जीजीडीएसडी कॉलेज सेक्टर 32 ने वार्षिक समारोह में नवाजे छात्र और छात्राएं

चंडीगढ़, 20 मई

गोस्वामी गणेश दत्त सनातन धर्म कॉलेज सेक्टर-32 चंडीगढ़ में आज शुक्रवार को हुए वार्षिक पुरस्कार वितरण समारोह में पढ़ाई, खेलकूद और अन्य गतिविधियों में अव्वल रहने वाले स्टूडेंट्स को सम्मानित किया गया।  समारोह में चंडीगढ़ के प्रशासक के सलाहकार धर्म पाल मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित थे। उन्होंने पुरस्कार विजेताओं को शिक्षा, खेल और अन्य गतिविधियों में अपनी जगह बनाने और अपने संस्थान व माता-पिता को गौरवान्वित करने के लिए बधाई दी। इस माकुए पर सम्मानित होने वाले कॉलेज के छात्र और छात्रों में स्नेह, हरमनप्रीत सिंह, रिया, अमित छाबड़ा,सृष्टि संगर, नमन संगर, अनन्या पुरी और गौतम कुमार सहित 77 को समारोह में कॉलेज कलर दिए गए। समारोह में सम्मानित होने वाले सभी छात्र और छात्रों को कॉलेज के प्रिंसिपल प्रोफेसर अजय शर्मा ने बधाई दी और भविष्य में भी ऐसे ही चहुमुखी प्रदर्शन करने के लिए अपनी शुभकामनाएं दी।

पीजीजीसी 46 का 35वां वार्षिक दीक्षांत समारोह आयोजित 700 स्नातकों और स्नातकोत्तरों को डिग्री प्रदान की गईशिक्षित और जिम्मेदार नागरिकों के रूप में विद्यार्थी समाज में बहुलतावादी परिवर्तन ला सकते हैं अमनदीप सिंह भट्टी


चण्डीगढ़ : के सेक्टर-46 स्थित पोस्ट ग्रेजुएट गवर्नमेंट कॉलेज का 35वां वार्षिक दीक्षांत समारोह आज यहां आयोजित किया गया। इस अवसर पर चण्डीगढ़ के उच्च शिक्षा निदेशक अमनदीप सिंह भट्टी मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। कार्यक्रम की शुरुआत देवी सरस्वती को श्रद्धांजलि के रूप में रस्मी दीप प्रज्ज्वलित करने के साथ हुई। प्राचार्य प्रो (डॉ) आभा सुदर्शन ने मुख्य अतिथि और अन्य प्रतिष्ठित गणमान्य व्यक्तियों का गर्मजोशी से स्वागत किया। उन्होंने डिग्री धारकों की सराहना की और उनके दृढ़ प्रयासों की सराहना की। कला, वाणिज्य, प्रबंधन और कंप्यूटर अनुप्रयोगों के संकायों में 700 स्नातकों और स्नातकोत्तरों को डिग्री प्रदान की गई, जिसमें कला और वाणिज्य में ऑनर्स की डिग्री शामिल है। मेधावी छात्रों को उनकी शैक्षिक उपलब्धियों के लिए 5 रोल ऑफ ऑनर, 10 कॉलेज कलर्स और 14 मेरिट सर्टिफिकेट भी प्रदान किए गए।
श्री भट्टी ने छात्रों को उनके शैक्षिक सम्मान और उपलब्धियों के लिए बधाई दी। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि ग्रैजुएशन समारोह स्नातकों और उनके माता-पिता और शिक्षकों के लिए गर्व का एक बहुत बड़ा दिन है। उन्होंने स्नातकों को आत्मविश्वास और दृढ़ संकल्प के साथ आगे देखने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि राष्ट्र के शिक्षित और जिम्मेदार नागरिकों के रूप में विद्यार्थी समाज में बहुलतावादी परिवर्तन ला सकते हैं। भट्टी ने कहा कि शिक्षा का उद्देश्य प्रतिकूल परिस्थितियों में भी नैतिकता और सत्य के मार्ग पर चलना है जो हमें परिभाषित करता है है। उन्होंने छात्रों को सलाह दी कि वे अपने ज्ञान को उत्पादक और नवीन प्रौद्योगिकियों में निवेश करें ताकि राष्ट्र के विकास में तेजी लाई जा सके। उन्होंने कॉलेज को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए कॉलेज की प्राचार्या डॉ आभा सुदर्शन को उनकी दृष्टि, उत्साह और समर्पण के लिए बधाई भी दी। उन्होंने इस कार्यक्रम को सफलतापूर्वक आयोजित करने के लिए कॉलेज के संकाय, छात्रों और अन्य कर्मचारियों के प्रयासों की सराहना की। उपस्थित लोगों में ट्राइसिटी के कॉलेजों के प्राचार्य और पूर्व प्राचार्य मौजूद थे। धन्यवाद ज्ञापन कॉलेज के डीन डॉ राजेश ने किया।

कंप्यूटर प्रोफेशनल संघ पंचकूला ने अपनी मांगों को लेकर पंचकूला के तहसीलदार के माध्यम से हरियाणा के मुख्यमंत्री के नाम दिया ज्ञापन

  • डीआईटीएस के सभी कर्मचारियों को सेवा नियम का लाभ प्रदान करना तथा 58 वर्ष तक सेवा सुरक्षा प्रदान करने सहित कई मांगें हैं शामिल

कोरल ‘पुरनूर’, डेमोक्रेटिक फ्रंट, पंचकूला, 12 मई :

कंप्यूटर प्रोफेशनल संघ पंचकूला द्वारा आज अपनी मांगों को लेकर पंचकूला के नायब तहसीलदार हरदेव मेहरा के माध्यम से हरियाणा के मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया गया।

ज्ञापन के माध्यम से हरियाणा के मुख्यमंत्री से अनुरोध किया गया है कि भारतीय मजदूर संघ हरियाणा के प्रतिनिधि मंडल के साथ दिनांक 11.09. 2019 को हरियाणा कर्मचारियों की मांगों बारे मीटिंग का आयोजन किया गया था जिसमें जिला सूचना प्रौद्योगिकी समिति डी. आई. टीएस के सेवा नियम बाये-लाज़ जारी करने के निर्देश दिए थे जो पिछले 3 वर्षों बीत जाने के बाद भी आज तक सेवा नियम का लाभ नहीं मिला है। इसके अलावा इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग चंडीगढ़ के पत्र क्रमांक एडमिन/107/3 एस. आई. टी.(17087 दिनांक 21.02. 2022 से सेवा नियम के नाम पर कुछ निर्देश जारी किए गए हैं जिनका लाभ किसी भी कर्मचारी को नहीं हुआ है और ना ही जिला प्रशासन द्वारा स्वीकृत किए गए हैं कंप्यूटर प्रोफेशनल संघ मांग पत्र पर निजी तौर पर ध्यान देते हुए सेवा नियम में संशोधित संशोधित करते हुए इसका लाभ (एन.एच.एम /एस.एस. ए.) तर्ज पर सभी कंप्यूटर प्रोफेशनल को लाभ दिलाया जाए।

कंप्यूटर प्रोफशनल संघ पंचकूला की प्रधान विनय शर्मा ने बताया कि उनकी मांगों में Admin/107/3SIT/17087 दिनांक 21 फरवरी 2022 के माध्यम से जारी किए गए सेवा नियम में संशोधन करते हुए विस्तृत सेवा नियम ( एन.एच.एम/एस. एस. ए) की तर्ज पर जारी किए जाना, डीआईटीएस के सभी कर्मचारियों को सेवा नियम का लाभ प्रदान करना, 58 वर्ष तक सेवा सुरक्षा प्रदान करना, डीआईटीएस का केंद्रीयकरण करते हुए बजट का प्रावधान करना, आईटी प्रोफेशनल हरियाणा कौशल रोजगार निगम की बजाएं इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी विभाग हरियाणा सरकार द्वारा जारी आई. टी. पॉलिसी का लाभ देना शामिल है।

इस अवसर पर जिला कार्यकारी अध्यक्ष विजय कुमार, जिला सचिव अंजू बाला, कोषाध्यक्ष अनिल छाबड़ा, प्रदेश से शमशेर तथा जिला कमेटी के सदस्य तथा जिले के कंप्यूटर प्रोफेशनल्स शामिल थे।

श्रीमती अरूणा आसफ अली राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में  खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2021 के अंतर्गत वलंटियरशिप हेतु विद्यार्थियों का किया साक्षात्कार

कोरल ‘पुरनूर’, डेमोक्रेटिक फ्रंट, पंचकूला, 11 मई :

श्रीमती अरूणा आसफ अली राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में प्रधानाचार्या श्रीमती प्रोमिला मलिक की अध्यक्षता में खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2021 के अंतर्गत वलंटियरशिप हेतु विद्यार्थियों का साक्षात्कार किया गया।  इस कार्यक्रम के प्रभारी राष्ट्रीय सेवा योजना ब्वॉयज़ विंग के इंचार्ज डॉ. प्रदीप कुमार  और राष्ट्रीय सेवा योजना गर्लज़ विंग की इंचार्ज डॉ इंदू रहे।  साक्षात्कार महाविद्यालय के क्रीड़ा क्षेत्र में किया गया। इस अवसर पर लगभग 300 विद्यार्थियों ने साक्षात्कार दिया, जिनमें से 200 विद्यार्थियों का चयन स्वयंसेवक सेवा हेतु किया गया।

महाविद्यालय की प्रधानाचार्या श्रीमती प्रोमिला मलिक ने खेलो इंडिया यूथ गेम्स- 2021 में भाग लेने वाले विद्यार्थियों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि ‘खेलने-कूदने का लो संकल्प-स्वस्थ रहने का यही विकल्प’। उन्होंने कहा कि खेल व्यक्ति को जीतने की प्रेरणा देता है। हमें पढ़ाई के साथ-साथ खेलों की ओर भी ध्यान देना चाहिए और खेलों में भाग लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि खेल न सिर्फ हमें तंदरूस्त रखते हैं बल्कि हमारे चरित्र निर्माण और अनुशासन को बनाये रखने में भी सहायक होते हैं। नियमित रूप से खेल खेलने से मानसिक और शारीरिक वृद्धि को प्रोत्साहन मिलता है। इस अवसर पर प्रो.बिंदू भी उपस्थित थी।

राजकीय महाविद्यालय कालका में अर्थशास्त्र विभाग द्वारा भारतीय अर्थव्यवस्था और विभिन्न विकासात्मक योजनाएँ विषय पर करवाई प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता

पंचकूला संवाददाता, डेमोक्रेटिक फ्रंट – 9 मई :

राजकीय महाविद्यालय कालका में अर्थशास्त्र विभाग द्वारा प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का आयोजन करवाया गया । प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का विषय भारतीय अर्थव्यवस्था और विभिन्न विकासात्मक योजनाएँ रहा।

यह प्रतियोगिता अर्थशास्त्र विभाग की प्रो० इना आहूजा और प्रो अर्चना सोनी के मार्गदर्शन में आयोजित की गई।

इस अवसर पर प्राचार्या श्रीमती प्रोमिला मलिक ने अपने संबोधन में कहा कि भारत में मिश्रित अर्थव्यवस्था है, जिसमें निजी क्षेत्र एवं सार्वजनिक क्षेत्र का सह अस्तित्व है। उन्होंने कहा कि योजना आयोग का प्रमुख कार्य एक ऐसी योजना का निर्माण करना था, जो देश के संसाधनों का कुशल एवं संतुलित रूप से उपयोग कर सके।
उन्होंने बताया कि अर्थशास्त्र विभाग द्वारा आयोजित इस प्रतियोगिता में बी० कॉम प्रथम (आनर्स) के पीयांशु ने प्रथम स्थान, बी०कॉम- प्रथम  (आनर्स) की  बरिन्दर कौर ने द्वितीय स्थान और बी कॉम प्रथम (आनर्स) की आरती ने तृतीय  स्थान  प्राप्त किया। उन्होंने बताया कि बी कॉम प्रथम की स्नेहा और अंजली को सांत्वना पुरस्कार दिया गया।

Ukraine-Russia war may alter global order drastically

Chandigarh April 29, 2022

“Russian war in Ukraine may not be confined to Eurasia in terms of its implications for the world. It will affect the nature of unipolar world which at present is marked by US hegemony” argued experts participating in one-day seminar on “Ukraine Crisis, Emerging World Order & Implications for India” organized by Department of Defence and National Security Studies, Panjab University, Chandigarh today that is 28th April, 2022.

Dr Jaskaran Singh Waraich, Chairperson of the department, welcomed the guests present for the event and also highlighted the significance of the theme, while also giving the details of the objectives and the programme of the seminar. While inaugurating the seminar Vice Chancellor Professor Raj Kumar emphasized on the changing nature of geo-political scenario of the world in the context of the ongoing Ukraine-Russia conflict. He also highlighted the issues concerning India’s foreign policy in this context. The inaugural speaker Admiral Sunil Lanba (retd.) former chief of Indian Navy, also, highlighted the historical perspective of the ongoing conflict and geopolitical trends. In his keynote address Lt Gen Raj Shukla (retd.) delved on the major implications of Ukraine-Russia conflict and the change which may result in the aftermath of war.

In the first technical session, Dr Meena Singh Roy, former senior researcher with IDSA discussed the genesis of the Ukrainian Crises. She highlighted the historical seeds of discontent and power balance emerging out of various alliances. Maj Gen Amarjit Singh (retd.) pointed out the trends unfolding in various parts of the world specifically in West Asia and their linkages with India.

Professsor Kuldip Singh from GNDU examined the way global order has undergone a change since 9/11. He argued that India should exercise its strategic autonomy to utilize changes unleashed by war to its advantages. His argument was that India should take a lead to reorient global order away from West-Centric system, reactivating forums like BRICS and refashioning Bretton Woods institutions designed by the West for which global situation favoured India.

Maj. Gen. Raj Mehta (Retd.), Professor Sanjay Kumar Pandey form JNU and Lt Gen R S Panwar (Retd.) elaborated upon the Interests of various world actors and their likely intentions.

The technical session on the theme ‘contours of technology, military strategy and operations of war’ was chaired by Lt Gen KJ Singh (Retd) and co-chaired by Simrit Kahlon. In this session Dr. Shalini Chawla from Center for Air Power Studies, Lt Gen P R Shankar (retd) highlighted the lessons for India and emerging world order and balance of power. Employment of various weapons systems disruptive technologies in the ongoing conflict was also elucidated for the benefit of attendees and students.

In the valedictory session, Lt Gen Bhopinder Singh, former Lieutenant Governor of Andaman and Nicobar Islands & Puducherry was key speaker. In his valedictory address, he pointed out that academicians and defence forces have to work in sink for deriving the appropriate lessons from this ongoing conflict to make our nation strong for any and all future challenges.

The Chairperson of the department Dr. Jaskaran Singh Waraich gave the vote of thanks to all speakers, organizers and attendees for the resounding success of the seminar.

वाणिज्य और व्यवसाय प्रबंधन उत्सव कॉमफेस्को-22  का आयोजन

कोरल ‘पुरनूर’, डेमोक्रेटिक फ्रंट, चण्डीगढ़ :

स्नातकोत्तर वाणिज्य विभाग और स्नातकोत्तर सरकारी कॉलेज-46, चण्डीगढ़ के प्रबंधन विभाग ने अपने ज्ञान भागीदार के रूप में कौशल प्रयोगशालाओं के साथ आज कॉलेज परिसर में वाणिज्य और व्यवसाय प्रबंधन उत्सव कॉमफेस्को-22  का आयोजन किया। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि प्राचार्य डॉ. आभा सुदर्शन थीं। अपने संबोधन में, उन्होंने छात्रों को अपनी प्रतिभा दिखाने और रचनात्मकता के प्रति जुनून को बढ़ावा देने के लिए एक मंच प्रदान करने में वाणिज्य और प्रबंधन विभाग के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने आगे कहा कि इस तरह की प्रतियोगिताएं कौशल को बढ़ाती हैं और समग्र विकास में मदद करती हैं। ट्राईसिटी के विभिन्न कॉलेजों के छात्रों ने नॉक आउट (डिबेट), टाइम अप (बस एक मिनट), बिज़्ज़ क्विज़ (बिजनेस क्विज़), फीट ऑन फायर (डांस कॉम्पिटिशन), थिंक टैंक (लोगो डिजाइनिंग, टैगलाइन, पोस्टर मेकिंग, बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट), प्रीजी (पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन), बेच कर दीखाओ (प्रोडक्ट मार्केटिंग), घर में शार्क्स (पिच द इन्वेस्टर) और रंगमंच कलाकारों  का (एड मैड शो) जैसे विभिन्न कार्यक्रमों में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। इस उत्सव का सफल आयोजन डॉ. सुरिंदर कौर, प्रमुख वाणिज्य विभाग और डॉ. मुकेश चौहान, प्रमुख, प्रबंधन विभाग और विभाग के संकाय के कुशल मार्गदर्शन और मार्गदर्शन के तहत किया गया था। अंत में विजेताओं को प्रधानाचार्य द्वारा पुरस्कार व प्रमाण पत्र प्रदान किए गए। इस अवसर पर डीन डॉ. राजेश कुमार और डॉ. बलजीत सिंह भी उपस्थित थे।

आत्मरक्षा के प्रशिक्षण से बेटियों में बढ़ता है आत्मविश्वास – कंवर पाल


शिक्षा मंत्री ने 73 छात्राओं को कराटे बेल्ट देकर किया सम्मानित

सारिका तिवारी, डेमोक्रेटिक फ्रंट, पंचकूला, 27 अप्रैल :

हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवर पाल ने कहा कि आत्मरक्षा का प्रशिक्षण संकट की स्थिति में बेटियों के बचाव में सहायक व उनके आत्मविश्वास को बढ़ाता है, इसके साथ ही बेटियां शारीरिक और मानसिक रूप से सबल भी बनती है।

कंवर पाल आज पंचकूला के सेक्टर 1 स्थित पीडब्ल्यूडी विश्राम गृह में विद्यालय शिक्षा विभाग एवं हरियाणा स्कूल परियोजना परिषद द्वारा आयोजित रानी लक्ष्मीबाई आत्मरक्षा प्रशिक्षण कार्यक्रम के राज्य स्तरीय समारोह में बोल रहे थे।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि छात्राओं के लिए आत्मरक्षा प्रशिक्षण कार्यक्रम समग्र शिक्षा के तहत राष्ट्रीय स्तर पर चलाया जा रहा है। हरियाणा के विद्यालयों में यह कार्यक्रम काफी सफलता के साथ चलाया जा रहा है जिसके आगे भी अच्छे परिणाम  आएगे। पिछले शैक्षणिक सत्र में प्रदेश के लगभग 3 हजार विद्यालयों जिसमें मौलिक विद्यालय, वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय तथा 32 कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय में कार्यक्रम आयोजित किया गया है। जिसकेे तहत लगभग 3 हजार विद्यालयों की लगभग 1,23,302 छात्राओं को प्रशिक्षण दिया गया।

स्कूलोें में पढ़ने वाली हर छात्रा का मनोबल हो मजबूत
उन्होंने कहा कि विद्यालयों में पढ़ने वाली हर छात्रा का मनोबल व आत्मबल मजबूत बनाने के उद्देश्य से यह प्रशिक्षण देना आरंभ किया है। उन्होंने कहा कि छात्राओं की शिक्षा, सुरक्षा, सशक्तिकरण और स्वावलंबन के लिए आत्मरक्षा के गुण संकट की स्थिति में बेटियों का बचाव करने में सहायक होते हैं। इससे बेटियों के आत्मविश्वास को एक नई ऊंचाई भी मिली है।

प्रोजेक्ट उड़ान का भी किया लोकार्पण
शिक्षा मंत्री ने इस अवसर पर प्रोजेक्ट उड़ान का भी लोकार्पण किया। जिसका उद्देश्य प्रदेश के चैथी से आठवीं कक्षा तक के छात्रों को कोविड-19 के कारण हुए शिक्षा के नुकसान को कवर करना है। हरियाणा इस कार्यक्रम को चैथी से आठवीं कक्षा में शुरू करने वाले राज्यों में से एक है। पिछली कक्षा की दक्षताओं के आधार पर बच्चों के लिए शिक्षक नियमावली और छात्र कार्य पुस्तिकाएं तैयार की गई हैं। इसलिए शिक्षक प्रतिदिन स्कूलों में पहले दो घंटे के पुनरीक्षण पाठों को लागू करेंगे।

‘शिक्षा सारथी‘ पत्रिका का भी किया विमोचन

कंवर पाल ने 73 छात्राओं कराटे बेल्ट देकर सम्मानित किया, और विद्यालय शिक्षा विभाग की मासिक पत्रिका ‘शिक्षा सारथी‘ के अप्रैल अंक का विमोचन भी किया, जो छात्राओं के आत्मरक्षा प्रशिक्षण पर ही आधारित है। इस दौरान बेटियों ने आत्मरक्षा की तकनीकों का प्रदर्शन भी किया है। उन्होंने कहा कि मार्शल आर्ट की छात्राओं को देखकर अन्य छात्राएँ भी प्रेरणा लेगी।

10 मेधावी विद्यार्थियों को दिए स्मार्ट फोन
शिक्षा मंत्री ने कहा कि 137 संस्कृति आदर्श विद्यालयों में राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के तहत विद्यार्थियों को कम्प्यूटर प्रोग्रेमिंग  (कोडिंग) का प्रशिक्षण नवगुरुकुल फांउडेशन गुरुग्राम के द्वारा प्रदेश के विद्यार्थियों को निःशुल्क रूप से दिया। उन्होंने इस अवसर पर 10 मेधावी विद्यार्थियों को स्मार्ट फोन व इस प्रशिक्षण में सर्वश्रेष्ठ योगदान देने वाले पाँच अध्यापकों को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया है।
स्कूल शिक्षा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ महावीर सिंह ने कहा कि आज की लड़कियां सशक्त व मजबूत है केवल उन्हें उनकी ताकत से परिचित कराने की जरूरत है। इसी के तहत आत्मरक्षा प्रशिक्षण कार्यक्रम विद्यालय की छात्राओं को करवाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि हमें बेटियों को बचाना भी, पढ़ाना भी और आगे बढ़ाना भी है।

माध्यमिक शिक्षा के महानिदेशक व राज्य परियोजना के निदेशक डॉ जे. गणेशन ने बताया जिन छात्राओं ने 75 दिन का प्रशिक्षण पूर्ण कर लिया है, उन सभी को बेसिक स्किल ट्रेनिंग का प्रमाण पत्र दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि अपनी रक्षा में सक्षम बेटी निश्चित रूप से घर से दूर के विद्यालय तथा महाविद्यालय में शिक्षा ग्रहण करने से पीछे नहीं हटेगी। इसी उद्देश्य को लेकर समग्र शिक्षा के तहत छात्राओं को आत्मरक्षा प्रशिक्षण का कार्यक्रम प्रदेश विद्यालय में चलाया जा रहा है।

आपराधिक छवि के बर्खास्त प्राध्यापक व उसके कुछ साथियों द्वारा हरियाणा एस्पायरिंग असिस्टेंट प्रोफेसर एसोसिएशन  माध्यम से साजिशन एक्सटेंशन लेक्चरर्स को बदनाम करने  और षडयंत्र रचने बारे

सारिका तिवारी, डेमोक्रेटिक फ्रंट, पंचकुला :

 हरियाणा के राजकीय महाविद्यालयों में पिछले कई सालों से  कार्यरत 2000 एक्सटेंशन लेक्चरर्स की  एक्सटेंशन लेक्चरर्स वेलफेयर एसोसिएशन के राज्य प्रधान ईश्वर सिंह ने बताया कि कुछ नकारात्मक लोगो ने मिलकर एक फर्जी एसोसिएशन बनाई हुई है जिसका नाम “हरियाणा एस्पायरिंग असिस्टेंट प्रोफेसर” रखा गया है जो लगातार 2000 एक्सटेंशन लेक्चरर्स के खिलाफ साजिश और षडयंत्र रचती रहती है और सोशल मीडिया के माध्यम से एक्सटेंशन लेक्चरर्स को बदनाम करती रहती है।

उन्होंने बताया कि इस फर्जी एसोसिएशन में वे लोग शामिल है जो सन्  2012 से 2015 में कॉलेज में एक्सटेंशन लेक्चरर्स लगे थे लेकिन लगभग 6000/- सैलरी होने की वजह से ये एस्पायरिंग लोग कॉलेजों को छोड़कर ज्यादा सैलरी के लालच में यूनिवर्सिटी और एडिड कॉलेजो में चले गए थे | लेकिन जब इन लोगों को पता चला कि एक्सटेंशन लेक्चरर्स के संघर्ष और आंदोलन से हरियाणा सरकार ने 2019 में एक्सटेंशन लेक्चरर्स को समान काम समान वेतन का लाभ देते हुए मासिक 57700/- किये ।इतनी ज्यादा सैलरी होने के बाद ये एस्पायरिंग लोग कई सालों के बाद वापिस कॉलेजो में जॉइन होना चाहते थे ,लेकिन सरकार की 04 मार्च 2020 पालिसी के कारण इनकी वापसी नहीं हो पाई |इससे चिढ़कर  इन लोगों ने एक्सटेंशन लेक्चरर्स, सरकार और हायर एजुकेशन डिपार्टमेंट  को बदनाम करने का कार्य शुरू कर दिया।इस फर्जी एसोसिएशन में एक बर्खास्त प्रोफेसर भी है जिन पर अपने कॉलेज में महिला एक्सटेंशन लेक्चरर्स को प्रताड़ित करने के मामले में हरियाणा सरकार ने उनको रिटायरमेंट से पहले ही बर्खास्त कर दिया था ।उक्त आपराधिक छवि के प्रोफेसर का मकसद Hpsc की पोस्ट निकलवाना नही है बल्कि इसका मकसद कई सालों से कार्यरत एक्सटेंशन लेक्चरर्स को बदनाम करके नोकरी से बहार करवाना है।

2014 में उक्त प्रोफेसर गुरुग्राम के द्रोणाचार्य कॉलेज में कॉमर्स विभाग में कार्यरत थे और गलत तरीको से अपने चहेतों को एक्सटेंशन लेक्चरर्स की नोकरी पर लगाना चाहते थे लेकिन वहां के प्राचार्य के विरोध के कारण ये अपने मंसूबो में कामयाब नही हो पाया।  इसके साथ ही ईश्वर सिंह ने बिंदुवार बताया कि एक्सटेंशन लेक्चरर्स पर जो भी आरोप लगाए जा रहे हैं वे निराधार हैं और बिना किसी तथ्य के हैं:-

  1. एक्सटेंशन लेक्चर्स ने कभी भी नई भर्तियों का विरोध नहीं किया था, जिसका उदाहरण 2017-2018 में 2200 के लगभग भर्ती है जिसमें करीब 400 एक्सटेंशन लेक्चरर्स नियमित भर्ती हुए थे |
  2. समायोजन में भ्रष्टाचार से सम्बन्धित आरोप भी निराधार हैं, विस्थापित एक्सटेंशन लेक्चरर्स का समायोजन हरियाणा सरकार और उच्चतर शिक्षा विभाग की घोषित नियमावली के तहत हुआ है| 
  3. फर्जी पीएचडी का आरोप निराधार है,एक्सटेंशन लेक्चर्स 2010 से 2017 तक प्रति पिरियड लगभग छह महिने ही कार्य कर पाते थे ,बाकि छह महिने उनको कार्यमुक्त कर दिया जाता था। इसी समयावधि के दौरान यूजीसी से मान्यता प्राप्त विभिन्न विश्वविद्यालयों से पीएचडी की है| एक्सटेंशन लेक्चरर्स की योग्यता नेट/पीएचडी का सत्यापन कार्य उच्चतर शिक्षा विभाग तीन बार सम्बन्धित यूनिवर्सिटी से करवा चुका है, जिसमेें सभी एक्सटेंशन लेक्चरर्स के डॉक्युमेंट्स सही पाए गए हैं।
  4. जहाँ तक नॉन इलीजिबल एक्सटेंशन लेक्चरर्स का सवाल है तो इनकी संख्या 2000 एक्सटेंशन लेक्चरर्स में मात्र 200 के लगभग है ओर इनकी जोइनिंग हाई कोर्ट के निर्णय के अनुसार हुई है ।ये हाई कोर्ट का फैसला है कि नॉन एलिजिबल एक्सटेंशन लेक्चरर्स को तब तक रखा जाए जब तक खाली वर्कलोड है और रेगुलर भर्ती न हो। हमारी मांग केवल ये है कि जो 10 वर्षों से कार्यरत एक्सटेंशन लेक्चरर्स हैं और जो इन 10 वर्षों में ओवरएज हो चुके हैं उनका रोजगार सुरक्षित किया जाए|  

उन्होंने बताया कि एक्सटेंशन लेक्चरर्स की नियुक्ति पारदर्शी तरीके से थी और एक्सटेंशन लेक्चरर्स लगाने के लिए तीन राष्ट्रीय समाचार पत्र में विज्ञापन दिया गया था । सभी योग्य एक्सटेंशन लेक्चरर्स को साक्षात्कार के लिए आमंत्रित  किया गया था ।इसके साथ ही एक्सटेंशन लेक्चरर्स के चयन के लिए प्राचार्य और तीन प्रोफेसर की कमेटी बनाई गई थी जिन्होंने इंटरव्यू  और अकादमी स्तर पर एक्सटेंशन लेक्चरर्स की नियुक्ति की थी। सभी प्रिंट/इलैक्ट्रोनिक मीडिया से हमारा निवेदन है कि 2000 एक्सटेंशन लेक्चरर्स की कोई भी न्यूज़ देने से पहले एसोसिएशन के पक्ष को भी सुना जाए ताकि पत्रकारिता में पारदर्शिता बनी रहे और इस तरह के नकारात्मक लोगों की झुठ, साजिश ओर षडयंत्र का कोई अखबार माध्यम न बने।इसके साथ ही एक्सटेंशन लेक्चरर्स वेलफेयर एसोसिएशन ने एलान किया है कि जल्दी ही इन लोगों के खिलाफ जो बिना किसी आधार के एक्सटेंशन लेक्चरर्स को बदनाम कर रहे हैं, कानूनी कार्यवाही अमल में लायी जाएगी | इन सभी के खिलाफ हाईकोर्ट में मानहानि का केस किया जाएगा ।।इसके साथ ही एक्सटेंशन लेक्चरर्स के खिलाफ हो रहे इस तरह के    साजिश ओर षडयंत्र के बारे में एसोसिएशन पहले ही सरकार और हायर एजुकेशन के उच्च अधिकारियों के संज्ञान में ला चुकी है ।

स्टूडेंट्स की संगीतमय प्रस्तुति के साथ एसडी कॉलेज में संपन्न हुआ लिट्रेचर फेस्ट

चंडीगढ़:

सेक्टर-32 स्थित गोस्वामी गणेश दत्त सनातन धर्म कॉलेज में गोल्डन जुबली ईयर के मौके पर पंजाब आर्ट्स काउंसिल और सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के सहयोग आयोजित किया गया तीन दिवसीय लिट्रेचर फेस्टिवल एवं बुक फेयर  स्टूडेंट्स की संगीतमय प्रस्तुति के साथ संपन्न हो गया। अंतिम दिन अर्शप्रीत कौर, सिमोन, हर्ष धीमान और अनुष्का द्वारा साहित्यिक कविता गायन प्रस्तुत किया जिसे सभी ने पसंद किया। इस सत्र का संचालन अर्थशास्त्र की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. प्रीति वोहरा ने किया। लिट्रेचर फेस्टिवल  के संयोजक व कॉलेज के पंजाबी विभाग के असिसटेंट प्रोफेसर डॉ. प्रदीप (दीप निर्मोही) ने धन्यवाद प्रस्ताव दिया गया। इस अवसर पर कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. अजय शर्मा उपस्थित थे। उन्होंने इस कार्यक्रम की शानदार सफलता के लिए सभी को बधाई दी। उन्होंने कहा कि गोल्डन जुबली ईयर में आयोजित इस फेस्ट से स्टूडेंट्स काफी लाभान्वित हुए।


इससे पहले साहित्यिक कार्यक्रम के तीसरे और अंतिम दिन की शुरुआत तसलीन और देस राज काली के बीच ‘हरित क्रांति और पंजाब के सांस्कृतिक मानस के बीच लेनदेन: विशेष रूप से पंजाबी गीतों के संदर्भ में’ शीर्षक से आयोजित बातचीत के साथ हुई जिसकी मध्यस्था कॉलेज के पंजाबी के असिसटेंट प्रोफेसर डॉ. प्रदीप (दीप निर्मोही) ने की। देस राज काली लघु कथाओं, उपन्यासों, ऐतिहासिक पुस्तकों और निबंधों के प्रसिद्ध पंजाबी लेखक हैं। वह एक साहित्यिक त्रैमासिक ‘लकीर’ का संपादन भी करते हैं। इसके बाद गेस्ट स्पीकर पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़ के इतिहास विभाग के रिटायर्ड प्रोफेसर डॉ.सुरिंदर सिंह ने ‘सार्वजनिक बौद्धिक और वारिस शाह की परंपरा’ पर एक व्याख्यान दिया। विषय में उनकी विशेषज्ञता के कारण उनका व्याख्यान दर्शकों के लिए एक शानदार अनुभव साबित हुआ।  


फेस्ट में इन साहित्यिक गतिविधियों के अतिरिक्त बुक फेयर -2022′ का आयोजन भी किया गया।  इसमे विभिन्न प्रकाशकों द्वारा 20 किताबों के स्टाल शामिल थे और इसके अतिरिक्त, कॉलेज के रचनात्मक छात्रों द्वारा कई पेंटिंग स्टॉल भी थे। इस तीन दिवसीय फेस्ट में साहित्यिक सत्रों, सांस्कृतिक कार्यक्रमों, पैनल डिस्कशंस, प्रख्यात लेखकों के साथ बातचीत के माध्यम से अंग्रेजी, हिंदी और पंजाबी भाषाओं में रचनात्मक अभिव्यक्ति को प्रस्तुत किया गया था। फेस्ट के दूसरे दिन एक पैनल डिस्कशंस बातचीत तथा एक कवि दरबार का आयोजन किया गया था।