करनाल स्मार्ट सिटी बनाने की ओर अग्रसर

स्मार्ट सिटी में ऑटोमेटिक ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम के तहत शहर की भिन्न-भिन्न 29 लोकेशन पर ट्रैफिक लाईटें व 472 कैमरे लगेंगे

मनोज त्यागी करनाल 4 जुलाई:

   स्मार्ट सिटी के कार्य अब तेजी से आगे बढऩे लगे हैं। मद्रास सिक्योरिटी प्रिंटर प्राईवेट लिमिटेड कम्पनी की ओर से ऑटोमेटिक ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम के तहत शहर की विभिन्न 29 लोकेशन पर इन्फ्रारेड कैमरे लगाएगी। प्रारम्भ में नैशनल हाईवे स्थित 5 चौकों पर कैमरे लगाने की प्रक्रिया को लेकर पोल की फाउंडेशन का काम शुरू हो गया है। इसके बाद पोल पर ट्रैफिक लाईट व कैमरे लगाए जाएंगे, इनमें 360 डिग्री पर घूमने वाले कैमरे भी होंगे। कम्पनी के पास चौकों का कार्य 31 जुलाई तक और पूरे शहर में कैमरे लगाने का कार्य नवंबर अंत तक निपटाने का टारगेट है। कुल 472 कैमरे लगाए जाएंगे।

        करनाल स्मार्ट सिटी लिमिटेड के सीईओ एवं उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने शनिवार को निर्मल कुटिया चौक पर जाकर एक साईट देखी और फिर मेरठ रोड चौक पर तैयार एक फाउंडेशन का निरीक्षण किया। मौके पर कम्पनी के प्रोजेक्ट मेनेजर विनीत कुमार, नगर निगम के एई इलैक्ट्रिकल मुनीष अग्रवाल तथा स्पोर्ट इंजीनियर मोहन शर्मा भी मौजूद रहे।निरीक्षण के दौरान उपायुक्त ने बताया कि इस कार्य में प्रत्येक चौक पर कम से कम 10 पोल लगेंग। स्टैण्डर्ड के हिसाब से 4 मीटर व कैंटीलिवर पोल की ऊंचाई 6 मीटर रहेगी, उनपर लाईट व उच्च तकनीक के इन्फ्रारेड कैमरे लगेंगे। चौकों पर करीब 42 कैमरे लगाए जाएंगे। खास बात यह है कि रात्रि के समय भी यह फंक्शनल रहेंगे। इनका जुड़ाव ऑटोमेटिक ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम, आई.सी.सी.सी. यानि इंटिग्रेटिड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर से होगा, जो सैक्टर-12 स्थित नगर निगम के नए भवन के द्वितीय तल पर बनाया जा रहा है।

         उन्होंने बताया कि किस साईड से कितना ट्रैफिक आ रहा है, मालूम होता रहेगा। किसी एक साईड में ट्रैफिक ज्यादा है, तो ट्रैफिक लाईटें उसे निकालने के लिए उतना ही टाईम कंज्यूम करेंगी। चौक पर कोई एक्सीडेंट होने पर उसकी इमेज या कोई संदिग्ध वस्तु रखी होगी, तो उसका अलर्ट भी आई.सी.सी.सी. में पहुंचेगा।नगर निगम के नए भवन में आई.सी.सी. सेंटर को तैयार करने का कार्य 7 से-उपायुक्त ने बताया कि सैक्टर-12 स्थित नगर निगम कार्यालय की नई बिल्डिंग के दूसरे तल को आई.सी.सी. सेंटर के लिए तैयार किया जा रहा है, 7 जुलाई से इस पर काम शुरू होगा। सेंटर अपनी तरह का खास होगा। इसकी दीवारें विडियो वाल टैक्निक की होंगी, जिसमें आग नहीं लग सकेंगी, चूहें इत्यादि भी नुकसान नहीं पहुंचा सकेंगे। सेंटर का काम भी नवंबर के अंत तक पूरा हो जाने की उम्मीद है।

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *