भाजपा समय से पहले खुशियाँ न मनाए, अभी काँग्रेस ने अपने पत्ते खोले भी नहीं

एमपी के सीएम कमलनाथ ने अपने विश्वस्त सज्जन सिंह वर्मा को नाराज विधायकों को मनाने का जिम्मा सौंपा है. यानी अब सरकार बचाने की जिम्मेदारी वर्मा के कंधों पर है. सरकार पर गहराए संकट के बादलों के बीच मुख्यमंत्री आवास पर कमलनाथ की अध्यक्षता में कांग्रेस विधायकों की बैठक हुई. जिसमें चार निर्दलीय सहित 94 विधायक शामिल हुए.

भोपाल: 

मध्य प्रदेश की सियासत में आए भूचाल के बाद अभी भी कमलनाथ समर्थक विधायकों को उम्मीद है कि मध्य प्रदेश सरकार इस राजनीतिक संकट से बच जाएगी. सरकार पर गहराए संकट के बादलों के बीच मुख्यमंत्री आवास पर कमलनाथ की अध्यक्षता में कांग्रेस विधायकों की बैठक हुई. जिसमें चार निर्दलीय सहित 94 विधायक शामिल हुए.

”सब कुछ खत्म नहीं हुआ है, हम हार नहीं मानेंगे”

सूत्रों के हवाले से खबर है कि कांग्रेस विधायक दल की बैठक में सीएम कमलनाथ ने संबोधित करते हुए कहा कि सब कुछ खत्म नहीं हुआ है, हम हार नहीं मानेंगे. विधायक मध्यावधि चुनाव में भी जाने के लिए तैयार रहें. सीएम कमलनाथ ने बैठक में आश्वासन दिया कि एसपी-बीएसपी विधायक भी संपर्क में है. वहीं बीजेपी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी खरीद-फरोख्त तक प्रदेश को बदनाम करने पर आमादा है.

कमलनाथ का मास्टरस्ट्रोक देखने को मिलेगा

कांग्रेस नेता पीसी शर्मा ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि लोगों को अभी कमलनाथ का मास्टरस्ट्रोक देखने को मिलेगा. पीसी शर्मा ने ये जवाब पत्रकारों के उस सवाल पर दिया जब उनसे पूछा गया कि क्या कमलनाथ के पास सरकार बचाने के लिए संख्या बल है. कांग्रेस प्रियव्रत सिंह ने सिंधिया और बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने अपनी महत्वकांक्षा के लिए पार्टी छोड़ी. बीजेपी धनबल के जरिए सरकार गिराने की साजिश में है. हम हार नहीं मानेंगे, सदन से सड़क तक लड़ाई लड़ेंगे. माफिया की मदद से सरकार गिराने की कोशिश है.विधानसभा उपाध्यक्ष हिना कांवरे ने भी ज्योतिरादित्य सिंधिया पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि सिंधिया ने अपने ही लोगों ने धोखा दे दिया है. कांग्रेस हर परिस्थिति के लिए तैयार है. मध्यावधि चुनाव की स्थिति नहीं, फ्लोर टेस्ट के लिए तैयार.

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार विधायकों के इस्तीफे मंजूर नहीं हुए हैं. लेकिन राजनीति में हर संभावनाओं पर चर्चा होती है. सीएम आवास पर मंगलवार शाम को यह बैठक हुई. कांग्रेस नेताओं का आरोप है कि विधायकों को धोखा देकर राज्यसभा चुनावों की बात कहकर ले जाया गया.

कांग्रेस विधायकों को धोखा देकर ले जाया गया

कांग्रेस नेत्री शोभा ओझा ने बैठक के बाद कमलनाथ सरकार पर किसी भी तरह के खतरे से इनकार किया है. कांग्रेस नेता ने विधानसभा में बहुमत सिद्ध करने की बात भी कही. कांग्रेस नेताओं का दावा है कि कांग्रेस के वो विधायक जो यहां मौजूद नहीं हैं, वो कांग्रेस के पक्ष में रहेंगे. उनका यह भी कहना है कि कांग्रेस के इन विधायकों को धोखा देकर वहां ले जाया गया है. ओझा ने आरोप लगाया कि उन्हें राज्यसभा चुनाव की बात कहकर वहां ले जाया गया. वो तमाम विधायक सीएम कमलनाथ के टच में हैं.  कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह ने बैठक के बाद कहा कि हमारे पास पर्याप्त संख्या बल है. सरकार को कोई खतरा नहीं है.

कांग्रेस लड़ाई के लिए है तैयार

कांग्रेस नेता लक्ष्मण सिंह ने एएनआई से कहा कि कांग्रेस फिर से लड़ाई करने के लिए तैयार है, अगर इसकी जरुरत पड़ी तो. सिंह ने कहा कि हमारे पास 94 विधायक हैं और कांग्रेस की नैतिकता को कोई भी नीचे नहीं कर सकता है. वहीं, कांग्रेस नेता प्रियव्रत सिंह का कहना है कि कांग्रेस के विधायकों ने सीएम कमलनाथ सरकार के प्रति विश्वास जताया है.

सिंधिया मुर्दाबाद के लगे नारे

जानकारी मिल रही है कि कांग्रेस विधायक दल की बैठक के दौरान सीएम हाउस के बाहर कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ जमकर नारेबाजी की.

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *