‘ओवैसी, जिन्ना की तरह अलगवाद और अतिवाद की भाषा बोलते हैं’ तेजस्वी सूर्या

बीजेपी नेता ने कहा कि तुर्की के राष्ट्रपति लगातार भारत के ख़िलाफ़ बोलते हैं और केसीआर हैदराबाद को ही तुर्की की राजधानी इस्तांबुल जैसा बनाना चाहते हैं। यही कारण है कि वो लोग AIMIM के साथ गठबंधन में हैं, वो पाकिस्तान जैसा हैदराबाद चाहते हैं। तेजस्वी सूर्या ने कहा कि बंगाल में भी युवा मोर्चा किसी से डरेगा नहीं और लगातार लोगों से मिलेगा. बीजेपी सांसद ने कहा कि तेलंगाना में भाजपा की सफलता तमिलनाडु, केरल जैसे राज्यों में पार्टी के लिए फायदेमंद होगी।

तेलंगाना/ नयी दिल्ली:

बिहार विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा का ध्यान अब दक्षिण के राज्यों पर है। तेलंगाना में होने वाले नगर निगम चुनावों के लिए वहाँ जोर-शोर से प्रचार चल रहा है। भाजपा के सांसद तेजस्वी सूर्या ने AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी और उनके भाई अकबरुद्दीन ओवैसी पर निशाना साधा है।

उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा, “यह हास्यास्पद है कि अकबरुद्दीन और असदुद्दीन ओवैसी विकास की बात कर रहे हैं। उन्होंने पुराने हैदराबाद में विकास की अनुमति नहीं दी। उन्होंने केवल रोहिंग्या मुसलमानों के प्रवेश को अनुमति दी। ओवैसी को दिया गया हर वोट भारत के ख़िलाफ़ और भारत से जुड़े हर फैसले के ख़िलाफ़ है।”

भाजपा नेता ने कहा, ” वे (असदुद्दीन ओवैसी) केवल इस्लाम, अलगाववाद और कट्टरपंथ की भाषा बोलते हैं, जिसे मोहम्मद अली जिन्ना भी बोला करते थे।”

तेजस्वी सूर्या ने हैदराबाद में प्रचार करते हुए कहा, “ये सिर्फ एक निगम चुनाव नहीं है, अगर आप यहाँ ओवैसी को वोट देते हैं तो वे महाराष्ट्र, कर्नाटक, बिहार, यूपी जैसे राज्यों में मजबूत होते हैं।” उन्होंने केसीआर पर निशाना साधते हुए कहा कि वो हैदराबाद को इस्तांबुल बनाना चाहते हैं।

उन्होंने केसीआर के लिए कहा कि तुर्की के राष्ट्रपति लगातार भारत के खिलाफ बोलते हैं और केसीआर हैदराबाद को ही तुर्की की राजधानी इस्तांबुल जैसा बनाना चाहते हैं। यही कारण है कि वे AIMIM के साथ गठबंधन में हैं। वे पाकिस्तान जैसा हैदराबाद चाहते हैं।

ओवैसी ने भी साधा भाजपा पर निशाना

तेजस्वी सूर्या के इस बयान से पहले ओवैसी ने भी कल मीडिया से बात करते हुए भाजपा पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था “अगर आप किसी भी बीजेपी नेता को नींद से जगाएँगे और कुछ नाम लेने को कहेंगे तो वो कहेंगे- ओवैसी। इसके बाद आतंकवाद और पाकिस्तान का नाम लेंगे। बीजेपी को इसपर बात करनी चाहिए कि उन्होंने 2019 के बाद से तेलंगाना, खासकर हैदराबाद को क्या आर्थिक सहायता दी है।”

उन्होंने हैदराबाद बाढ़ का मुद्दा उठाते हुए कहा था, “”हैदराबाद में बाढ़ आई थी। मोदी सरकार ने उस वक्त हैदराबाद को क्या आर्थिक मदद दी? वो अब इस चुनाव को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश कर रहे हैं क्योंकि उस वक्त उन्होंने कोई मदद नहीं दी थी। यहाँ ऐसा नहीं चलेगा, जनता जानती है।”

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *