जोरदार हंगामे के बीच राज्‍यसभा में कृषि विधेयक पारित

विपक्षी सांसदों के जोरदार हंगामे के बीच राज्‍यसभा ने कृषि विधेयकों को पारित कर दिया है। रविवार (सितंबर 20, 2020) को कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सरलीकरण) विधेयक-2020, कृषक (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 को उच्च सदन ने ध्वनिमत से पास कर दिया। इसके बाद राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित कर दी गई।

नई दिल्ली.

 विपक्ष के हंगामे के बीच रविवार को राज्यसभा से भी किसान बिल पास हो गया है. कृषि संबंधित दोनों बिल ध्वनि मत से पास हुए हैं. उच्च सदन में बिल पर चर्चा के बाद कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने जवाब दिया. इसके बाद विपक्ष ने सदन में जोरदार हंगामा किया. विपक्ष ने राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश नारायण सिंह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया. इसके अलावा टीएमसी सांसद आ ब्रायन ने सदन में रूल बुक फाड़ दी. उन्होंने कहा, सदन में सारे नियम तोड़ दिए गए हैं.

उपसभापति को करनी चाहिए लोकतांत्रिक परंपराओं की रक्षा

कांग्रेस के राज्यसभा सांसद अहमद पटेल ने कहा, ‘उपसभापति हरिवंश को लोकतांत्रिक परंपराओं की रक्षा करनी चाहिए, लेकिन इसके बजाय, उनके रवैये ने आज लोकतांत्रिक परंपराओं और प्रक्रियाओं को नुकसान पहुंचाया है. इसलिए हमने उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने का फैसला किया है.’

उप-सभापति का माइक टूटा

कृषि बिल के खिलाफ राज्यसभा में नारेबाजी करते हुए टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन उपसभापति की वेल तक आ गए और फिर उपसभापति से बिल छीनने की कोशिश की. इस दौरान मार्शल ने बीच बचाव किया तो उपसभापति के सामने रखा माइक टूट गया. इसके बाद टीएमसी सांसद वहां से नारेबाजी करते हुए पीछे की ओर लौट गए. फिलहाल हंगामा बढ़ता देख उपसभापति ने राज्यसभा की कार्रवाई स्थगित कर दी गई.

सरकार के मंत्री हरसिमरत कौर ने दिया इस्तीफा

जानकारी के लिए बता दें कि राज्यसभा में कृषि बिल 2020 लोकसभा और राज्यसभा दोनो से पास हो चुका है. कृषि बिल को लेकर तमाम विपक्षी पार्टियां विरोध कर रही हैं. अकाली दल की नेता और एनडीए सरकार में मंत्री हरसिमरत कौर ने तो इस्तीफा तक दे दिया है. राज्यसभा में केंद्र सरकार के पास बहुमत नहीं है फिर भी जोड़ तोड़ की गणित से बिल पास हो सकता है. किसान बिल को लेकर राहुल गांधी का पीएम मोदी पर निशाना. राहुल गांधी ने ट्वीट किया- ‘मोदी जी किसानों को पूंजीपतियों का ‘ग़ुलाम’ बना रहे हैं जिसे देश कभी सफल नहीं होने देगा.’

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *