अब ऑक्सफोर्ड ने राहुल के झूठ को किया बेनकाब

Demokraticfront Bureau

ऑक्सफोर्ड डिक्शनरीज ने राहुल गांधी के दावे को नकार दिया है. बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को दावा किया था कि डिक्शनरी में एक नया शब्द जुड़ गया है.   राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी पर एक क्रूर प्रहार करते हुए उनके नाम को झूठ के साथ जोड़ते हुए झूठ शब्द को व्यक्तिवाच्क बनाया या मोदी के नाम का झूठ के साथ जोड़ कर से जातिवाचा बना दिया। दोनों ही सूरतें बहुत भयावह हैं। समझने के लिए “भीम सा बलशाली” यहाँ भीम जातिवाचक है। अब झूठ का वर्गिकरण किया जाना चाहता है। “modilie” मानो रहुल सभी को यह संदेशा देना चाहते हैं की यह झूठ मोदी की श्रेणी का है। राहुल ने राजनैतिक बयानबाजी का स्तर बहुत ही नीचे गिरा दिया है।

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को दावा किया था कि डिक्शनरी में एक नया शब्द ‘मोदीलाई’ जुड़ गया है जो कि पूरी दुनिया में लोकप्रिय हो गया है. ऑक्सफोर्ड डिक्शनरीज ने राहुल गांधी के दावे को नकारते हुए कहा कि ‘मोदीलाई’ जैसा कोई शब्द नहीं है. 

ऑक्सफोर्ड डिक्शनरीज ने अपने एक ट्वीट में कहा, “हम इस तथ्य की पुष्टि करते हैं कि ‘मोदीलाई’ शब्द की एंट्री दिखाने वाली तस्वीर फर्जी है और हमारी ऑक्सफोर्ड डिक्शनरीज में से किसी में भी यह शब्द मौजूद नहीं है.” 

इससे पहले, राहुल गांधी ने बुधवार को अपने ट्वीट कर कहा था, “दुनियाभर में नया शब्द ‘मोदीलाई’ लोकप्रिय हुआ है. अब तो एक वेबसाइट पर इस बारे में बेहतरीन ढंग से विवरण दिया गया है.” कांग्रेस अध्यक्ष ने बुधवार को इसी शब्द का उल्लेख करते हुए कहा था, “अंग्रेजी शब्दकोश में नया शब्द शामिल हुआ है. इससे जुड़ा स्नैपशॉट शेयर कर रहा हूं.” गांधी ने ‘मोदीलाई’ नामक जिस शब्द का उल्लेख किया उससे जुड़े स्नैपशॉट में इसके कई अर्थ भी बताए गए थे लेकिन अगर ध्यान से देखा जाए तो उनका दावा ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी के हवाले से नहीं था. 

जो तस्वीर राहुल गांधी द्वारा शेयर की गई, उसका लोगो ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी से मिलता-जुलता है लेकिन ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी का नहीं है. हालांकि यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है कि राहुल गांधी या उनकी आईटी सेल ने इस ट्वीट को एक मजाक के तौर पर शेयर किया या इसका मतलब कुछ और था.

क्योंकि जैसे ही पहला ट्वीट किया, उसे चंद मिनट में ही हटा दिया गया. बाद में लोगो को थोड़ा एडिट करके दूसरा ट्वीट किया गया. दूसरे ट्वीट में लोगो में केवल इंग्लिश डिक्शनरी लिखा है, जबकि उसका लुक, फील और रंग बिल्कुल वही है. दूसरे ट्वीट में ऑक्सफोर्ड शब्द नहीं लिखा. 

1 reply
  1. Demokratic Front Bureau
    Demokratic Front Bureau says:

    If Rahul had associated his own name with such a nomenclature Oxford or any other institution might have considered positively but his current proposal can’t be accepted by any same person or a well meaning institution. Oxford is very right in its rejection. Kudos! R. S. Dogra

    Reply

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *