युद्ध विराम का निरंतर उल्लंघन कहीं पाकिस्तान में तख़्ता पलट की आहट तो नहीं?

पाकिस्तान में सेना द्वारा निरंतर किए जा रहे युद्ध विराम उल्लंघन के पीछे कयास लगाए जा रहे हैं की पाकिस्तान की सेना और आईएसआई चीन के दम पर प्रत्यक्ष युद्ध की परिकल्पना कर रही है। वहाँ की चुनी हुई सरकार इसके फिलहाल तो खिलाफ नज़र आ रही है। सूत्रों की माने तो इमरान खान को मित्र राष्ट्रों पर यकीन है की चुनावों के बाद भारत में सत्ता पलटेगी और कॉंग्रेस वाम दलों के साथ फिर से अपनी सरकार बनाएगी, कश्मीर, देशद्रोह, अलगाव वाद और अफसपा जैसे मुद्दों पर अपने वादों को पूरा करेगी और भारत का रुख जो की अब आत्मसम्मान से भरा है काफी लचीला हो जाएगा। परंतु जान पड़ता है की सेना इस झांसे में आने को तैयार नहीं है। तख़्ता पलट के संभावित खतरे को नज़रअंदाज़ करते हुए इमरान खान सेना को युद्ध विराम उल्लंघन से रोक नैन पा रहे।

नई दिल्‍ली: भारत पाकिस्‍तान सीमा पर पाकिस्‍तान की ओर से सीजफायर का उल्‍लंघन तनाव को लगातार बढ़ा रहा है. पाकिस्‍तान की नापाक हरकतें बढ़ती जा रही हैं. इसका मुंहतोड़ जवाब अब भारतीय सेना ने भी दिया है. पुंछ, मेंढर में भारतीय सेना की जवाबी फ़ायरिंग से पाकिस्तानी सेना को बड़ा नुकसान उठाना पड़ा है. पाकिस्तान की सेना के प्रचार विभाग ISPR और रेडियो पाकिस्तान ने मंगलवार की सुबह एक सूबेदार और दो सैनिकों की भारतीय फ़ायरिंग में मौत को स्वीकार किया है.

सूत्रों का कहना है कि पाक अधिकृत कश्मीर के बालानोई, कोटली, रकचक्री और रावलाकोट में पाकिस्तानी सेना की कई पोस्ट तबाह हुई हैं और बड़ी तादाद में पाकिस्तानी सैनिक मारे गए हैं. ये LOC से सटे वे इलाक़े हैं जहां आतंकवादियों की पनाहगाहें और लॉंच पैड्स हैं. यहां से कश्मीर में घुसपैठ कराई जाती है और भारतीय सेना पर BAT हमले किए जाते हैं.

पाकिस्तान की सेना पुलवामा के बाद से ही LOC से सटे हुए नागरिक इलाक़ों पर भारी गोलाबारी कर रही है. पिछले एक हफ्ते में पीर पंजाल पहाड़ियों के दक्षिण के पुंछ, मेंढर, राजौरी, अखनूर, नौशेरा के गांवों में ये गोलाबारी बहुत तेज़ हो रही है. पाकिस्तानी सेना मोर्टार के साथ-साथ भारी तोपखाने के ज़रिए भारतीय गांवों पर लगातार गोलाबारी कर रही है. सोमवार को पाकिस्तानी फ़ायरिंग में बीएसएफ के एक इंसपेक्टर की जान चली गई. भारतीय सेना ने भी अपनी जवाबी कार्रवाई तेज़ कर दी है.

सूत्रों के मुताबिक भारतीय सेना ने भी पाकिस्तानी सेना के ठिकानों पर जवाबी गोलाबारी करने के लिए तोपखाने और गाइडेड मिसाइलों का इस्तेमाल किया है. खासतौर पर उन पाकिस्तानी पोस्ट को निशाना बनाया गया, जिनके बारे में पहले से पता था कि वो आतंकवादियों के लांच पैड की तरह काम करती हैं. दोनों ही तरफ से फ़ायरिंग का सिलसिला मंगलवार देर शाम तक जारी रहा.

सूत्रों के मुताबिक भारतीय सेना की कार्रवाई में पाकिस्तानी सेना की आतंकवादियों को मदद करने की ताक़त को तोड़ने की कोशिश की जा रही है. पाकिस्तानी सेना की इन पोस्ट्स से न केवल आतंकवादियों की घुसपैठ में मदद की जाती है, बल्कि यहीं पर आतंकवादियों के ठहराया जाता है. ये आतंकवादी पाकिस्तानी सेना के BORDER ACTION TEAM यानि BAT का हिस्सा बनते हैं. यहीं से आतंकवादी भारतीय सीमा में घुसकर सेना की चौकियों के आसपास विस्फोटक लगाते हैं और घात लगाकर हमले करते हैं.

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *