लव जिहाद पर विधान सभाओं में कानून पारित करना असंवैधानिक : सीएम गहलोत

गहलोत ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा कि लव जिहाद भाजपा द्वारा राष्ट्र को विभाजित करने और सांप्रदायिक,सद्भावना को बिगाड़ने के लिए निर्मित शब्द है। उन्होंने कहा कि विवाह व्यक्तिगत स्वतंत्रता का मामला है। इस पर अंकुश लगाने के लिए एक कानून लाना पूरी तरह से असंवैधानिक है। यह कानून किसी भी अदातल में खड़ा नहीं होगा। लव में जिहाद का कोई स्थान नहीं होता। गहलोत ने कहा कि वे राष्ट्र में एक ऐसा वातावरण बना रहे हैं, जहां वयस्क राज्य की शक्ति की दया पर अपनी सहमति देंगे। विवाह एक व्यक्तिगत निर्णय है और वे उस पर अंकुश लगा रहे हैं।

जयपुर.

 उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश सरकार द्वारा लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाए जाने के मुद्दे पर राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने निशाना साधा है. सीएम ने लव जिहाद बिल को लेकर ट्वीट करते हुये कहा कि बीजेपी ने देश को बांटने और साम्प्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने के लिए लव जिहाद शब्द ईजाद किया है. शादी व्यक्तिगत आजादी का मामला है. शादी को रोकने के लिए लाया जाने वाला कोई भी कानून पूर्णतया असंवैधानिक है.

सीएम ने गहलोत ने एक के बाद एक लगातार 3 ट्वीट कर कहा, ‘यह किसी अदालत में नहीं टिकेगा. प्यार में जिहाद का कोई स्थान नहीं है. वे देश में ऐसा माहौल बना रहे हैं, जहां वयस्क लोगों की सहमति राज्य की दया पर निर्भर हो जाएगी. शादी निजी फैसला है और वे इसमें रुकावट डाल रहे हैं. यह व्यक्तिगत आजादी को छीनने जैसा है. यह साम्प्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने की चाल और सामाजिक टकराव को बढ़ाने वाला कदम है. इसके साथ ही संविधान के उस प्रावधान का अनादर है, जिसमें राज्य किसी नागरिक के साथ किसी भी आधार पर किसी तरह का भेदभाव नहीं कर सकता.

Love Jihad is a word manufactured by BJP to divide the Nation & disturb communal harmony. Marriage is a matter of personal liberty, bringing a law to curb it is completely unconstitutional & it will not stand in any court of law. Jihad has no place in Love.1/— Ashok Gehlot (@ashokgehlot51) November 20, 2020

सीएम ने ट्वीट में लिखा है लव जिहाद बीजेपी (BJP) की ओर से देश को बांटने और सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने के लिए गढ़ा गया एक शब्द है. सीएम ने लिखा है कि विवाह व्यक्तिगत स्वतंत्रता का मामला है. इस पर अंकुश लगाने के लिए एक कानून लाना पूरी तरीके से हमें असंवेधानिक है. पर यह कानून भी किसी अदालत में स्टैंड नहीं करेगा. 

They are creating an environment in the nation where consenting adults would be at the mercy of state power. Marriage is a personal decision & they are putting curbs on it, which is like snatching away personal liberty.2/— Ashok Gehlot (@ashokgehlot51) November 20, 2020

सीएम ने लिखा है कि लव में जिहाद का कोई स्थान नहीं है. ऐसे कानूनों के जरिए बीजेपी (BJP) राष्ट्र में भय का वातावरण बना रही है, जहां असहमति व्यक्त करने राज्य की शक्ति की दया पर निर्भर होंगे. सीएम ने लिखा है कि विवाह एक व्यक्तिगत निर्णय है और वह उस पर अंकुश लगा रहे हैं. यह व्यक्तिगत स्वतंत्रता को छीनने जैसा है. 

It seems a ploy to disrupt communal harmony, fuel social conflict & disregard constitutional provisions like the state not discriminating against citizens on any ground.3/— Ashok Gehlot (@ashokgehlot51) November 20, 2020

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *