खेलों से होता है सम्पूर्ण व्यक्तित्व का विकास : निश्चल चौधरी

सुशील पण्डित, डेमोक्रेटिक फ्रंट, यमुनानगर 29              फरवरी    :

महाराजा अग्रसेन महाविद्यालय जगाधरी में वार्षिक खेलकूद दिवस का आयोजन हुआ जिसमें कॉलेज के पूर्व छात्र व वर्तमान में भाजपा युवा मोर्चा जिला यमुनानगर के अध्यक्ष निश्चल चौधरी मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित रहे। विशिष्ट अतिथियों में कॉलेज प्रबंधन समिति के पदाधिकारी डॉ अश्वनी गोयल, प्रवीण गर्ग,पवन गर्ग, सुमित बंसल मौजूद रहे, कॉलेज की प्राचार्या डॉक्टर करुणा व स्पोर्ट्स मीट के समन्वयक हेमराज कोशिश ने मुख्य अतिथि निश्चल चौधरी व सभी वशिष्ठ अतिथियों का पुष्प गुच्छ  देकर स्वागत किया। मुख्य अतिथि भाजयुमो जिला अध्यक्ष निश्चल चौधरी के खेल के मैदान पर पहुंचे छात्र व छात्राओं ने करतल ध्वनि व मालाऐं पहनकर उनका स्वागत किया। वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिताओं का शुभारम्भ मार्च पास्ट ध्वजारोहण तथा खेल दिवस की शुरूआत की उदघोषणा से हुई। मार्च पास्ट में कॉलेज के विभिन्न क्लब समितियो और सभी विभागों ने भाग लिया। खिलाड़ियों को बी.ए. फाईनल की छात्रा कुमारी शीतल द्वारा खेल के नियमों व खेल की भावना से खेलने की शपथ दिलाई गयी । खेल दिवस के आयोजक प्रौ. हेमराज कौशिश ने सभी का स्वागत करते हुए खेल दिवस में होने वाली सभी प्रतियोगिताओं  और उनसे सम्बंधित नियमों की संक्षिप्त रूप रेखा प्रस्तुत की, प्रौ. हेमराज कोशिश ने कहा कि खेल के माध्यम से विद्यार्थी अपनी क्षमता का निर्माण करके देश सेवा  में अपना योगदान दे सकते हैं साथ ही साथ अपने कॉलेज और परिवार का नाम रोशन कर सकते है। वार्षिक खेलकूद दिवस के आयोजक प्रोफेसर हेमराज कोशिश ने मुख्य अतिथि निश्चल चौधरी के बारे में बताते हुए कहा कि निश्चल चौधरी इसी कॉलेज के पूर्व छात्र रहे हैं। तथा कॉलेज में रहते हुए उन्होंने कॉलेज की विभिन्न गतिविधियों में बढ़ चढ़कर भाग लिया जैसे यूथ फेस्टिवल ब्लड डोनेशन उन्होंने कहा कि ब्लड डोनेशन कैंप के दौरान निश्चल चौधरी को विद्यार्थियों की तरफ से मोटीवेटर बनाया गया था और उन्होंने अपना काम सफलता से करते हुए उसे वर्ष 513 यूनिट ब्लड इकट्ठा किया था।कॉलेज की प्राचार्या डॉक्टर करुणा ने अपने स्वागत भाषण में कॉलेज की संपूर्ण रिपोर्ट प्रस्तुत की तथा 2024 से 2029 के अगले 5 सालों की एक रूपरेखा सबके सामने रखी। डॉक्टर करुणा ने निश्चल चौधरी के बारे में बताते हुए कहा कि मुख्य अतिथि निश्चल चौधरी में नेतृत्व का गुण कॉलेज के टाइम से ही है तथा उन्होंने कॉलेज में रहते हुए कॉलेज की प्रत्येक गतिविधि में बढ़.चढ़कर हिस्सा लिया। उन्होने कहा कि निश्चल चौधरी के अन्दर समन्चय संगठन कार्य के गुण पहले से ही विद्यमान थे। सन् 2013 मे कॉलेज में हुए यूथ फैस्टिवल में निश्चल चौधरी व उसकी टीम द्वारा किये गए कार्यो की भरपूर सराहना की।खेल दिवस के अवसर पर मुख्य अतिथि निश्चल चौधरी जो सन् 2011 से 2014 तक महाविद्यालय के विद्यार्थी रहे ने कहा कि  भारत सरकार द्वारा नागरिकों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए फीट इंडिया की शुरूआत की गई तथा खेलों को बढ़ावा देने के लिए खेलो इण्डिया की शुरूआत की गई जिसका उददेश्य भारत मे खेलों के विकास को बढ़ावा देना है। उन्होने सभी विद्यार्थियों को अपने स्वास्थ्य एवं खेलो में भाग लेने के लिए प्रेरित किया तथा साथ ही विद्यार्थियों को नशे से दूर रहने का सदेंश दिया। मुख्य अतिथि निश्चल चौधरी ने कहा कि खेलों से एक व्यक्ति का संपूर्ण विकास होता है तथा खेलों से ही नेतृत्व की भावना विकसित होती है उन्होने कॉलेज जीवन की यादों को सांझा किया और बताया कि विद्यार्थी के रूप में उन्होने किस तरह यूथ फैस्टिवल और रक्तदान शिविर के आयोजन में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की,उनका कॉलेज जीवन का अनुभव उनके अन्दर नेतृत्व के गुणों का विकास करने में सहायक रहा । उन्होने अपने सभी प्राध्यापकों के प्रति भी सम्मान और आभार व्यकत किया। उन्होंने सभी प्रतिभागियों को अपनी शुभकामनाएं प्रेषित की निश्चल चौधरी ने स्वयं गोला फेंक कर प्रतियोगिताओं की शुरुआत की उसके बाद विधिवत रूप से खेल प्रतियोगिताओं की शुरुआत हुई।इस आयोजन में स्वागत कार्यक्रम के अन्तर्गत विद्यार्थियों के द्वारा विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों को भी प्रस्तुत किया गया। मंच का संचालन डॉ. राखी द्वारा किया गया।खेल दिवस के अवसर पर विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताओं व खेलों का आयोजन किया गया जिसमें विद्यार्थियों के साथ-साथ कॉलेज की प्राचार्या डॉ. करूणा  व स्टाफ ने भी बढ़ चढ़कर भाग लिया। खेल दिवस में 100 मीटर ,200 मीटर,400 मीटर,800 मीटर एवं 1500 मीटर रेस, लम्बी एवं उॅची कूद,शार्टपुट, रस्सा खीचना,थ्री लैग रेस आदि का आयोजन किया गया।खेल दिवस के समापन समारोह में कॉलेज प्राचार्या डॉ. करूणा व अन्य स्टाफ सदस्यों के द्वारा विजेता खिलाड़ियों व स्टाफ सदस्यों को मैडल, ट्राफी व प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया। खेल दिवस को सफल बनाने में सभी स्टॉफ सदस्यों ने बढ़ चढ़कर अपनी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन किया तथा विभिन्न प्रतियोगिताओं में भी भाग लिया। अन्त में आयोजक प्रौ. हेमराज कोशिश ने आये महमानों का तथा सभी स्टाफ सदस्यों का खेल दिवस को सफल बनाने के लिए हार्दिक धन्यवाद दिया तथा विजेताओं को बधाई व शुभकामनाएं दी। वार्षिक खेल को दिवस के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी लड़कियों में पूजा व लड़कों में वर्षित रहे।

उत्थान संस्थान में किया गया खेल कूद प्रतियोगिताओं का आयोजन हुआ

सुशील पण्डित, डेमोक्रेटिक फ्रंट, यमुनानगर -28 फरवरी    :

उत्थान संस्थान मे दिव्यांग बच्चो के लिए वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता आयोजित की गई।जिसमे इनडोर और आउटडोर गेम्स का आयोजन किया गया।आयोजित कार्यक्रम में दिव्यांग बच्चों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। उत्थान संस्थान की डायरेक्टर डॉक्टर अंजू बाजपई  ने बच्चों से कहा कि आप सभी हीरो हैं। इसलिए अपने को किसी से कम न समझें। अपनी मेहनत और लगन के साथ पढ़कर अपने भविष्य को उज्जवल बनाएं।उन्होंने  प्रतियोगिता में शामिल बच्चों का मनोबल बढ़ाया। उन्होंने बताया कि प्रतियोगिता का उद्देश्य दिव्यांग बच्चों में छुपी हुई प्रतिभा को बाहर लाना है. उन्होंने कहा कि दिव्यांग बच्चे अपने आप को कमजोर नहीं समझें. इन प्रतियोगिताओं के माध्यम से दिव्यांग बच्चों को एक मंच प्रदान किया जा रहा है, जिसके माध्यम से उनकों आगे बढ़ने का मौका मिलेगा.आगे उत्थान संस्थान के प्रधानाचार्य रविन्द्र मिश्रा ने कहा कि ‘प्रतिभा के धनी होते हैं दिव्यांगजन’। सामान्य जनों से भी अधिक प्रतिभा उनके अंदर छुपी रहती है, दिव्यांगों को खेल व शिक्षा में आगे बढ़ाकर उनकी प्रतिभा को निखारा जा सकता है।साथ ही खेलो के माध्यम से बच्चो का शारीरिक और मानसिक विकास होता है।साथ ही एकेडमी इंचार्ज स्वाति ने बताया कि दिव्यांगों के अभिभावकों को जागरूक करना बहुत जरुरी है. दिव्यांग अभिशॉप नहीं हैं, दिव्यांगों ने अपनी प्रतिभा के दम पर देश व प्रदेश में अपना नाम रोशन किया है।दिव्यांग बच्चों में 25मीटर दौड़ में लड़कियों मे रुहानिका ने प्रथम ,यशस्वी ने दूसरा और कशिश ने तीसरा स्थान प्राप्त किया।लडको मे 25मीटर की रेस मे अयान ने प्रथम,प्रभजोत ने दूसरा और पार्थ ने तीसरा स्थान प्राप्त किया।50मीटर की रेस मे लड़कियों में रिया ने प्रथम और लड़कों में समर ने प्रथम स्थान प्राप्त किया साथ ही 100 मीटर रेस में लड़कियों में शिवानी ने प्रथम,मीनू ने द्वितीय और विधि ने तीसरा स्थान प्राप्त किया।लड़कों में 100 मीटर रेस में यतिन ने प्रथम अंकुर ने द्वितीय और दिव्यांश ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। इनडोर गेम में कैरम बोर्ड प्रतियोगिता में प्रिंस ने प्रथम रमनदीप ने दूसरा और अर्जुन ने तीसरा स्थान प्राप्त किया।सभी विजेता बच्चो को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।संस्थान से सुमित सोनी और हनी तोमर मौजूद रहे।

दर्शना देवी ने दुबई में शॉट पुट में कांस्य पदक जीता

रघुनंदन पराशर, डेमोक्रेटिक फ्रंट, जैतो – 27 फरवरी :

पंजाब की दर्शना देवी ने दुबई में आयोजित फाजा इंटरनेशनल पैरा एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में शॉट पुट में कांस्य पदक जीता

पंजाब पैरा स्पोर्ट्स एसोसिएशन के पदाधिकारियों जसप्रीत सिंह धालीवाल,शमिंदर सिंह ढिल्लों और प्रमोद धीर ने  प्रेस को बताया कि दुबई में आयोजित फाजा इंटरनेशनल पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप में पंजाब की दर्शना देवी ने एफ 57  वर्ग में खेलकर गोला फेंक में कांस्य पदक जीतकर भारत व पंजाब का नाम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रोशन किया है। इस चैंपियनशिप में पूरे भारत से 12 खिलाड़ियों ने भाग लिया और भारत के तीन खिलाड़ियों ने पदक जीते। एक उत्तराखंड के खिलाड़ी हेम चंद्र ने एफ 57 वर्ग में भाला फेंक में कांस्य पदक और तमिल नायडू के खिलाड़ी संजय खाने ने एफ 43 वर्ग में डिस्कस थ्रो में कांस्य पदक जीता। दर्शना देवी पत्नी रवि कुमार निवासी भाऊवाल जिला रूपनगर ने विकलांग होने के बावजूद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीतकर पंजाब का नाम रोशन किया है। यह खिलाड़ी इससे पहले गोवा में नेशनल चैंपियनशिप में भी मेडल जीत चुकी है।इस जीत की खुशी में दर्शना रानी के मेडल जीतने के बाद पूर्व सांसद अविनाश रॉय खन्ना ,अशोक बेदी एडिशनल चेयरमैन पी.सी.आई.,ग्रामीण, पंचायत सदस्य, कोच, पंजाब के सभी पैरा खिलाड़ी और पंजाब पैरा स्पोर्ट्स एसोसिएशन के समूह पदाधिकारी डा.रमनदीप सिंह, दविंदर सिंह टफी बराड़, जगरूप सिंह सूबा,गुरप्रीत सिंह धालीवाल,अमनदीप सिंह जस‌इंदर सिंह,जसविंदर धालीवाल,मनप्रीत सेखों, यादविंदर कौर, गुरजीत सिंह, लवी शर्मा आदि ने दर्शना देवी का जोरदार स्वागत किया और बधाइयाँ दी गईं।

चण्डीगढ़ मास्टर्स स्टेट बैडमिंटन

चण्डीगढ़ मास्टर्स स्टेट बैडमिंटन : माला, गीता, सरगुन और बिन्नी ने जीते गोल्ड मेडल

डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़, 19 फरवरी

चण्डीगढ़ मास्टर्स स्टेट बैडमिंटन में माला, गीता, – सरगुन और बिन्नी ने गोल्ड मेडल जीते। 35 विमन डबल्स में माला और गीता की जोड़ी जीती। दोनों ने बिन्नी और श्वेता को 21-14, 21-17 से हराया। सिंगल्स में बिन्नी को जीत मिली। उन्होंने माला को 21-13, 20-22, 21-15 से हराया। विमन सिंगल्स 55+ में सरगुन अरोड़ा जीतीं। उन्होंने सुनीता को 21-11, 21-12 से मात दी। डबल्स में सरगुन ने मनदीप कंग के साथ जोड़ी बनाई और पूनम सुनीता की जोड़ी को 21-11, 21-12 से हराकर दूसरा गोल्ड जीता। विमन 40+ सिंगल्स में शारदा देवी ने ईशा गुप्ता को 21-7, 21-7 से और – 45+ सिंगल्स में गीत महाजन ने मनदीप को 21-2, 21-5 से हराया। मेन सिंगल्स 45+ सेमीफाइनल में निखिल ने रमिंदर – को 21-19, 21-1 से हराया और 40+ सेमीफाइनल में नरेश ने राजीवन को 21-11, 21-17 से मात दी।

8वीं राष्ट्रीय बोशिया चैंपियनशिप शानो-शौकत के साथ संपन्न 

रघुनंदन पराशर, डेमोक्रेटिक फ्रंट, जैतो, 15 फरवरी

बोशिया स्पोर्ट्स फैडरेशन ऑफ इंडिया द्वारा अध्यक्ष जसप्रीत सिंह धालीवाल, उपाध्यक्ष अशोक बेदी और महासचिव समिंदर सिंह ढिल्लों के कुशल नेतृत्व में 8वीं राष्ट्रीय बोशिया चैंपियनशिप का आयोजन अटल बिहारी वाजपेई विकलांगता खेल प्रशिक्षण केंद्र,ग्वालियर शानो शौकत के साथ संपन्न हुआ। बोशिया इंडिया के मीडिया प्रभारी प्रमोद धीर व हेड क्लासीफाइड डॉ.रमनदीप सिंह ने संयुक्त बयान में बताया कि 8वीं बोशिया नैशनल सब जूनियर,जूनियर और सीनियर पुरुष और महिला चैंपियनशिप में पूरे भारत के 22 राज्यों से चुने गए 103 राज्य स्तरीय विजेताओं ने भाग लिया। इस नैशनल चैंपियनशिप में विशेष अतिथि के रूप में संजीव दुबे अध्यक्ष मध्य प्रदेश,सुमित कालिया कोषाध्यक्ष मध्य प्रदेश ने सहयोग दिया। इस नैशनल चैंपियनशिप में बी.सी.3 वर्ग के खिलाड़ी सचिन चामरिया दिल्ली प्रथम,आज्ञा राज झारखंड द्वितीय,महिला वर्ग बीसी 4 से पूजा गुप्ता हरियाणा प्रथम अन्नपूर्णा कर्नाटक द्वितीय, उषा किरण तृतीय स्थान पर रहीं। पुरुष वर्ग बीसी फोर में जतिन कुसवाल प्रथम, इशान अग्रवाल द्वितीय, जय साई तृतीय रहे। उन्होंने बताया कि समापन समारोह में सभी विजेता खिलाड़ियों को मेडल और प्रमाणपत्र देकर सम्मानित किया गया।इस चैंपियनशिप के दौरान सभी खिलाड़ियों और उनके साथ आए परिवार के सदस्यों के लिए आवास और भोजन की व्यवस्था बोशिया स्पोर्ट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया द्वारा की गई थी।इस मौके पर हेड कोच दविंदर सिंह टाफी बराड़,कोच गुरप्रीत सिंह धालीवाल,जगरूप सिंह सूबा बराड़,अमनदीप सिंह बराड़, सुखजिंदर सिंह ढिल्लों, सिमरनजीत कौर रंधावा,रमन सिंह,जोबनजीत सिंह,खुश सिंह, डॉ.संस्कृति,डॉ.नवजोत सिंह ,डॉ. लखक्षी,डॉभुलदेव सिंह,संदीप सिंह, कुलदीप सिंह,लवी शर्मा आदि ने तकनीकी अधिकारी, प्रशिक्षक एवं रेफरी के रूप में अपनी सेवाएं बखूबी निभाईं।

दसमेश ग्लोबल स्कूल बरगाडी की छात्रा कृष्णूर कौर ने लोक नृत्य प्रतियोगिता में दूसरा स्थान हासिल किया

रघुनंदन पराशर, डेमोक्रेटिक फ्रंट, जैतो, 01 फरवरी

डांस स्पोर्ट्स काउंसिल ऑफ इंडिया और डांस स्पोर्ट्स काउंसिल ऑफ पंजाब ने मोगा में 8 वर्ष से 15 वर्ष आयु वर्ग के लिए राज्य स्तरीय नृत्य प्रतियोगिता का आयोजन किया। जिसमें दसमेश ग्लोबल स्कूल बरगाड़ी की छात्रा कृष्णूर कौर ने लोक नृत्य में भाग लिया और अपनी कला का प्रदर्शन करते हुए इस नृत्य प्रतियोगिता में दूसरा स्थान प्राप्त कर स्कूल का नाम रोशन किया। डांस स्पोर्ट्स काउंसिल ऑफ इंडिया और डांस स्पोर्ट्स काउंसिल ऑफ पंजाब ने छात्रा कृष्णूर कौर को ट्रॉफी और सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया। स्कूल के प्रधानाचार्य श्री अजय शर्मा ने छात्रों को इस उपलब्धि के लिए बधाई दी और उन्हें भविष्य में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए प्रोत्साहित किया।

मनदीप जांगड़ा बने इंटर कॉन्टिनेंटल टाइटल जीतने वाले पहले भारतीय बॉक्सर

-अमेरिकन बॉक्सर गेरार्डो एस्क्विवेल को एकतरफा अंदाज में हराया, पहली बार इंटर कॉन्टिनेंटल बेल्ट भारत के लिए जीती

डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़, 29 जनवरी

मनदीप जांगड़ा ने भारतीय बॉक्सिंग के लिए वो कर दिखाया है, जो अभी तक कोई भारतीय बॉक्सर नहीं कर पाया। उन्होंने अमेरिका के वॉशिंगटन में हुई इंटर कॉन्टिनेंटल टाइटल फाइट में अमेरिकन बॉक्सर गेरार्डो एस्क्विवेल को एकतरफा अंदाज में हराया और देश के लिए पहली बार वर्ल्ड टाइटल जीता।

रॉय जोन्स जूनियर के साथ उन्होंने इस फाइट के लिए तैयारी की थी। रॉय जोन्स जूनियर ओलिंपिक मेडलिस्ट हैं और दो बार गोल्डन ग्लव्ज बॉक्सिंग में टाइटल जीत चुके हैं। वे चार वेट कैटेगरी में वर्ल्ड टाइटल जीते और अभी तक कई दिग्गज बॉक्सर्स को वे ट्रेनिंग दे चुके हैं। मनदीप का नाम भी इस लिस्ट में शामिल हो गया है। रॉय जोन्स के साथ जुड़ने वाले, बेल्ट के लिए लड़ने वाले और इसे हासिल करने वाले वे पहले भारतीय हैं। उनके इस सफर में मिनर्वा एकेडमी ने भी उनका काफी साथ दिया है और भारत में रहते हुए स्ट्रेंथ ट्रेनिंग उन्होंने एकेडमी के साथ ही की।

मनदीप के लिए यहां तक का सफर आसान नहीं था। वे अभी तक 75 किलोग्राम वर्ग में फाइट करते थे। इंटर कॉन्टिनेंटल टाइटल फाइट के लिए उन्होंने 6 महीने में वजन कम किया और 59 किलोग्राम वर्ग में खेलने के लिए उतरे।

मनदीप ने कहा कि ये जीत सिर्फ मेरी नहीं, बल्कि हर उस शक्स की है, जिसने पूरे सफर में मेरा साथ दिया है। मेरे कोच, परिवार, फैंस अादि मेरे साथ खड़े रहे। मैं इस खिताब को अपने देश को डेडिकेट करता हूं। मैं कोशिश करूंगा कि आने वाले समय में भी ऐसे ही देश के लिए सम्मान व टाइटल हासिल करता रहूं।

मनदीप अभी तक के प्रोफेशनल बॉक्सिंग करियर में हारे नहीं हैं। उन्होंने 7 फाइट लड़ी हैं और सातों में जीत दर्ज की। टाइटल फाइट से पहले उन्होंने 6 फाइट में से 4 नॉकआउट करते हुए जीती। एक फाइट उनकी रद्द हुई। 7 मई, 2021 को उन्होंने प्रोफेशनल बॉक्सिंग में डेब्यू किया था। पहली फाइट में मनदीप ने लुकिआनो रामाेस को हराया और फिर देवॉन लीरा को नॉकआउट किया। तीसरी फाइट में उन्होंने ब्रेंडन सैंडोवाल को टेक्नीकल नॉकआउट किया और फिर चौथी फाइट में रेयान रेबर को शिकस्त दी। 5वीं फाइट में येस्नर तालावेरा को मनदीप ने एकतरफा अंदाज में हराने के बाद छठी फाइट में मारकस बोवोस को नॉकआउट किया।

22वीं राष्ट्रीय पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप में पंजाब के खिलाड़ियों ने जीते 6 पदक

रघुनंदन पराशर, डेमोक्रेटिक फ्रंट, जैतो, 16 जनवरी

गोवा में आयोजित 22वीं राष्ट्रीय पैरा एथलेटिक्स नेशनल चैंपियनशिप में पंजाब के पैरा एथलीटों ने 6 पदक जीतकर पंजाब का नाम रोशन किया। जैतो में प्रेस को प्रमोद धीर ने बताया कि इस चैंपियनशिप में पंजाब के 24 पैरा खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया। जबकि पूरे भारत से 900 पैरा खिलाड़ियों ने भाग लिया। जसप्रीत सिंह धालीवाल चेयरमैन क्लासिफिकेशन, शमिंदर सिंह ढिल्लों पी.सी.आई. अधिकारी के रूप में और सुखजिंदर सिंह ढिल्लों पंजाब पैरा स्पोर्ट्स एसोसिएशन के आधिकारिक कोच के रूप में पंजाब के खिलाड़ियों का मार्गदर्शन करने और सभी पैरा खिलाड़ियों का मार्गदर्शन करने के लिए विशेष रूप से गोवा गए और सभी पैरा खिलाड़ियों का नेतृत्व करते हुए खेलों में समूलियत करवाई।उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि पंजाब के पैरा एथलीटों में मिथन ने 400 मीटर रेस में गोल्ड मैडल, मोहम्मद यासिर ने शॉटपुट में कॉपर मैडल, दर्शना देवी ने शॉटपुट में कॉपर मैडल,जसविंदर सिंह 400 मीटर दौड़ में कॉपर मैडल,अन्ननियन बांसल ने गोला फेंक में कांस्य, विवेक शर्मा ने 100 मीटर दौड़ में कांस्य पदक जीता। सभी विजेता खिलाड़ियों को पीसीआई के एडिशनल चेयरमैन अशोक बेदी ने सम्मानित किया। गोवा में आयोजित नैशनल पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप के सभी विजेताओं और प्रतिभागियों को पंजाब पैरा स्पोर्ट्स एसोसिएशन के नेताओं चरणजीत सिंह बराड़, महिंदर सिंह केपी, दविंदर सिंह टफी बराड़,डॉ.रमनदीप सिंह, अमनदीप सिंह बराड़,गुरप्रीत सिंह धालीवाल,जसिंदर सिंह. सिंह ढिल्लों,जगरूप सिंह बराड़ सूबा, जसवन्त सिंह,जसपाल सिंह, नवी शर्मा,यादविंदर कौर आदि ने विजयी खिलाड़ियों बधाई  दी और उनके उज्जवल भविष्य की कामना की।

पंचकूला में अत्याधुनिक स्पोर्ट्स इंजरी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस सेंटर लॉन्च हुआ

डेमोक्रेटिक फ्रंट, पंचकूला, 11 जनवरी

अल्केमिस्ट हॉस्पिटल्स लिमिटेड की यूनिट ओजस हॉस्पिटल, पंचकूला ने आज अत्याधुनिक स्पोर्ट्स इंजरी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस सेंटर लॉन्च किया । इस अवसर के दौरान, एक पेशेंट इनफार्मेशन बुकलेट ‘पोस्ट-ऑपरेटिव फिजियोथेरेपी रेजिमेन’ भी रिलीज की गई ।

ओजस हॉस्पिटल में ज्वाइंट रिप्लेसमेंट एवं स्पोर्ट्स मेडिसिन विभाग के प्रमुख डॉ सुरेश सिंगला ने बताया कि स्पोर्ट्स इंजरी सेंटर में खेल से संबंधित चोटों वाले एथलीटों और व्यक्तियों को विश्वस्तरीय इलाज प्रदान किया जाएगा। इस सेंटर में अत्याधुनिक सुविधाएं और कुशल स्पोर्ट्स इंजरी स्पेशलिस्ट डॉक्टरों की टीम उपलब्ध हैं।

सेंटर की मुख्य विशेषताएं के बारे में डॉ सुरेश सिंगला ने बताया कि खेल की स्पोर्ट्स इंजरी और तुरंत आकलन सुनिश्चित करने, समय पर और प्रभावी उपचार योजनाओं को सक्षम करने के लिए सेंटर में नवीनतम डायग्नोस्टिक टूल का उपयोग होगा । सेंटर स्पोर्ट्स इंजरी के उपचार में सटीकता और प्रभावकारिता प्रदान करने के लिए डिजाइन किए गए नवीन सर्जिकल उपकरणों और बुनियादी ढांचे से लैस है। इसमें आर्थोस्कोपिक सर्जरी, संयुक्त संरक्षण तकनीक और व्यक्तिगत पुनर्वास कार्यक्रम शामिल हैं, जो हमारे रोगियों के लिए खेल और सामान्य जीवन में तेजी से वापसी सुनिश्चित करने के लिए तैयार किए गए हैं।

डॉ सुरेश सिंगला ने आगे  कहा कि हमारा लक्ष्य स्पोर्ट्स इंजरी प्रबंधन के लिए एक व्यापक दृष्टिकोण का उपयोग करके एथलीटों को विशेष देखभाल प्रदान करना है।

कंसल्टेंट जॉइंट रिप्लेसमेंट और आर्थ्रोस्कोपिक सर्जन नवदीप गुप्ता ने कहा कि सेंटर एथलीटों की सुरक्षित और खेल में कुशल वापसी की सुविधा के लिए डिजाइन किए गए विशेष रिहैबिलिटेशन कार्यक्रम प्रदान करता है। उन्होंने बताया कि वार्म-अप और स्ट्रेचिंग की भूमिका किसी भी संपर्क खेल या टीम खेल में शामिल होने से पहले शरीर को कंडीशनिंग करने वाली उचित तकनीक के उपयोग पर जोर दिया।कंसल्टेंट ज्वाइंट रिप्लेसमेंट और आर्थ्रोस्कोपिक सर्जन डॉ अनमोल शर्मा ने कहा कि लिगामेंट और टेंडन की चोटें जिन्हे हम स्पोर्ट्स इंजरी कहते हैं, स्पोर्ट्स के दौरान ना होकर हमारे दैनिक जीवन में भी हो सकती हैं, जैसे सीढ़ियों से गिरना, गीले फर्श पर फिसलना और छोटी दुर्घटना । ऐसी स्थितियों में और स्पोर्ट्स इंजरी में चिकित्सा देखभाल में देरी से दीर्घकालिक असुविधा हो सकती है, चोट से पहले के स्तर पर खेल में लौटने में बाधा आ सकती है और कुछ मामलों में स्थायी क्षति भी हो सकती है।

डिप्टी कमिश्नर ने राष्ट्रीय खेलों में पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को किया सम्मानित

संदीप वर्मा, डेमोक्रेटिक फ्रंट, जालंधर, 11 जनवरी

डिप्टी कमिश्नर विशेष सारंगल ने गुरुवार को विभिन्न राष्ट्रीय मुकाबलों में पदक जीतने और जिले का नाम रोशन करने वाले चार बैडमिंटन खिलाड़ियों को सम्मानित किया।हाल ही में हैदराबाद में आयोजित ऑल इंडिया जूनियर रैंकिंग बैडमिंटन टूर्नामेंट में गोल्ड जीतने वाली मान्या रलहन को 31000 रुपये का चैक दिया गया। मान्या इस समय जूनियर मिक्स्ड डबल्स कैटेगरी में भारत की नंबर 1 खिलाड़ी है।

समृद्धि भारद्वाज, लिजा टांक और अभिनव ठाकुर को 21000 रुपये का चैक दिया गया।जालंधर के इन खिलाडियों ने गोवा में नैशनल गेम्स, गुवाहाटी में नैशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप और 2023 में नैशनल स्कूल गेम्स में पदक जीते थे।समृद्धि भारद्वाज को हाल ही में दुबई में होने वाले वर्ल्ड स्कूल गेम्स में भाग लेने के लिए भारतीय स्कूल टीम में चुना गया है।

कोच गगन रत्ती को भी खेल में उनके योगदान के लिए सम्मानित किया गया।खिलाड़ियों को उनकी उपलब्धियों के लिए बधाई देते हुए डिप्टी कमिश्नर जो जिला बैडमिंटन एसोसिएशन (डी.बी.ए.) के अध्यक्ष भी है ने कहा कि इन खिलाड़ियों ने राष्ट्रीय खेल मुकाबलों में पदक जीतकर राज्य और विशेष रूप से जालंधर का नाम रौशन किया है।उन्होंने कहा कि डीबीए भारत और विदेश में किसी भी प्रतियोगिता या चैंपियनशिप में भाग लेने के लिए खिलाड़ियों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए एक कॉर्पस फंड स्थापित करेगा।

उन्होंने कहा कि प्रमुख उद्योगपतियों, एनआरआई और अन्य लोगों से अनुरोध किया जाएगा कि वे इस कार्पस फंड में उदारतापूर्वक योगदान देकर सीएसआर गतिविधियों के तहत डीबीए का समर्थन करें।सारंगल ने खिलाड़ियों को खेल में और बढिया प्रदर्शन करने के लिए कड़ी मेहनत जारी रखने के लिए प्रेरित किया और उन्हें बढिया प्रशिक्षण सुविधाओं के लिए हर संभव मदद का आश्वासन दिया।

इस अवसर पर उपस्थित प्रमुख लोगों में डीबीए की अंतरिम समिति के चेयरमैन डा. जय इंद्र सिंह (एसडीएम), जिला बैडमिंटन एसोसिएशन के सचिव रितिन खन्ना, कोषाध्यक्ष पलविंदर सिंह जुनेजा और खिलाड़ियों के माता-पिता शामिल थे।