दबंगों ने उड़ाई प्रशासन के आदेशों की धज्जियाँ

कोरल ‘पुरनूर’, चंडीगढ़ – 01 जुलाई

आज देश को आत्मनिर्भर बनाने की आवश्यकता है इसी दिशा में कुछ नागरिक छोटे छोटे प्रयासों से अपना योगदान दे रहे हैं लेकिन इसके विपरीत कुछ लोग इस कार्य में भी बाधक बन रहे हैं। मामला है हिसार के तलवंडी गांव का जहां एक महिला अंगूरी देवी ने अपने पुत्र सुरेश गोयल के साथ मिल के पोली फार्मिंग शुरू की शुरुआत की। सभी कानूनी प्रक्रिया पूरी करते हुए उन्होंने ट्यूबवेल से जमीन की सतह से तीन फुट नीचे से एक पाइप के ज़रिए से अपने खेतों में पानी पहुंचाने की व्यवस्था की । परन्तु एक व्यक्ति जिसकी ज़मीन के नीचे पाइप बिछाई गई है ने उसे तोड़ कर पानी की सप्लाई बाधित की।

सुरेश गोयल जो की पहले अपना कारोबार करते थे ने पोली फार्मिंग को बड़े स्तर पर ले जाने का फैसला किया और पूरी लगन और मेहनत से काम करना शुरू किया

 राष्ट्रीय बागवानी मिशन के तहत  हरियाणा में काफी काम हुआ है l प्रगतिशील किसानों ने हॉर्टिकल्चर और फ्लोरीकल्चर की ओर ध्यान दिया  और फल  प्रदेश की अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले इस तरह के प्रगतिशील   किसी किसान का  कुछ दबंग किस्म के लोग  आंखों देखा नुकसान कर दें  तो   उसके नुकसान की भरपाई कौन करेगा , यह एक ऐसा सवाल है  जिसका जवाब  अभी मिलना शेष है l

गांव तलवडी रुक्का की  अंगूरी देवी ने जेवर व पुश्तैनी जमीन बेच कर बागवानी व पोलीहाऊस शुरु किया। अनेक लोगों को स्थाई रोजगार दिया l एक बहुत चिंता का विषय है  कि कुछ दबंग लोगों ने उनके टयूबैल की पाइप लाइन गैर कानूनी तरीके से उखाड दिया जिसके कारण बाग व पोलीहाऊस में लगी सब्जिया सूख गई और लगभग 60 लाख रुपयों का नुक्सान हो गया l   इतना ही नही यहां काम करने वाले 32 लोगों का रोजगार भी छिन गया । इस मामले को सुलझाने के लिए ग्रामीणों से कई बार पंचायते हुई परंतु कोई समाधान नही निकला।

पीडिता अंगूरी देवी व उनके बेटे किसान सुरेश गोयल ने इसी वर्ष फरवरी महीने उपायुक्त से टयूबैल की पाइप लाइन दोबारा से जुडवाने की गुहार लगा रखी है उनकी फाइल 4 महीने से अधिकारियों के पास घूम रही है परंतु उसकी कोई सुनवाई नही हुई है। उसकी हरियाणा के मुख्यमंत्री, कृषि मंत्री, हिसार जिले के प्रशासनिक अधिकारियों से मांग है उनकी पाइप लाइन को जुडवाया जाना चाहिए। उनकी मांग है कि बाग में लगे 12 हजार पेड पौधो को उजडने से रोकने लिए पाइप लाइन जोडी जाए।

समय पर पर्याप्त पानी ना मिले तो फल का विकास रुक जाता है

इस की खासियत यह है कि बाग में जर्मनी व साऊथ कोरिया के कृषि वैज्ञानिक भी यहां दौर कर चुके है। सुरेश गोयल इस बाग को हरियाणा के किसानों के लिए एक माडल बनाना चाहते है विकसीत माडल बनाना चाहते है जिसे देख कर किसानों की आय दोगुणी हो सके।

अंगूरी देवी ने बताया कि उसने वर्ष 2012 में अपने जेवर व खानदानी जमीन बेच कर गांव में सडक के साथ 60 कनाल 5 मरले जमीन श्री राम व उनके पुत्रों से खरीदी थी। इस जमीन पर बाग व पोलीहाऊस लगया। नहरी पानी के अतिरिक्त आवश्कता होने के कारण पानी की पूर्ति के लिए गांव स्याहडवा में नहर समीप एक कनाल जमीन खरीद ली। उसमें टयूबैल लगा लिया और रास्ते में आने वाली जमीन पर सरकार की हिदायतों के अनुसार जमीन के 3 फुट नीचे पाइप लाइन दबाकर अपने बांग में पानी लेकर आए। गांव दंबगों ने 19 नवंबर को उनकी पाइप लाइन उखाड दी पानी की कमी के कारण बाग व पोली हाऊस लगी सब्जिया सूख  गई।

  सुरेश गोयल ने फरवरी महीने में जिला उपायुक्त को शिकायत दी थी। पानी नही मिलने से उनका लभगग 60 लाख रुपयो का नुक्सान हो गया है। पानी न मिलने के लिए उन्हें मजबूरी में पानी के 10 से 12 पानी के टैंकर मंगवाने पड़ते जिसमें एक टैंकर की कीमत 500 रुपये रुपये है। सुरेश गोयल ने कहा कि उनका यही सपना था कि वे मुंबई से हिसार आकर हरियाणा के किसानों को बागवानी के प्रति किसानो को जागरुक करके उन्हे समृद बनाए बनाने का काम करेंगे। उन्होने बताया कि यहा जर्मनी साऊथ कोरिया के कृषि वैज्ञानिक उनके बाग में दौरा कर चुके है। हरियाणा के किसानों के लिए इस बाग को हरियाणा के विशेष विषेश माडल बनाने चाहते थे परंतु पानी की पाइप लाइन न मिलने के कारण 12 हजार पेड पौधे उजड रहे है। प्रशासन से अनुरोध है कि पाइप लाइन जल्दी से जल्दी जुडवाई जाए और जो लगभग 60 लाख रुपयों का नुक्सान हुआ है उसकी भरपाई करवाई जाए और 32 लोगों को रोजगार के अवसर जल्द मिल जाए।

गोयल ने बताया कि अब जाकर भू संरक्षण अधिकारी ने आदेश किए हैं कि  उखाड़ दी गई पाइप  दोबारा लगाई जाएगी इसके लिए जरूरत पड़ेगी तो पुलिस की मदद भी उपलब्ध कराई जाएगी l बता दें कि साढे 18 एकड़ भूमि में बना यह भाग बहू-उद्देशीय है और उन किसानों के लिए एक पायलट प्रोजेक्ट है जो आधुनिक तरीके से खेती करना चाहते हैं lयदि सुरेश गोयल की मदद नहीं की गई तो फिर कोई और व्यक्ति शिक्षित बेरोजगार खेती में रुचि रखने वाले प्रगतिशील लोग यह  जोखिम मोल लेने की कोशिश नहीं करेंगे l इस मसले को कृषि विभाग और हरियाणा सरकार को गंभीरता से लेना चाहिए और पीड़ित किसान के लिए उसके नुकसान की भरपाई का कोई रास्ता निकालना चाहिए l

गोयल ने बताया कि पाइप लाइन के जोड़ को कुछ व्यक्तियों ने नुकसान पहुंचाया जिसकी शिकायत उन्होंने सम्बन्धित विभागों में दी । परिणामस्वरूप 23 जून को सरकार ने ड्यूटी मजिस्ट्रेट की ड्यूटी लगा कर साथ में पुलिस बल देकर ट्यूबल पाइप लाइन जुड़वा दिया था। परन्तु 24 जून को जय भगवान सहरवसा निवासी की जे सी बी मंगवा कर मेरी ट्यूबल की पाइप लाइन को काट दिया


गोयल ने आरोप लगाया कि सुरजभान भान पुत्र कर्म सिंह , सरवन पुत्र दलसिंह, बलजीत पुत्र सतपाल, सुरेश पुत्र फूल सिंह, रवि पुत्र चरण सिंह ,मोकला पुत्र फुल सिंह, ने ट्यूबल की पाइप लाइन जो सरकार के आदेश से जुड़ी थी कटवा दी इनका साथ अबे राम पुत्र दीवान सिंह रामकुमार पुत्र रूपचंद ने भी दिया ।
आपसे विनती है सर आप दोषी गन के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई करवाएं तथा जेसीबी को बंद करवाएं ।

सुरेश गोयल ने बाग वह पोली हाउस और नेट हाउस मैं 7 साल से बागवानी विभाग की तरफ से करीब 50 से 60 लाख सब्सिडी लगी हुई है और बाग भी अच्छी तरह से फल फूल गया है अभी ढाई महीने से ट्यूबल की पाइप लाइन कटने से पानी की कमी के कारण बाग़ उजड़ने के कगार पर है। इसे बचाने के लिए सहायता बागवानी विभाग से मिल सकती है सरकार को इसे बचाने के लिए कदम उठाने चाहिए।

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *