विपक्षी नेताओं से मोदी की वार्ता देती है बड़े कदम के संकेत

  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोनावायरस से देश में बढ़ते संकट के बीच न केवल अभी तक देशवासियों को कई बार संबोधित कर चुके हैं बल्कि वह समय समय पर देशवासियों, कोरोना पीड़ित मरीज जो ठीक हो कर घर पहुंच चुके हैं उनके साथ-साथ देश के खिलाड़ियों से भी बात की. इसी कड़ी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के पूर्व प्रधानमंत्री, पूर्व राष्ट्रपति सहित विपक्ष के नेताओं से भी बात की है.

नई दिल्ली. 

कोरोना वायरस (Coronavirus) का संक्रमण देश भर में लगातार बढ़ता जा रहा है. ऐसे में इसे रोकने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी (PM Modi) लगातार प्रभावी कदम उठा रहे हैं. वहीं खबर है कि कोरोना वायरस (Covid-19) के खिलाफ लड़ाई में पीएम मोदी कोई बड़ा उठा सकते हैं. दरअसल सूत्रों के मुताबिक, पीएम मोदी ने पूर्व राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से फोन पर बातचीत की है. इसके अलावा उन्होंने विपक्ष के कई नेताओं से भी बात की, जिसमें सोनिया गांधी से लेकर ममता बनर्जी तक शामिल हैं. बताया कहा जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सभी राजनीतिक दलों को एक मंच पर लाने की कोशिश में जुटे हैं.

कई बड़े नेताओं से की बात

सूत्रों के मुताबिक, पीएम मोदी ने सबसे पहले पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से बातचीत की, जो किसी जमाने में कांग्रेस के संकटमोचक माने जाते थे. इसके अलावा उन्होंने पूर्व पीएम डॉक्टर मनमोहन सिंह को भी कॉल किया. इसके साथ ही उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल से भी बातचीत की. इस सिलसिले में प्रधानमंत्री ने कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी से भी बातचीत की. इसके अलावा समाजवादी पार्टी के सीनियर नेता मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव, तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो और पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, बीजू जनता दल सुप्रीमो और ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक, डीएमके चीफ एमके स्टालिन और तेलंगाना के सीएम केसीआर से भी फोन पर बात की. उन्होंने अकाली दल के सीनियर नेता प्रकाश सिंह बादल को भी फोन मिलाया.

इन मुद्दों पर हुई चर्चा

सूत्रों के मुताबिक, बातचीत के दौरान पीएम मोदी ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए उठाए गए कदमों पर चर्चा की. साथ ही उन्होंने इस गंभीर मसले पर बाकी नेताओं की राय ली और आगे के कदमों के लिए सहयोग मांगा.

बता दें कि पिछले महीने पीएम मोदी ने कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देश भर में 21 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान किया था. लेकिन सोनिया गांधी सहित कांग्रेस के कई नेताओं ने सरकार पर आरोप लगाया था कि बिना तैयारी के लॉकडाउन को लागू कराया गया है. हालांकि पीएम मोदी और बीजेपी के सारे नेता कह रहे हैं कि कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए उनके पास कोई चारा नहीं था. पीएम मोदी कई बार ये दोहरा चुके हैं कि सोशल डिस्टेंसिंग ही इस वायरस से बचने का सबसे कारगर तरीका है.

पीएम मोदी ने इससे पहले गुरुवार को देश के विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये बातचीत की थी. उस दौरान उन्होंने लॉकडाउन खत्म होने की सूरत में उन सभी से आगे लोगों को सड़कों पर निकलने से रोकने के लिए रोडमैप मांगा था.

खिलाड़ियों से भी की थी बात

पिछले दिनों शुक्रवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खिलाड़ियों को कोरोना वायरस के खिलाफ जंग के लिए पांच एस यानी संकल्प, संयम, सकारात्मकता, सम्मान और सहयोग का मंत्र दिया था. पीएम मोदी के साथ इस वीडियो कांफ्रेंस में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ियों की सूची में कई प्रमुख क्रिकेटर शामिल हैं. इनमें सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और विराट कोहली के अलावा विश्व कप विजेता पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी, रोहित शर्मा, पूर्व तेज गेंदबाज जहीर खान, युवराज सिंह और केएल राहुल का नाम भी है.

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *