सेवा देश एवं राष्ट्र भक्ति का पहला लक्षण-डा. मुकेश अग्रवाल।

रैडक्रास के माध्यम से 70 प्रतिशत रक्त की आपूर्ति की जा रही है।


पंचकूला 12 दिसम्बर:
भारतीय रैड क्रॉस समिति हरियाणा शाखा के वाईस चेयरमैन डा. मुकेश अग्रवाल ने कहा कि रैडक्रास का मुख्य ध्येय युवाओं को अपनी संस्कृति के प्रति प्रेरित करके उनकी असीम ऊर्जा का प्रयोग सही दिशा करना और उनके जेहान में सेवा, स्वास्थ्य और मित्रता की भावना जागरूक करना है। देशभक्ति का पहला लक्षण सेवा करना है।
जिला रैड क्रॉस शाखा द्वारा सार्थक राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सेक्टर 12 ए पंचकूला में आयोजित तीन दिवसीय ज़िला स्तरीय जूनियर रैड क्रॉस कॉउंशलर्स प्रशिक्षण शिविर का शुभारभ कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जेआरसी को राष्ट्र के शिल्पी का दर्जा देते हुए कहा कि रैडक्रास युवाओं की वेदना को पढकर उसका निराकरण करने के साथ साथ प्रत्येक गंाव तक रैडक्रास की सेवाओं का पहंुचाने का प्रयास करती है। इसके अलावा लोगों को रक्तदान के साथ आंख, किडनी, लीवन आदि अंगदान के लिए भी प्रेरित करती है।
उन्होंने प्रतिभागियों का आह्वान् किया कि वे रैड क्रॉस की गतिविधियों में बढ़चढ़ कर भाग ले और जीवन मे आगे बढ़ने के लिए स्वास्थ्य व चरित्र निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करें। सबसे पहले अपने माता पिता का आदर करे तथा उसके बाद गुरुजनो द्वारा दिखाए गए मार्ग पर चले। उन्होंने बताया कि रैडक्रास के माध्यम से प्रदेश में 70 प्रतिशत रक्त की आपूर्ति सुनिश्चित की जा रही है तथा प्रदेश में चार हजार से अधिक प्राथमिक चिकित्सा बाॅक्स मुहैया करवाए गए है। रैन बसेरा योजना संचालित की जा रही है।
जिला रैडक्रास सचिव अनिल जोशी नेे बताया कि शिविर का आयोजन 14 दिसंबर  तक किया जाएगा। इसमें देश की सबसे युवा एवं नम्बर वन विंग जेआरसी को प्रशिक्षित किया जाएगा। उन्होंनें बताया कि पंचकूला रैडक्रास द्वारा ट्राईसिटी में सबसे ज्यादा जरूरतमंद एवं रोगियों को रक्त पहुंुचाने का कार्य किया जा रहा है। इसके अलावा कलाम एक्सप्रैस व आरोग्य मोटर बाईक एम्बुलेेंस के माध्यम से दिव्यांगों को पहा़डी क्षेत्रों में भी बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं देने वाला प्रदेश का पहला जिला है।
कैम्प निदेशक रमेश चैधरी जिला प्रशिक्षण अधिकारी ने बताया कि इस शिविर का उदेश्य स्वास्थ्य सेवा व मित्रता है। शिविर में मोबाईल सदुपयोग व दुरूपयोग, आपदा प्रंबधन, प्राथमिक सहायता व  अध्यापकों बारे भी विस्तार से विचार सांझा किए। इस शिविर में विभिन्न विद्यालयों से 100 प्रतिभागी भाग ले रहे हैं। श्रीमती नीलम कौशिक, डॉक्टर नितिन चोपड़ा श्रीमती प्रियंका शर्मा सहित कई पदाधिकारियों ने भी प्रशिक्षण दिया।
0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply