स्पीकर ज्ञान चंद गुप्ता ने विजय दिवस की 21वीं वर्षगांठ पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी

प्ंाचकूला  26 जुलाई:

हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता ने कोविड-19 के चलते सोशल डिस्टेसिंग नियमों का पालन करते हुए पूरे देश मंे कारगिल विजय दिवस की 21वीं वर्षगांठ पर कारगिल शहीदों को नमन किया।  

हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष  ने पंचकूला के सैक्टर 12 स्थित युद्व स्मारक, सैक्टर 2 स्थित मेजर संदीप संाखला व सैक्टर 8 स्थित मेजर संदीप सागर की प्रतिमा पर पुष्प चक्र अर्पित कर कारगिल शहीदों को श्रद्वाजंलि दी। उन्होंने शहीदों को समर्पित पौधारोपण भी किया। पुलिस के जवानों ने शस्त्र उलटे कर वीर शहीदों को श्रद्वांजलि दी और मातमी धून भी बजाई।

गुप्ता ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि 26 जुलाई 1999 को आज ही के दिन भारत माता के वीर सपूतों ने 18000 फीट की ऊंचाई  पर अदम्यय साहस एवं वीरता का परिचय देते हुए पाकिस्तानी घूसपेठियों को खदेड़कर कारगिल की चोटी पर तिरंगा फहराया। उन्होंने कहा कि कारगिल युद्व विपरित परिस्थितियों में लड़ा गया किन्तु हमारे जवानों ने बहादुरी का परिचय दिया। यह क्षण हमारे लिए विस्मरणीय है और उसी के बाद आज के दिन को कारगिल विजय दिवस के रूप में पूरे देश में मनाया जाता है। कारगिल के शहीदों का बलिदान युवा पीढी के लिए प्रेरणा स्त्रोत हैं और उनमें देश भक्ति का जज्बा पैदा करता है।

एक सवाल जवाब में विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि पंचकूला खेलों के हब के रूप में विकसित हो रहा है। इसलिए भारत सरकार  ने यहां के खेल इन्फ्रास्कचर को ध्यान में रखते हुए खेलो इंडिया यूथ 2021 खेलों की मेजबानी देने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि यह पंचकूला के लिए गौरव की बात है कि इन खेलों में देशभर के लगभग 25 हजार से अधिक खिलाड़ी भाग लेंगे। उन्होंने कहा कि  पंचकूला में पहले भी इस तरह राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर के खेलों का आयोजन करवाया जाता है और इन खेलों से पंचकूला में खेल गतिविधियों में ओर अधिक सुधार होगा।

विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि कारगिल युद्व में हमारे 527 वीर शहीद हुए थे। इनमें हरियाणा के भी 89 जवान शामिल थे जिन्होंने अपनी मातृभूमि के लिए शहादत दी। उन्होंने कहा कि इस युद्व में लगभग 1400 सैनिक घायल भी हुए। देश के लिए यह ऐतिहासिक क्षण कभी भुलाया नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि ऐसे जांबाज वीर सैनिकों की बदौलत ही हम आज खुली हवा में सांस ले रहे हैं जो निरंतर सीमा पर सजग प्रहरी बनकर हमारी सीमाओं की रक्षा कर रहे है। ऐसे बहादुर  सैनिकों पर हमें नाज है जिनकी बदौलत नागरिक चैन की नींद सो रहे है।

गुप्ता ने कहा कि हम सैनिकों के बलिदान का कर्ज तो नहीं उतार सकते है, परंतु उनके आश्रितों के कल्याण के लिए निरंतर प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि कारगिल युद्व के शहीदों को तत्कालीन प्रधानमंत्री भारत रत्न स्व. अटल बिहारी वाजपेयी की बदौलत उनका अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनके पैतृक गांव में सम्भव हुआ। उन्होंने कहा कि सरकार ने कारगिल शहीदों को पैट्रोल पम्प व गैस एजेंसियां आंवटित की थी।

गुप्ता ने कहा कि हरियाणा सरकार ने सैनिकों के परिवारों के आश्रितों के कल्याण के लिए अलग से सैनिक एवं अर्धसैनिक कल्याण विभाग का गठन किया है। इसके माध्यम से वितिय सहायता एवं अन्य योजनाओं का लाभ दिया जा रहा है। इस अवसर पर कारगिल युद्व के दौरान सेना प्रमुख जनरल वी पी मलिक, एसडीएम धीरज चहल, एसीपी राजकुमार, तहसीलदार पुण्यदीप शर्मा, कार्यकारी अधिकारी नगर निगम जनरैल सिंह, भाजपा जिला अध्यक्ष दीपक शर्मा, महामंत्री हरेन्द्र मलिक, योगेश शर्मा सहित कई पूर्व सेना अधिकारियों ने भी कारगिल शहीदों को पुष्प अर्पित कर श्रद्वाजंलि दी।

शहीद मेजर संदीप सागर राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सैक्टर 7 में भी कारगिल विजय दिवस पर शहीदों को पुष्पाजंलि अर्पित कर श्रद्वांजलि दी गई।

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *