पड़ोसी निकला SDM की बहन का हत्यारा:घर में अकेली रह रही सरकारी टीचर की हाथ-पैर बांधकर गला घोंटकर हत्या, लूट के इरादे से घर में घुसा था

बदमाशों ने आरएएस अफसर की बहन की बंधक बनाकर हत्या कर दी। वारदात शहर के शिप्रापथ इलाके में थड़ी मार्केट के पास सेक्टर- 23 में सोमवार को हुई। वारदात का पता चलने पर शिप्रापथ थाना पुलिस सहित डीसीपी हरेंद्र महावर मौके पर पहुंचे। डॉग स्क्वायड टीम और एफएसएल टीम को घटनास्थल पर बुलाया गया। वहीं, पुलिस ने शव को साकेत अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया है।

  • कुत्ता घुमाने को किया था मना, गुस्से में आकर की वारदात
  • कृष्ण कुमार शर्मा ने हत्या करना कबूल लिया है।
  • मृतका विद्या देवी (55) सेक्टर 23 में अकेली रहती थी, उनके बच्चे भोपाल में रहते हैं
  • मृतका के छोटे भाई युगांतर शर्मा आरएएस हैं, अभी वे जयपुर शहर के एसडीएम हैं

जयपुर(ब्यूरो):

मानसरोवर थड़ी मार्केट स्थित सेक्टर-23 में सोमवार सुबह अध्यापिका विद्या देवी शर्मा की पड़ोसी युवक ने हत्या कर दी। हत्यारे ने अध्यापिका का चुन्नी से गला घोंट दिया और फिर हाथ-पैर सीढिय़ों की रेलिंग के बांध दिए। इसके बाद मुंह, आंख और नाक पर भी चुन्नी लपेट दी। वारदात का खुलासा करते हुए पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया। कुत्ता घुमाने के दौरान टोका-टाकी करने से युवक महिला से नाराज था।

पहला लाल रंग का मकान मृतका विद्या देवी का था। वह घर में अकेली रहती थी। उनके पड़ोस के मकान (नीला रंग) में गिरफ्तार आरोपी कृष्ण कुमार शर्मा रहता है। वह मकान की छत से विद्या देवी के घर में घुसा। वे गाय को चारा डालकर घर पहुंची। तब उनकी गला घोंटकर हत्या की और फिर छत के रास्ते से अपने मकान में चला गया।

पुलिस ने बताया कि पड़ोस में रहने वाले गिरफ्तार आरोपी और विज्ञा देवी के बीच पहले से ही विवाद चल रहा था। सोमवार सुबह आरोपी के कुत्ते ने विज्ञा देवी के घर के सामने गंदगी कर दी। इस बात को लेकर दोनों में कहासुनी हो गई। इस बीच आरोपी ने विज्ञा की हत्या की साजिश रची।आरोपी छत के रास्ते महिला के घर में घुसा। महिला ने उसे पहचान लिया। इस पर महिला ने उसके साथ संघर्ष किया। आरोपी ने महिला का चुन्नी से गला घोंट दिया। इसके बाद चुन्नियों से ही हाथ-पैर सीढिय़ों की रेलिंग से बांधकर छत के रास्ते फरार हो गया। इस दौरान आरोपी पर्स, बैग और कीमती सामान भी ले गया।

सुबह स्कूल के एक अध्यापक ने अध्यापिका विज्ञा को फोन किया। अध्यापिका ने फोन रिसीव नहीं किया। इस पर अध्यापक ने फोन कर पड़ोसी महिला से जानकारी ली। पड़ोसी महिला का बेटा अध्यापिका के मकान की छत के खुले पड़े गेट से अंदर पहुंचा तब वारदात का पता चला। सूचना पर पुलिस अधिकारी और अध्यापिका के भाई एसडीएम प्रथम युगांतर शर्मा मौके पर पहुंचे।

मकान के दरवाजे पर हाथ जोड़कर खड़े हुए युगांतर शर्मा। जो सबसे पहले मौके पर पहुंचे। जिसके बाद वे अपनी बहन को लेकर साकेत हॉस्पिटल गए थे, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

20 से 25 मकानों की छत जुड़ी हुई

विज्ञा देवी के मकान के दोनों तरफ और पीछे की तरफ करीब 20 से 25 मकानों की छत आपस में जुड़ी हैं। एक-दूसरे के मकान की छत पर आसानी से आ-जा सकते हैं। हत्यारे भी छत के जरिए घर में पहुंचे और सीढिय़ों के जरिए वापस छत पर होते हुए भाग निकले।

डीसीपी क्राइम दिगंत आनंद और एडीसीपी क्राइम सुलेश चौधरी मौके पर जांच करने पहुंचीं।

10 से ज्यादा अधिकारियों समेत 50 लोगों की टीम जांच में जुटी

हाई प्रोफाइल मामला होने के चलते डीसीपी क्राइम दिगंत आनंद , डीसीपी साउथ हरेंद्र महावर, एडीसीपी सुलेश चौधरी, एडीसीपी साउथ अवनीश कुमार, जिला स्पेशल टीम, कमिश्नरेट की स्पेशल टीम, 4 आरपीएस रैंक के अधिकारी और 6 इंचार्ज समेत 50 लोगों की टीम जांच में जुटी

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *