जब सबसिडी दोगुनी करनी थी तो कीमत बढ़ाई ही क्यों?

बढ़े हुए रसोई गैस सिलेंडर की कीमतों पर इजाफे से घिरी सरकार ने गैस सबसिडी दोगुनी कर दी है। अब प्रश्न यह उठता है की जब सबसिडी दोगुनी करनी थी तो कीमत बढ़ाई ही क्यों? पुरानी कीमत के हिसाब से सिलेन्डर की कीमत 714 रुपये है, जिस पर रुपये 153.86 की सबसिडी है। अब कीमत में बढ़ौतरी हुई रुपये 144.50 जो कि बढ़ाई गयी सबसिडी से रुपये 9.36 कम है। नयी कीमत रुपये 858.50 कि अब प्रभावी कीमत रुपये 704.64 होगी जो कि पुरानी कीमत रुपये 714 से 9.36 रुपये कम होगी। फिर कीमत बढ़ाई ही क्यों? कहीं कीमत बढ़ाने के पीछे डीलर नेटवर्क का दबाव तो नहीं?

नई दिल्ली: 

रसोई गैस सिलेंडर की कीमतों में भारी इजाफे के बाद विरोध से घिरी केंद्र की मोदी सरकार ने घरेलू गैस उपभोक्ताओं को बड़ी राहत दी है. केंद्र सरकार ने घरेलू गैस सिलेंडर पर दी जा रही सब्सिडी को करीब दोगुना कर दिया है. पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय ने गुरुवार को एक बयान जारी कर यह जानकारी दी. साथ ही गैस की कीमतें बढ़ने की वजह भी बताई.

पेट्रोलियम मंत्रालय की ओर से बताया गया कि दिल्ली में अभी तक 14.2 किलो के सिलेंडर पर 153.86 रुपए की सब्सिडी मिलती थी, जिसे बढ़ाकर 291.48 रुपए कर दिया गया है. इसी प्रकार से प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत बांटे गए कनेक्शन पर अभी तक जो 174.86 रुपए प्रति सिलेंडर की सब्सिडी मिलती थी, उसे बढ़ाकर 312.48 रुपए प्रति सिलेंडर कर दिया गया है.

दाम में कितनी बढ़ोत्तरी
बता दें कि दिल्‍ली में बिना सब्सिडी वाली घरेलू एलपीजी 14.2 किलो के एलपीजी सिलेंडर की कीमत में 144.50 रुपये की वृद्धि की गई है. वहीं, बिना सब्सिडी वाले घरेलू एलपीजी सिलेंडर की कीमत 714 रुपये से बढ़ाकर 858.50 रुपये कर दी गई है.

क्यों बढ़ गए LPG के दाम
जनवरी 2020 के दौरान एलपीजी का इंटरनेशनल कीमत 448 डॉलर प्रति एमटी से काफी बढ़कर 567 डॉलर प्रति एमटी हो जाने के कारण घरेलू गैस के दामों में इजाफा किया गया है.

26 करोड़ से ज्यादा कंज्यूमर को सब्सिडी
सरकार ने बताया कि मौजूदा समय में 27.76 करोड़ से भी अधिक कनेक्‍शनों के साथ राष्‍ट्रीय एलपीजी कवरेज लगभग 97 फीसदी है. करीब 27.76 करोड़ में से तकरीबन 26.12 करोड़ उपभोक्‍ताओं के मामले में बढ़ोत्तरी को सरकार वहन करती है.

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *