रदेश में बदलाव चाहती है।

आआपा के राष्ट्रीय परिषद सदस्य योगेश दहिया ने कहा कि पार्टी प्रदेश की आवाम को बुनियादी जरूरतों का लाभ दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि पार्टी दिल्ली मॉडल को यूपी में उतारकर अरविन्द केजरीवाल के सपनों को साकार करने के लिए जिला पंचायत चुनाव के माध्यम से संदेश देने का काम करेगी। उन्होंने कहा कि सभी कार्यकर्ता पार्टी की नीतियों से आम जनता को अवगत करायें।

इस अवसर पर मौ० आरिफ, भीम सिंह फौजी, राजेन्द्र फौजी, मोनू कुमार, सुखदेन्द्र सिंह, इरफान फौजी, लक्ष्मण सिंह व घमण्डी को पार्टी की सदस्यता ग्रहण कराई गयी। इस मौके पर मौलाना याकूब, उमर जैदी, आदिल हसन एडवोकेट, वसीम राजा, अनिता राज, सुशील टॉक,रविन्द्र राठी, हाफिज सलीम, अमरीश वालिया, मुंतजिर, आमिर खान, राजेश तायल, विरेन्द्र सिंह व संख्य खोकर सहित भारी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

ऐकमजोत सैनी ने रिंक 1, रिंक 2 और रोड लैप श्रेणी में स्वर्ण पदक हासिल किया

मोहाली/चंडीगढ़ :

16th और 17th जनवरी 2021, 9 से 11 वर्ष के आयु वर्ग के लिए दो दिवसीय अंतर जिला स्केटिंग चैंपियनशिप का आयोजन किया गया, जिसमें पंजाब के विभिन्न जिलों के युवा स्केटर्स ने भाग लिया।

मोहाली जिले के ऐकमजोत सैनी ने रिंक 1, रिंक 2 और रोड लैप श्रेणी में स्वर्ण पदक हासिल किया। ऐकमजोत रैयत भाहरा इंटरनेशनल स्कूल, मोहाली का छात्र, महज 6 साल की उम्र में स्केटिंग शुरू की और आज तक उसने इंटर स्कूल, इंटर डिस्ट्रिक्ट, इंटर स्टेट कैटेगरी में 14 गोल्ड, 2 सिल्वर और 2 ब्रॉन्ज मेडल जीते। हमारे पत्रकार से बात करते हुए ऐकमजोत सैनी ने अपनी सफलता का श्रेय अपने दादा गुरुचरण सिंह सैनी और अपने कोच अमनवीर सिंह को दिया।

राम मंदिर के निर्माण हेतु चंदा एकत्रित होना शुरू

अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए दान राशि एकत्रित करने के अभियान की शुरुआत शुक्रवार को हुई और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंदिर निर्माण के लिए पांच लाख रुपये से अधिक का योगदान दिया। उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू के परिवार ने मंदिर के निर्माण के लिए पांच लाख रुपये से अधिक का योगदान पहले ही दे दिया है।

नयी दिल्ली/ लखनऊ:

इससे पहले दिन में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत ने राष्ट्रीय राजधानी स्थित वाल्मीकि मंदिर में एक पूजा की। सबसे बड़ा योगदान रायबरेली जिले के बैसवाड़ा के तेजगांव के पूर्व विधायक सुरेंद्र बहादुर सिंह का रहा जिन्होंने विहिप के उपाध्यक्ष एवं श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के महासचिव चंपत राय को 1,11,11,111 रुपये का चेक प्रदान किया। 

राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने भी दिए दान
विहिप के कार्यकारी अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा, ”विहिप ने मंदिर निर्माण के वास्ते धन संग्रह के लिए अपना अभियान आज शुरू किया। इसकी शुरुआत देश के प्रथम नागरिक राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उनके परिवार की ओर से 5,00,100 रुपये की राशि प्राप्त करने से हुई। उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू की पत्नी ऊषा नायडू पहले ही मंदिर के निर्माण के लिए पूरे परिवार की ओर से 5,11,116 रुपये का योगदान दे चुकी हैं

राष्ट्रपति से दान प्राप्त करने के लिए मंदिर न्यास के कोषाध्यक्ष गोविंद देव गिरि, विहिप के आलोक कुमार, ट्रस्ट के ट्रस्टी एवं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पूर्व प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा और आरएसएस के दिल्ली नेता कुलभूषण आहूजा ने राष्ट्रपति भवन में कोविंद से मुलाकात की।

विहिप के एक प्रतिनिधिमंडल ने उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य से भी मुलाकात की और मंदिर के निर्माण के लिए दान के रूप में 1.21 लाख रुपये प्राप्त किए, जबकि राज्य के मुख्यमंत्री ने भी 1.51 लाख रुपये का योगदान दिया। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, गुजरात के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल और उत्तर प्रदेश और झारखंड के राज्यपालों ने भी विहिप के प्रतिनिधिमंडलों को अपना योगदान दिया।

राम मंदिर निर्माण के लिए योगी आदित्यनाथ ने दो लाख रुपये दान दिए

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण में योगदान के रूप में शुक्रवार को दो लाख रुपये की सहयोग राशि दी। मंदिर के निर्माण के लिए बनाये गये ट्रस्‍ट ने देश व्‍यापी सहयोग अभियान शुरू किया है। राम मंदिर निर्माण के लिए धन संग्रह का अभियान शुक्रवार को शुरू हुआ।

उत्तराखंड: मुख्यमंत्री रावत ने राम मंदिर निर्माण के लिए सहयोग राशि दी

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अयोध्या में राममंदिर निर्माण के लिए शुक्रवार को सहयोग राशि दी। यहां मुख्यमंत्री आवास में उनसे मिलने आए विश्व हिंदू परिषद के प्रदेश पदाधिकारियों को उन्होंने राम मंदिर निर्माण के लिये सहयोग राशि दी। मुख्यमंत्री रावत ने इस संबंध में सोशल मीडिया पर जानकारी साझा करते हुए कहा, ‘अयोध्या में हमारे आराध्य प्रभु श्रीराम के मंदिर निर्माण के लिए ‘श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास की ओर से चलाए जा रहे अंशदान अभियान में मुझे भी सहयोग करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ।’ मुख्यमंत्री ने कहा कि सहयोग जीवन का मूल मंत्र है और किसी कठिन लक्ष्य को सरल बनाने का आसान तरीका भी है । 

महाराष्ट्र के राज्यपाल ने राम मंदिर निर्माण के लिए 1.11 लाख रुपए दिए

महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने अयोध्या में राममंदिर निर्माण के लिए शुक्रवार को एक लाख 11 हजार रुपए दान दिए।कोश्यारी ने राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा इकट्ठा करने के वास्ते शुरू किए गए अभियान में शिरकत की। इसका आयोजन राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्यास की विदर्भ शाखा ने किया था। उन्होंने हिंदू धर्म आचार्य सभा के अध्यक्ष स्वामी अवधेशानंद गिरि महाराज और नागपुर के महापौर दयाशंकर तिवारी के साथ पोद्दारेश्वर राम मंदिर में आरती भी की। 

मेरी अंतिम इच्छा जीते जी हो जाये राम मंदिर का निमार्ण: कल्याण सिंह

राम मंदिर आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाने वाले उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह ने कहा कि उनकी अंतिम इच्छा है कि भव्य राम मंदिर का निमार्ण उनकी आंखों के सामने हो जाये ताकि वे अपने आराध्य को जी भर कर निहार सकें। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बुजुर्ग नेता ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह-सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले और श्रीराम मंदिर तीर्थ क्षेत्र अध्यक्ष के उत्तराधिकारी कमल नयन दास को अपने आवास पर मंदिर निमार्ण के लिये एक लाख रूपया दान किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा “मेरी अंतिम इच्छा है कि राम मंदिर का निमार्ण पूरा देखकर ही अंतिम सांस लूं। सारा जग जानता है कि मैं भगवान राम के प्रति श्रद्धा रखता हूं। जब मुख्यमंत्री था तब भी श्रद्धा थी और आज जब नही हूं तब भी उतनी ही श्रद्धा रखता हूं। मेरी श्रद्धा में कोई अंतर नहीं आया है।

पुलिस फाइलें, पंचकुला – 18 जनवरी

पचंकूला पुलिस – 18 जनवरी 2021

पचंकूला पुलिस नें सट्टेबाजी व जुआ खेलनें वालों के खिलाफ कडी कार्यवाही करते हुए माह जनवरी से अब तक 21 आरोपियों को 1 लाख 11 हजार 840 रुपये सहित गिरफ्तार किया गया ।

                           पुलिस प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बतलाया कि पचंकूला पुलिस नें सार्वजनिक स्थान पर जुआ खेलनें व ताश पत्तो पर जुआ खेलनें वाले सट्टे बाजो पर कार्यवाही हेतु अभियान चलाया हुआ है जो पचंकूला पुलिस नें जगह पर जगह नाकाबन्दी व गस्त पडताल करतें हुए सार्वजनिक स्थान पर जुआ खेलनें वालों को कडी कार्यवाही की जा रही है जो पचंकूला पुलिस नें माह जनवरी में अब तक 21 आरोपियों को गिरफ्तार करके कार्यवाही कर चुकी है जो आरोपियो से जुआ में प्रयोग की हुई राशि 111840 रुपये बरामद किये गये । इसके अलावा दिनाक 16.01.2021 को क्राईम ब्राचं सैक्टर 19 पचंकूला नें क्रिकेट पर सट्टेबाजी करते हुए गिरफ्तार किया गया । जो उपरोक्त आरोपियों के खिलाफ सम्बन्धित पुलिस थाना में 13ए/13-3-1967 नशे अधिनियंम के तहत अभियोग दर्ज करके कार्यवाही की गई तथा कल दिनाक 17.01.2021 को सार्वजनिक स्थान पर जुआ खेलनें वाले आरोपी को डिटैक्टिव स्टाफ पचंकूला की टीम नें गिरफ्तार किया गया जो गिरप्तार किये गये आरोपी की पहचान प्रवीण कुमार पुत्र धर्मपाल वासी गाँव मढावाला पिन्जौर के रुप में हुई जो आरोपी के खिलाफ पुलिस थाना पिन्जौर में अभियोग दर्ज किया गया ।

                    इसके अतिरिक्त पचंकूला पुलिस नें अवैध शराब व नशीला पदार्थ की तशकरी करनें वाले आरोपियों के खिलाफ भी कडी कार्यवाही करनें बारे अभियान चलाया हुआ है अवैध नशीला पदार्थ व अवैध असला, शराब की अवैध बिक्री करनें वालों को नही बख्शा जायेगा । जिनके खिलाफ कडी कार्यवाही की जायेगी ।

ट्रैफिक के नियमों की पालना करनें बारे चलाया जागरुक अभियान

                             पुलिस प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बतलाया कि ए.सी.पी. ट्रैफिक श्री सतीश कुमार ह0पु0सें0 नें ट्रैफिक के नियमों को पालनां करने बारे अभियान चलाया गया है जो ए.सी.पी. नें ट्रैफिक में आटो चलाक व अन्य वाहन चालको को ट्रैफिक के नियमों की पालना करनें बारे अवगत करवाया जा रहा है ताकि यातायात में किसी भी प्रकार की कोई समस्या ना हो तथा किसी भी प्रकार की समस्या को समाधान हेतु करनें के लिए QRT टीम पहुँचेगी । ताकि हाईव व रोड पर किसी भी वजह से जाम की स्थिति पैदा ना हो ।

इसके अलावा रायपुररानी क्षेत्र में व कालका-पिन्जौर क्षेत्र में भी ट्रैफिक के नियमों की पालना करनें बारे दिशा निर्देशो की पालना करनें बारे बतलाया जा रहा है ताकि वाहन चालको को किसी प्रकार की कोई समस्या ना हो तथा ट्रैफिक के नियमों की पालना ना करनें वालों के खिलाफ कडी कार्यवाही करते हुए चालाना भी किये जा रहे  है इसके साथ साथ ट्रैफिक पुलिस पचंकूला के इन्चार्ज श्री सुखदेव सिह निरिक्षक व महमूद खान निरिक्षक नें यातायात के प्रति बढते कोहरे के कारण होने वाली सडक दुर्घटनाओं की सम्भावना को कम करनें के लिए लोगो व वाहन चालको को जागरुक किया जा रहा है किस सडक व हाईवे पर किसी प्रकार की सावधानिया बर्तनी चाहिए तथा सडक पर वाहन लेकर चलते समय अपनें वाहनों पर रेड रिफलैक्टर टेप लगावें । जिससे दुर से आने  वाले वाहन नजर आ जाते है और किसी प्रकार की जैसे सडक दुर्घटना को टाला जा सकता है । इसके अलावा ट्रैफिक में किसी भी प्रकार की समस्या का समाधान करनें के लिए (Quick Response Team) राईडर को तैनात किया हुआ है । जो ततपर्ता से एक्शन लेगी ।

रायपुररानी क्षेत्र में ट्रैफिक के नियमो बार ट्रैफिक पुलिस पचंकूला द्वारा अवगत करवाया जा रहा है

2024 आम चुनाव से पहले हो जाएगा राम मंदिर निर्माण, विपक्ष परेशान

राम मंदिर निर्माण पूरा होने की तारीख सामने आने से विपक्ष में घबराहट क्यों है? राम मंदिर आंदोलन के शुरू होने के साथ भाजपा-विरोधी एक सुर में भाजपा के नारे का मजाक उड़ाते हुए कहते थे- ‘मंदिर वहीं बनाएँगे, लेकिन तारीख नहीं बताएँगे’। अब जबकि राम मंदिर निर्माण के पूरा होने की तिथि सामने आ गई है तो उन्हीं भाजपा विरोधियों की साँस अटकने लगी है। विपक्षी दल यह मानकर बैठे हैं कि भाजपा मंदिर निर्माण 2024 के ठीक पहले पूरा करवाकर इसे आगामी लोकसभा चुनाव में मुद्दा बनाएगी।

चंडीगढ़ / नयी दिल्ली:

राम मंदिर के लिए देश भर में श्रीराम जन्मभूमि निधि समर्पण अभियान की शुरुआत 15 जनवरी को हो गई है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राम मंदिर के लिए सबसे पहला चंदा दिया। कोविंद ने 5,00,100 रुपए की धनराशि दान दी। इसी के साथ राम मंदिर निर्माण के पूरा होने की तारीख भी नजदीक आ गई है।

राम मंदिर ट्रस्‍ट के महासचिव चंपत राय ने रायबरेली में हुए कार्यक्रम में 39 महीने के अंदर मंदिर बना देने का ऐलान कर दिया है। चंपत राय के अनुसार, लोकसभा चुनाव 2024 से पहले अयोध्‍या में राम मंदिर बन जाएगा। राम मंदिर निर्माण पूरा होने की तारीख सामने आते ही विपक्षी दलों में घबराहट फैल गई है।

2024 आम चुनाव से पहले हो जाएगा राम मंदिर निर्माण 

कई दशकों पुराने अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद से ही राम मंदिर के लिए तैयारियाँ शुरू हो गई थीं। ट्रस्ट बनने के साथ ही राम मंदिर निर्माण को लेकर अन्य चीजें भी तय हो गई। वहीं, अब राम मंदिर निर्माण पूरा होने की तारीख और निधि समर्पण अभियान की शुरुआत ने सियासी हलकों में भूचाल ला दिया है। 

इसके पीछे कई कारण हैं, लेकिन सबसे बड़ा कारण ‘तारीख’ ही है। कॉन्ग्रेस समेत लगभग सभी विपक्षी दलों ने ‘सुप्रीम फैसला’ आने से पहले तक भाजपा के चुनावी घोषणा पत्र में शामिल राम मंदिर निर्माण के मुद्दे को लेकर हमेशा ही सवाल उठाए हैं। 

भाजपा, आरएसएस और अन्य हिंदूवादी संगठनों के कार्यकर्ताओं के नारे ‘रामलला हम आएँगे, मंदिर वहीं बनाएँगे’ के आगे भाजपा विरोधी पार्टियों ने ‘तारीख नहीं बताएँगे’ का तुकांत जोड़ दिया था। यही ‘तारीख’ अब विपक्ष के गले की फाँस बनती नजर आ रही है।

चेंजमेकर के रूप में स्थापित हुई भाजपा

2014 और 2019 के लोकसभा चुनावों में लगातार दो बार बहुमत से ज्यादा सीटें पाकर भाजपा नीत एनडीए की सरकार बन चुकी है। भाजपा अपने चुनावी घोषणा पत्र के कई बड़े और तथाकथित विवादित मुद्दों का हल निकाल चुकी है। 

लोग मानें या ना मानें, लेकिन वो चाहे तीन तलाक का मामला हो, कश्मीर से धारा 370 और 35A हटाने का मामला हो या शरणार्थियों को नागरिकता देने के कानून का, भाजपा ने खुद को ‘चेंजमेकर’ के रूप में स्थापित कर लिया है। 

सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक के बाद आतंकवाद को लेकर ‘जीरो टॉलरेंस’ की नीति को लेकर शायद ही कुछ कहने की जरूरत पड़े। खैर, ये हुई भाजपा के घोषणा पत्र के वादों की बात, अब चलते हैं दूसरी ओर।

बन सकते हैं कई चुनावी समीकरण 

भाजपा ने दक्षिण और पूर्वी भारत के राज्यों में दस्तक देने के साथ अपनी भौगोलिक पहुँच के विस्तार की शुरुआत भी कर दी है। 2021 में तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, केरल, असम और पुडुचेरी (केंद्र शासित प्रदेश) में विधानसभा चुनाव होने हैं। 

पश्चिम बंगाल में भाजपा सत्ता में आने के लिए हर सियासी समीकरण बनाने और रणनीतियाँ अपनाने में जुटी हुई है। पश्चिम बंगाल में 2011 के विधानसभा चुनाव में केवल 4 फीसदी वोट हासिल करने वाली भाजपा, 2016 के चुनाव में 10 फीसदी वोटों तक पहुँच गई। 

वहीं, 2019 लोकसभा चुनाव में चमत्कारिक प्रदर्शन करते हुए 40 फीसदी वोटरों का समर्थन हासिल कर लिया। ऐसे में इस साल होने वाली विधानसभा चुनाव में भाजपा के प्रदर्शन पर सभी की निगाहें टिकी हैं।

असम में भाजपा और सहयोगी दलों के गठबंधन के सामने विपक्षी दलों के सामने अपनी सत्ता बचाने की चुनौती है। फिलहाल, वहाँ भाजपा नीत एनडीए की सरकार मजबूत स्थिति में नजर आ रही है। 

दक्षिण भारत में कर्नाटक को छोड़ दें तो, भाजपा का तमिलनाडु और केरल में कोई खास जनाधार नजर नहीं आता है। लेकिन, स्थानीय चुनावों में भाजपा ने अपनी स्थिति थोड़ी-बहुत मजबूत कर ली है। 

2016 के ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में महज चार सीटें हासिल करने वाली भाजपा ने बीते साल 48 सीटों पर अपना परचम लहराया है। इसे भाजपा की बड़ी उपलब्धि माना जा सकता है। लेकिन, पार्टी को ऐसा प्रदर्शन आगे भी जारी रखना होगा।

राम मंदिर से बदल सकते हैं कई विधानसभा चुनाव के नतीजे

अब आते हैं सबसे खास बात पर, राम मंदिर निर्माण के लिए चलाए जा रहे निधि समर्पण अभियान में 13 करोड़ परिवारों तक पहुँचने का लक्ष्य रखा गया है। निधि समर्पण अभियान 27 फरवरी तक चलाया जाएगा। 

इसके तहत भाजपा, विहिप और आरएसएस के कार्यकर्ता देश भर में घर-घर जाकर चंदा एकत्रित करेंगे। इस अभियान को 2024 लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा की घर-घर में पहुँच बनाने की तैयारी के रूप में देखा जा रहा है। 

खासकर हिंदी भाषी राज्यों में इस अभियान का व्यापक असर देखने को मिल सकता है। साथ ही 2024 के आम चुनाव से पहले हर साल होने वाले राज्यों के विधानसभा चुनावों पर भी इसका असर पड़ेगा। 2022 के फरवरी-मार्च में देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश समेत उत्तराखंड, पंजाब, गोवा और मणिपुर में विधानसभा चुनाव होंगे। 

इनमें उत्तर प्रदेश के अलावा चार राज्यों में भाजपा और कॉन्ग्रेस के बीच सीधा मुकाबला होना है। वहीं, 2022 के नवंबर-दिसंबर में गुजरात और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव होंगे। यहाँ भी कॉन्ग्रेस और भाजपा के बीच ही मुकाबला होना है। 2023 में पूर्वोत्तर के तीन राज्यों मेघालय, नगालैंड और त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव होंगे। ऐसे में राम मंदिर निर्माण की तारीख के ऐलान से विपक्ष की बेचैनी बढ़ना लाजिमी है।

साभार : रचना कुमारी

गंभीर आरोपों के चलते भारतीय किसान यूनियन से चढूनी नीलम्बित

चढूनी पर राजनीतिक पार्टियों से मुलाकात और खुद अपनी तरफ़ से आंदोलन संबंधित कार्यक्रम आयोजित करने का आरोप लगा है। गुरुनाम चढूनी पर  कांग्रेस-आम आदमी पार्टी के नेताओं से मुलाकात करने का भी आरोप लगा है। भारतीय किसान यूनियन (चढूनी) के प्रधान गुरनाम सिंह चढूनी के खिलाफ आरोपों की जांच के लिए 4 सदस्य समिति बनाई गई है। समिति के सामने चढूनी को अपना पक्ष रखना होगा। जांच पूरी होने तक संयुक्त किसान मोर्चा की आंतरिक बैठकों और केंद्र सरकार के साथ होने वाली बैठक से चढ़ूनी बाहर भी रहेंगे।

हरियाणा/पंजाब/ नईदिल्ली:

केंद्र सरकार के तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ कई सप्ताह से विरोध प्रदर्शन कर आम लोगों के नाक में दम करने वाले किसान संगठनों के नेता अब आपस में ही सिर-फुटव्वल पर उतर आए हैं। रविवार (जनवरी 17, 2021) को संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक में ये फूट तब सतह पर आ गई, जब भारतीय किसान यूनियन (हरियाणा) के अध्यक्ष गुरनाम चढूनी पर आंदोलन के नाम पर एक कॉन्ग्रेस नेता से 10 करोड़ रुपए लेने के आरोप लगे

अन्य संगठनों ने आरोप लगाया कि गुरनाम चढूनी ने ‘किसान आंदोलन’ को राजनीति का अड्डा बना कर रख दिया है और इसमें कॉन्ग्रेस नेताओं को बुला रहे हैं। आरोप लगाया गया कि हरियाणा के कॉन्ग्रेस नेता से उन्होंने रुपए लिए और वो दिल्ली में सक्रिय हैं। आरोप लगा कि वो कॉन्ग्रेस के चुनावी टिकट के एवज में हरियाणा में भाजपा-जजपा की सरकार गिराने के लिए भी डील कर रहे हैं। हालाँकि, चढूनी ने इन आरोपों को ख़ारिज कर दिया है।

एक दैनिक समाचार पत्र की खबर के अनुसार, ‘किसान आंदोलन’ के 54वें दिन सभी किसान संगठनों ने मिल कर ऐलान किया कि उनका कोई भी नेता NIA के समन का पालन नहीं करेगा और किसी भी जाँच एजेंसी के समक्ष पेश नहीं होगा। वहीं ‘ऑल इंडिया किसान सभा’ के नेता और 8 बार के सांसद हन्नान मुला ने खुद को सुप्रीम कोर्ट से की जा रही उस माँग से अलग कर लिया है, जिसमें बातचीत के लिए दोबारा समिति बनाने की बात कही जा रही है।

वहीं गुरनाम चढूनी से सारे किसान नेता चिढ़े हुए और आक्रोशित दिखे। उन्हें आंदोलन से निकाल बाहर किए जाने की माँग की गई। अंततः जाँच के लिए 3 सदस्यीय कमिटी बनाई गई, जिसे बुधवार तक मोर्चे के समक्ष रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया गया है। इससे 1 दिन पहले केंद्र सरकार के साथ बैठक भी है, ऐसे में वो उसमें शामिल होंगे या नहीं – ये स्पष्ट नहीं है। समिति की रिपोर्ट के आधार पर उन्हें मोर्चे में रखने या निकालने का निर्णय लिया जाएगा।

चढूनी पर आरोप है कि एक तो वो मोर्चे से अलग फंडिंग का जुगाड़ लगाते हैं, लेकिन इसका कोई हिसाब-किताब नहीं देते। हरियाणा के बड़े कॉन्ग्रेस नेता से धनराशि लेकर ये बात सबसे छिपाने के आरोप उन पर लगे हैं। साथ ही आंदोलन स्थल पर अपने टेंट में राजनेताओं को लाने के आरोप लगाए गए। कहा गया कि दिल्ली में ‘किसान संसद’ के नाम पर उन्होंने जनवरी में 10, 14 और 17 तारीख को कई राजनेताओं को बुलाया।

भूपिंदर सिंह मान

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट की कमिटी से किसान नेता भूपिंदर सिंह मान ने अपना नाम वापस ले लिया था। उन्होंने कहा कि उन्होंने सत्ता पक्ष, विदेशी संस्थाओं या किसी संगठन के दबाव के बिना ही ये फैसला लिया है और उन्हें मिल रही धमकियों की खबरें अफवाह मात्र हैं। उन्होंने पूछा कि जब किसान कमिटी से बात ही नहीं करना चाहते तो वो कैसे सदस्य बने रह सकते हैं? मान ने कहा कि वो कानूनों के पक्ष में नहीं हैं और किसानों की माँगें जायज हैं।

बलदेव सिंह सिरसा

बलदेव सिंह सिरसा भी NIA के समक्ष समन मिलने के बावजूद पेश नहीं हुए। सिरसा ने दावा किया था कि केंद्र सरकार गणतंत्र दिवस के दिन प्रस्तावित किसानों की ट्रैक्टर रैली से डर गई है और इसीलिए वो ‘पंजाब के लोगों को डराने-धमकाने’ के लिए NIA के नोटिस का इस्तेमाल कर रही है। बकौल सिरसा, इस समन का एक ही उद्देश्य है – किसान आंदोलन को पटरी से उतारना। समन की खबर फैलते ही उनके समर्थक भी उग्र हो गए थे और अमृतसर के एक मॉल के बाहर जमा हो कर जम कर हंगामा किया था।