गरुड़ प्रकाशन ने की ‘दिल्ली दंगा 2020: द अनटोल्ड स्टोरी’ प्रकाशित करने की आधिकारिक घोषणा

दिल्ली दंगों पर आधारित किताब को छापने से ब्लूम्सबरी पब्लिशिंग इंडिया (Bloomsbury Publishing India) के इनकार के बाद गरुड प्रकाशन ने इसे छापने का जिम्मा लिया है। दिल्ली रायट्स 2020: द अनटोल्ड स्टोरी (Delhi Riots 2020: The Untold Story) नाम से ब्लूम्सबरी इंडिया किताब छापने जा रहा था, प्रकाशन से पहले सोशल मीडिया पर मचे हंगामें और विरोध के बाद ब्लूम्सबरी ने किताब छापने से इनकार कर दिया। इसके एक दिन बाद गरुड प्रकाशन ने इस किताब को छापने का ऐलान किया है। 

राजविरेन्द्र वसिष्ठ, चंडीगढ़ – 24 अगस्त:

इस पूरे प्रारण में एक बार फिर से पत्रकारिता और प्रकाशन के बीच के द्वंद्व को पाया गया। लेखक/पत्रकार ने अपना काम बाखूबी किया लेकिन प्रकाशक ने अपने निजी स्वार्थ देखे। ब्लूम्सबेरी का इतिहास रहा है क वह सत्ता और सांप्रदायिक ताकतों के आगे न केवल घुटने टेक देता है अपितु दंडवत हो जाता है। कुछ साल पहले भी प्रफुल्ल पटेल के दबाव में एयर इंडिया पर लिखी एक पुस्तक की आधिकारिक घोषणा के बाद छापने से इंकार कर बैठा था। मुझे आज स्वराज में छपा एक विज्ञापन याद आ रहा है ” ‘‘चाहिए स्वराज्य के लिए एक संपादक। वेतन-दो सूखी रोटियां, एक गिलास ठंडा पानी और प्रत्येक संपादकीय के लिए दस साल जेल और विशेष अवसर पे अपना सिर कटाने के लिये तैयार, योग्य कलमकार’’। आज के दौर में भी ऐसे कलमकारों की आवश्यकता तो है ही अपितु अधिक आवश्यकता है निर्भीक प्रकाशकों की।

गरुण प्रकाश ने कहा है कि अगले 15 दिनों में किताब मार्केट में उपलब्ध होगी। गरुड़ प्रकाश के अधिकारी संक्रांत सानू ने कहा है कि अन्य पब्लिकेशन हाउस किताब की विषय वस्तु के स्थान पर अन्य बातों से प्रभावित होकर किताब छापने से इनकार कर रहे हैं। गरुड़ प्रकाशन दिल्ली दंगों पर आधारित किताब लिखने वाले लेखकों के प्रयास का समर्थन करता है। 

ब्लूम्सबरी (Bloomsbury) प्रकाशन समूह दिल्ली दंगों पर आधारित किताब Delhi Riots 2020: The Untold Story प्रकाशित करने वाला था। लेकिन इस्लामी और वामपंथियों के दबाव में आकर उसने किताब का प्रकाशन रोक दिया। अब इस किताब को गरुड़ प्रकाशन समूह प्रकाशित करेगा। इस किताब की लेखिका मोनिका अरोड़ा, सोनाली चितालकर और प्रेरणा मल्होत्रा हैं।

बीते दिन (22 अगस्त 2020) इस किताब के वर्चुअल विमोचन के दौरान ब्लूम्सबरी यूके मुख्यालय से दबाव बनाया गया। जिसके बाद प्रकाशन समूह ने अचानक ही किताब प्रकाशित करने से मना कर दिया था।  

किताब की लेखिका मोनिका अरोड़ा ने इस बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि लोगों को भावना देखते हुए उन्होंने फैसला किया है कि गरुड़ प्रकाशन समूह के साथ जाएँगे। यह फ़िलहाल स्टार्टअप की तरह चल रहा है। लेखिका ने ब्लूम्सबरी प्रकाशन समूह को इस संबंध में मेल भी किया था। लेकिन वहाँ से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिलने के बाद उन्होंने यह फैसला किया। मेल में उन्होंने साफ़ तौर पर पूछा कि क्या वह इस किताब का प्रकाशन रोक रहे हैं? वह इस बात को लिखित में दें लेकिन ब्लूम्सबरी ने फोन पर ही इस बात की जानकारी दी। यानी समझौता ख़त्म करने के लिए कोई लिखित कार्रवाई नहीं की गई।

किताब की लेखिका मोनिका अरोड़ा ने भी इस मुद्दे पर ट्वीट कर भी जानकारी दी। ट्वीट में उन्होंने लिखा “निवेदन के बाद हमसे से लिखित तौर पर कोई संवाद नहीं किया गया। हम अपनी किताब की हत्या नहीं कर सकते हैं, लोग इस किताब को खरीदना चाहते हैं। हमारे पास दूसरे प्रकाशन समूह को स्वीकार करने के अलावा कोई और विकल्प नहीं बचता है।”  

इस बात की पुष्टि करते हुए गरुड़ प्रकाश ने भी ट्वीट किया। साथ ही उन्होंने किताब की लेखिका मोनिका अरोड़ा का आभार भी जताया। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, “दोस्तों! आप सभी के सहयोग के लिए धन्यवाद। आइए इस किताब को घर-घर तक पहुँचाते हैं।” इसके बाद प्रकाशन समूह ने ट्वीट करके यह जानकारी भी दी कि किताब हिंदी और अंग्रेज़ी दोनों भाषा में विमोचित की जाएगी। जल्द ही यह किताब उपलब्ध कराई जाएगी।  

उल्लेखनीय बात यह रही कि जैसे ही ब्लूम्सबरी ने किताब छापने से मना कर किया गरुड़ प्रकाशन समूह ने इसे प्रकाशित करने का प्रस्ताव दिया था।  

पूरी किताब The book of ‘Delhi Riots 2020: The Untold Story इसकी लेखिकाओं द्वारा की गई जाँच – पड़ताल और साक्षात्कार पर आधारित है। अगले महीने यह किताब प्रकाशित होनी थी। किताब की 100 प्रतियाँ लेखिका को उपलब्ध भी कराई जा चुकी थी। इसके अलावा किताब अमेज़न पर प्री ऑर्डर के लिए उपलब्ध भी थी। लेकिन जैसे ही लेखिकाओं ने भाजपा नेता कपिल मिश्रा की मौजूदगी में वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के ज़रिए किताब विमोचन की बात कही, वैसे ही कॉन्ग्रेस समेत तमाम वामपंथी नेताओं ने इसके विरोध में अभियान चलना शुरू कर दिया।  

विलियम डेलरीमैपल जैसे वामपंथी इतिहासकारों की टीका टिप्पणी और आक्षेप के बाद ब्लूम्सबरी ने किताब प्रकाशित करने से मना कर दिया। ऐसा करने से पहले उन्होंने किताब की लेखिका को सूचित करना भी ज़रूरी नहीं समझा। गरुड़ प्रकाशन एक भारतीय प्रकाशन समूह है। इसकी शुरुआत संक्रांत सानू ने की थी और इसमें उनके साथ थे अंकुर पाठक। हाल ही में इस प्रकाशन समूह ने विवेक अग्निहोत्री की अर्बन नक्सल का प्रकाशन किया था।  

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *