मेवात में किसी खास ढ़ोल नगाड़े के बाद ही जागेगी खट्टर सरकार

हरियाणा के मेवात में अल्पसंख्यक हिंदुओं की स्थिति बदतर से भी बुरी होती जा रही है। मेवात के मिनी पाकिस्तान बनने पर हम पहले ही बात कर चुके हैं लेकिन खट्टर सरकार की कुम्भकर्णी नींद किसी बड़े ढ़ोल नगाड़े ही के साथ खुलेगी, ऐसा लगता है।

सारिका तिवारी, पंचकुला/मेवात:

हरियाणा में मेवात की स्थिति बद से बदतर होती जा रही है लेकिन सरकार तो राजनीतिक दल से बनती है जिसके पास आम जनता कोई प्राथमिकता नहीं ,कोई संवेदना नहीं। इस समय सभी दल बरोदा के चुनाव में वोट बैंक की राजनीति में जुटे हैं हरियाणा का पूरा मीडिया वोट की राजनीति कवर करने के लिए बड़ौदा में डेरा डाले बैठा है।

यह भी पढ़ें: मेवात में सरेआम लड़की के हत्या के आरोपी तौफीक ने पहले भी किया था इसी लड़की का अपहरण

दूसरी ओर नूह तहसील के अंतर्गत पड़ने वाले थाने पुनहाना में ऐसी ही एक शिकायत है जिससे पता चलता है कि केवल निकिता ही नहीं और भी बहुत सी लड़कियां धमकी, बलात्कार, हत्या के आतंक का सामना कर रही हैं। पुन्हाना थाने में एक पिता ने अपनी बेटी के अपहरण की शिकायत दर्ज करवाई है, जिसमें सीधे-सीधे लड़के पर आरोप है उनको डर है उसने उनकी बेटी का अपहरण किया है।

यह भी पढ़ें: मेवात से हिंदुओं का पलायन, गहरी नींद में खट्टर

उन्होंने शिकायत में लिखा है कि उनकी बेटी रेखा जो कि स्टाफ नर्स के पद पर कार्यरत है , को गांव नेमका निवासी मोहम्मद इकबाल पुत्र अर्जुन खान ने धमकी दी थी कि अगर धर्म बदल कर उससे विवाह नहीं करेगी तो उसका अपहरण करके बलात्कार करने के बाद जान से मार देगा। लड़की के पिता ने शिकायत में लिखा है कि जब वे मोहम्मद इकबाल के घर अपनी लड़की के बारे मैं पता करने के लिए गए तो उसके पिता ने कहा कि मोहम्मद इकबाल एक लड़की को लेकर घर आया था पर वहां से चला गया इससे ज्यादा मैं कुछ नहीं जानता।

यह भी पढ़ें: क्या शिव मंदिर के सेवक की हत्या के तार जुड़ रहे हैं नदीम मेवाती से

सनद रहे निकिता जिसने ऐसे ही एक प्रस्ताव को नकार दिया था उसके एवज में उसे सरेआम मार दिया गया लेकिन आरोपी के जर्म कबूल कर लेने और घटना सीसीटीवी फुटेज से सबूत बरामद होने के बावजूद सरकार ने एस आई टी का गठन कर दिया । जबकि ऐसे मामले फास्ट ट्रैक पर निपटाने चाहिए बिना देर किए सजा देने का प्रावधान होना चाहिए। मेवात एक धर्म विशेष बाहुल क्षेत्र है हिंदू परिवार पलायन कर रहे हैं जोकि बेहद चिंता का विषय है ।

ना तो सत्ताधारी और ना ही प्रतिपक्ष इस पर बात करते हैं क्योंकि वोट उसी आबादी से आएगी जो संख्या में बाहुल होगी।

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *