खेलों से होता है सम्पूर्ण व्यक्तित्व का विकास : निश्चल चौधरी

सुशील पण्डित, डेमोक्रेटिक फ्रंट, यमुनानगर 29              फरवरी    :

महाराजा अग्रसेन महाविद्यालय जगाधरी में वार्षिक खेलकूद दिवस का आयोजन हुआ जिसमें कॉलेज के पूर्व छात्र व वर्तमान में भाजपा युवा मोर्चा जिला यमुनानगर के अध्यक्ष निश्चल चौधरी मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित रहे। विशिष्ट अतिथियों में कॉलेज प्रबंधन समिति के पदाधिकारी डॉ अश्वनी गोयल, प्रवीण गर्ग,पवन गर्ग, सुमित बंसल मौजूद रहे, कॉलेज की प्राचार्या डॉक्टर करुणा व स्पोर्ट्स मीट के समन्वयक हेमराज कोशिश ने मुख्य अतिथि निश्चल चौधरी व सभी वशिष्ठ अतिथियों का पुष्प गुच्छ  देकर स्वागत किया। मुख्य अतिथि भाजयुमो जिला अध्यक्ष निश्चल चौधरी के खेल के मैदान पर पहुंचे छात्र व छात्राओं ने करतल ध्वनि व मालाऐं पहनकर उनका स्वागत किया। वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिताओं का शुभारम्भ मार्च पास्ट ध्वजारोहण तथा खेल दिवस की शुरूआत की उदघोषणा से हुई। मार्च पास्ट में कॉलेज के विभिन्न क्लब समितियो और सभी विभागों ने भाग लिया। खिलाड़ियों को बी.ए. फाईनल की छात्रा कुमारी शीतल द्वारा खेल के नियमों व खेल की भावना से खेलने की शपथ दिलाई गयी । खेल दिवस के आयोजक प्रौ. हेमराज कौशिश ने सभी का स्वागत करते हुए खेल दिवस में होने वाली सभी प्रतियोगिताओं  और उनसे सम्बंधित नियमों की संक्षिप्त रूप रेखा प्रस्तुत की, प्रौ. हेमराज कोशिश ने कहा कि खेल के माध्यम से विद्यार्थी अपनी क्षमता का निर्माण करके देश सेवा  में अपना योगदान दे सकते हैं साथ ही साथ अपने कॉलेज और परिवार का नाम रोशन कर सकते है। वार्षिक खेलकूद दिवस के आयोजक प्रोफेसर हेमराज कोशिश ने मुख्य अतिथि निश्चल चौधरी के बारे में बताते हुए कहा कि निश्चल चौधरी इसी कॉलेज के पूर्व छात्र रहे हैं। तथा कॉलेज में रहते हुए उन्होंने कॉलेज की विभिन्न गतिविधियों में बढ़ चढ़कर भाग लिया जैसे यूथ फेस्टिवल ब्लड डोनेशन उन्होंने कहा कि ब्लड डोनेशन कैंप के दौरान निश्चल चौधरी को विद्यार्थियों की तरफ से मोटीवेटर बनाया गया था और उन्होंने अपना काम सफलता से करते हुए उसे वर्ष 513 यूनिट ब्लड इकट्ठा किया था।कॉलेज की प्राचार्या डॉक्टर करुणा ने अपने स्वागत भाषण में कॉलेज की संपूर्ण रिपोर्ट प्रस्तुत की तथा 2024 से 2029 के अगले 5 सालों की एक रूपरेखा सबके सामने रखी। डॉक्टर करुणा ने निश्चल चौधरी के बारे में बताते हुए कहा कि मुख्य अतिथि निश्चल चौधरी में नेतृत्व का गुण कॉलेज के टाइम से ही है तथा उन्होंने कॉलेज में रहते हुए कॉलेज की प्रत्येक गतिविधि में बढ़.चढ़कर हिस्सा लिया। उन्होने कहा कि निश्चल चौधरी के अन्दर समन्चय संगठन कार्य के गुण पहले से ही विद्यमान थे। सन् 2013 मे कॉलेज में हुए यूथ फैस्टिवल में निश्चल चौधरी व उसकी टीम द्वारा किये गए कार्यो की भरपूर सराहना की।खेल दिवस के अवसर पर मुख्य अतिथि निश्चल चौधरी जो सन् 2011 से 2014 तक महाविद्यालय के विद्यार्थी रहे ने कहा कि  भारत सरकार द्वारा नागरिकों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए फीट इंडिया की शुरूआत की गई तथा खेलों को बढ़ावा देने के लिए खेलो इण्डिया की शुरूआत की गई जिसका उददेश्य भारत मे खेलों के विकास को बढ़ावा देना है। उन्होने सभी विद्यार्थियों को अपने स्वास्थ्य एवं खेलो में भाग लेने के लिए प्रेरित किया तथा साथ ही विद्यार्थियों को नशे से दूर रहने का सदेंश दिया। मुख्य अतिथि निश्चल चौधरी ने कहा कि खेलों से एक व्यक्ति का संपूर्ण विकास होता है तथा खेलों से ही नेतृत्व की भावना विकसित होती है उन्होने कॉलेज जीवन की यादों को सांझा किया और बताया कि विद्यार्थी के रूप में उन्होने किस तरह यूथ फैस्टिवल और रक्तदान शिविर के आयोजन में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की,उनका कॉलेज जीवन का अनुभव उनके अन्दर नेतृत्व के गुणों का विकास करने में सहायक रहा । उन्होने अपने सभी प्राध्यापकों के प्रति भी सम्मान और आभार व्यकत किया। उन्होंने सभी प्रतिभागियों को अपनी शुभकामनाएं प्रेषित की निश्चल चौधरी ने स्वयं गोला फेंक कर प्रतियोगिताओं की शुरुआत की उसके बाद विधिवत रूप से खेल प्रतियोगिताओं की शुरुआत हुई।इस आयोजन में स्वागत कार्यक्रम के अन्तर्गत विद्यार्थियों के द्वारा विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों को भी प्रस्तुत किया गया। मंच का संचालन डॉ. राखी द्वारा किया गया।खेल दिवस के अवसर पर विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताओं व खेलों का आयोजन किया गया जिसमें विद्यार्थियों के साथ-साथ कॉलेज की प्राचार्या डॉ. करूणा  व स्टाफ ने भी बढ़ चढ़कर भाग लिया। खेल दिवस में 100 मीटर ,200 मीटर,400 मीटर,800 मीटर एवं 1500 मीटर रेस, लम्बी एवं उॅची कूद,शार्टपुट, रस्सा खीचना,थ्री लैग रेस आदि का आयोजन किया गया।खेल दिवस के समापन समारोह में कॉलेज प्राचार्या डॉ. करूणा व अन्य स्टाफ सदस्यों के द्वारा विजेता खिलाड़ियों व स्टाफ सदस्यों को मैडल, ट्राफी व प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया। खेल दिवस को सफल बनाने में सभी स्टॉफ सदस्यों ने बढ़ चढ़कर अपनी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन किया तथा विभिन्न प्रतियोगिताओं में भी भाग लिया। अन्त में आयोजक प्रौ. हेमराज कोशिश ने आये महमानों का तथा सभी स्टाफ सदस्यों का खेल दिवस को सफल बनाने के लिए हार्दिक धन्यवाद दिया तथा विजेताओं को बधाई व शुभकामनाएं दी। वार्षिक खेल को दिवस के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी लड़कियों में पूजा व लड़कों में वर्षित रहे।

भारत में सतत विकास पर हुआ एसडी कॉलेज में हुआ इंटरनेशनल सेमिनार का आयोजन

सेमिनार की आयोजन सचिव डॉ. रुचि शर्मा ने टिकाऊ रणनीतियों की आवश्यकता पर दिया बल

डेमोक्रेटिक फ्रंट, चण्डीगढ़ – 27 फरवरी    :

गोस्वामी गणेश दत्त सनातन धर्म कॉलेज, चंडीगढ़ में मंगलवार को भारत में सतत विकास पर इंटरनेशनल सेमिनार का आयोजन किया गया। आईसीएसएसआर द्वारा प्रायोजित इस कार्यक्रम में भारत में सतत विकास की तत्काल जरूरत को संबोधित करने के लिए विभिन्न क्षेत्रों के विद्वानों, विशेषज्ञों और अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने अपने विचार रखे। सेमिनार की शुरूआत औपचारिक दीप प्रज्वलन के साथ हुई। डॉ. प्रीति वोहरा ने उपस्थित लोगों का स्वागत करते हुए सेमिनार के उद्देश्यों को रेखांकित किया। कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. अजय शर्मा ने सभी अतिथियों व वक्ताओं का स्वागत किया।

 महर्षि अग्रसेन यूनिवर्सिटी, बद्दी के वाइस-चांसलर प्रो.आरके गुप्ता, पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़ के डीन कॉलेज डेवलपमेंट कौंसिल प्रो.संजय कौशिक, पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, पटियाला के वाइस चेयरमैन प्रो. आदर्श विग विशिष्ट अतिथियों में शामिल थे। मुख्य वक्ता व्रोकला यूनिवर्सिटी ऑफ बिजनेस एंड इकोनॉमिक्स, पोलैंड से प्रोफेसर बारबरा मरोज-गोर्गन और ब्रिटिश कोलंबिया के फ्रेजर वैली यूनिवर्सिटी से प्रोफेसर जियाकोमो मेंगुची ने बहुमूल्य अंतर्दृष्टि प्रदान की। जीजीडीएसडी कॉलेज सोसाइटी के महासचिव प्रो. अनिरुद्ध जोशी ने सेमिनार के विषय पर जोर देते हुए ‘वृक्ष सुरक्षा’ के बैनर तले वृक्षारोपण जैसी स्थायी प्रथाओं का आग्रह किया। आयोजन सचिव डॉ. रुचि शर्मा ने टिकाऊ रणनीतियों की आवश्यकता पर बल देते हुए अपने 169 लक्ष्यों को प्राप्त करने में भारत की चुनौतियों पर प्रकाश डाला।

प्रो. संजय कौशिक की वैश्विक स्थिरता स्थितियों की तुलना ने 17 सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) को प्राप्त करने के लिए, विशेष रूप से युवाओं को शामिल करते हुए, सामूहिक प्रयासों के महत्व को रेखांकित किया। प्रो. आदर्श विग ने पर्यावरणीय चुनौतियों से निपटने के लिए आत्म-निरीक्षण पर जोर दिया और युवाओं से सकारात्मक बदलाव के लिए प्रतिबद्धता का आग्रह किया। मुख्य वक्ता प्रोफेसर बारबरा ने ‘इस्तेमाल करो और फेंक दो की संस्कृति’ के हानिकारक प्रभावों पर जोर देते हुए ब्रांडिंग के पर्यावरणीय प्रभाव के बारे में बताया। प्रो. जियाकोमो मेंगुची ने एसडीजी रिपोर्ट से अंतर्दृष्टि साझा की, जिससे उपस्थित लोगों को स्थायी कार्यों के लिए प्रेरित किया गया। प्रो. आरके गुप्ता ने स्थिरता में ‘पंचतत्व’ के महत्व पर प्रकाश डाला, ‘बायोडिग्रेडेबल बरियल पॉड’ की अवधारणा प्रस्तुत की जो मृतक को एक पेड़ में बदल देती है।

पहले तकनीकी सत्र  में एक पैनल चर्चा का आयोजन हुआ जिसमें प्रोफेसर दीपांकर शर्मा, डॉ. दिव्या महाजन, डॉ. नितिन अरोड़ा और डॉ. मनदीप महेंद्रू शामिल थे। उन्होंने अपनी बातचीत में सतत विकास के लिए बुनियादी भारतीय ज्ञान प्रणालियों की वापसी की वकालत करते हुए विविध पहलुओं को शामिल किया। दूसरे तकनीकी सत्र की अध्यक्षता डॉ.स्मिता शर्मा ने की। सत्र में 25 रिसर्च स्कॉलर्स ने सौंदर्य प्रसाधन, म्यूचुअल फंड, ग्रीन जॉब्स और लैंगिक समानता सहित विभिन्न क्षेत्रों में स्थिरता पर अंतर्दृष्टि प्रदान करते हुए शोध पत्र प्रस्तुत किए। “पर्यावरण और स्थिरता” पर तीसरे सत्र की अध्यक्षता प्रोफेसर दीपांकर शर्मा ने की। सत्र में पर्यावरणीय चुनौतियों से निपटने के लिए सामूहिक कार्रवाई की आवश्यकता पर जोर दिया गया। डॉ. नितिन अरोड़ा की अध्यक्षता में “सामाजिक कल्याण और स्थिरता” पर चौथा सत्र आयोजित हुआ। पंजाब यूनिवर्सिटी के इक्ऩॉमिक्स विभाग की अध्यक्ष डॉ. अमृता शेरगिल ने समापन भाषण दिया और राष्ट्र के सतत विकास की बड़ी चुनौतियों से लड़ने के लिए व्यक्तिगत स्तर पर सतर्कता की आवश्यकता पर सबका ध्यान आकर्षित किया। पूरे सेमिनार में 100 से अधिक शोध पत्र प्रस्तुत किए गए और विचारों पर चर्चा की गई।

देश भगत विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों ने शेफ प्रतियोगिता में पहला पुरस्कार जीता

डेमोक्रेटिक फ्रंट, चण्डीगढ़- 27 फरवरी    :

देश भगत विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ होटल मैनेजमेंट और पर्यटन के छात्रों ने एवरेस्ट कुलिनरी चैलेंज सीज़न-5 में पंजाब क्षेत्र के लिए चण्डीगढ़ ग्रुप आफ कॉलेजेज में आयोजित बेकरी शेफ प्रतियोगिता में पहला पुरस्कार जीता। कड़ी प्रतियोगिता में प्रतिस्पर्धा करते हुए देश भगत विश्वविद्यालय की चार टीमों ने अपनी पाक-कला का प्रदर्शन किया। टीमों में काजल और कसक, लक्ष्मी कुमारी और अदिति, जसप्रीत और अर्सप्रीत, और खसुदीप और मानसी गर्ग शामिल थीं। काजल और कसक साथ ही लक्ष्मी कुमारी और अदिति ने रसोई खाने के सेगमेंट में भाग लिया, जबकि जसप्रीत और अर्सप्रीत के साथ ही खसुदीप और मानसी गर्ग ने बेकरी के इवेंट में अपनी कलाओं का प्रतिनिधित्व किया।

खसुदीप कौर और मानसी गर्ग की जोड़ी ने अपने उत्कृष्ट प्रदर्शन  से पहला स्थान हासिल किया। उन्होंने अपनी माहिरी का प्रदर्शन करते हुए जजों और सह-प्रतियोगियों को एक बेहतरीन केक तैयार करके दिखाया। अब इस सीज़न 5 का बड़ा अंतिम दौरा मार्च में मुंबई में होने जा रहा है, जिसमें सभी क्षेत्रों के विजेता टाइटल खिताब के लिए प्रतिस्पर्धा करेंगे।

विजेताओं को चांसलर डॉ. जोरा सिंह और चांसलर के सलाहकार डॉ. विरिंदर सिंह द्वारा एक सम्मान समारोह में सम्मानित किया गया। डॉ. जोरा सिंह ने विजेता विद्यार्थियों को हार्दिक बधाई दी और उन्हें भविष्य की प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया। प्रतियोगिता के दौरान विद्यार्थियों के साथ रहे शेफ रिंकु सिंह का मार्गदर्शन इनकी जीत में अहम योगदान रहा।

हमारी लड़कियां हमारे चंडीगढ़ का शानदार ढंग से प्रतिनिधित्व करेंगी : प्रो. निशा अग्रवाल

डेमोक्रेटिक फ्रंट, चण्डीगढ़ – 23 फरवरी    :

हमें यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि पोस्टग्रेजुएट गवर्नमेंट कॉलेज फॉर गर्ल्स, सेक्टर 42, चंडीगढ़ से सुश्री रितिका ठाकुर, एमए पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन, सुश्री राजनदीप कौर और सुश्री अभिलाषा नरवाल, दोनों बीए तृतीय वर्ष को विश्व युवा महोत्सव 2024″ रूस में, चंडीगढ़ का प्रतिनिधित्व करने के लिए चुना गया है। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने आधिकारिक तौर पर घोषणा की है कि यह उत्सव 1 मार्च से 7 मार्च 2024 तक सिरियस संघीय क्षेत्र में होगा। प्रो.(डॉ) निशा अग्रवाल प्रतिभागियों और उनके अभिभावकों को हार्दिक बधाई देती हैं। अपनी टिप्पणी में, उन्होंने नई मित्रता को बढ़ावा देने और विविध राष्ट्रीय संस्कृतियों और परंपराओं के आदान-प्रदान को सुविधाजनक बनाने के त्योहार के मिशन पर प्रकाश डाला। प्रोफेसर निशा अग्रवाल ने कहा, हमें विश्वास है कि हमारी लड़कियां हमारे चंडीगढ़ का शानदार ढंग से प्रतिनिधित्व करेंगी और वैश्विक मंच पर हमारी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का प्रदर्शन करेंगी। नोडल अधिकारी श्रीमती सुनीता कुमारी, सांस्कृतिक प्रभारी, स्नातकोत्तर शासकीय। कॉलेज फॉर गर्ल्स, सेक्टर 42 चंडीगढ़ और नेशनल प्रिपरेशन कमेटी इंडिया वर्ल्ड यूथ फेस्ट फेस्टिवल 2024 के श्री रोहित कुमार भी उपस्थित थे, उन्होंने साझा किया कि इन प्रतिभागियों को इस असाधारण कार्यक्रम में अपने जुनून को साझा करने और समान विचारधारा वाले व्यक्तियों के साथ जुड़ने के लिए मंच मिलेगा।

एनडीएमए के निर्देशों पर पीजीजीसी – 46 में भूकंप मॉक ड्रिल आयोजित

डेमोक्रेटिक फ्रंट, चण्डीगढ़- 22 फरवरी    :

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए), गृह मंत्रालय, भारत सरकार के तहत जिला प्रबंधन प्राधिकरण के निर्देशों के अनुसार, विद्यार्थियों और कर्मचारियों को भूकंप जैसी अप्रत्याशित आपात स्थितियों के लिए तैयार करने के लिए पोस्ट ग्रेजुएट गवर्नमेंट कॉलेज, सेक्टर – 46, चंडीगढ़ में एक भूकंप मॉक ड्रिल आयोजित की गई। इसका मुख्य उद्देश्य छात्रों और कर्मचारियों में जागरूकता फैलाना, तैयारी, साहस और आत्मविश्वास का निर्माण करना था। कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ. आभा सुदर्शन ने ड्रिल के महत्व पर प्रकाश डाला और इसे जीवन रक्षक अभ्यास कहा। एनडीआरएफ, सीआरपीएफ, भारतीय सेना, चंडीगढ़ फायर सर्विस, सरकारी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल, सेक्टर -16 और चण्डीगढ़ पुलिस जैसी विभिन्न एजेंसियों ने ड्रिल में भाग लिया। इसमें शामिल एजेंसियों ने छात्रों और कर्मचारियों को सुरक्षित निकालने में मार्गदर्शन और मदद की। इसके अलावा, हताहतों के इलाज के लिए कॉलेज के मैदान में एक चिकित्सा इकाई और एक आपातकालीन कमांड यूनिट स्थापित की गई थी। यह कार्यक्रम आपदा प्रबंधन समिति और एनएसएस कार्यक्रम अधिकारियों द्वारा सफलतापूर्वक आयोजित किया गया।

खालसा काॅलेज ने गुरमुखी और पुस्तक प्रदर्शनी आयोजित कर मनाया अंतर्राष्ट्रीय मातृ भाषा दिवस

अपनी मातृ भाषा का करें सम्मानः काॅलेज प्रिंसीपल

डेमोक्रेटिक फ्रंट, मोहाली – 22फरवरी    :

खालसा काॅलेज अमृतसर टेक्नोलाॅजी एंड बिजनेस स्टडीज, फेज 3ए में अंतर्राष्ट्रीय मातृ भाषा दिवस को चिन्हित करते हुए गुरमुखी और पुस्तक प्रदर्शनी का आयोजन काॅलेज की प्रिंसीपल डाॅ हरीश कुमारी के नेतृत्व में किया गया। यह आयोजन काॅलेज के पंजाबी विभाग द्वारा किया गया था।

काॅलेज में आयोजित इस प्रदर्शनी में गुरमखी से लिखी विभिन्न वस्तुएं प्रदर्शित की गई थी जिसमें गुरमुखी पज़्जल, गुरमुखी मोबाइल स्टैंड, पंजाबी फट्टी, गुरमुखी दुप्पटा, गुरमुखी दीवार में लटकाने वाली घड़ी, कैलेंडर आदि वस्तुओं के साथ पंजाबी की कुछ ज्ञानवर्धक किताबें प्रदर्शित की गई थी, जिनमें काॅलेज के स्टाफ सदस्यों व विद्यार्थियों ने खूब सराहा और खरीदारी भी की तथा पंजाबी भाषा के महत्व को जाना।

इस अवसर पर काॅलेज की प्रिंसीपल डाॅ हरीश कुमारी ने पंजाबी भाषा के महत्व और उसके इतिहास पर प्रकाश डाला और कहा कि हम सभी को अपनी मातृ भाषा का सम्मान करना चाहिए।

लेखन कार्यशाला में लेखक ब्रह्मदत्त शर्मा ने छात्राओं को जागरूक किया

सुशील पंडित, डेमोक्रेटिक फ्रंट, यमुनानगर, 19  फरवरी

गुरु नानक गर्ल्स कॉलेज यमुनानगर के हिन्दी विभाग की ओर से लेखन कार्यशाला का आयोजन किया गया।कार्यशाला का आयोजन महाविद्यालय की निदेशिका डॉ वरिंद्र गांधी व प्राचार्या डॉ हरविंदर कौर के मार्गदर्शन में किया गया। मुख्य वक्ता के रूप में प्रसिद्ध साहित्यकार ब्रह्मदत्त शर्मा और डॉ राधेश्याम भारतीय जी रहे। डॉ राधेश्याम ने अपने वक्तव्य में लघु कथा लेखन के लिए छात्राओं को प्रेरित किया। श्री ब्रह्मदत जी ने लेखन को रोज़गार से जोड़कर छात्राओं को प्रेरित किया। उन्होंने लेखन के लिए स्वअध्यययन की महत्ता के बारे भी बताया! एम.ए. हिन्दी व हिन्दी आनर्स की छात्राओं को सर्टिफिकेट भी वितरित किए गए। कार्यक्रम के सफ़ल संयोजन में डॉ प्रवीण नारंग, डॉ गीतू खन्ना, डॉ शक्ति, डॉ अंजु मित्तल, संदीप कौर, डॉ लक्ष्मी गुप्ता, डॉ अमनदीप कौर, दीपमाला की भूमिका सराहनीय रही।

देव समाज कॉलेज ऑफ एजुकेशन में एनुअल स्पोर्ट्स डे का आगाज

मंदीप को एथलीट ऑफ द ईयर, सीमा और को सर्वश्रेष्ठ स्पोर्ट्स पर्सन घोषित किया गया


डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़, 19 फरवरी

देव समाज कॉलेज ऑफ एजुकेशन, सेक्टर 36-बी, चंडीगढ़ ने  अपने 38वें एनुअल स्पोर्ट्स डे का आयोजन किया। कार्यक्रम की शुरुआत देव समाज कॉलेज ऑफ एजुकेशन की कॉलेज  मैनेजमेंट सैक्रेटरी डॉ. एग्नीज ढिल्लों द्वारा झंडा फेराहकर किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत बी.एड, एम.एड, डिप्लोमा इन गाइडेंस एंड काउंसलिंग, पीजी डिप्लोमा इन चाइल्ड गाइडेंस एंड फैमिली काउंसलिंग के विद्यार्थियों द्वारा मार्च पास्ट हुई, जिसके उपरांत खेल भावना को बनाए रखने का संकल्प छात्रों द्वारा एक शपथ ग्रहण समारोह में लिया गया ।

एनुअल स्पोर्ट्स डे को चिन्हित करते हुए विद्यार्थियों द्वारा विभिन्न खेलों का प्रदर्शन किया गया। जिसमें 100 मीटर दौड़, 50 मीटर दौड़, रिले दौड़ और शाॅट पुट जैसी ट्रैक और फील्ड प्रतियोगिताएं शामिल थी। इनके अलावा विद्यार्थियों ने मंनोरंजक खेलों में टग आफ वाॅर, लेमन स्पून रेस, सैक रेस, चट्टी रेस, स्लो साइकलिंग और कई अन्य दिलचस्प खेलों में उत्साहपूर्वक भाग लिया।

बी.एड. की छात्रा मनदीप को एथलीट ऑफ द ईयर अवार्ड देकर सम्मानित किया गया जबकि एमएड की छात्राओं सीमा और वंशिका को आल इंडिया इंटर-यूनिवर्सिटी तथा राष्ट्रीय स्तर पर कॉलेज का प्रतिनिधित्व करने के लिए बेस्ट स्पोर्ट्स पर्सन ऑफ द ईयर के अवार्ड से सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के तौर पर पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़ के खेल विभाग के डिप्टी डायरेक्टर डॉ. राकेश मलिक थे। इस दौरान उनके साथ अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी व आईएस देव समाज सीनियर सेकेंडरी स्कूल, चंडीगढ़ की प्रिंसिपल सबीहा ढिल्लों मांगट भी उपस्थित थीं।

खेल के अंत में डॉ. एग्नीज ढिल्लों ने डॉ. राकेश मलिक और सबीहा ढिल्लों मांगट के साथ आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेताओं को पुरस्कार और प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया।

अपने संबोधन में डॉ. मलिक ने छात्रों को खेल में करियर के बारे में बताया और व्यक्ति के कल्याण में खेल की भूमिका पर प्रकाश डाला।

डॉ. ऋचा शर्मा ने कार्यक्रम आयोजकों की सराहना की और विजेताओं और अन्य छात्रों को सच्ची खेल भावना का प्रदर्शन करने के लिए बधाई दी।

बसंत-पंचमी के पावन अवसर पर “गुरुकुल बिलासपुर” में यज्ञ का हुआ आयोजन

महृषि दयानंद जी के जन्मोत्सव  व बसंत-पंचमी के पावन अवसर पर “गुरुकुल बिलासपुर” में यज्ञ का हुआ आयोजन

सुशील पंडित, डेमोक्रेटिक फ्रंट, यमुनानगर, 14  फरवरी

युग परिवर्तक वेदोउद्धारक महर्षि देव दयानंद सरस्वती जी की 200वीं जन्म जयंती के उपलक्ष्य में इस महान युग दृष्टा के विचारों को अपने अंदर आत्मसात करते हुए हरियाणा प्रदेश के विख्यात शिक्षाविद डॉक्टर एम•के• सहगल ने “गुरुकुल यमुनानगर बिलासपुर” की  स्थापना की जिसमे आधुनिक शिक्षा (सीबीएसई) के साथ-साथ वैदिक रीति से ओतप्रोत संस्कारो पर विशेष महत्त्व दिया जा रहा है, इसके अतिरिक्त योग, जिम्नास्टिक, कुश्ती, मैडिटेशन आदि भी कराये जाते है ताकि बच्चो का शारीरिक, मानसिक और आत्मिक विकास हो सके उनके 200वे जन्मोत्सव पर व बसंत पंचमी के पावन अवसर पर “गुरुकुल बिलासपुर” में यज्ञ का आयोजन किया गया ओर उस महामानव के कार्यों को स्मरण किया गया इस अवसर पर डॉ एम• के• सहगल ने बताया कि गुरुकुल बिलासपुर को खोलने का मुख्य उदेश्य बच्चों को शिक्षावान ओर संस्कारवान बनाना है ताकि फिर से भारत को विश्व गुरु बनाया जा सके और इसके लिए गुरुकुल बिलासपुर कृत संकल्प है। उन्होंने लोगो से अनुरोध किया की वो अपने बच्चो का गुरुकुल बिलासपुर में प्रवेश कराकर के उन्हें शिक्षा ओर संस्कार देकर एक सफल व्यक्ति बनाये ताकि बच्चे अपने जीवन में श्रेष्ठ ऊंचाइयों को प्राप्त कर सके।

बसंत पंचमी के पावन अवसर पर श्री सिद्धिविनायक एजुकेशनल ट्रस्ट की चेयरपर्सन डॉ रजनी सहगल ने ट्रस्ट द्वारा 17वर्षों से किए जाये उल्लेखनीय कार्यों को याद करते हुए “कार स्वरूप यादगार-स्मारक” का उद्घाटन भी किया।उन्होंने अभिभावकों को आहवान करते हुए कहा कि शिक्षा के अगर हम अपने बच्चो को संस्कारवान बनाना चाहते है तो हमे गुरुकुल बिलासपुर में बच्चो को गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा दिलवानी चाइए। इस अवसर पर शैली चौहान, राखी बाँगा, स्वरांजलि सहगल, नमन सहगल व स्टाफ के सदस्य मोजूद रहे।

खालसा कॉलेज के विद्यार्थियों ने बंसत पंचमी के साथ मनाया मातृ-पिता संतान पूजन दिवस


डेमोक्रेटिक फ्रंट, चंडीगढ़, 14 फरवरी

फेस 3ए स्थित खालसा कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी एंड बिजनेस स्टडीज में कॉलेज की प्रिंसीपल डाॅ हरीश कुमारी के नेतृत्व में एक ओर जहां बसंत पंचमी का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया। वहीं दूसरी ओर काॅलेज के छात्रों ने वेलंटाईन डे के स्थान पर मातृ-पिता संतान पूजन दिवस भी मनाया।

काॅलेज परिसर में आयोजित इस अवसर पर विद्यार्थियों तथा कॉलेज के सभी स्टाफ सदस्यों ने पीले व सुंदर वस्त्र पहनकर कॉलेज में आए और इस पर्व को उत्साहपूर्वक ढंग से मनाया तथा एक दूसरे को बधाई दी।

कॉलेज प्रबंध ने इस अवसर पर विद्यार्थियों के बीच विभिन्न मनोरंजक प्रतियोगिताएं भी करवाई, जिसका सभी विद्यार्थियों ने खूब लुत्फ  उठाया। कॉलेज परिसर में एक और जहां विद्यार्थियों ने रंग बिरंगी पंतगबाजी जैसी रोचक प्रतियोगिता में हिस्सा लिया वहीं दूसरी और विद्यार्थियों के बीच टर्बन टाईंग प्रतियोगिता भी करवाई गई जिसमें विद्यार्थियों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। इतना ही नही विद्यार्थियों द्वारा इस दिन को खास व यादगार बनाने के लिए स्टेज पर डांस किया जिसे सभी ने खूब सराहा। इस अवसर पर विद्यार्थियों ने बसंत पंचमी पर आधारित लोकगीतों को भी गया। इस अवसर पर काॅलेज के एनएसएस विंग द्वारा बेकार पड़ी वस्तुओं से उपयोगी समान बनाया जिसकी काॅलेज की प्रिंसीपल ने प्रशंसा की। इस अवसर पर स्लोगल राइटिंग में भी विद्यार्थियों बढ़-चढ़ कर भाग लिया।

वहीं दूसरी ओर काॅलेज परिसर में वेलेंटाइन डे न बनाकर मातृ-पिता संतान दिवस मनाया गया। इस अवसर पर विद्यार्थियों ने अपने अपने अभिभावकों को मंच पर फूलों का हार पहनाकर सम्मानित किया और माता पिता के सम्मान में कविताएं सुनाई जिसे सुनकर सभी उपस्थितगण भाव-विभोर हो गए।  इतना ही नही, अभिभावकों ने भी अपने बच्चों से प्यार का इज़हार कविता सुनाकर किया।

कॉलेज की प्रिंसीपल डॉ हरीश कुमारी ने बंसत पंचमी के एतिहासिक महत्व पर प्रकाश डाला और इस पर्व को हर्षोल्लास का पर्व की संज्ञा दी। उन्होंने माता पिता का सम्मान करने की बात पर अपने विचार रखे।

कार्यक्रम के अंत में विभिन्न प्रतियोगिताओं में विजेता विद्यार्थियों को ममेंटोस देकर सम्मानित किया गया।