वीरेश शांडिल्य ने सीएम खट्टर को पत्र लिख पूछा क्या 2 आईएएस को पकड़ रिश्वत खोरी खत्म हो गई 

अंबाला शहर में भ्रष्टाचार ने खट्टर सरकार की करप्शन जीरो टॉलरेंस नीति को हवा में उड़ाया हुआ, भ्रष्टाचार को बेनकाब करना है तो हाई कोर्ट के जज के साथ, सीबीआई, ईडी, डीजीपी, एसीबी के नेतृत्व में गठित करें आयोग :  शांडिल्य बोले

डेमोक्रेटिक फ्रंट, अम्बाला  – 20 अक्टूबर :

विश्व हिन्दू तख्त के अंतर्राष्ट्रीय प्रमुख व एंटी टेरोरिस्ट फ्रंट इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीरेश शांडिल्य ने हरीयाणा के मुख्यमंत्री मनहोर लाल को पत्र भेज पूछा कि क्या हरियाणा में एंटी करप्शन ब्यूरो द्वारा 2 आईएएस को पकड़े जाने के बाद हरीयाणा करप्शन मुक्त हो गया । उन्होंने कहा इस बात में कोई विवाद नही कि हरियाणा के सीएम मनोहर लाल व हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ईमानदार व बेदाग हैं लेकिन हरियाणा में भ्रष्टाचार आज सिर चढ़ कर बोल रहा है और अंबाला शहर उसका बहुत बड़ा उदाहरण है। उन्होंने कहा कि उनका जन्म अंबाला में हुआ और 1989 से वो राजनीति कर रहे और आतंकवादी के साथ साथ समाज सेवा सहित लोगों से जुड़े हुए है लेकिन जो भ्रष्टाचार का खेल वो अंबाला शहर में वह 2014 से देख रहे इससे पहले कभी नही देखा और आज सीएम खट्टर की करप्शन जीरो टॉलरेंस सोच को हवा में नही अंबाला के ब्यूरोक्रेसी व नेता ने जमीन में गाड़ दिया है और भ्रष्टाचार सिर चढ़ कर बोल रहा है । विश्व हिन्दू तख्त के अंतर्राष्ट्रीय प्रमुख वीरेश शांडिल्य ने कहा कि दो आईएएस व दो एसडीएम या नायब तहसीलदार पटवारी पकड़ भ्रष्टाचारी खत्म नही होगी और न अकेले इसके लिए एंटी करप्शन ब्यूरो के अकेले के बस का नही हरियाणा के मुख्यमंत्री खट्टर चाहते हैं की उनकी करप्शन जीरो टॉलरेंस नीति जमीनी स्तर पर लागू हो तो उसको लेकर हाई कोर्ट के सिटिंग जज , हाईकोर्ट के पूर्व जज सहित सीबीआई के डायरेक्टर, ईडी, डीजीपी सीआईडी, एसीबी के नेतृत्व में एक आयोग गठित किया जाए फिर देखो तालाब की भ्रष्टाचार की मछलिया नही मगरमच्छ जेल की सलाखों के पीछे होंगे। 

शांडिल्य ने कहा कि उन पर मुकदमा दर्ज कर दिया जाए यदि उनका पत्र फर्जी आधारहीन हो उन्होंने कहा कि अम्बाला शहर नगर निगम में व जिला प्रशासन में भ्रष्टाचारी नाक से ऊपर नही सिर से ऊपर है । अम्बाला शहर के विधायक के रुके दर्जनों विकास कार्य की जांच कर ले दूध का दूध हो जाएगा जिन प्रोजेक्टों पर करोड़ो लग चुके 9 वर्ष में पूरे नही हुए। उन्होंने कहा की खाली एसीबी के बस का नही है इस भ्रष्टाचार के खेल में बड़े बदे मगरमच्छ नही बल्कि बड़ी बड़ी व्हेल मछलियां हैं जो करोड़ो सरकार के खाकर डकार भी नही मारते। देश मे आतंकवाद के खिलाफ व खालिस्तानी मुहिम के खिलाफ खुल कर लड़ रहे व कई जनहित के मुद्दों को जनहित याचिका के माध्यम से उठाने वाले वीरेश शांडिल्य ने कहा कि एल्फाबेटिकली जांच हो सीएम को पता चल जाएगा कैसे उनके ही अफसर उनकी आंखों में धूल झोंक उनके करप्शन के खिलाफ छेड़ी मुहिम को ठेंगा दिखा रहे उन्होंने पत्र में लिखा यदि सीएम चाहते हैं कि भ्रष्टाचार के खिलाफ उठाये कदमों को हरियाणा की पौने तीन करोड़ जनता नही पूरा देश याद रखे लेकिन वो बिना आयोग बनाये संभव नही है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री।खट्टर स्वयं श्वेत पत्र जारी कर दें कि 2014 में सीएम विंडो उन्होंने गठित की थी अधिकारियों मे डर पैदा हुआ लेकिन आज सीएम विंडो ब्यूरोक्रेसी की जेब में है या नही।शांडिल्य ने कहा 9 साल में कितने आईएएस अधिकारियों व कितने आईपीएस अधिकारियों व कितने हरियाणा सिविल सर्विज के अधिकारियों के खिलाफ शिकायते आई हैं उनमे कितने ब्यूरोक्रेट्स सस्पेंड किया या जेल भेजे। शांडिल्य ने कहा तहसीदार,पटवारी, जेई, क्लर्क को सस्पेंड करने से भ्रष्टाचारी नही रुक सकती उसके लिए बड़े बड़े मगरमच्छों को हाथ डालना होगा। शांडिल्य ने दावा किया बाढ़ ही खेत को खा रही हैं उन्होंने कहा कि उन्होंने अंबाला में करोड़ो रूपये के अवैध शोरूम जो विधायक के पार्टनर अरविंद गोयल ने बनाई जिसकी शिकायत उन्होंने एसीबी को की ओर जिस विभाग के खिलाफ भ्रष्टाचार की शिकायत दी उसी लोकल बॉडी विभाग एसीएस अरुण गुप्ता को एसीबी ने जांच के आदेश दिए जिसके उनके पास सबूत हैं इस पर आईएएस अरुण गुप्ता स्वेत पत्र जारी करें कि एन्टी करप्शन ब्यूरो ने भेजी शिकायत पर क्या एक्शन लिया मुख्यमंत्री उस आईएएस को मेरे सामने टीवी इंटरवयू में बुला लें। शोरूम अवैध व निगम अधिकारियों ने लाखों लेकर मिलीभगत से बनवाये न साबित कर दूं जेल भेज दें उन्हें ऐसे अनेको भ्रष्टाचार के मुद्दे अम्बाला में सीएम की भ्रष्टाचार की नीति को बदनाम कर रहें हैं।

 शांडिल्य ने कहा कि पूर्व निगम कमिश्नर अम्बाला आईएएस अंजू चौधरी व मजूदा कमिश्नर आईएएस संगीता तेतरवाल को मुख़्यमंत्री खट्टर उनके सामने जनसंवाद प्रोग्राम में बुला लें वो साबित कर देंगे कि इन दोनों अधिकारियों ने भ्रष्टाचारियो के खिलाफ कुछ नही किया और उनके साथ मिल गए। वीरेश शांडिल्य ने कहा कि गरीब लोगों का एक कमरा निगम गिरा रहा है 70 दिन तक रेहड़ी वालो को घर से बेघर निगम ने रखा अवैध जगह के नाम पर फड़ी नही लगानी दी जबकि असीम गोयल के पाटर्नर अरविंद अग्रवाल ने निगम व जिला के डीसी से मिल सेक्टर 8 में अवैध पंप चला रहा और बिना सरकारी की अनुमति से सरकार को करोड़ो का चूना लगा चुका है आज तक निगम व डीसी खामोश क्यों ? शाण्डिल्य ने कहा यह ही नही अंबाला चंडीगढ़ रोड पर एजुकेशन जोन में खट्टर सरकार को करोड़ो का चूना लगा अवैध होटल, मोटल, बार ,रूम बना पब्लिक के लिए फाइव स्टार होटल बना दिया जबकि वहाँ वो निर्माण हो नही सकता क्योंकि उस होटल सिटी विलास का मालिक जिसने लाखो की रिश्वत ब्यूरोक्रेसी को देकर उसे बनाया वो एमएलए असीम गोयल के पार्टनर अरविंद अग्रवाल का सगा भाई है ।सीएम खट्टर व एसीबी मजूदा अम्बाला की निगम कमिश्नर संगीता तेतरवाल से पूछे कि क्या एडुकेशनजॉन में होटल,बार,फाइव स्टार रूम, मैरिज पैलेस बन सकते हैं यदि नही बन सकते तो होटल विलास गिरा क्यों नही। वीरेश शांडिल्य ने कहा कि सीएम खट्टर को कुछ अधिकारी बदनाम कर रहें हैं। उन्होंने कहा कि उन्होंने आज सीएम खट्टर को मिल मिलने का समय मांगा है और अंबाला शहर में भ्रष्टाचार की कहानी व इस भ्रष्टाचार में शामिल अधिकारियों की लिस्ट देंगे। और यदि कोई एक्शन सरकार ने न लिया तो हाई कोर्ट में अंबाला शहर में भ्रष्टाचार सकण्डलो को बेनकाब करेंगे ।