लव जिहाद पर कानूनी मुहर

उत्तर प्रदेश में लव जिहाद के गुनहगारों के दिन पूरे हो गए है. क्योंकि यूपी की योगी सरकार जिहादियों के खिलाफ एक्शन के लिए पूरी तरह तैयार हो गई है. योगी कैबिनेट ने इस कानून पर अंतिम मुहर भी लगा दी है..

लखनऊ: 

मजहब की आड़ में लव जिहाद का गंदा खेल खेलने वाले सावधान हो जाए. क्योंकि उनकी सारी करतूतों का हिसाब करने वाला कानून यूपी की योगी कैबिनेट में पास हो गया है. सीएम आवास पर हुई बैठक में लव जिहाद पर कानून पास कर दिया गया है. लव जिहाद और गैरकानूनी धर्म परिवर्तन रोकने के लिए यूपी सरकार अध्यादेश लाई. राज्यपाल की मंजूरी के बाद ये कानून लागू हो जाएगा.

Love Jihad कानून पर मुहर

उत्तर प्रदेश में लव जिहाद करने वालों की अब खैर नहीं. आज योगी कैबिनेट की बैठक हुई. जिसमें लव जिहाद के खिलाफ कड़े कानून को मंजूरी दे दी गई. ऐसी जानकारी सामने आ रही है कि इसे गैर कानूनी धर्मांतरण निरोधक बिल के नाम से जाना जाएगा.

उत्तर प्रदेश के कई शहरों में लव जिहाद के मामले सामने आने के बाद योगी सरकार ने लव जिहाद के खिलाफ कानून लाने का ऐलान किया था. अब इस कानून पर योगी कैबिनेट ने मुहर भी लगा दिया है.

लव जिहाद पर यूपी के क़ानून में क्या?

  • उ.प्र.विधि विरुद्ध प्रतिषेद अध्यादेश 2020
  • धोखा या लालच देकर शादी करना अपराध
  • शादी के बाद जबरन धर्म बदलवाने पर सज़ा
  • दोषी को 5 से 10 साल तक की सज़ा का प्रावधान

वहीं यूपी की तरह ही मध्य प्रदेश सरकार भी लव जिहाद के खिलाफ कड़े कानून लाने की तैयारी कर रही है. मध्य प्रदेश सरकार ने अपने प्रस्तावित बिल में पांच साल की कठोर सजा का प्रावधान किया है और मामले गैर जमानती धाराओं में दर्ज होंगे. वहीं हरियाणा में निकिता तोमर की हत्या के बाद हरियाणा सरकार ने भी लव जिहाद के ख़िलाफ़ कानून लाने की बात कही है. फिलहाल आज योगी सरकार ने लव जिहाद पर सबसे पहले कानून लाकर इतिहास रच दिया है. अब 20 करोड़ हिन्दुस्तानियों को लव जिहाद से आजादी मिल गई है. हमारी मुहिम है कि 130 करोड़ हिन्दुस्तानियों को लव जिहाद से आजादी मिले.

सोमवार को ही उत्तर प्रदेश के कानपुर में 14 में से 11 मामले में लव जिहाद की पुष्टि हुई थी.  SIT की जांच रिपोर्ट में बड़ा खुलासा हुआ था. जानकारी के मुताबिक सिर्फ 3 मामलों में लड़की बालिग थी.

लव जिहाद संगठित अपराध?

– कानपुर लव जिहाद मामले में SIT जांच से बड़ा खुलासा
– 2019-20 के 14 में से 11 केस में लव जिहाद की पुष्टि
– 11 केस में आरोपियों ने हिंदू लड़कियों को धोखा दिया
– 4 लड़कों ने हिंदू लड़कियों को धोखे देकर निकाह किया
– 3 लड़कों ने हिंदू नाम बताकर लड़कियों को धोखा दिया
– आरोपियों ने धार्मिक पहचानकर बदलकर शादियां की
– धोखे से शादी के बाद लड़कियों का जबरन धर्म बदला
– जांच में पाया गया कि 4 लड़के एक दूसरे के संपर्क में थे
– धोखे की शिकार हुई हिंदू लड़कियों में से 8 नाबालिग थीं
– सिर्फ़ 3 मामलों में लड़कियों का लड़कों के पक्ष में बयान

अब आपको लव जिहाद को लेकर देश में मचे संग्राम के बारे में जानकारी दे देते हैं. क्योंकि इस कानून को लेकर देशभर में सियासी बवाल छिड़ा हुआ है.

लव जिहाद पर ‘आर-पार’

योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश – बेटियों से खिलवाड़ करने वालों का राम नाम सत्य होगा
Vs
अशोक गहलोत, मुख्यमंत्री, राजस्थान – लव जिहाद कोई शब्द नहीं, बीजेपी का सांप्रदायिक शिगूफ़ा है

शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री, मध्य प्रदेश – विवाह के नाम पर साजिश करने वालों पर कड़ा क़ानून लाएंगे
Vs
असदुद्दीन ओवैसी, अध्यक्ष, AIMIM – लव जिहाद पर क़ानून असली मुद्दों से ध्यान हटाने की साज़िश

अनिल विज, गृहमंत्री, हरियाणा – लव जिहाद के खिलाफ़ कड़ा और प्रभावी कानून लाया जाएगा
Vs
नुसरत जहां, सांसद, TMC – प्यार निजी मामला है, धर्म को राजनीतिक हथियार नहीं बनाएं

धर्म पर क्या कहता है संविधान?

– अनुच्छेद 25, 26, 27 और 28 में हर नागरिक को धार्मिक स्वतंत्रता
– अनुच्छेद 25 में सभी को अपना धर्म मानने, उसके प्रचार की आज़ादी
– धर्म प्रचार के अधिकार में किसी अन्य के धर्मांतरण का अधिकार नहीं
– अनुच्छेद 26 में सभी संप्रदायों को धार्मिक कार्यक्रम करने का अधिकार
– अनुच्छेद 27-  किसी धर्म विशेष को दान देने के लिये ज़बर्दस्ती नहीं

लव जिहाद या फिर संगठित अपराध? लव जिहाद के खिलाफ़ योगी सरकार आज अध्यादेश को मंजूरी दे दी है. मुख्यमंत्री योगी ने जो ऐलान किया था, उसपर मुहर लग चुकी है. लव जिहाद पर मध्य प्रदेश सरकार और हरियाणा सरकार के भी प्रस्तावित कानून पाइप लाइन में हैं, यानी उनपर काम जारी है. यूपी में लव जिहाद पर अध्यादेश को मंज़ूरी से पहले कानपुर के मामलों में SIT रिपोर्ट सामने आई है. जांच का सार ये है कि सब कुछ सोचे-समझे तरीके से हो रहा है. यानी पहले धर्म छिपाना, फिर प्रेम जाल में फांसना और उसके बाद ज़बर्दस्ती करके हिंदू लड़की का धर्म बदलवा देना.

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *