कन्या भ्रूण हत्या जैसी सामाजिक बुराई को रोकने के लिए करें सामूहिक प्रयास, लिंगानुपात में लाएं सुधार: अतिरिक्त उपायुक्त अशोक बंसल।

मनोज त्यागी, करनाल – 29 सितंबर:

महिला एवं बाल विकास विभाग की ओर से आयोजित बैठक  की एडीसी ने की अध्यक्षता, कहा बेटी बचाव-बेटी पढ़ाओ अभियान को बनाए जन आन्दोलन। अतिरिक्त उपायुक्त अशोक बंसल ने कहा कि  कन्या भ्रूण हत्या जैसी सामाजिक बुराई को रोकने के लिए सम्बधित विभागों के  अधिकारी सामुहिक प्रयास करें और लिंगानुपात में सुधार लाएं। बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान को जन आन्दोलन बनाएं।   

एडीसी मंगलवार को अपने कार्यालय में महिला एवं बाल विकास की ओर से बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के अंर्तगत आयोजित बैठक में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि लिंगानुपात में समानता लाने के लिए लोगोंंं को जागरूक करें और पीएनडीटी एक्ट की दृढ़ता से पालना सुनिश्चत की जाए। उन्होंने स्वस्थ्य विभाग के  अधिकारी को निर्देश दिए की जिले में स्थित अल्ट्रासाउंड केन्द्रों पर रेड बढ़ाएं और जहां कमियां मिले तो सम्बधित के खिलाफ कानूनी कार्यवाही अमल में लाई जाए।

उन्होंने आश्वासन  दिया कि दोषियों के खिलाफ कानूनी कार्यावाही करने के लिए जिला प्रशासन की ओर से पूरा सहयोग मिलेगा और पुलिसबल की मदद मिलेगीे।  उन्होंने महिला एवं बाल विकास विभाग की अधिकारियों को निर्देश दिए की वे गर्भवती महिलाओंं पर विशेष ध्यान दें कि आंगनवाड़ी केन्द्रों में रजिस्ट्रड गर्भवती महिलाओं में से कितनी महिलाओं ने गर्भपात करवाया और उनके कारणों के बारे में जानकारी लें। अगली मिटिंग में ऐसी रिपोर्ट साथ लेकर आएं ताकि गर्भ में भ्रूण की हत्या करने व करवाने वालों पर कड़ा शिकंजा कसा जा सके।  

बैठक में जिला कार्यक्रम अधिकारी राजबाला ने बताया कि विभाग द्वारा बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत प्रत्येक खण्ड के ऐसे पांच-पांच गांव को वैरिफाई किया गया, जहां लड़कियों की संख्या कम है, उन गांव में लिंगानुपात में सुधार लाने के लिए जागरूक ता कैंम्प लगाए गये। उन्होंने यह भी बताया कि 0-6 वर्ष तक की लड़कियों का वजन मॉनिटरिंग किया गया तथा उनका हैल्थ चैकप करवाया गया।  उन्होंने बताया कि 1 सितम्बर से 30 सितम्बर तक पोषण माह में विभिन्न प्रकार की गतिविधियों का आयोजन किया गया। बैठक में विभाग की ओर से वर्ष 2020-2021 के दौरान करवाई जाने वाले कार्यक्रमों पर भी चर्चा की गई।  

इस अवसर पर जिला न्यायवादी कुलदीप सिंह, डीएसपी नरेन्द्र सिंह, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी रोहताश वर्मा, उप-सिविल सर्जन डा. नरेश करड़वाल, एआईपीओरओ रघुबीर गागट, सीडीपीओ मधु पाठक, डा. राजबाला मोर, नीलम काम्बोज, डीसीपीओ रीना कुमारी उपस्थित रही।

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *